भृत्य

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
भृत्य

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भृत्य संज्ञा पुं॰ [सं॰] [स्त्री॰ भृत्या] सेवक । नौकर । उ॰— सो कुछ नहीं, किंतु भृत्यों को प्रिये, कष्ट ही होगा और ।— साकेत, पृ॰ ३७२ ।