मंगलकर्म

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

संज्ञा

  1. पूजन एवं प्रार्थना आदि। जो किसी कार्य की सफलता के लिये शुरू में की जाय

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

मंगलकर्म संज्ञा पुं॰ [सं॰ मङ्गलकर्मन्] पूजन एवं प्रार्थना आदि । जो किसी कार्य की सफलता के लिये शुरू में की जाय [को॰] ।