विक्षनरी:पालि-हिन्दी शब्दकोश

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

अकट -- अकृत, अनिर्मित

अकतञ्‍ञु -- अकृतज्ञ

अकतञ्‍ञु जातक -- अकृतज्ञ व्यापारी की जातक कथा

अकनिट्ठ देव -- पाँच शुद्धावासों में से उच्‍चतम आवास में रहनेवाले देवतागण

अकम्पिय -- स्थिर

अकाच -- निर्दोष

अकालरावी जातक -- असमय बांग देने वाले मुर्गे की जातक कथा

अकामक -- अनिच्छुक

अकाल -- असमय

अकासि -- किया

अकित्ति -- एक उदार-ज्ञानी की जातककथा

अकिरिय -- अ-क्रिया[-वाद], किसी कर्म का कोई फल नहीं होता, यह मत

अकिञ्‍चन -- जिसके पास कुछ न हो

अकिलासु -- क्रियाशील, अप्रमादी

अकुटिल -- जो कुटिल नहीं

अकुतोभय -- जिसे किसी ओर से भी भय न हो

अकुप्प -- स्थिर, अचञ्‍चल

अकुसल -- पाप-कर्म

अकोविद -- अदक्ष, जो हुश्यार नहीं

अक्‍क -- अर्क [=सूर्य], एक पौदा-विशेष

अक्‍कन्त -- आक्रान्त

अक्‍कन्दति -- रोता है, चिल्‍लाता है

अक्‍कोस -- आक्रोश, अपमान

अक्‍कोस -- भारद्वाज, राजगृह का एक ब्राह्मण, जिसने भगवान बुद्ध का अपमान किया था

अक्ख -- अक्ष [गाड़ी की धुरी], अक्ष [जुए का पासा], अक्ष [आँख]

अक्खक -- हँसली

अक्खण -- अक्षण, अनुचित समय

अक्खण-वेधी -- बिजली चमकने भर के समय में तीर मारने वाला

अक्खत -- अक्षय, जिसे चोट न लगी हो

अक्खदस्स -- न्यायाधीश, निर्णायक

अक्खधुत्त -- जुआरी

अक्खय -- अक्षम, जिसका क्षय न हो, लिखने की स्लेट या बोर्ड [-समय] लिखने तथा पढ़ने की विद्या

अक्खर -- अक्षय, [-फलक] लिखने की स्लेट या बोर्ड [-समय] लिखने तथा पढ़ने की विद्या

अक्खरमाला -- पालि तथा सिंहाली वर्ण माला के बारे में एक पालि छन्दोबद्ध रचना

अक्खात -- कहा गया, व्याख्या किया गया

अक्खातार -- कहने वाला, मार्ग प्रदर्शित करने वाला

अक्खाति -- कहता है, सुनाता है, समझाता है

अक्खान -- आख्यान, कथा-वार्ता [भारत-रामायणादि]

अक्खि -- अक्षि, आँख

अक्खोभिनी -- अक्षोहिणी [सेना]

अखेत्त -- अक्षेत्र, बंजर-भूमि

अग -- पर्वत, वृक्ष

अगति -- कुपथ, पक्षपात

अगद -- औषधि

अगरु -- हलका

अगाध -- अत्यधिक गहरा

अगार -- घर, निवास-स्थान

अगारिक -- घर वाला, गृहस्थ

अग्ग -- अग्र, प्रथम, श्रेष्ठतम

अग्गल -- अर्गल, दरवाजे के पीछे लगाई हुई डण्डी

अग्गि -- अग्नि, आग [-वरवन्ध] आग की ढेरी, [-परिचरण]

अग्गि-पूजा -- [-साला] अग्नि-शाला, [-शिखा] आग की लौ, [-हुत्त] यज्ञ

अग्गिक-जातक -- उस गीदड़ की जातक-कथा, जिसके सिर के बाल जंगल की आग से जल गए थे

अग्गिक-भारद्वाज -- भारद्वाज गोत्र का श्रावस्ती का एक ब्राह्मण

अग्गि ब्रह्मा -- संघमित्रा का पति तथा अशोक का जामाता, उसने अशोक के भाई तिस्सकुमार के प्रब्रजित होने के दिन ही प्रब्रज्या ग्रहण की थी

अग्घ -- अर्घ, मूल्य, [-कारक] मूल्य निर्धारण करने वाला

अग्घति -- उतने मूल्य का होना

अग्घिक -- पुष्प-मालाआें से सुसज्‍जित स्तम्भ

अघ -- आकाश, दुःख, दर्द, दुर्भाग्य

अङ्क -- गोद, चिह्न, संख्या

अङ्कुर -- अखुआ

अङ्कुस -- अंकुश

अङ्केति -- चिह्न लगाता है

अङ्ग -- सोलह महा जनपदों में से एक

अङ्ग -- [शरीर का] अङ्ग, भाग, [-पच्‍चङ्ग] शरीर के सभी छोटे-बड़े अङ्ग, [-राग] शरीर पर लगाने का पौडर या उबटन

अङ्गजात -- पुरुषेन्द्रिय

अङ्गण -- आंगन

अंगद -- बाजूबंद

अङ्गना -- औरत

अङ्गार -- जलता हुआ कोयला

अङ्गीरस -- बुद्ध का एक नाम

अङ्गुट्ठ -- अंगूठा

अङ्गुत्तर-निकाय -- सुत्त-पिटक के पाँच निकायों में से एक निकाय

अङ्गुत्तरट्ठकथा -- अंगुत्तर निकाय की अट्ठकथा

अङ्गुल -- अंगुल, उंगलीभर का माप

अङ्गुली-माल -- प्रसिद्ध डाकू, जो बुद्धानुभाव से एक अर्हत हुआ

अङ्गलीयक -- [-लेय्यक], अङ्गूठी

अचल -- स्थिर, अपने स्थान से न हिलनेवाला

अचिर -- जो अभी-अभी हुआ हो, [-प्पभा], बिजली

अचिरवती -- [नदी] पाँच महानदियों में से एक, वर्तमान राप्ति

अचेतन -- बेहोश, जड़

अचेल -- निर्वस्त्र, नंगा, [-क] नग्न रहने वाला साधु

अच्‍चगा -- लाँघ गया

अच्‍चना -- अर्चना, पूजा

अच्‍चन्त -- निरन्तर, लगातार, अत्यन्त

अच्‍चय -- अपराध, दोष

अच्‍चायिक -- तुरन्त करने का कार्य

अच्‍चासन्‍न -- अति समीप

अच्‍चि -- अर्ची, ज्वाला, [-मन्तु], अग्नि

अच्‍चित -- अर्चित, पूजित, सम्मानित

अच्‍चुग्गत -- अत्यन्त ऊँचा

अच्‍चुण्ह -- अत्यन्त ऊष्ण, बहुत गर्म

अच्‍चुत -- [-पद] निर्वाण

अच्‍चोगाळह -- अत्यधिक प्रचुरता में गया हुआ

अच्‍चोदक -- अत्यधिक जल

अच्छ -- अच्छा, स्वच्छ, साफ

अच्छक -- भालु, रीछ

अच्छम्भी -- निर्भय

अच्छरा -- अप्सरा, [-संघात] चुटकी बजाना

अच्छरिय -- आश्चर्य

अच्छादन -- वस्त्र, परिधान

अच्छिन्दति -- लूटता है

अच्छेछि -- काट दिया, नष्ट कर दिया

अज -- बकरी, [-पाल] बकरी चराने वाला, [-लण्डिका] बकरी की मींगन

अजातसत्तु -- मगध नरेश बिम्बसार का पुत्र

अजानन -- अज्ञान

अजिन -- चीता

अजिनपत्ता -- चिमगादड़

अजिनि -- जीत लिया

अजीरक -- बदहजमी

अजेय्य -- जिसे जीता न जा सके

अज्‍ज -- आज, [-तग्गे] आज से, [-तन] आधुनिक

अज्‍जति -- अर्जन करता है, कमाता है

अज्‍जव -- आर्जव, सीधापन

अज्‍जित -- अर्जित, कमाया हुआ

अज्‍जुन -- [1] अर्जुन नाम का वृक्ष [2] पाँच पाण्डवों में से एक भाई अर्जुन

अज्झगा -- प्राप्त किया

अज्झत्त -- स्वकीय

अज्झत्तिक -- अपने आप सम्बन्धी

अज्झयन -- अध्ययन

अज्झाचार -- सीमातिक्रमण, मैथुनक्रिया

अज्झाचिण्ण -- अभ्यस्त

अज्झापन -- अध्यापन, पढ़ाना-लिखाना

अज्झाय -- अध्याय, परिच्छेद

अज्झायक -- अध्यापक, शिक्षक

अज्झावसति -- घर में वास करता है

अज्झासय -- आशय, इरादा

अज्झुपगच्छति -- प्राप्त होता है, सहमत होता है

अज्झुपेक्खन्ति -- उपेक्षा करता है

अज्झुपेति -- समीप पहुँचता है

अज्झेन -- अध्ययन

अज्झोकास -- खुला आकाश

अज्झोसान -- आसक्ति

अज्झोहरण -- निगलना

अञ्‍जति -- आँख में अञ्‍जन लगाना

अञ्‍जन -- सुरमा, [-वण्ण] काला

अञ्‍जन -- शुद्धोदन की दोनों रानियों महामाया तथा महाप्रजापति गौतमी के पिता

अञ्‍जलि -- हाथ जोड़ना, [-पुट] कोई चीज लेने के लिए दोनों हाथों को मिलाकर बनाया जानेवाला डूना

अञ्‍जस -- रास्ता, मार्ग, पथ

अञ्‍ञ -- अन्य, दूसरा

अञ्‍ञतम -- अन्यतम, अनेकों में से एक

अञ्‍ञतित्थिय -- अन्य सम्प्रदाय का अनुयायी

अञ्‍ञत्थ, अञ्‍ञत्र -- अन्यत्र

अञ्‍ञथत्त -- मन का अन्यथा-भाव को प्राप्त होना

अञ्‍ञथा -- अन्यथा, दूसरी तरह

अञ्‍ञदत्थु -- निश्चय से

अञ्‍ञदा -- अन्यदा, दूसरे दिन

अञ्‍ञमञ्‍ञ -- परस्पर

अञ्‍ञोञ्‍ञ -- परस्पर

अञ्‍ञा -- सम्पूर्णज्ञान, अर्हत्व

अञ्‍ञाण -- अज्ञान

अञ्‍ञात -- ज्ञात अथवा ज्ञाता

अञ्‍ञात -- भगवान बुद्ध का प्रथम प्रब्रजित शिष्य

कोण्डञ्‍ञ -- भगवान बुद्ध का प्रथम प्रब्रजित शिष्य

अञ्‍ञातक -- जो सगा-सम्बन्धी नहीं

अञ्‍ञातावी -- जानकार

अञ्‍ञातुकाम -- जानने की इच्छा रखनेवाला

अटवि -- जंगल

अट्ट -- मुकद्दमा

अट्टाल -- अट्टालिका, अटारी

अट्ठ -- आठ

अट्ठक -- आठगुणा

अट्ठकथाचार्य -- अर्थकथाचार्य

अट्ठङ्गिक -- अष्टांगिक, आठ अंगों वाला

अट्ठपद -- शतरंज का तख्ता

अट्ठंस -- अठकोना

अट्ठान -- अस्थान, असम्भव

अट्ठारस -- अट्ठारह

अट्ठि -- हड्डी

अट्ठि-कत्वा -- ध्यान देकर

अट्ठि-सङ्घाट -- अस्थि-पञ्‍जर

अट्ठिसेन जातक -- राजा के उद्यान में रहते हुए, उससे कुछ भी याचना न करने वाले तपस्वी की जातक-कथा

