बाबू

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बाबू संज्ञा पुं॰ [हिं॰ बाप या बाबा]

१. राजा के नीचे उनके बंधु बांधवों या और क्षेत्रिय जमीदारों के लिये प्रयुक्त शब्द ।

२. एक आदरसूचक शब्द । भलामानुस । उ॰—(क) बाबू ऐसी है संसार तुम्हारा ये कलि है व्यवहारा । को अब अनख सहै प्रतिदिन को नाहिन रहनि हमारा ।—कबीर (शब्द॰) । (ख) 'आयसु' आदेश,' बाबू (?) भलो भलो भाव सिद्ध तुलसी विचारी जोगी कहत पुकारि हैं ।—तुलसी (शब्द॰) । विशेष— आजकल अंगरेजी पढ़े लिखे लोगों के लिये इस शब्द का व्यवहार अधिक होता है । यौ॰—बाबूपन=प्रतिष्ठित या सभ्य या शिक्षित होने का भाव । उ॰— हट जाओ सामने से, नहीं तो सारा बाबूपन निकास दूँगा ।—काया॰ पृ॰ २४० । बाबूसाहव=एक आदरसूचक संबोधन । †

३. पिता का संबोधन । बापू ।