लक्षण

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लक्षण संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. किसी पदार्थ की वह विशेषता जिसके द्वारा वह पहचाना जाय । वे गुण आदि जो किसी पदार्थ में विशिष्ट रूप से हों और जिनके द्वारा सहज में उसका ज्ञान हो सके । चिह्न । निशान । आसार । जैसे,—आकाश के लक्षण से जान पड़ता है कि आज पानी बरसेगा ।

२. नाम ।

३. परिभाषा ।

४. शरीर में दिखाई पड़नेवाला वे चिह्न आदि जो किसी रोग के सूचक हों । जैसे,—इस रोगी में क्षय के सभी लक्षण दिखाई देते हैं ।

५. दर्शन ।

६. सारस पक्षी ।

७. सामु- द्रिक के अनुसार शरीर के अँगों में होनेवाले कुछ विशेष चिह्न । जो शुभ या अशुभ माने जाते हैं । जैसे,—चक्रवर्ती और बुद्ध के लक्षण एक से होते हैं ।

८. शरीर में होनेवाला एक विशेष प्रकार का काला दाग जो बालक के गर्भ में रहने के समय सूर्य या चंद्रग्रहण लगने के कारण पड़ जाता है । लच्छन ।

९. चाल- ढाल । तौर तरीका । रंग ढंग । जैसे,—आजकल तुम्हारे लक्षण अच्छे नहीं जान पड़ते ।

१०. दे॰ 'लक्ष्मण' ।

११. पुरुषेद्रिय । शिश्न [को॰] ।

१२. योनि । भग (को॰) ।

१३. अध्याय । परिच्छेद । स्कंध (को॰) ।

१४. व्याज । छल छद्म (को॰) ।

१५. लक्ष्य । उद्देश्य (को॰) ।

१६. बँधी हुई सीमा । दर (को॰) ।

१७. प्रस्तुत प्रसंग । उपस्थित विषय (को॰) ।

१८. कारण (को॰) ।

१९. नतीजा । परिणाम । असर (को॰) ।

लक्षण ग्रंथ संज्ञा पुं॰ [सं॰ लक्षण + ग्रंथ] काव्य या साहित्य के लक्षणों का विवेचन करनेवाला ग्रंथ । साहित्यिक समीक्षा की पुस्तक । समालोचना शास्त्र । उ॰—पहली बात तो ध्यान देने की यह है कि लक्षण ग्रंथों के बनने के बहुत पहले से कविता होती आ रही थी । चिंतामणि, भा॰ २, पु॰ ९२ ।

लक्षण लक्षणा संज्ञा स्त्री॰ [सं॰] एक प्रकार की लक्षणा जिसे जहल्लक्षणा भी कहते हैं ।