अड्ढ -- धनाढ्य

अड्ढतिय -- ढाई

अड्ढरत्त -- अर्ध-रात्रि

अड्ढुडढ -- साढे तीन

अण -- [ऋण] अनणो, ऋणरहित

अणु -- छोटे से छोटा कण

अण्ड -- अण्डा

अण्डभूत-जातक -- स्त्रियों की ‘स्वाभाविक’ चरित्रहीनता का ज्ञापन करने वाली जातक-कथा

अण्ण -- जल

अण्णव -- समुद्र

अण्ह -- दिन, पूर्वाह्न तथा अपराह्न

अतच्छ -- मिथ्या, अयथार्थ

अति -- अधिकता का अर्थ लिये हुए

अतिखिप्पं -- अति शीघ्र

अतिगाळह -- अति निकट

अतित्त -- अतृप्त

अतिथि -- अतिथि, मेहमान

अतिदिवा -- दिन चढ़े

अतिदेव -- श्रेष्ठतर देवता

अतिधमति -- ढोल को या तो बहुत जोर से या बार-बार बजाता है

अतिधावति -- दौड़कर आगे बढ़ जाता है

अतिनामेति -- समय गुजारता है

अतिनिग्गण्हाति -- अधिक डाँटता-डपटता है

अतिपपञ्‍च -- अत्यधिक विलम्ब

अतिपात -- मार डालना, हत्या करना

अतिप्पगो -- बहुत जल्दी

अतिबहल -- बहुत मोटा

अतिबाळहं -- अत्यधिक

अतिबाहेति -- भगा देता है, बाहर कर देता है

अतिभगिनी -- अत्यन्त प्रिय बहन

अतिभारिय -- अत्यन्त भारी, अत्यन्त गम्भीर

अतिमञ्‍ञति -- घृणा करता है

अतिमनाप -- अत्यन्त प्रिय

अतिमत्त -- अतिमात्र, अत्यधिक

अतिमहन्त -- बहुत बड़ा

अतिमान -- अभिमान, अहंकार

अतिमुखर -- अत्यन्त वाचाल

अतिमुत्तक -- एक पौदे का नाम

अतिमुदुक -- अत्यन्त मृदु

अतियक्ख -- झाड़-फूंक करनेवाला ओझा

अतियाचक -- अत्यन्त याचना करने वाला

अतियति -- लांघ जाता है

अतिरत्तिं -- अधिक रात बीते

अतिरिच्‍चति -- छूट जाता है, [शेष] रहता है

अतिरित्त -- अतिरिक्त

अतिरिव -- अत्यधिक

अतिरेक -- अतिरिक्त

अतिरोचति -- अधिक चमकता है

अतिलुद्ध -- अत्यन्त लोभी

अतिवङ्किन -- अत्यन्त टेढ़ा

अतिवत्त -- विजित

अतिवत्तति -- लांघ जाता है, पार कर जाता है

अतिवस -- किसी के वश में, किसी पर निर्भर

अतिवस्सति -- खूब बरसता है

अतिवाक्य -- अपशब्द, गाली

अतिवात -- आँधी-तूफान

अतिवायति -- [सुगन्धि] लेकर जाता है

अतिवाहक -- भार वहन करने वाला

अतिविकाल -- अत्यन्त असमय

अतिविज्झति -- बींध देता है, आर-पार देखता है

अतिविय -- अत्यन्त

अतिविस्सट्ठ -- बकबक करने वाला

अतिविस्सासिक -- अत्यन्त रहस्यपूर्ण

अतिविस्सुत -- अत्यन्त प्रसिद्ध

अतिवेलं -- अधिक समय बीत जाना

अतिसण्ह -- अति-सूक्ष्म, अति चिकना

अतिसम्बाध -- जहाँ बहुत भीड़-भाड़ हो, जो रास्ता तंग हो

अतिसय -- अतिशय, आधिक्य

अतिसायं -- अत्यन्त सायंकाल

अतिसार -- सीमोल्‍लंघन, दस्त लग जाना

अतिसिथिल -- अत्यन्त शिथिल

अतिहट्ठ -- अत्यन्त प्रसन्‍नचित्त

अतिहीन -- अत्यन्त दरिद्र

अतिहीलेति -- घृणा करता है

अतीत -- भूत-काल

अतीव -- बहुत अधिक

अतो -- अतः, इसके बाद

अत्त -- अपना-आप

अत्त-काम -- आत्म-प्रेम

अत्त-किलमथ -- काय-क्‍लेश

अत्त-गुत्ति -- आत्म-संयम

अत्त-घञ्‍ञ -- आत्म-विनाश

अत्तदत्थ -- आत्म-हित

अत्तदन्त -- आत्म-दमित

अत्त-दिट्ठि -- आत्म-दृष्टि, ‘आत्मा’ का अस्तित्व मानना

अत्त-भाव -- व्यक्तित्व

अत्त-वाद -- ‘आत्मा’ के सम्बन्ध का पक्ष या मत

अत्त-वध -- आत्म-विनाश

अत्त-हित -- आत्म-हित

अत्तज -- आत्मज, पुत्र

अत्तदीप -- आत्म-दीप, आत्म-निर्भर

अत्तनीय -- अपने-आप सम्बन्धी अथवा आत्मा-सम्बन्धी

अत्तंतप -- अपने-आपको तपाने वाला

अत्तपच्‍चक्ख -- आत्म-प्रत्यक्ष, आत्मसाक्षी

अत्तपटिलाभ -- आत्म-प्रतिलाभ, जन्म

अत्तमन -- प्रसन्‍न-वदन

अत्तसम्भव -- आत्म-सम्भव, अपनेआपसे उत्पन्‍न

अत्तहेतु -- आत्म-हेतु, अपने आपके लिये

अत्ताण -- बिना त्राण के, बिना संरक्षण के

अत्थ -- कल्याण%लाभ, धन, आवश्यकता, इच्छा, उपयोग, अर्थ, विनाश

अत्थक्खायी -- हितकर बात कहने वाला

अत्थकर -- हितकारी

अत्थकाम -- हितचिन्तक

अत्थकुसल -- हितकर बात का पता लगाने में दक्ष, अर्थ बताने में दक्ष

अत्थचर -- परोपकारी

अत्थचरिया -- परोपकार

अत्थदस्सी -- हितचिंतक

अत्थभञ्‍जक -- अहितकारी

अत्थवादी -- हितकर बात कहने वाला, अत्थ, क्रिया, अत्थि का बहुवचन

अत्थकथा -- अर्थों की व्याख्या, भाष्य

अत्थगम -- अस्तगत होना, छिप जाना, आँख से ओझल होना

अत्थञ्‍जु -- अर्थ का जानकार, हितकर बात का जानकार

अत्थरत -- ऊपर बिछाया गया

अत्थर -- आस्तरण

अत्थरक -- बिछाने वाला

अत्थरण -- बिस्तर की चादर

अत्थरति -- बिछाता है

अत्थरापेति -- बिछवाता है

अत्थवस -- कारण, उपयोग

अत्थसालिनी -- अभिधम्मपिटक के धम्मसंगनी प्रकरण पर बुद्ध घोष द्वारा रचित अट्ठकथा

अत्थस्सद्वार जातक -- वाराणसी के सेठ के पुत्र की जातक-कथा, जो सात वर्ष की आयु में ही सुपथगामी बना

अत्थाय -- अत्थ की चतुर्थी, के लिए, किमत्थायकिसलिए?

