लज

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लज पु संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ लजा] शर्म । हया । लाज । उ॰—सुघ र सौति बस पिय सुनन दुलहिनि दुगुन हुलास । लखी सखी तत दीठि करि सगरब सलज स हास ।—बिहारी (शब्द॰) । विशेष—'लज्जा' शब्द का 'लज' रूप समस्त पदों में ही पाया जाता है । जैसे,—लजवंती नारी ।