भक्तिरस

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भक्तिरस संज्ञा पुं॰ [सं॰] उपास्य के प्रति उत्कृष्ठ अनुराग । रति । विशेष—संस्कृत के परवर्ती विद्वानों ने भक्ति को रस के रूप में मान्यता दी है ।