अत्थि -- है

अत्थि-भाव -- अस्तित्व

अत्थिक -- अर्थी, किसी चीज की इच्छा करनेवाला

अत्र -- यहाँ

अत्रज -- पुत्र, अत्रजा, पुत्री

अत्रिच्छ -- अत्यन्त लोभी, अत्रिच्छता, अत्यन्त लोभ

अथ -- तब

अथब्बण -- अथर्व-वेद

अथो -- अय, निपात मात्र

अदक -- खाने वाला

अदति -- खाता है

अदन -- खाना, भोजन

अदस्सन -- दिखाई न देना

अदिट्ठ -- अदृष्ट, जो दिखाई दिया हो

अदिन्‍न -- जो दिया न गया हो

अदिस्समान -- जो दिखाई न दे

अदु -- अमुक

अदूभक -- जो विश्वासघाती नहीं

अदूसक -- निर्दोष, निरपराध

अद्द -- काई, गीलापन

अद्दक -- अदरक

अद्दक्खि -- देखा

अद्दसा -- देखा

अद्दि -- पर्वत

अद्दित -- दबाया गया

अद्ध -- आधा, [-मास] आधा-महीना, एक पक्ष

अद्धगत -- जीवन-पथ का यात्री

अद्धगू -- यात्री

अद्धनिय -- यात्रा करने योग्य, चिरकाल तक बना रहने वाला

अद्धा -- निश्चयात्मक रूप से

अद्धा -- मार्ग, समय

अद्धान -- लम्बा रास्ता या दीर्घ समय

अद्धिक -- यात्री

अद्धुव -- अध्रुव, अस्थिर

अद्वेज्द्म -- असंदिग्ध

अधम -- नीच, पापी

अधम्म -- दुराचार, मिथ्या-मत

अधर -- होंठ, नीचे का

अधि -- तक, पर

अधिकत -- अधिकृत, कारणीभूत

अधिकरण -- मुकद्दमा

अधिकरण-समथ -- मुकद्दमे का फैसला

अधिकरणिक -- न्यायाधीश

अधिकरणी -- लोहार की निहाई

अधिकार -- पद, आकांक्षा

अधिकोट्टन -- जल्‍लाद का थड़ा

अधिकोधित -- अत्यन्त क्रोधित

अधिगच्छति -- प्राप्त करता है

अधिगच्छि -- प्राप्त किया

अधिगण्हाति -- पार कर जाता है, प्राप्त करता है, लाँघ जाता है

अधिगम -- प्राप्ति, ज्ञान

अधिचित्त -- चित्त को एकाग्र करने की साधना

अधिच्‍च -- पढ़कर या पाठ करके

अधिच्‍च -- समुप्पन्‍न, अकारण उत्पन्‍न

अधिट्ठाति -- द्दढ़ संकल्प करता है

अधिट्ठातब्ब -- अधिष्ठान करने योग्य

अधिट्ठायक -- निरीक्षक

अधिप [अधिपति] -- स्वामी, शासक

अधिपञ्‍ञा -- श्रेष्ठ प्रज्ञा

अधिपतन -- आक्रमण, ऊपर आ पड़ना, उछलना-कूदना

अधिपन्‍न -- गृहीत

अधिपात -- टुकड़े-टुकड़े हो जाना, विनाश

अधिपातक -- झींगुर, अँख-फोड़वा

अधिपातेति -- नाश कर डालता है

अधिप्पघरति -- चूता है

अधिप्पाय -- अभिप्राय, इरादा

अधिभवति -- नीचे दबा देता है

अधिमत्त -- अत्यधिक मात्रा

अधिमन -- चित्त की एकाग्रता

अधिमान -- अभिमान, अहङ्कार

अधिमानिक -- ऐसा व्यक्ति जो झूठ-मूठ ही समझता है कि उसने कोई सिद्धि प्राप्त कर ली है

अधिमुच्‍चति -- झुकता है, अनुरक्त होता है

अधिमुच्‍चन -- संकल्प करना, इरादा करना

अधिमुत्ति -- संकल्प, झुकाव

अधिमोक्ख -- द्दढ़ निश्चय

अधिरोहनी -- सीढ़ी

अधिवचन -- संज्ञा, नामकरण

अधिवत्तति -- अतिक्रमण कर जाता है, परास्त कर देता है

अधिवत्थ -- रहने वाला

अधिवसति -- रहता है

अधिवासक -- सहनशील

अधिवासना -- सहनशीलता

अधिवासेति -- सहन करता है

अधिसील -- श्रेष्ठतर सदाचार

अधिसेति -- लेटता है, बैठता है, रहता है, अनुकरण करता है

अधीन -- निर्भर

अधीयति -- अध्ययन करता है, कण्ठस्थ करता है

अधुना -- अब, अचिरकाल पूर्व

अधो -- नीचे

अधोकत -- नीचे किया गया

अधोगम -- पतनोन्मुख

अधोभाग -- नीचे का हिस्सा, अधोमुख, नीचे मुँह किये

अनङ्गण -- राग-द्वेष रहित, निर्दोष

अनण -- ऋण-मुक्त

अनत्त -- अनात्म [-सिद्धान्त]

अनत्तमन -- असन्तुष्ट

अनत्थ -- हानि, दुर्भाग्य

अनधिवर -- तथागत, बुद्ध

अननुच्छविक -- अनुचित, अयोग्य

अननुसोचिय जातक -- वाराणसी में धनी ब्राह्मण के रूप में बोधिसत्व की जातक-कथा

अनन्त -- सीमा-रहित

अनन्तर -- इसके बाद

अनपेक्ख -- अपेक्षा-रहित

अनभाव -- [अनु+अभाव] जन्म-मरण का सम्पूर्ण अभाव

अनभिरत -- रस न लेता हुआ, रमण न करता हुआ

अनभिरति जातक -- [1] स्त्रियों को निजी सम्पत्ति मानना अनुचित है, प्रसंग की जातक-कथा [2] अच्छी स्मरण-शक्ति के लिये चित्त की स्थिरता आवश्यक है, प्रसंग की जातक-कथा

अनमतग्ग -- जिसका आरम्भ अज्ञात है

अनय -- दुर्भाग्य

अनरिय -- असभ्य, गँवार

अनल -- अग्नि

अनलंकत -- [1] असंतुष्ठ, [2] अलंकृत नहीं किया गया

अनवट्ठित -- अनवस्थित, अस्थिर

अनवय -- न्यून नहीं, सम्पूर्ण

अनवरत -- लगातार, निरंतर

अनवसेस -- निरवशेष, सम्पूर्ण

अनवोसित -- असमाप्त, असम्पूर्ण

अनसन -- आहार-त्याग, व्रत

अनस्सासिक -- आश्वासन-रहित

अनाकुल -- उलझन-रहित

अनागत -- भावी

अनागत वंस -- चोल देश के वासी काश्यप स्थविर द्वारा भावी मैत्रेय बुद्ध के बारे में रची गई एक पद्यबद्ध रचना

अनागमन -- आगमन का निषेध

अनागामी -- फिर इस संसार में लौटकर न आने वाला

अनाचार -- दुराचार

अनाजानीय -- अच्छी नसल का नहीं

अनाथ -- दुखी, असहाय

अनाथ पिण्डिक -- श्रावस्ती का प्रसिद्ध दानी सेठ सुदत्त [अनाथपिण्डिक]

