मौरी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

मौरी संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ मौर+ई (प्रत्य॰)]

१. छोटा मौर जो विवाह में बधू के सिर बाँधा जाता है । उ॰—मौर लसै उत मौरी इतै उपमा इकहू नहिं जातु लही है । केसरी बागो बनों दोउ के इत चंद्रिका चारु उसै कुलही है ।—भारतेंदु ग्रं॰, भा॰ १, पृ॰ ७७७ ।