बेटा

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी

संज्ञा

पु॰

अनुवाद

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

बेटा संज्ञा पुं॰ [सं॰ बटु(=बालक)] [स्त्री॰ बेटी] पुत्र । सुत । लड़का । मुहा॰—बेटा बनाना = किसी बालक को दत्तक लेकर अपना पुत्र बनाना । (किसी को) बेटी देना = कन्या का विवाह करना । (किसी की) बेटी लेना = किसी की कन्या से विवाह करना । बेटे वाला =वर का पिता अथवा वर पक्ष का और कोई बड़ा आदमी । बेटी वाला = वधू का पिता अथवा वधू पक्ष का और कोई बड़ा आदमी । यौ॰—बेटा बेटी = संतान । औलाद । बेटे । पोते = संतान और संतान की संतान । पुत्र, पौत्र, आदि ।

यह भी देखिए