राख

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

राख संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ रक्षा ? या सं॰ क्षार > खार (वर्णव्यत्यय से, > राख)] किसी बिलकुल जले हुए पदार्थ का अवशेष । भस्म । खाक । जैसे, कोयले की राख ।