वानर

विक्षनरी से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

वानर ^१ संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. वन में रहने वाला नर/समुदाय ।

२. दोहे का एक भेद, जिसके प्रत्येक चरण में १० गुरु और २८ लघु होते हैं । यथा—जड़ चेतन गुणदोषमय, विश्व कीन्ह करतार । संत हंस गुण गहहिं पै परिहरि वारि विकार ।

३. एक प्रकार का गंधद्रव्य । राल । यक्षधूप (को॰) ।

वानर ^२ संज्ञा पुं॰ [देश॰] राठोड़ क्षत्रियों की एक शाखा । उ॰— बन्नर नील जिसौ बल वानर ।—रा॰ रू॰, पृ॰ १४६ ।

नोट: बंदर के लिए मर्कट शब्द का प्रयोग होता है।