भगवद्रस

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भगवद्रस संज्ञा पुं॰ [सं॰] भगवदभक्ति का आनंद । उ॰—भगवद्रस में सदा मगन रहित हैं ।—दो सौ बावन॰, भा॰ १, पृ॰ २२८ ।