यतीम

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

यतीम संज्ञा पुं॰ [अं॰]

१. मातृ-पितृ-बिहीन । जिसके माता पिता न हों । अनाथ ।

२. कोई अनुपम और अद्वितीय रत्न ।

३. वह बड़ा मोती, जिसके विषय में प्रसिद्ध है कि यह सीप में एक ही निकलता है ।