रेत

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

रेत ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ रेतस्]

१. वीर्य । शुक्र ।

२. पारा । पारद ।

३. जल ।

४. प्रवाह । बहाव । धारा (को॰) ।

५. पाप (को॰) ।

रेत ^२ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ रेतजा]

१. बालू ।

२. बलुआ मैदान । मरु- भूमि । उ॰—जै जै जानकीस जै जै लपन कपीस कहि कूदैं कपि कौतुकी नचत रेत रेत हैं ।—तुलसी (शब्द॰) ।

रेत ^३ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ रेतना] लोहार का वह औजार जिससे वह लोहे को रतता है । रेती ।