लेख

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हिन्दी[सम्पादन]

शब्द[सम्पादन]

कुछ भी जानकारी कहीं लिखी गई हो तो वह लेख कहलाता है। कोई भी लेख कम से कम एक से अधिक वाक्य का बना होता है। उदाहरण के लिए एक अक्षर में यदि को और अक्षर मिला दें तो वह शब्द बन जाता है और एक से अधिक शब्द मिल कर वाक्य बना सकते हैं और एक से अधिक वाक्य मिल कर एक लेख बनाते हैं। कम वाक्य के लेख को छोटा लेख कहते हैं और अधिक वाक्य के लेख को बड़ा लेख कहते हैं।

उदाहरण[सम्पादन]

  1. आपने बहुत अच्छा लेख लिखा है।
  2. आपके लेख में व्याकरण की अनदेखी की गई है।
  3. क्या आपको हिन्दी में लेख लिखना आता है?
  4. हर प्रश्न वाले वाक्य के अन्त में प्रश्नवाचक चिन्ह ("?") लगाया जाता है। तभी लेख को आसानी से समझा जा सकता है।
  5. यदि लेख में उचित चिन्ह न हो, तो लेख समझने में परेशानी भी होती है।
  6. अच्छा लेख लिखने हेतु अच्छे हिन्दी शब्द का ज्ञान होना आवश्यक है।
  7. हिन्दी के लेख लिखने से पूर्व एक शब्दकोश का सदैव उपयोग करें।
  8. कोई भी लेख लिखने वाले को लेखक कहते हैं।

अन्य शब्द[सम्पादन]

  1. लेखक (व्यक्तिवाचक संज्ञा) पु॰
  2. लेखिका (व्यक्तिवाचक संज्ञा) स्त्री॰
  3. लेखन (क्रिया)

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लेख ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. लिखे हुए अक्षर । लिपि ।

२. लिखी हुई बात ।

३. लिखावट । लिखाई ।

४. लेखा । हिसाब किताब । उ॰— गुन औगुन बिधि पूछव होइहि लेख अउ जोख ।— जायसी (शब्द॰) ।

५. पंक्ति । लकीर । रेखा ।

६. पत्र । चीठी (को॰) ।

७. देव । देवता । उ॰— चढे़ विमानन लेख अलेखन वर्षहि मुदित प्रसूना ।— रघुराज (शब्द॰) ।

लेख पु ^२ वि॰

१. लेख्य । लिखने योग्य ।

२. लेखा करने योग्य । हिसाब के लायक ।

लेख ^३ संज्ञा स्त्री॰ [हि॰ लीक] लकीर । पक्की बात । उ॰— विश्वं- भर श्रीपात त्रिभुवनपति वेद विदित यह लेख ।— तुलसी (शब्द॰) ।