बाइबिल

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बाइबिल संज्ञा स्त्री॰ [यू॰ बाइबिल ( = पुस्तक)] ईसाइयों की धर्मपुस्तक । इंजील । विशेष—यह दो भागों में विभक्त है । एक प्राचीन जो हिब्रू या इब्रानी भाषा में थी और जिसे यहूदी भी मानते हैं । इसमें सृष्टि की उत्पत्ति मूसा के ईश्वरदर्शन आदि की कथा है । दूसरी नवीन या अर्वाचीन, जो यूनानी भाषा में थी और जिसमें ईसा की उत्पत्ति, उपदेश, करामात आदि का वर्णन है । ये दोनों ही भाग कई पोथियों के संग्रह हैं । ये संग्रह ईसा की दूसरी और तीसरी शताब्दी में हुए थे । इन दोनों का अनुवाद संसार की प्रायः सभी भाषा ओं में हो गया है ।