मलिक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

मलिक संज्ञा पुं॰ [अ॰ सं॰] [स्त्री॰ मलिका]

१. राजा । उ॰— तब्बे चिंतई मलिक असलान,सब्ब सेन मह पलइ पातिसाह ।—कीर्ति॰, पृ॰ ११० ।

२. अधीश्वर ।

३. मुसलमानों की एक जाति का नाम जो प्रायः कृषि कर्म करती है । ये लोग मध्यम श्रेणी के माने जाते हैं ।

४. किन्नरों और कथकों के एक वर्ग की उपाधि ।