मंझ

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

मंझ पु ^१ वि॰ [सं॰ मध्य, प्रा॰ मझझ, मझ] दे॰ 'मंझा' । उ॰— मंझ महल की को कहै, बाँका पस्वा सोया ।—कबीर सा॰ सं॰, पृ॰ १९ ।

मंझ पु ^२ वि॰ [सं॰ मन्द] दे॰ 'मंद' । उ॰—कबीर लहरि सगद की मोती बिखरे आइ । बगुला मझ न जाणई हस चुणो चुणि खाइ ।—कबीर ग्रं॰, पृ॰ ७८ ।