मँहैं

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

मँहैं पु अव्य॰ [सं॰ मध्य] मध्य । में । उ॰—पलटू ऐसे घर महैं, बड़े मरद जे जाहिं । यह तो घर हैं प्रेम का खाला का घर नाहिं ।—पलटू॰ भा॰ १, पृ॰ ३३ ।