विकृति

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search


हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

विकृति संज्ञा स्त्री॰ [सं॰]

१. विकार । खराबी । बिगाड़ ।

२. वह रूप जो विकार के उपरांत प्राप्त हो । विगड़ा हुआ रूप ।

३. रोग । बीमारी ।

४. सांख्य के अनुसार मूल प्रकृति का वह रूप जो उसमें विकार आने पर होता है । विकार । परिणाम ।

५. परिवर्तन ।

६. मन में होनेवाला क्षोभ ।

७. विद्रोही होने का भाव । शत्रुता ।

८. मूल धातु से बिगड़कर बना हुआ शब्द का रूप ।

९. उन्नति । विकास ।

१०. माया का एक नाम । ११२३ वर्ण के वृत्तों की संज्ञा ।

१२. गर्भपात । गर्भच्युति (को॰) ।