भक्तराज

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भक्तराज संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. हरिभक्तों में श्रेष्ठ व्यक्ति ।

२. भक्तों के आश्रयदाता । भगवान । उ॰—दीन जानि मंदिर पगु धारो । भक्तराल तुम बेगि पधारो ।—कबीर॰ सा॰, पृ॰ ४८७ ।