लघु

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लघु मिलनो बिछुरन घनो ता बिच बैरिन लाज । द्दग अनुरागी भाव ते कहु कह करै इलाज ।—रसनिधि (शब्द॰) ।

२. विरोधी ।

लघु ^१ वि॰ [सं॰]

१. शीघ्र । जल्दी ।

२. जो बड़ा न हो । कनिष्ठ । छोटा । जैसे,—लघु स्वर, लघु मात्रा ।

३. सुदर । बढ़िया । आनंददायक । इष्ट । अभिप्रेत ।

४. जिसमें किसी प्रकार का सार या तत्व न हो । निःसार । महत्वहीन । अना- वश्यक ।

५. स्वल्प । थोड़ा । कम ।

६. हलका । सरल । आसान ।

७. नीच । क्षुद्र । नगण्य ।

८. दुर्बल । दुबला । ९ । आमश्रित । शुद्ध । निमंल (को॰) ।

१०. फुतौला (को॰) ।

लघु ^२ संज्ञा पुं॰

१. काला अगर ।

२. उशीर । खंस ।

३. हस्त, अश्विनी औरं पुष्य ये तीनों नक्षत्र जो ज्योतिष में छोटे माने गए है और जिनका गण 'लघुगण' कहा गया है ।

४. समय का एक परिमाण जो पंद्रह क्षणों का होता है ।

५. तीन प्रकार के प्राणायामों में से वह प्राणांयाम जो बारह मात्राओं का होता है (शेष दो प्राणायाम मध्यम और फत्तम कहलाते हैं) ।

६. व्याकरण में वह स्वर जो एक ही मात्रा का होता है । जैसे,— अ, इ, उ, ओ, ए आदि ।

७. वह जिसमें एक ही मात्रा हो । एकमात्रिक । इसका चिह्न (I) हैं । विशेष—इस अर्थ में इसका प्रयोग संगीत में ताल के संबंध में और छंदःशास्त्र में वर्ण के सबंध में होता है ।

८. वंशी का छोटा होना, जो उसके छह् दोषों में से एक माना जाता है ।

९. चाँदी ।

१०. पृक्का । असबरण ।

११. वह जिसका रोग छूट गया हो (रोग छूटने पर शरीर कुछ हलका जान पड़ता है) ।