भवन

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

स्थान वाचक संज्ञा[सम्पादन]

किसी बड़े मकान को भवन कहते है।

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भवन ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. घर । मकान । उ॰— भवन एक पुनि दीख सुहावा ।— मानस, ५ । ५ ।

२. प्रासाद । महल ।

३. तर्कशास्त्र में भाव ।

४. जन्म । उत्पत्ति ।

५. सत्ता ।

६. छप्पय का एक भेद ।

७. क्षेत्र (को॰) ।

८. स्वभाव । प्रकृति (को॰) ।

९. जन्मपत्रिका । जन्मांग (को॰) ।

१०. श्वान । कुत्ता (को॰) ।

११. स्थान । अधिष्ठान (को॰) । यौ॰—भवनकर = नगरपालिका की ओर से मकानों पर लगाया हुआ कर (अं॰ हाउसटैक्स) । भवनदीर्धिका = भवन के भीतर की वापी । भवनद्वार =प्रवेशद्वार । फाटक । दरवाजा । भवनपति । भवन-भूमि-कर =प्रदेश शासन द्वारा लगाया हुआ एक कर ।

भवन ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰ भुवन] जगत् । संसार । उ॰— हरि के जे वल्लभ हैं दुर्लभ भवंन माँझ तिनही की पदरेणु आशा जियकारी है ।— प्रियादास (शब्द॰) ।

भवन ^३ संज्ञा पुं॰ [सं॰ भ्रमण] कोल्हू के चारों ओर का वह चक्कर जिसमें बैल घूमते हैं ।