मानस

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

मानस ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. मन । हृदय । उ॰— माँगत तुलसिदास कर जोरे । बसहिं राम सिय मानस मोरे ।—तुलसी (शब्द॰) ।

२. मानसरेवर । उ॰— रोष महामारी परतोष महतारी दुनी देखिए दुखारी मुनि मानस मरालिके—तुलसी (शब्द॰) ।

३. कामदेव ।

४. संकल्प विकल्प ।

५. एक नाग का नाम ।

६. शाल्मली द्वीप के एक वर्ष का नाम ।

७. पुष्कर द्वीप के एक पर्वत का नाम ।

८. दूत । चर । उ॰— (क) मानस पठाए सुधि को लाए साँच आँच लगि करौ साष्टांग बात मानी भाग फेले है ।— प्रियादास (शब्द॰) । (ख) दैके वहु भाँति सो पठाए संग मानस हू आवो पहुँचाइ तव तुम पर रोझिए ।—प्रियादास (शब्द॰) ।

९. गोस्वार्मा तुलसीदास कृत रामायण । रामचरित- मानस ।

१०. विष्णु का एक रूप (को॰) ।

११. एक प्रकार का नमक (को॰) ।

मानस ^२ वि॰

१. मन से उत्पन्न । मनोभव ।

२. मन का विचारा हुआ । उ॰— कलि कर एक पुनीत प्रतापा । मानस पुन्य होइ नहिं पापा ।— तुलसी (शब्द॰) ।

मानस ^३ क्रि॰ वि॰ मन के द्वारा । उ॰— रहै गंडकी सुत मुख बीचा । पूज्यो मानस शिर करि नीचा ।— विश्राम (शब्द॰) ।

मानस पु ^४ संज्ञा पुं॰ [सं॰ मानुस] मनुष्य । आदमी । उ॰— कोमल मृगलिका सी मल्लिका की मलिका सी बालिका जु डारी भाउ मानस कै पशु है ।— केशव (शब्द॰) । यौ॰—मानसदेव ।