लकड़ी

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लकड़ी संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ लगुड]

१. पेड़ का कोई स्थूल अंग (डाल, तना आदि) जो कटकर उससे अलग हो गया हो । काष्ठ । काठ । विशेष—इसका व्यवहार प्रायः मेज, कुरसी, किवाड़े आदि सामान बनाने में होता है ।

२. ईधन । जलावन । मुहा॰—लकड़ा देना = मुरदे को जलाना ।

३. गलका ।

४. छड़ी । लाठी । मुहा॰—लकड़ा सा = बहुत दुबला पतला । लकड़ी चलना = लाठो से मार पीट होना । लकड़ी होना = (१) सूखकर काँटा होना । बहुत दुबला पतला होना । (२) सुखकर बहुत कड़ा हो जाना । जैसे,—रोटी सूखकर लकड़ी हो गई ।