राजतिलक

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

राजतिलक संज्ञा पुं॰ [हिं॰ राज+तिलक]

१. राजसिंहासन पर किसी नए राजा के बैठने की रीति । राज्याभिषेक । उ॰— नृपति युधिष्ठिर राजतिलक दै मारि दुष्ट की भार । द्रोण कर्ण अरु शल्य मुक्त करि मेटी जग की पीर ।—सूर (शब्द॰) ।

२. नए राजा के गद्दी पर बैठने का उत्सव ।