अनादर -- अगौरव

अनादा -- बिना लिये

अनापादा -- अविवाहिता

अनापुच्छा -- बिना पूछे

अनाबाध -- बाधा-रहित, सुरक्षित

अनामन्त -- अनिमंत्रित, अपृष्ठ, जिससे कुछ पूछा न गया हो

अनामय -- रोग-मुक्त

अनामसित -- जो छुआ न गया हो, अस्पृष्ट

अनायतन -- अयोग्य स्थान

अनायास -- बिना कष्ट के, आसानी से

अनारम्भ -- बिना परिश्रम के, बिना कुछ भी खट-पट किये

अनाराधक -- असफल

अनालम्ब -- आलम्बन-रहित, आधार-रहित

अनालय -- आसक्ति-रहित

अनावट -- अनावृत, बिना ढका हुआ, खुला

अनावत्ती -- जो न लौटने वाला हो

अनावास -- जहाँ किसी का निवास न हो

अनावरण -- जो ढका न हो

अनाविल -- जो गन्दला न हो, साफ हो

अनावुत्थ -- जहाँ कोई रहा न हो

अनासक -- निराहार, ब्रती

अनासव -- आस्रव-रहित, चित्त-मैल रहित

अनाळिहक -- गरीब

अनिक्‍कसाव -- काषाय अर्थात् चित्त-मलों से युक्त

अनिखात -- जो खोदा नहीं गया

अनिघ -- दुःख-रहित

अनिच्‍च -- अस्थिर, अनित्य

अनिच्छमान -- जो इच्छा न करे

अनिच्छा -- अरुचि

अनिञ्‍जन -- स्थिरता

अनिट्ठ -- अनिष्ठ, जिसकी इच्छा न हो

अनिट्ठित -- असमाप्त

अनिन्दित -- निन्दा-रहित

अनिन्दिय -- अनिन्दनीय

अनिमिस -- बिना पलक झपके

अनियत -- अनिश्चित

अनिल -- हवा

अनिल-पथ -- आकाश

अनिवत्तन -- रुकने का अभाव

अनिसम्मकारी -- बिना सोच-विचार किये करने वाला, जल्दबाज

अनिस्सर -- ईश्वर के बिना, ऐश्वर्य के बिना

अनीक -- सेना

अनीघ -- देखें आनिघ

अनीतिक -- हानि-रहित

अनीतिह -- सुनी-सुनाई बात नहीं, स्वानुभव से ज्ञात

अनुकंखी -- आकांक्षा करने वाला, इच्छा करने वाला

अनुकंतति -- फाड़ता है, काटता है, चीरता है

अनुकम्पक -- दयालु, अनुकम्पा करने वाला

अनुकम्पति -- अनुकम्पा करता है

अनुकरोति -- नक़ल करता है

अनुकस्सति -- खींचता है, दुहराता है

अनुकार -- नक़ल, अनुकृति

अनुकिण्ण -- बिखेरा हुआ

अनुकूल -- प्रतिकूल न होना, अनुभाव, प्रताप

अनुवात -- अनुकूल वायु

अनुक्‍कम -- क्रम, अनुक्‍कमेन, क्रमानुसार

अनुखुद्दक -- कम महत्व की चीज

अनुग -- पीछे चलनेवाला, जिसका अनुगमन होता हो

अनुगच्छति -- पीछे चलता है

अनुगत -- जिसका कोई अनुगामी हो

अनुगति -- अनुगमन करना

अनुगामिक -- अनुगामी

अनुगायति -- दूसरे गाने वाले के साथ-साथ गाता है

अनुगाहति -- गोता लगाता है

अनुगिज्झति -- लोभ करता है

अनुगण्णहाति -- अनुग्रह करता है

अनुगहित -- अनुगृहीत

अनुग्गाहक -- अनुग्रह करने वाला

अनुग्गिरन्त -- न बोलते हुए

अनुग्घाटेति -- उद्घाटन करता है

अनुचङ्कमति -- साथ या पीछे-पीछे चंक्रमण करता है

अनुचर -- अनुगामी

अनुचरण -- अभ्यास

अनुचरित -- अभ्यस्त

अनुचिनाति -- संग्रह करता है

अनुचिन्तेति -- विचार करता है

अनुच्‍चारित -- उच्‍चारण न किया गया

अनुच्‍चिट्ठ -- ऐसा भोजन जो जूठा नहीं किया गया

अनुच्छविक -- योग्य, समीचीन

अनुज -- भाई

अनुजा -- बहन

अनुजात -- अनन्तर उत्पन्‍न

अनुजानाति -- अनुमति देता है

अनुजीवति -- जीवित रहता है

अनुजीवी -- जिसका जीवन किसी दूसरे पर निर्भर हो

अनुजु -- जो ऋजु न हो, टेढ़ा

अनुञ्‍ञा -- अनुमति

अनुट्ठान -- अक्रिया-शीलता

अनुडसति -- डंक मारता है

अनुडहति -- जलाता है

अनुतप्पति -- पछतावा करता है

अनुतिट्ठति -- 1. पास खड़ा होता है, 2. सहमत होता है

अनुतीर -- किनारे के पास

अनुत्तर -- जिससे बढ़कर कुछ नहीं, सर्वोत्तम

अनुत्तान -- गहरा, जो उथला नहीं, अस्पष्ट

अनुत्थुनाति -- चिल्‍लाता है, अनुताप करता है

अनुत्रासी -- जो भयभीत नहीं

अनुथेर -- स्थविर के बाद द्वितीय

अनुददाति -- देता है

अनुदिसा -- अनुदिशा

अनुद्दया -- अनुकम्पा

अनुद्दिट्ठ -- जिसका संकेत नहीं किया गया, जिसका उच्‍चारण नहीं किया गया

अनुद्धत -- निरहंकारी

अनुद्धम्म -- धर्मानुसार

अनुधावति -- पीछे दौड़ता है

अनुनय -- मैत्री-भाव

अनुनेति -- संतुष्ट करता है

अनुप -- गीली जमीन

अनूप -- गीली जमीन

अनुपकुट्ठ -- निर्दोष

अनुपखज्‍जति -- दखल देता है

अनुपगच्छति -- जाता है, वापिस आता है

अनुपघात -- अहिंसा

अनुपचित -- असंग्रहीत

अनुपञ्‍ञत्ति -- उपनियम

अनुपटिपाति -- क्रम, क्रमानुसार

अनुपटिठत -- अनुपस्थित, गैरहाजिर

अनुपत्ति -- प्राप्ति

अनुपद -- पदानुसार, पीछे-पीछे

अनुपद्दव -- उपद्रव का न होना

अनुपधारेति -- विचार नहीं करता है

अनुपबज्‍जा -- किसी दूसरे से प्रभावित होकर प्रब्रजित होना

अनुपमेय -- जिससे तुलना न की जा सके

अनुपरिगच्छति -- चारों ओर घूमता है

अनुपरिवत्तति -- लुढकता है

अनुपरिवेरति -- घेर लेता है

अनुपलित्त -- जो लिबाड़ा नहीं, जिसको कुछ लगा नहीं

अनुपवज्‍ज -- निर्दोष

अनुपविसति -- प्रवेश करता है

अनुपसम्पन्‍न -- जो उपसम्पन्‍न नहीं हुआ

अनुपस्सक -- द्रष्टा

अनुपस्सति -- देखता है, विचार करता है

अनुपस्सना -- अनुपश्यना, विचार करना

अनुपद्दत -- जिसे कुछ हानि नहीं हुई, जो नष्ट नहीं हुआ

अनुपात -- अपशब्द

अनुपादाय -- बिना विचार किये, बिना समझे

अनुपादान -- अनासक्त, बिना इँधन के

अनुपादिसेस -- अशेष उपाधि के निरोध वाली [निर्वाण धातु]

अनुपापुणाति -- प्राप्त करता है

अनुपापेति -- प्राप्त कराता है

अनुपाय -- अनुचित उपाय

अनुपायास -- चिन्ता-रहित

अनुपालेति -- पालता है

अनुपाहन -- बिना जूते के

अनुपिय -- कपिलवस्तु की पूर्व-दिशा में मल्‍ल-जनपद का एक नगर

अनुपुच्छति -- पूछता है, प्रश्न करता है

अनुपुट्ठ -- पूछा गया

अनुपुब्ब -- क्रमशः

अनुपेक्खति -- ध्यान देता है, विचार करता है

अनुपेक्खना -- ध्यान, विचार

अनुपेसेति -- पीछे भेजता है

अनुपोसिय -- जिसका पालन-पोषण करना हो

अनुप्पत्ति -- प्राप्ति, अन+उप्पत्ति, जन्म का न होना

अनुप्पदातु -- दाता, देने वाला

अनुप्पदाति -- देता है, दे डालता है

अनुप्पन्‍न -- जो उत्पन्‍न नहीं हुआ

अनुप्पीळ -- जो पीड़ित नहीं किया गया, जिसे कष्ट नहीं दिया गया

अनुकरण -- व्याप्त होना

अनुफुसीयति -- भिगोता है, छिड़कता है

अनुबद्ध -- जिसका पीछा किया जाता हो

अनुबन्धन -- बंधन, पीछा करना

अनुबल -- सहायता देना, समर्थन करना

अनुबुज्झति -- बोध प्राप्त करता है, समझता है

अनुबुज्झन -- बोध, ज्ञान

अनुबुद्ध -- बोध-प्राप्त, ज्ञानी, अल्पतर बुद्ध

अनुबोध -- समझ, ज्ञान

अनुब्बजति -- अनुगमन करता है

अनुब्बत -- श्रद्धावान्, अनु-व्रती

अनुब्यञ्‍जन -- दूसरे दर्जे के चिह्न

अनुब्रूहेति -- बढ़ाता है

अनुभवति -- अनुभव करता है, खाता है

अनुभवन -- अनुभव करना, खाना

अनुभाग -- गौण हिस्सा

अनुभायति -- डरता है

अनुभाव -- प्रताप, तेजस्विता

अनुभासति -- दोहराता है

अनुभूत -- अनुभव में आया हुआ

अनुमज्‍जति -- थपथपाता है, डुबकी लगाता है, गहराई में नीचे उतरता है

अनुमज्झ -- मध्यस्थ

अनुमञ्‍ञति -- स्वीकार करता है, सहमत होता है

अनुमति -- सहमति, अनुज्ञा

अनुमान -- अनुमान [–प्रमाण]

अनुमीयति -- अनुमान करता है, परिणाम पर पहुँचता है

अनुमोदक -- अनुमोदन करने वाला, समर्थक, प्रसन्‍न होने वाला

अनुम्मत्त -- जो उन्मत्त [-पागल] नहीं

अनुयात -- जिसके पीछे-पीछे कोई आता हो

अनुयायी -- अनुगामी

अनुयुज्‍जति -- किसी काम में लगता है

अनुयुत्त -- किसी काम में लगा हुआ

अनुयोग -- साधना

अनुयोगी -- त्रिलिंगी, साधक

अनुरक्खक -- रक्षक

अनुरक्खण -- अनुरक्षण

अनुरक्खति -- रक्षा करता है

अनुरक्खा -- आरक्षा

अनुरक्खीय -- संरक्षणीय

अनुरज्‍जति -- आकर्षित होता है, आनन्दित होता है

अनुरत्त -- आसक्त

अनुरव -- गूँज

अनुरुद्ध स्थविर -- अमितोदन शाक्य का पुत्र तथा महानाम का भाई, भगवान बुद्ध के प्रधान भिक्षु शिष्यों में से एक

अनुरूप -- अनुकूल

अनुरोदति -- चिल्‍लाता है

अनुरोध -- स्वीकृति, अनुकूलता

अनुलिम्पति -- अभिसिञ्‍चन करता है

अनुलोम -- सीधे क्रम से

अनुलोमेति -- क्रम का अनुगमन करता है

अनुवज्‍ज -- दोषभागी

अनुवत्तक -- अनुगामी

अनुवत्तेति -- उत्तराधिकार होता है, अनुकरण करता है

अनुवदति -- दोषारोपण करता है

अनुवसति -- किसी के साथ रहता है

अनुवस्सं -- हर वर्षा काल में

अनुवस्सिक -- वार्षिक

अनुवात -- अनुकूल-वायु

अनुवाद -- दोषारोपण, [एक भाषा से दूसरी भाषा में] रूपान्तर

अनुवासेति -- सुगन्धित करना

अनुविचरति -- इधर-उधर घूमता है

अनुविचिनाति -- विचार करता है, चिन्तन करता है

अनुविच्‍च -- जानकर, परीक्षण कर

अनुविज्‍जक -- परीक्षक

अनुविज्झति -- बींधता है, परीक्षण करता है

अनुवितक्‍केति -- तर्क-वितर्क करता है, मनन करता है

अनुविधीयति -- [विधी के] अनुसार आचरण करता है

अनुविलोकेति -- निरीक्षण करता है

अनुवुट्ठ -- रहता हुआ, वास करता हुआ

अनुब्यञ्‍जन -- छोटे-मोटे चिह्न या लक्षण

अनुसक्‍कति -- एक ओर हट जाता है, पीछे हट जाता है

अनुसंवच्छर -- प्रतिवर्ष

अनुसंचरति -- चलता-फिरता है, घूमता है

अनुसट -- अभिसिञ्‍चित

अनुसत्थर -- शिक्षक, उपदेशक

अनुसन्धि -- मेल, परिणाम

अनुसय -- चित्त का झुकाव, चित्त की प्रवृत्ति [कुपथगामी]

अनुसरति -- अनुगमन करता है, अनुस्मरण करता है

अनुसवति -- चूता रहता है, बहता रहता है

अनुसावक -- सुनाने वाला, घोषणा करने वाला

अनुसावेति -- घोषणा करता है

अनुसासक -- अनुशासन करने वाला, प्रवचन करने वाला

अनुसासिक जातक -- एक पेटू भिक्षुणी के बारे में जेतवन में उपदिष्ट जातक कथा

अनुसिक्खति -- शिक्षा ग्रहण करता है

अनुसुणाति -- सुनता है

अनुसूयक -- ईर्षा-रहित

अनुसेति -- साथ लेटता है

अनुसोचति -- सोचता है, पश्चाताप करता है

अनुसोत -- स्रोत के अनुसार

अनुस्सति -- जागरूकता, स्मृति

अनुस्सरण -- अनुस्मरण

अनुस्सति -- अनुस्मरण करता है

अनुस्सव -- सुनी-सुनाई बात

अनुस्सुक -- जो कुछ करने के लिए उत्सुक नहीं

अनुहसति -- हँसता है, मजाक करता है

अनून -- अन्यून, सम्पूर्ण

अनुपम -- जिसकी उपमा नहीं

अनूहत -- जिसकी जड़ नहीं खुदी

अनेक -- बहुत से, एक नहीं

अनेज -- तृष्णा-विहीन

अनेघ -- ईधन-विहीन

अनेळ -- निर्दोष, अनेळ-गल, अनेल-मूग, गूँगा नहीं

अनेसना -- [जीविका] की अनुचित खोज

अनोक -- बे-घर

अनोकास -- स्थान, समय या अवसर का अभाव

अनोजा -- नारंगी के रंग के फूलों वाला पौदा या उसके फूल

अनोतत्त -- हिमालय की कोई झील, सम्भवतः मानसरोवर

अनोतप्प -- [पाप करने में] निर्भय

अनोदक -- जल-रहित

अनोदिस्सक -- सर्व-सामान्य के लिए

अनोनमति -- नहीं झुकता है

अनोम -- श्रेष्ठ

अनोमा -- कपिलवस्तु के पूर्व की ओर की अनोमा नाम की नदी, जिसे गृहत्याग के अनन्तर सिद्धार्थ-गौतम ने सर्व-प्रथम पार किया

