लिखना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

agar

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

लिखना क्रि॰ स॰ [सं॰ लिखन]

१. किसी नुकोली वस्तु से रोखा के रूप में चिह्न करना । अंकित करना ।

२. स्याही में डूबी हुई कलम से अक्षरों की आकृति बनाना । अक्षर अंकित करना । लिपिबद्ध करना । यौ॰—लिखना पढ़ना । लिखापढ़ी । लिखालिखी=दे॰ 'लिखापढी' । उ॰—लिखालिखी की है नहीं, देखा देखि की बात ।—कबीर सा॰, पृ॰ ८५ । मुहा॰—किसी के नाम लिखना=यह लिखना कि अमुक वस्तु किसी के जिम्मे है । जैसे,—१००) तुम्हारे नाम लिखे हैं । लिखना पढ़ना=विद्योपार्जन करना । विद्या का अभ्यास करना । जैसे,—वह लड़का कुछ लिखता पढ़ता नहीं । लिखा पढ़ा= शिक्षित ।

३. रंग से आकृति अंकित करना । चित्रित करना । चित्र बनाना । तसबीर खींचना । जैसे,—चित्र लिखना । उ॰—देखी चित्र लिखी सी ठाढ़ी ।—सूर (शब्द॰) ।

४. पुस्तक, लेख या काव्य आदि की रचना करना । जैसे,—यह पुस्तक किसकी लिखी है ? संयो॰ क्रि॰—डालना ।—देना ।—लेना ।