लाजवर्द

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लाजवर्द संज्ञा पुं॰ [फ़ा॰]

१. एक प्रकार का प्रसिद्ध कीमती पत्थर जिसे संस्कृत में 'राजवर्तक' कहते हैं । रावटी । विशेष—यह जंगाली रंग का होता है और इसके ऊपर सुनहले छीटे होते है । यह वातज रोगों के लिये बलकारी और उन्माद आदि रोगों में उपकारी माना जाता है । आँखों में सुरमा लगाने के लिये इसकी सलाई भी बनती है जो बहुत अधिक गुणकारी मानी जाती है ।

२. विलायती नील जो गंधक के मेल से बनता और बहुत बढ़िया होता है ।