अनोमज्‍जति -- [शरीर को हाथ से] मलता है

अनोरपार -- जिसका वारापार नहीं, न इस ओर तीर, न उस ओर तीर

अनोवस्सक -- वर्षा से बचा हुआ, वर्षा से सुरक्षित

अन्त -- आखिर, अवसान

अन्त-कर -- अन्तिम

अन्त-गुण -- आन्त

अन्तजातक -- देवदत्त के बारे में वेळुवन में उपदिष्ट जातक कथा

अन्तक -- मृत्यु

अन्तमसो -- अन्तिम दर्जे

अन्तर -- भेद, दूरी, भीतरी

अन्तरकप्प -- [दो] कल्पों के बीच

अन्तरघर -- घरों के बीच या गाँव में

अन्तर-साटक -- अन्दर का वस्त्र

अन्तरट्ठक -- शीत-ऋतु के अत्यन्त ठण्डे आठ दिन, जिस समय [भारत में] बर्फ गिरती है

अन्तरवन्तरा -- जब-तब

अन्तरधान -- अदृश्य हो जाना, अन्तरध्यान हो जाता

अन्तरवासक -- अन्दर का वस्त्र, लुंगी या धोती की तरह पहना जाने वाला, चीवर

अन्तरस -- दो कन्धों के बीच की दूरी

अन्तरा -- बीच में, अन्तरा-मग्गे, बीच रास्ते में

अन्तरापण -- दुकानों के बीच, बाजार

अन्तराय -- बाधा, खतरा

अन्तरायिक -- बाधक कारण

अन्तराल -- बीच की स्थिति

अन्तरिक -- इसके बाद की स्थिति

अन्तलिक्ख -- अन्तरिक्ष, आकाश और पृथ्वी के बीच का अवकाश

अन्तवन्तु -- अन्तवान्, जिसका आखिर हो

अन्तिक -- सिरे पर, पड़ोस

अन्तेपुर -- 1. नगर का भीतरी भाग, 2. महल का भीतरी भाग, रनिवास

अन्तेवासी -- आचार्य के साथ रहने वाला, शिष्य

अन्तो -- अन्दर

अन्दु -- बेड़ी

अन्दु-घर -- जेलखाना

अन्धक -- मक्खी-विशेष

अन्धक -- आन्ध्र-प्रदेश का निवासी

अन्धकविन्द -- राजगृह से तीन गव्यूति की दूरी पर मगध-जनपद का एक गाँव

अन्धक -- [-निकाय], स्थविरवाद से पृथक् हो जाने वाले भिक्षुआें का एक सम्प्रदाय

अन्धकार -- अन्धेरा, चकित हो जाना

अन्धतम -- तथा, घुप अन्धेरा

अन्‍न -- भोजन

अन्‍नद -- भोजन-दाता

अन्‍न-पान -- खाना-पीना

अन्वक्खर -- अक्षरानुसार

अन्वगा -- [वह] गया, उसने अनुगमन किया

अन्वगु -- [वे] गये, उन्होंने अनुगमन किया

अन्वड्ढमास -- हर पन्द्रहवें दिन

अन्वत्थ -- अर्थानुसार

अन्वदेव -- पीछे लगा होना

अन्वय -- मार्ग, क्रम, हेतु

अन्वहं -- दैनिक

अन्वागच्छति -- पीछे-पीछे आता है

अन्वाय -- अनुभव करके, हो करके

अन्वायिक -- , अनुगामी, साथी

अन्वाहिण्डति -- घूमता है

अन्वेति -- पीछे-पीछे आता है

अन्वेसक -- खोजने वाला, अन्वेषक

अन्वेसति -- अन्वेषण करता है

अन्ह -- दिन, [पूर्वाह्न, मध्याह्न, अपराह्न]

अपकडढति -- बाहर खींच लेता है, दूर खींच ले जाता है

अपकरोति -- अपकार करता है

अपकस्सति -- एक ओर खींच लेता है, हटा देता है

अपकार -- बुराई, हानि, दुष्कर्म

अपक्‍कमति -- चला जाता है

अपगब्भ -- 1.फिर जन्म न ग्रहण करने वाला, 2.अप्रगल्भ

अपगम -- चले जाना, अदृश्य हो जाना

अपचय -- निरोध, जन्म-मरण का निरोध

अपचायति -- आदर करता है, गौरव करता है

अपचायन -- पूजा, गौरव, आदर

अपचायक -- पूजा करने वाला

अपच्‍च -- सन्तान

अपच्‍चक्ख -- जिसका प्रत्यक्ष नहीं हुआ

अपजित -- हार

अपण्णक -- निर्दोष

अपण्णक जातक -- अनाथ पिन्डिक तथा उसके पाँच सौ मित्रों को उपदिष्ट जातक-कथा

अपत्थट -- जो फैला नहीं

अपत्थद्ध -- उत्तेजना-रहित

अपत्थिय -- जिसकी इच्छा करना अयोग्य है

अपथ -- कुमार्ग

अपद -- बिना पाद [=पाँव के चिह्न] के

अपदान -- जीवनचर्या, अनुश्रुति

अपदान -- खुद्दक निकाय के पन्द्रह ग्रन्थों में से एक, इसमें भगवान बुद्ध के समकालीन पाँच सौ सैंतालीस भिक्षुआें तथा चालीस भिक्षुणियों की जीवन-कथायें संग्रहीत हैं

अपदिस -- साक्षी, गवाही

अपदिसति -- साक्षी उपस्थित करता है, उद्धृत करता है

अपदेस -- तर्क, कथन

अपधारण -- ढक्‍कन

अपनामेति -- हटाता है, दूर कर देता है

अपनिदहति -- छिपाता है

अपनिहित -- छिपा हुआ

अपनुदति -- हाँक देता है, दूर हटा देता है

अपनुदन -- हटाना

अपनुदितु -- हटाने वाला

अपनेति -- दूर हटाता है

अपमार -- मृगी [रोग]

अपयाति -- चला जाता है

अपर -- दूसरा, पश्चिमीय, अपरभागे, [अधि-] बाद में

अपरगोयान -- पृथ्वी के चार महाद्वीपों में से एक

अपरज्‍जु -- अगले दिन

अपरज्झति -- अपराध करता है

अपरद्ध -- दोषी, असफल

अपरंत -- तृतीय संगीति के बाद अशोक ने जिन देशों में भिक्षुआें को धर्म प्रचारार्थ भेजा उनमें से एक

