भँवरगुञ्जार

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भँवरगुंजार संज्ञा पुं॰ दे॰ [देश॰] एक प्रकार का डिंगल गीत । इसके पहले पद में १६, दूसरे पद के अंत में दो लघु सहित १४, तीसरे में १४ और चतुर्थ पद के अंत में २ गुरु सहित ९ मात्राएँ होती हैं । जैसे,—निज धनुष गह कर जगत नायक, सात बेधे ताड़ सायक । महक दुंदभ करक नभ मग, जमे जस जागे ।—रघु॰ रू॰, पृ॰ १५० ।