मुनि

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
मुनि

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

मुनि ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. वह जो मनन करे । ईश्वर, धर्म और सत्यासत्य आदि का सूक्ष्म वितचार करनेवाला व्यक्ति । मनन- शील महात्मा । जैसे, अंगिरा, पुलस्त्य, भृगु, कर्दम, पंचशिख आदि ।

२. तपस्वी । त्यागी । यौ॰—मुनिचीर, मुनिपट = वल्कल । मुनिव्रत = तपस्या ।

३. सात की संख्या । उ॰—तब प्रभु मुनि शर मारि गिरावा ।— (शब्द॰) ।

४. जिन या बुद्ध ।

५. पियाल या पयार का वृक्ष ।

६. पलास का वृक्ष ।

७. आठ वसुओं के अंतर्गत आप नामक वसु के पुत्र का नाम ।

८. क्रौंच द्वीप के एक देश का नाम ।

९. द्युतिमान् के सबसे वड़े पुत्र का नाम ।

१०. कुरु से एक पुत्र का नाम ।

११. अगस्त्य ऋषि (को॰) ।

१२. व्यास जी का नाम (को॰) ।

१३. महर्षि पाणिनि (को॰) ।

१४. आम्र वृक्ष (को॰) ।

१५. दौना । दमनक ।

मुनि ^२ संज्ञा स्त्री॰ दक्ष की एक कन्या जो कश्यप की सबसे बड़ी स्त्री थी ।