अपरप्पच्‍चय -- जो दूसरों पर निर्भर नहीं

अपरसेलिय -- अन्धकों का एक उपसम्प्रदाय

अपराजित -- जो जीता नहीं गया

अपराध -- दोष, कसूर

अपरापरिय -- निरन्तर, लगातार

अपरिग्गहित -- जिस पर अधिकार न किया गया हो

अपरिच्छिन्‍न -- असीम

अपरिमित -- असीम

अपलायी -- जो भागता नहीं

अपलालेति -- लाड़-प्यार करता है

अपलिबुद्ध -- बाधा-रहित, स्वतंत्र

अपलेखन -- खुरचना, चाटना

अपलोकेति -- ऊपर देखता है, अनुज्ञा प्राप्त करता है

अपवग्ग -- मुक्ति, निर्वाण

अपवत्तति -- घूम जाता है, चला जाता है

अपवदति -- दोषारोपण करता है

अपवहति -- ले जाता है, हाँकता है

अपविद्ध -- फेंका गया, त्यागा गया

अपसक्‍कति -- चला जाता है, एक ओर चला जाता है

अपसव्य -- दाहिनी ओर

अपसादन -- निग्रह

अपसादेति -- निग्रह करता है

अपस्मार -- [अपमार] मृगी

अपस्सय -- आश्रय, सहारा

अपस्सेति -- आश्रय ग्रहण करता है, सहारा लेता है

अपस्सेन -- [-फलक], सहारे का तख्ता

अपहत्तु -- हटाने वाला

अपहरति -- लूट ले जाता है

अपांग -- अक्षि-कोण

अपाकट -- अप्रकट, अज्ञात

अपाकतिक -- अप्राकृतिक, अस्वाभाविक

अपाची -- पश्चिम दिशा

अपाचीन -- पश्चिमीय

अपाद -- बिना पाँव के रेंगने वाला

अपादक -- बिना पाँव के रेंगने वाला

अपादान -- पाँचवीं विभक्ति, पृथक्‍करण

अपान -- प्रश्वास

अपापक -- निर्दोष, पापरहित

अपापुरण -- चाबी

अपापुरति -- खोलता है

अपाय -- नरक-लोक

अपाय-गामी -- दुरवस्था को प्राप्त होने वाला

अपाय-मुख -- दुरवस्था का कारण

अपाय-सहाय -- फजूलखर्च साथी

अपार -- बिना पार के, बिना छोर के

अपारुत -- खुला हुआ

अपालम्ब -- गाड़ी के सहारे का तख्ता

अपि -- भी

अपिच -- किन्तु

अपितु -- प्रश्नवाचक अव्यय

अपिनाम -- यदि हम

अपिस्सु -- इतना

अपिधान -- ढक्‍कन

अपिलापन -- दोहराना

अपिहालु -- निर्लोभी

अपिहित -- ढका हुआ

अपुच्छ -- अप्रश्न

अपेक्खक -- प्रतीक्षा करने वाला

अपेक्खति -- प्रतीक्षा करता है

अपेत -- चला गया

अपेति -- चला जाता है

अपेत्तेय्यता -- पिता की अवज्ञा

अपेय्य -- जो पीने योग्य न हो

अप्प -- अल्प, थोड़ा

अप्पकसिरेण -- कुछ कठिनाई से

अप्प-किच्‍च -- जिसे थोड़ा कार्य हो

अप्पकिण्ण -- भीड़-रहित, शान्त, बिखरा हुआ

अपगब्भ -- निरभिमानी

अप्पग्घ -- अधिक कीमती नहीं

अप्पच्‍चय -- बिना हेतु के

अप्पटिखिप्प -- प्रतिक्षेप करने के अयोग्य

अप्पटिघ -- बिना विरोध के, बिना क्रोध के

अप्पटिपुग्गल -- ऐसा आदमी जिसका मुकाबला न हो

अप्पटिबद्ध -- अनासक्त

अप्पटिभाग -- हिस्सेदार न होना

अप्पटिभाण -- पलटकर उत्तर न देने वाला, चकित होने वाला

अप्पटिम -- अतुलनीय

अप्पटिवत्तिय -- जो उल्टा न घुमाया जा सके

अप्पटिवानी -- पीछे न हटने वाला

अप्पटिविद्ध -- अप्राप्त, अबुद्ध

अप्पटिसंखा -- समझ या ज्ञान का अभाव

अप्पटिसंधिक -- प्रति सन्धि [=पुनर्जन्म] के अयोग्य

अप्पणा -- किसी वस्तु पर ध्यान एकाग्र करना

अप्पणिहित -- इच्छा-रहित, कामना-रहित

अप्पतिट्ठ -- असहाय

अप्पतिस्सव -- विद्रोही

अप्पतीत -- अप्रसन्‍न

अप्पदुट्ठ -- अक्रुद्ध, अदुष्ट

अप्पधंसीय -- ध्वंश न करने योग्य

अप्पमञ्‍ञा -- मैत्री, करुणा, मुदिता तथा उपेक्षा, चारों असीम भावनाएँ

अप्पमत्त -- जागरूक, अप्रमादी

अप्पमाण -- असीम

अप्पमाद -- अप्रमाद, जागरूकता

अप्पमेय्य -- जो मापा न जा सके

अप्पवत्ति -- अप्रवृत्ति, अभाव

अप्पसाद -- अप्रसाद, असन्तोष

अप्प-सत्थ -- थोड़े काफिले वाला

अप्पसत्थ -- अप्रशंसित

अप्पसन्‍न -- अप्रसन्‍न

अप्पसमारम्भ -- विशेष कष्टकर नहीं

अप्पस्सक -- निर्धन, दरिद्र

अप्पस्साद -- अल्प-आस्वाद

अप्पहीन -- अविनष्ट

अप्पाणक -- प्राण-रहित, कीड़े-मकौड़ों रहित

अप्पातङ्क -- आतंक-रहित, रोगरहित

अप्पिच्छ -- अल्पेच्छ, आसानी से संतुष्ट हो जाने वाला

अप्पिय -- अप्रिय

अप्पेकदा -- कभी-कभी

अप्पेव -- अच्छा है, यदि ऐसा हो

अप्पेवनाम -- अच्छा है, यदि ऐसा हो

अप्पेसक्‍क -- अधिक प्रभावशाली नहीं

अप्पोसुक्‍क -- [अल्प+उत्सुक], अनुत्साही

अप्फुट -- अस्पृष्ट, जो छुआ नहीं गया

अप्फोटेति -- उंगलियाँ चटखाता है, ताली बजाता है

अफल -- निष्फल

अफस्सित -- जिसे स्पर्श नहीं किया

अफासु -- असुविधा, कठिनाई

अफेग्गुक -- दुर्बल नहीं, सबल, मजबूत

अबद्ध -- बन्धन-मुक्त, स्वतंत्र

अबन्धन -- बन्धन-मुक्त, स्वतंत्र

अबल -- दुर्बल

अबला -- औरत

अब्बण -- व्रण-रहित

अब्बत -- अ-व्रत, व्रत-विहीन

अब्बुद -- गर्भाधान के पहले या दूसरे महीने में गर्भ की स्थिति

अब्बोकिण्ण -- सतत, लगातार, विघ्न-रहित

अब्बोच्छिन्‍न -- सतत, बाधा-रहित

अब्बोहारिक -- अव्यावहारिक, गैर कानूनी

अब्भ -- आकाश, बादल

अब्भकूट -- बादलों का शिखर

अब्भ-पटल -- बादलों का समूह

अब्भक -- सीसा, अबरक

अब्भक्खाति -- निन्दा करता है, विरुद्ध बोलता है

अब्भक्खान -- मिथ्या दोषारोपण

अब्भञ्‍ञति -- तेल की मालिश करता है

अब्भतीत -- जो गुजर गया

अब्भनुमोदति -- अत्यधिक संतोष प्रकट करता है

अब्भन्तर -- भीतर, अन्तर

अब्भन्तर जातक -- बिम्बादेवी के लिए सारिपुत्र द्वारा आम्र-रस प्राप्त किए जाने के सम्बन्ध में जातक-कथा

अब्भागत -- त्रिलिङ्गी, अतिथि, मेहमान

अब्भागमन -- आगमन

अब्भाघात -- [अभि+आघात] बध-स्थल

अब्भाचिक्खति -- दोषारोपण करता है

अब्भान -- आवाहन, प्रायश्चित्त करने के अनन्तर भिक्षु को वापिस लौटाना

अब्भाहत -- आक्रमित, जिस पर आक्रमण किया गया

अब्भुक्‍किरण -- बाहर खींचना, सींचना

अब्भुगच्छति -- ऊपर जाता है

अब्भुगमन -- ऊपर उठना

अब्भुतधम्म -- धर्म के नौ अंगों में से एक, आश्चर्यकर-प्रकरण

अब्भुदेति -- ऊपर उठता है

अब्भुन्‍नत -- ऊपर उठा

अब्भुम्मे -- ओह!

अब्भुय्याति -- चढ़ाई करता है

अब्भुसूयक -- उत्साही

अब्भेति -- आवाहन करता है

अब्भोकास -- खुला-आकाश

अब्भोकिरति -- सिंचन करता है, अभिषेक करता है

अभब्बो -- अयोग्य

अभय -- निर्भय

अभाव -- लोप, अदर्शन, न होना

अभावित -- अनभ्यस्त

अभिकंखति -- इच्छा करता है, कामना करता है

अभिकंखन -- इच्छा, कामना

अभिकिरति -- बिखेरता है

अभिकीळति -- खेलता है

अभिकूजति -- गुंजा देता है

अभिक्‍कन्तं -- अत्यन्त सुन्दर

अभिक्‍कमति -- चल देता है

अभिक्खण -- निरन्तर, प्रति-क्षण

अभिक्खणति -- खोदता है

अभिगज्‍जति -- गर्जता है

अभिगज्‍जन -- गर्जना

अभिघात -- 1.सम्पर्क, 2.हत्या

अभिघाती -- घात करने वाला, शत्रु

अभिचेतसिक -- चित्त-सम्बन्धी

अभिचेतेति -- सोचता है

अभिजच्‍च -- अभिजात, उच्‍चकुलोत्पन्‍न

अभिजप्पति -- जाप करता है, इच्छा करता है, प्रार्थना करता है

अभिजाति -- 1.पुनर्जन्म, 2.वर्ग-विशेष

अभिजानन -- पहचानना, याद करना

अभिजानाति -- सम्यक् प्रकार जानता है

अभिजायति -- उत्पन्‍न होता है

अभिजिगिज्झति -- अत्यन्त इच्छा करता है

अभिजिगिज्झन -- अत्यन्त लोभ

अभिजिगिंसति -- जीतने की इच्छा करता है

अभिज्‍जमान -- जो टूटे नहीं, जो पृथक न हो

अभिज्झा -- अत्यन्त लोभ

अभिज्झायति -- इच्छा करता है

अभिञ्‍ञ -- जानकार

अभिञ्‍ञा -- विशिष्ट ज्ञान

अभिञ्‍ञाय -- भली प्रकार जानकर

अभिञ्‍ञात -- प्रसिद्ध

अभिण्हजातक -- कुत्ते और हाथी की कथा, जो अभिन्‍न मित्र बन गए थे

अभिण्ह -- लगातार

अभिण्हं -- प्रायः

अभिण्हसो -- सदैव

अभितप्त -- तपा हुआ

अभितप्ति -- तपता है

अभिताप -- ऊष्णता

अभिताळित -- ताड़ित

अभिताळेति -- ताड़ता है

अभितिट्ठति -- बाजी मार ले जाता है, आगे बढ़ जाता है

अभितो -- चारों ओर से

अभितोसेति -- अच्छी तरह संतुष्ट करता है

अभिथनति -- गर्जता है

अभिथरति -- जल्दी करता है

अभित्थवति -- प्रशंसा करता है

अभित्थवि -- प्रशंसा की

अभित्थुत -- प्रशंसित

अभित्थुनाति -- प्रशंसा करता है

अभित्थुनि -- प्रशंसा की

अभिदोस -- गत-सन्ध्या

अभिदोसिका -- गत-सन्ध्या सम्बन्धी

अभिधमति -- बजाता है

अभिधम्म -- अभिधम्मपिटक की विश्लेषणात्मक देशना

अभिधम्म पिटक -- तीन पिटकों में से एक, इसके अन्तर्गत सात ग्रन्थ हैं–1. धम्मसङ्गणि2. विभंग3. कथावत्थु4. पुग्गलपञ्‍ञत्ति5. धातु-कथा6. यमक7. पट्ठान

अभिधम्मिक -- अभिधर्म के ज्ञाता

अभिधा -- नाम या संज्ञा

अभिधान -- नाम या संज्ञा

अभिधानप्पदीपिका -- बारहवीं शताब्दी में लिखा गया पालि-कोश, इसकी रचना संस्कृत अमर-कोश के ढंग पर हुई है

