बिकारी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बिकारी † ^१ वि॰ [सं॰ विकार]

१. विकृत रूपवाला । जिसका रूप बिगड़कर और का और हो गया हो ।

२. अहितकर । बुरा । हानिकारक । उ॰—अशुभ होय जिनके सुमिरन ते बानर रीछ बिकारी ।—तुलसी (शब्द॰) ।

बिकारी ^२ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ विकृत या वङ्क अथवा हिं॰ बिकार + ई (प्रत्य॰)] एक प्रकार की टेढ़ी पाई जो अंकों आदि के आगे संख्या या मान आदि सूचित करने के लिये लगाई जाती है । लिखने में रूपए पैसे या मन सेर आदि का चिह्न जिसका जिसका रूप) तथा /?/ होता है । उ॰—बंक बिकारी देत ज्यों दाम रुपैया होत ।—बिहारी (शब्द॰) ।