लौटना

विक्षनरी से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

लौटना ^१ क्रि॰ अ॰ [हिं॰ उलटना]

१. कही जाकर पुनः वहाँ से फिरना । वापस आना । पलटना । उ॰—(क) नख तें सिख लौं लखि मोहन को तन लाड़िली लौटन पीठ दई । कबि बेनी छबीले भरी अँकवारि पसारि भुजा करि नेहमई । यह गुंज की माल कठोर अहो रहो मो छातियाँ गड़ि पीर भई । उचकी लची चौंकी चकी मुख फेरि तरेरि बडी अँखियाँ चितई ।—बेनी (शब्द॰) ।

२. इधर से उधर मुँह फेरना । पीछे की ओर मुँह करना । उ॰—ताही समय उठो घन घोर शोर दामिनी सी लागी लौटि श्याम घन उर सों लपकि कै ।—केशव (शब्द॰) । संयो क्रि॰—जाना ।—पड़ना ।

लौटना ^२ क्रि॰ स॰ इधर से उधर करना । पलटना । उलटना । जैसे— पुस्तक के पत्ते लौटना । (क्क॰) ।