अभिधावति -- दौड़ता है

अभिधेय्य -- नाम वाला

अभिधेय्य -- अर्थ

अभिनदति -- नाद करता है

अभिनदित -- आवाज

अभिनन्दति -- आनन्दित होता है

अभिनन्दी -- आनन्द मनाने वाला

अभिनमति -- झुकता है

अभिनय -- नाटक

अभिनयन -- 1. लाना, 2. पूछताछ

अभिनव -- नया, ताजा

अभिनादित -- गुंजा दिया गया

अभिनिकूजित -- पक्षियों की आवाज से गुंजा दिया गया

अभिनिक्खमति -- अभिनिष्क्रमण करता है, गृह त्याग करता है

अभिनिक्खमन -- अभिनिष्क्रमण, गृहत्याग

अभिनिक्खिपति -- रख देता है

अभिनिक्खिपन -- रख देना

अभिनिपज्‍जति -- लेट जाता है

अभिनिपतति -- नीचे गिरता है, आगे बढ़ता है

अभिनिप्पीळेति -- पीड़ा देता है, पीड़ता है

अभिनिप्फज्‍जति -- उत्पन्‍न होता है, समर्थ होता है

अभिनिप्फत्ति -- अभिनिष्पत्ति, उत्पन्‍न होना, समर्थ होना

अभिनिप्फादेति -- अभिनिष्पादन करता है, उत्पन्‍न करता है

अभिनिब्बत -- उत्पन्‍न, जन्म ग्रहण किया हुआ

अभिनिब्बत्ति -- जन्म ग्रहण करना, उत्पत्ति

अभिनिब्बत्तेति -- जन्म ग्रहण करता है

अभिनिब्बिदा -- वैराग्य

अभिनिब्बत -- पूर्ण शान्त, पूर्ण बुझा हुआ

अभिनिमंतेति -- निमंत्रण देता है

अभिनिम्मिणाति -- उत्पन्‍न करता है, निर्माण करता है

अभिनिरोपन -- अपने चित्त को लगाना

अभिनिरोपेति -- अपने चित्त में स्थान देता है

अभिनिविसति -- आसक्त होता है

अभिनिवेस -- झुकाव

अभिनिसीदति -- पास बैठता है

अभिनीत -- लाया गया

अभिनीहट -- बाहर लाया गया

अभिनीहरति -- बाहर लाता है

अभिनीहार -- संकल्प, अधिष्ठान

अभिपत्थेति -- कामना करता है, इच्छा करता है

अभिपालेति -- पालन करता है, संरक्षण करता है

अभिपीळेति -- पीड़ा पहुँचाता है, पीड़ता है

अभिपुच्छति -- पूछता है

अभिपूरति -- पूरा करता है

अभिप्पकीरति -- बिखेरता है

अभिप्पमोदति -- आनन्दित होता है

अभिप्पसाद -- श्रद्धा, भक्ति

अभिप्पसारेति -- पसारता है, फैलाता है

अभिप्पसीदति -- श्रद्धावान होता है

अभिभवति -- जीत लेता है

अभिभवन -- जीत

अभिभवनीय -- जिसे जीत लेना चाहिए

अभिभू -- विजेता

अभिभूत -- विजित

अभिमङ्गल -- माङ्गलिक

अभिमण्डित -- सजाया गया

अभिमत -- इच्छित

अभिमत्थति -- मथता है

अभिमद्दति -- मर्दन करता है

अभिमद्दन -- मर्दन

अभिमनाप -- बहुत अच्छा लगने वाला

अभिमान -- स्वाभिमान

अभिमार -- डाकू

अभिमुख -- उपस्थित, आमने-सामने

अभियाचति -- याचना करता है

अभियाचन -- याचना

अभियाति -- विरुद्ध जाता है

अभियुज्‍जति -- अभ्यास करता है, अभियोग लगाता है

अभियुज्झति -- झगड़ा करता है

अभियुञ्‍जन -- मुकद्दमा

अभियोग -- अभ्यास, दोषारोपण

अभियोगी -- अभ्यासी, दोषारोपण करने वाला

अभिरक्खति -- रक्षा करता है

अभिरक्खन -- रक्षा

अभिरति -- प्रीति, आसक्ति

अभिरद्धि -- संतोष

अभिरमति -- रमण करता है, भोग भोगता है

अभिरमन -- भोग

अभिरमापेति -- अभिरमन कराता है

अभिराम -- अनुकूल

अभिरुचि -- इच्छा, कामना

अभिरुचिर -- अत्यन्त सुन्दर

अभिरुद -- गूँजता हुआ

अभिरूप -- सुन्दर

अभिरूहति -- ऊपर चढ़ता है

अभिरूहन -- चढ़ाई

अभिरोचेति -- पसन्द करता है

अभिरोपन -- चित्त की एकाग्रता

अभिरोपेति -- चित्त को एकाग्र करता है

अभिलक्खित -- चिह्नित

अभिलक्खेति -- चिह्न लगाता है

अभिलाप -- बोलना, बातचीत

अभिलासा -- अभिलाषा

अभिलेखेति -- चिह्न लगवाता है

अभिवञ्‍चन -- ठगी

अभिवट्ठ -- जिस पर वर्षा हुई हो

अभिवडढति -- बढ़ता है

अभिवडढन -- वृद्धि

अभिवण्णित -- प्रशंसित

अभिवण्णेति -- प्रशंसा करता है

अभिवदति -- घोषणा करता है

अभिवंदति -- वन्दना करता है

अभिवस्सति -- बरसता है

अभिवादन -- नमस्कार, प्रणाम, दण्डव

अभिवादेति -- दण्डवत् करता है

अभिवायति -- हवा चलती है

अभिवारेति -- रोकता है

अभिविजयति -- जीतता है

अभिविञ्‍ञापेति -- प्रेरित करता है

अभिवितति -- बाँटता है

अभिवितरण -- दान

अभिविसिट्ठ -- अत्यन्त विशेष

अभिसंखत -- अभिसंस्कृत, रचा गया

अभिसंखरोति -- रचता है

अभिसङ्खार -- संस्कार

अभिसङ्खारिक -- संस्कार-सम्बन्धि, संस्कार से उत्पन्‍न

अभिसङ्ग -- आसक्ति

अभिसङ्गि -- आसक्त

अभिसज्‍जति -- क्रोधित होता है

अभिसज्‍जन -- क्रोध

अभिसञ्‍चेतेति -- विचार करता है

अभिसट -- समागत

अभिसत्त -- अभिशप्त

अभिसद्दहति -- श्रद्धा करता है

अभिसंतापेति -- जलाता है

अभिसंद -- उतराना, परिणाम

अभिसंदहति -- जोड़ता है, मेल बिठाता है

अभिसंदेति -- उतराना करवाता है

अभिसपति -- शाप देता है, शपथ खाता है

अभिसपन -- शाप, कसम

अभिसमय -- स्पष्ट ज्ञान

अभिसमागच्छति -- पूर्णरूप से समझ लेता है

अभिसमाचारिक -- सदाचार सम्बन्धी

अभिसमेच्‍च -- भली प्रकार समझकर

अभिसमेति -- सम्पूर्ण रूप से हृदयंगम कर लेता है

अभिसम्पराय -- भावी पुनर्जन्म, परलोक

अभिसम्बुज्झति -- सम्बोधि प्राप्त करता है

अभिसम्बुद्ध -- सम्पूर्ण ज्ञानी

अभिसम्बोधि -- पूर्णज्ञान

अभिसम्भव -- दुष्प्राप्य

अभिसम्भुनाति -- समर्थ होता है

अभिसम्मति -- रुकता है, शान्त होता है

अभिसर -- अनुयायी [अभिसरण करने वाले]

अभिसाप -- अभिशाप

अभिसारिका -- राज-सेविका

अभिसिञ्‍चति -- अभिषेक करता है, [जल] छिड़कता है

अभिसेक -- अभिषेक

अभिहट -- लाया गया

अभिहनति -- चोट पहुँचाता है, मारता है

अभिहरति -- लाता है, भेंट करता है

अभिहार -- समीप लाना, भेंट

अभिहित -- जो कहा गया

अभीत -- निर्भय

अभीरुक -- निर्भीत

अभूत -- सत्य, यथार्थ

अभेज्‍ज -- जो बाँटा न जाय, जो चीरा न जाय

अभोज्‍ज -- अखाद्य

अमच्‍च -- 1. अमात्य, 2. साथी

अमज्‍ज -- अमद्य

अमज्‍जप -- जो शराबी नहीं

अमत -- अमृत

अमत्त -- जिसे नशा नहीं चढ़ा

अमत्तञ्‍ञु -- जिसे [भोजन की] मात्रा का ज्ञान नहीं

अमत्तेय्य -- माता के प्रति अगौरव

अमनुस्स -- 1. भूत-प्रेत, 2. देवता

अमम -- निर्लोभी

अमर -- 1. जो मरे नहीं, 2. देवता

अमरत्त -- अमरत्व

अमरा -- फिसलनी मछली

अमल -- निर्मल

अमस्सुक -- बिना दाढ़ी के

अमातापितिक -- मातृ-पितृ हीन

अमातिक -- मातृहीन

अमानुस -- अमनुष्य

अमायावी -- जो मायावी नहीं, छल-कपट रहित

अमावसी -- अमावस्या

अमित -- असीम

अमिताभ -- अनन्त आभा वाले

अमिता -- सिंहहनु की दो पुत्रियों में से एक, शुद्धोधन की बहन, देवदत्त की माँ

अमितोदन -- सिंहहनु का पुत्र, शुद्धोधन का भाई महानाम तथा अनुरुद्ध का पिता

अमिलात -- जो म्लान नहीं, जो मुरझाया नहीं

अमिस्स -- अमिश्रित

अमु -- अमुक

अमुच्छित -- अमूढ़, निर्लोभी

अमुत्त -- अमुक्त, बन्धन-युक्त

अमुत्र -- अमुक स्थान पर

अमोघ -- निष्प्रयोजन नहीं, बेकार नहीं

अमोह -- प्रज्ञा

अम्ब -- आम्र, आम

अम्ब-अंकुर -- आम का अंकुर

अम्ब-पक्‍क -- पका आम

अम्ब-पान -- आम का पन्‍ना

अम्ब-पिण्डी -- आमों का गुच्छा

अम्ब-वन -- आम्र-वन

अम्ब-सण्ड -- आमों का बगीचा

अम्ब-लट्ठिका -- आम का पौदा

अम्ब-जातक -- सूखे के समय हिमालय में रहने वाले एक तपस्वी ने जानवरों के लिए जल की व्यवस्था की थी। कृतज्ञ जानवर उसके लिए अनेक उपहार लाए थे

अम्ब-जातक -- बुद्धिमान चाण्डाल से शिल्प सीखने वाले ब्राह्मण की कथा

अम्बचोरजातक -- आम्रवन में अपने लिए एक कुटी बनाकर रहने वाले दुष्ट तपस्वी की कथा

अम्ब-पाली -- वैशाली की प्रसिद्ध गणिका जिसने अपना आम्रवन बुद्ध-प्रमुख भिक्षु-संघ को दान दिया था

अम्बर -- 1. वस्त्र, 2. आकाश

अम्बा -- माँ

अम्बिल -- खट्टा

अम्बु -- पानी

अम्बुचारी -- मछली

अम्बुज -- जलज

अम्बुज -- कँवल

अम्बुधर -- बादल

अम्बुजिनी -- कँवल का तालाब

अम्भो -- अरे पुरुष!

अम्म -- माँ!

अम्मण -- धान का माप-विशेष

अम्मा -- माँ!

