भ्रमर

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

भ्रमर ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. भौंरा । वि॰ दे॰ 'भौंरा' । यौ॰—भ्रमरगुफा = योगशास्त्र के अनुसार हृदय के अंदर का एक स्थान । उ॰—केवल सकल देह का साखी भ्रमरगुफा अटकाना ।—कबीर (शब्द॰) ।

२. उद्धव का एक नाम । यौ॰—भ्रमरगीत =वह गीत या काव्य जिसमें भ्रमर को संबोधित करते हुए उद्धव के प्रति ब्रज की गोपियों का उपालंभ हो ।

३. दोहे का पहला भेद जिसमें २२ गुरु और ४ लघु वर्ण होते हैं । उ॰—सीता सीतानाथ को गावों आठो जाम । इच्छा पूरी जो करै औ देवै विश्राम ।—(शब्द॰)

४. कुलाल चक्र । चाक (को॰) ।

५. छप्पय का तिरसठवाँ भेद जिसमें ८ गुरु, १३६ लघु, १४४ वर्ण या कुल १५२ मात्राएँ होती हैं ।

६. सिरा (को॰) ।