रोकड़

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

रोकड़ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ रोक ( =नकद) ]

१. नगद रुपया पैसा आदि, विशेषतः वह रकम जिसमें से आय व्यय होता है । नगद रुपया ।

२. जमा । धन । पूँजी । मुहा॰—रोकड़ मिलाना =आय व्यय का जोड़ लगाकर यह देखना कि रकम बढ़ती या घटती तो नहीं है । यौ॰—रोकड़ बहो । रोकड़ विक्री ।