मंत्रयान

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

मंत्रयान संज्ञा पुं॰ [सं॰] बौद्ध धर्म की एक शाखा जिसका प्रचार तिब्बत, नेपाल, भूटान आदि में है । विशेष—इस संप्रदाय के ग्रंथों में अनेक तंत्र ग्रंथ हैं जिनके अनुसार तांत्रिक उपासना होती है । इस मत के प्रधान आचार्य सिद्ध नागार्जुन माने जाते हैं । इसे वज्रयान भी कहते हैं ।