राय

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

राय ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ राजन्, राज, प्रा॰ राय (संस्कृत में भी प्रयुक्त)]

१. राजा ।

२. छोटा राजा या सरदार । सामंत । उ॰—सब राजा रायन कै बारी । बरन बरन पहिरे सब सारी ।—जायसी (शब्द॰) ।

३. संमान की एक उपाधि । यौ॰—रायबहादुर । राय साहब । विशेष—किसी किसी शब्द के पहले लगकर यह श्रेष्ठता या बड़ाई भी सूचित करता है, जैसे—रायकरौंदा, रायमुनिया ।

४. भाट । वंदीजन ।

५. गंधर्वों की उपाधि ।

६. दे॰ 'रायबेल' ।

राय ^२ संज्ञा स्त्री॰ [फा॰] संमति । अनुमति । मत । सलाह । क्रि॰ प्र॰—देना ।—लेना ।—उहराना । मुहा॰—राय कायम करना=किसी विषय में मत निश्चित करना । संमति स्थिर करना । निर्णय करना ।

राय बहादुर संज्ञा पुं॰ [हिं॰ राय+फा॰=बहादुर] एक प्रकार की उपाधि जो पहले भारत की अँगरेजी सरकार की ओर से रईसों, जमींदारों तथा सरकारी कर्मचारियों आदि को दी जाती थी ।

राय साहब संज्ञा पुं॰ [हिं॰ राय+फा॰ साहब] एक प्रकार की पदवी जो पहल भारत की अँगरेजी सरकार की ओर से रईसों और राजकर्मचारियों आदि को दी जाती थी ।