लेप

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लेप संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. गीली या पानी आदि के साथ मिली हुई वस्तु जिसकी तह किसी वस्तुओ के ऊपर फैलाकर चढ़ाई जाय । पोतने, छोपने या चुपड़ने की चीज । लेई के समान गाढ़ी गीली वस्तु । मरहम । जैसे,—जहाँ चाट लगो है, वहाँ यह लेप चढ़ा देना । क्रि॰ प्र॰—चढ़ाना ।—रखना ।—लगाना ।

२. गाढ़ी गीली वस्तु की तह जो किसी वस्तुओ के ऊपर फैलाई जाय ।

३. उबटन । बटना ।

४. लगाव । संबंध ।

५. धब्बा । दाग (को॰) ।

६. किसी वस्तु में मिट्टी लगाना । मृतिकालेपन (को॰) ।

७. नैतिक पतन या दोष । पाप ।

९. खाद्यपदार्थ ।

१०. श्रद्ध के समय पिंडदान के अनंतर हाथों में लगा हुआ पिंड का अन्न जिसे वेदी पर बिछे हुए कुशमूल में लगाते हैं । यह अन्न चौथी, पाँचवीं और छठी पीढ़ी के लेखभागी पितर प्राप्त करते हैं ।