भँजनी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भँजनी † संज्ञा॰ स्ञी॰ [हिं॰ भाँजना] करघे का एक अंग जो ताने को विस्तृत रखने, के लिये उसके किनारे पर लगाया जाता है । यह बाँस की तीन चिकनी, सीधी और दृढ़ लकड़ियों से बनता है जो पास पास समानांतर पर रहती हें । इन्हीं तीनों लकड़ियों के बीच की संधियों में से ऊपर नीचे होकर ताना लगाया जाता है । यह बुननेवाले के सामने किनारे पर रहता है । भँसरा ।