बोली

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

बोली संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ बोलना]

१. किसी प्राणी के मुँह स े निकाला हुआ शब्द । मुँह से निकली हुई आवाज । वाणी । जैसे,—(क) बच्चे की बोली, चिड़िया की बोली । (ख) वह ऐसा घबरा गया कि उसके मुँह से बोली तक न निकली । क्रि॰ प्र॰—बोलना । मुहा॰—मीठी बोली = शब्द या वाक्य जिसका कथन प्रिय हो । मधुर वचन ।

२. अर्थयुक्त शब्द या वाक्य । वचन । बात ।

३. नीलाम करनेवाला और लेनेवाले का जोर से दाम कहना ।

४. वह शब्दसमूह जिसका व्यवहार किसी प्रदेश के निवासी अपने भाव या विचार प्रकट करने के लिये संकेत रूप से करते है । भाषा ।जैसे,—वहाँ बिहारी नहीं बोली जाती, वहाँ की बोली उड़िया है ।

५. वह वाक्य जो उपहास या कूट व्यग्य के लिये कहा जाय । हँसी, दिल्लगी या ताना, ठठोली । उ॰—सासु ननद बोलिन्ह जिउ लेहीं ।—जायसी (शब्द॰) । क्रि॰ प्र॰—बोलना ।—मारना ।—सुनाना । यौ॰—बोली ठोली । मुहा॰—बोली कसना, बोली छोड़ना, बोली बोलना या मारना = किसी को लक्ष्य करके उपहास या व्यंग्य के शब्द कहना । जैसे,—अब आप भी मुझपर बोली बोलने लगे ।

बोली ठोली संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ बोली + ठिठोली] व्यंग्य । कटाक्ष । हँसी मजाक । उ॰—बोली ठोली करै छिमा करि चुप मैं मारौं । भूँकि भूँकि फिरि जाँय जुगत से उनको टारौं ।— पलटू, पृ॰ ६२ । क्रि॰ प्र॰—करना ।—मारना ।