सामग्री पर जाएँ

भार्या

विक्षनरी से
राम की भार्या सीता

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भार्या संज्ञा स्त्री॰ [सं॰] पत्नी । जाया । जोरु । स्त्री । उ॰— उठा पिता के भी विरुद्ध मैं, किंतु आर्य भार्या हो तुम ।— साकेत, पृ॰ ३८४ ।