लोट

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लोट ^१ संज्ञा स्त्री॰ [हिं॰ लेटना] लोटने का भाववाचक रुप । लोटने की क्रिया या भाव । लुढ़कना । क्रि॰ प्र॰—लगाना । मुहा॰—लोट मारना = (१) लेटना । सोना । (२) किसी के प्रेम में बेसुध होना । लोट होना या हो जाना = (१) आसक्त होना । रीझना । (२) व्याकुल होना ।

लोट ^२ संज्ञा पुं॰ [हिं॰ लोटना]

१. उतार । घाट । उ॰—चारों तरफ पुख्ता लोट बने ।—लल्लु (शब्द॰) ।

२. पु त्रिवली । उ॰—(क) नार नवाए ताके हुरी करी कोकरी चोट । चौंकि केरी झझकी चकी चँपी हँगा गहि लोट ।—श्रृंगार॰ (शब्द॰) । (ख) बड़ति निकास कुच कोर रुचि कढ़त गौर भुज मूल । मन लुटिगी लोटन चढ़त चुँटति ऊँचे फुल ।— बिहारी (शब्द॰) ।

लोट † ^३ संज्ञा पुं॰ [अं॰ नोट] कागज की मुद्रा । नोट ।

लोट संज्ञा पुं॰ [सं॰] जमीन पर लोटना या लुढ़कना [को॰] । यौ॰—लोटभु = स्थान जहाँ घोड़े लोटते हैं ।