मुखिया

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

मुखिया संज्ञा पुं॰ [सं॰ मुख्य+हिं॰ इया (प्रत्य॰)]

१. नेता । प्रधान । सरदार । जैसे,— वे अपने गाँव के मुखिया हैं ।

२. वह जो किसी काम में सब से आगे हो । किसी काम को सब से पहले करनेवाला । अगुआ ।

३. वल्लभ संप्रदाय के मंदिरों का वह कर्मचारी जो मूर्ति का पूजन करता और भोग आदि लगाता है । ऐसा कर्मचारी प्रायः पाकविद्या में निपुण हुआ करता है ।