यवनिका

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

यवनिका संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. कनात ।

२. नाटक का परदा । विशेष— प्राचीन काल में नाटक के परदे संभवतः यवन देश मे आए हुए कपड़े से बनते थे, इसीलिये इनको यवनिका कहते थे । आधुनिक अनेक पंडितों के शोधानुसार शुद्ध संस्कृत शब्द 'जवनिकी' है । 'राजशेखर' की 'कर्पूरमंजरी' में प्रयुक्त 'जवनिकांतर' के संस्कृतीकरण की भ्रांति से 'यवनिका' शब्द बना और चल पड़ा । इसका यवन शब्द से संबंध नहीं मानते । भारतेंदु हरिश्चंद्र ने भी अपने नाटकों में यावनिका शब्द का प्रयोग किया है।