लखाना

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लखाना पु † ^१ क्रि॰ अ॰ [हिं॰ लखना] दिखाई पड़ना । उ॰— मिलि चंदन वेंदी रही गोरे मुख न लखाय । ज्यौं ज्यौं मद लाली चढ़ै त्यौं त्यौ उघरति जाय ।—बिहारी (शब्द॰) ।

लखाना ^३ क्रि॰ स॰

१. दिखलाना ।

२. अनुमान करा देना । समझा देना । सुझा देना । उ॰— मेरोइ फोरिबे जोग कपार किधौं कछु काहू लखाइ दयो है ।—तुलसी (शब्द॰) ।