मलक

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

मलक ^१ संज्ञा पुं॰ [अ॰] देवता । फरिश्ता [को॰] ।

मलक ^२ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ मलकाना]

१. आँखों के खोलने बंद करने की क्रिया । दृष्टि को स्थिर न रखना ।

२. हिलना डोलना । उ॰— लागत पलक मलक नहिं लावै ।—कबीर सा॰, पृ॰ १५८६ ।