भँवाना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भँवाना पु क्रि॰ स॰ [हिं॰ भँवना]

१. घुमाना । फिराना । चक्कर देना । उ॰—(क) ग्यारे चंद्र पूर्व फिर जाय । बहु कलेस सों दिवस भँवाय ।—जायसी (शब्द॰) । (ख) तेहि अंगद कह लात उठाई । गहि पद पटकेउ भूमि भँवाई ।—तुलसी (शब्द॰) ।

२. भ्रम में डालना । उलझन में डालना ।