भक्तियाग

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भक्तियाग संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. उपास्य देव में अत्यंत अनुरक्त रहना । सदा भगवान् में श्रद्धापूर्वक मन लगाकर उनकी उपासना करना ।

२. भक्ति का साधन ।