रोम

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

रोम ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰ रोमन्]

१. देह के बाल । रोयाँ । लोम । यौ॰—रोमराजी । रोमावली । रोमलता । मुहा॰—रोम रोम में =शरीर भर में । रोम रोम में रमना = भीतर बाहर सर्वत्र व्याप्त होना । उ॰—कबीर प्याला प्रेम का अंतर लिया लगाय । रोम रोम में रमि रहा, और अमल क्या खाय ।—कबीर सा॰ सं॰, पृ॰ ५० । रोम रोम से =तन मन से । पूर्ण हृदय से । जैसे,—रोम रोम से आशीर्वाद देना ।

२. ऊन । ऊर्ण । उ॰—दासी दास बासि बास रोम पाट को कियो । दायजो विदेह राज भाँति भाँति को कियो ।—केशव (शब्द॰) ।

३. चिड़ियों का पर । पंख (को॰) ।

४. मछलियों का वल्क या शल्क (को॰) ।

५. एक जनपद का नाम । दे॰ 'रोमक' ।

रोम ^२ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. छेद । छिद्र । सुराख ।

२. जल । पानी । यौ॰—रोमनियल =चमड़ा जिसके छेद से रोएँ निकलते हैं ।