बाली

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बाली ^१ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ बालिका, बाली] कान में पहनने का एक प्रसिद्ध आभूषण जो सोने या चाँदी के पतले तार का गोलाकार बना होता है । इसमें शोभा के लिये मोती आदि भी पिरोए जाते हैं ।

बाली ^२ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ बाल] जो, गेहूँ, ज्वार आदि के पौधों का वह ऊपरी भाग या सीका जिसमें अन्न के दाने लगते हैं । दे॰ 'बाल' ।

२. वह अन्न जो हलवाहों आदि को उनके परिश्रम के बदले में धन की जगह दिया जाता है । यौ॰—बालोदार ।

बाली ^३ संज्ञा स्त्री॰ [देश॰] हथोड़े के आकार कसेरों का एक औजार जिससे वे लोग बरतनों की कोर उठाते हैं ।

बाली ^४ संज्ञा पुं॰ [सं॰ बालिन्] दे॰ 'बालि' ।

बाली ^५ वि॰ [हिं॰ बालका (=अश्व)] बालका जाति का (अश्व) । उ॰—नवदून अप्पि मदझर गयंद, कज्वल सकोट उज्जल अमंद । सै पंच दिन्न बाली पवंग ।—पृ॰ रा॰, ४ ।१० ।

बाली सबरा संज्ञा पुं॰ [हिं॰ बाली (=बारी, किनारा)+हिं॰ सबरा] वह सबरा जिससे कसेरे थाली या परात की कोर उभारते हैं ।