रोहिणी

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

रोहिणी संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. गाय ।

२. तड़ित् । बिजली ।

३. कटुंभरा । कटुका । तिक्ता । कुष्टकी ।

४. करंज । कंजा ।

५. रीठा ।

६. महाश्वेता । सफेद कीवाठाठी ।

७. लोहिता । रक्तपुनर्नवा । लाल गदहपुरना ।

८. जैनों की विद्यादेवी ।

९. काशमरी । कंभारी । गभारी ।

१०. छोटी लंबी पीली हड़ जो गोल न हो । (इसे 'व्रणरोपिणी' भी कहते है) ।

११. धैवत स्वर की तीन श्रुतियों में दुसरी श्रुति ।

१२. रोहु की तरह एक मछली जिसमें काट कम होते है ।

१३. मंजिष्ठा । मजीठ ।

१४. वसुदेव की स्त्री रोहिणी जो बलराम की माता थी ।

१५. नौ वर्ष की कन्या की संज्ञा । (स्मृति) ।

१६. पाँच वर्ष की कुमारी ।

१७. सत्ताईस नक्षत्रों में से चौथा नक्षत्र जो पाँच तारों से मिलकर बना हुआ और रथ की आकृति का माना गया है । पुराण के अनुसार यह दक्ष की कन्याओं में से है और चंद्रमा की स्त्री है ।

१८. ब्राह्मी बूटी ।

१९. गले का एक रोग ।

२०. त्वचा की छठी परत ।