अम्ह -- हम

अम्हि -- [मैं] हूँ

अम्ह -- [हम] हैं

अम्हा -- [हम] हैं

अय -- आय

अयस -- लोहा या ताँबा

अय-कूट जातक -- बोधिसत्व ने जानवरों की हत्या बन्द कराई

अयं -- यह [व्यक्ति]

अयथा -- अयथार्थ, मिथ्या

अयन -- मार्ग, पथ

अयस -- अपयश

अयुत्त -- अयोग्य, अयुत्त, अन्याय

अयो-कूट -- लोहे का हथौड़ा

अयो-खील -- लोहे का कीला

अयोगुळ -- लोहे का गोला

अयो-घन -- लोहे का घन

अयो-मय -- लोह-निर्मित

अयो-संकु -- लोहे का काँटा

अयो-घर जातक -- बोधिसत्व के लोहे के घर में जन्म ग्रहण करने की कथा

अयोग्ग -- अयोग्य

अयोज्झ -- जिसके विरुद्ध युद्ध न किया जा सके

अयोनिसो -- अनुचित तौर पर

अय्य -- आर्य, स्वामी, अय्य-पुत्त, स्वामी-पुत्र

अय्यक -- पितामह

अय्यका -- पितामही

अय्यिका -- पितामही

अय्या -- आर्या, स्वामिनी

अर -- पहिये की तीली या आरा

अरक जातक -- बोधिसत्व ने अपने शिष्यों को चार ब्रह्म-विहारों [मैत्री, करुणा, मुदिता तथा उपेक्षा] की शिक्षा दी

अरक्खिय -- जिसे सुरक्षित न रखा जा सकता हो

अरक्खेय्य -- जिसे आरक्षा की आवश्यकता न हो

अरघट्ट -- रहट

अरज -- रज-रहित

अरञ्‍ञ -- अरण्य, जंगल

अरञ्‍ञक -- आरण्य में रहने वाला

अरञ्‍ञगत -- जंगल में गया हुआ

अरञ्‍ञ वास -- आरण्य-निवास

अरञ्‍ञ-विहार -- आरण्य-विहार

अरञ्‍ञ-जातक -- भार्या की मृत्यु के अनन्तर बोधिसत्व हिमालय में जाकर पुत्र सहित तपस्वी जीवन बिताने लगे, वहाँ एक लड़की ने तरुण का शील भङ्ग किया

अरञ्‍ञानी -- एक बड़ा जंगल

अरण -- शान्त चित्त

अरणि -- रगड़कर आग पैदा करने के लिए लकड़ी का एक टुकड़ा

अरणि-मथन -- आग पैदा करने के लिए लकड़ी के दो टुकड़ों को रगड़ना

अरणि-सहित -- रगड़ने के लिए ऊपर की लकड़ी

अरति -- अरुचि

अरती -- मार की तीन कन्याआें में से एक, शेष दो हैं तण्हा [=तृष्णा] तथा रगा [=राग?]

अरविन्द -- कँवल

अरह -- योग्य

अरहद्धज -- अर्हत्-ध्वजा, भिक्षु का काषायवस्त्र

अरहति -- योग्य होता है

अरहत्त -- अर्हत्व, अर्हत्त-फल, अर्हत्व-फल, अरहत्त-मग्ग, अर्हत्व-प्राप्ति का मार्ग

अरहन्त -- जिसने अर्हत्व-फल प्राप्त कर लिया

अरि -- शत्रु

अरिंदम -- त्रिलिङ्गी, विजेता

अरिञ्‍चमान -- न छोड़ते हुए, सतत प्रयास करते हुए

अरिट्ठ -- निर्दयी, अभागा

अरिट्ठ -- 1. कौआ, 2. नीम का पेड़, 3. रीठे का पेड़

अरित्त -- पतवार

अरित्त -- [अ+रिक्त] बेकार नहीं

अरिय -- श्रेष्ठ

अरिय -- श्रेष्ठ आदमी

अरिय-कन्त -- श्रेष्ठों के अनुकूल

अरिय-धन -- आर्यों का श्रेष्ठ धन

अरिय-धम्म -- श्रेष्ठ धर्म

अरिय-पुग्गल -- श्रेष्ठ व्यक्ति [जिसने आर्य-ज्ञान प्राप्त कर लिया]

अरिय-मग्ग -- श्रेष्ठ मार्ग

अरिय-सच्‍च -- आर्य सत्य

अरिय-सावक -- श्रेष्ठ जनों का शिष्य

अरियूपवाद -- श्रेष्ठजनों का अपमान

अरिस -- बवासीर

अरु -- जख्म, व्रण

अरुण -- सूर्योदय के समय की ललाई

अरुण-वण्ण -- लाल रंग का

अरूप -- आकार-रहित

अरूप-कायिक -- आकार-रहित जीवों से सम्बन्धित

अरूप-भव -- आकार-रहित अस्तित्व

अरूप-लोक -- आकार-रहित लोक

अरूपावचर -- अरूपी से सम्बन्धित

अरूपी -- आकार रहित जीव

अरे -- हे, अरे आदि सम्बोधन

अरोग -- स्वस्थ, रोग रहित

अरोग-भाव -- स्वास्थ्य

अलं -- पर्याप्त, अनलं, अपर्याप्त

अलक्‍क -- पगला कुत्ता

अलक्खिक -- अभागा

अलक्खी -- दुर्भाग्य

अलगद्द -- साँप

अलग्ग -- अनासक्त

अलग्गन -- अनासक्ति

अलङ्कत -- अलंकृत, सजा हुआ

अलङ्करण -- सजावट

अलङ्कार -- गहना, आभरण

अलज्‍जी -- लज्‍जा-रहित

अलत्तक -- लाख [लाल रंग की]

अलम्ब -- जो लटकता न हो

अलम्बुस जातक -- अलम्बुसा नाम की अप्सरा द्वारा ऋषि-पुत्र सिंगी के लुभाये जाने की कथा

अलस -- आलसी

अलसता -- आलस्य

अलसक -- बदहजमी

अलात -- लुआठी

अलापु -- लौकी

अलाबु -- लौकी

अलाभ -- हानि

अलाला -- जो गूँगा नहीं

अलि -- 1. शहद की मक्खी, 2. बिच्छू

अलिक -- मिथ्या, झूठ

अलीन -- अप्रमादी

अलीन चित्त जातक -- बोधिसत्व ने अलीनचित्त नामक वाराणसी-नरेश का जन्म ग्रहण किया था

अलोभ -- निर्लोभ-भाव

अलोल -- लोलुप नहीं

अल्‍ल -- भीगा, अल्‍ल-दारु, भीगी लकड़ी

अल्‍लकप्प -- मगध के समीप का एक प्रदेश, अल्‍लकप्प के क्षत्रियों ने भी बुद्ध के शरीर के धातुआें पर अपना अधिकार जताया था

अल्‍लाप -- बात-चीत, संलाप

अल्‍लीन -- आसक्त

अल्‍लीयति -- आसक्त होता है

अल्‍लीयन -- आसक्ति

अवकङ्खति -- आकांक्षा करता है

अवकड्ढति -- पीछे की ओर खींचता है

अवकड्ढन -- पीछे की ओर खींचना

अवकड्ढित -- पीछे की ओर खींचा गया

अवकन्तति -- काट डालता है

अवकारक -- बिखेरना

अवकास -- ओकास, अवसर, स्थान, मौका

अवकिरति -- उण्डेलता है

अवकिरिय -- फेंक देकर

अवकुज्‍ज -- अधोमुख

अवक्‍कन्ति -- प्रवेश

अवक्‍कमति -- प्रवेश करता है

अवक्‍कम्म -- प्रविष्ट होकर

अवक्‍कार -- कूड़ा

अवक्‍कार-पाति -- कूड़ा फेंकने का बर्तन

अवक्खिपति -- नीचे फेंकता है

अवक्खिपन -- फेंकना, नीचे गिराना

अवगच्छति -- प्राप्त करता है

अवगण्ड -- मुँह फुलाना

अवगत -- परिचित

अवगाहति -- डुबकी लगाता है

अवगाह -- डुबकी

अवगाहन -- डुबकी लगाना

अवगुण्ठन -- ढका हुआ

अवग्गह -- बाधा

अवच -- नीचे

अवचनीय -- जिसे कुछ कहना-सुनना न हो

अवचर -- घूमना-फिरना, विचरना

अवचरक -- गुप्तचर

अवचरण -- व्यवहार

अवच्छिद -- छिद्र-युक्त

अवजय -- हार

अवजात -- दोगला, हरामी

अवजानाति -- घृणा करता है

अवजिनाति -- पुनः जीत लेता है

अवज्‍ज -- अवद्य, दोष-रहित

अवज्झ -- अबध्य, जिसे मारा न जा सके

अवञ्‍ञा -- अवज्ञा, उपेक्षा, घृणा

अवञ्‍ञात -- उपेक्षित

अवट्ठान -- स्थिति

अवडिढ -- अनुन्‍नति, हानि

अवण्ण -- दुर्गुण

अवतरण -- नीचे उतरना

अवतार -- नीचे उतरने वाला

अवतंस -- मुकुट-माल

अवतिण्ण -- पतित

अवत्थरति -- ढकता है, धर दबाता है

अवत्थु -- निराधार

अवदात -- सफेद, साफ

अवदान -- [देखें, अपदान]

अवदायति -- अनुकम्पा करता है

अवधारण -- ध्यान देना

अवधारेति -- चुनाव करता है, स्वीकार करता है

अवधि -- सीमा

अवनति -- गिरावट, पतन

अवनि -- पृथ्वी

अवपिबति -- पीता है

अवबुज्झति -- समझता है

अवबोध -- ज्ञान

अवबोधेति -- समझा देता है, बोध करा देता है

अवभास -- प्रकाश, प्रकट होना

अवभासति -- चमकता है

अवभुञ्‍जति -- खा डालता है

अवमंगल -- दुर्भाग्य, अपशकुन

अवमञ्‍ञति -- नीची नजर से देखता है

अवमञ्‍ञना -- घृणा, निरादर

अवमानेति -- घृणा करता है, उपेक्षा करता है

अवयव -- अंग, भाग, हिस्सा

अवरज्झति -- उपेक्षा करता है, चूक जाता है, घृणा करता है

अवरुन्धति -- काबू करता है, कैद करता है

अवरोधक -- बाधक

अवरोधन -- रुकावट, बाधा

अवलक्खण -- कुरूप, अपशकुन वाला

अवलम्बित -- लटकता है, सहारा लेता है

अवलम्बन -- 1. लटकना, 2. सहायता

अवलिखति -- काट-छाँट करता है, टुकड़े-टुकड़े कर डालता है

अवलिम्पति -- लेप करता है

अवलेखन -- खुरचना

अवलेपन -- लेप

अवलेहन -- चाटना

अवस -- शक्ति-हीन

अवसर -- मौका

अवसरति -- चल देता है, पहुँच जाता है

अवसान -- अन्त

अवसिञ्‍चति -- सींचता है

अवसिट्ठ -- अवशेष

अवसिस्सति -- बाकी बचता है

अवसुस्सति -- सूख जाता है

अवसुस्सन -- सूखना

अवसेस -- बाकी

अवस्सं -- अनिवार्य तौर पर

अवस्सय -- आश्रय, सहारा

अवस्सावन -- पानी छानने का कपड़ा

अवस्सित -- आधारित

अवस्सुत -- चूने वाला, स्त्राव-युक्त, तृष्णा-युक्त

अवहरण -- चोरी

अवहरति -- चुराता है

अवहसति -- मुँह चिढ़ाता है

अवहीयति -- पीछे छूट जाता है

अवंति -- बुद्ध के समय के 16 जनपदों में से एक, अवंति की राजधानी उज्‍जेनि थी

अवापुरण -- चाबी

अवापुरति -- दरवाजा खोलता है

अवारिय जातक -- बोधिसत्व द्वारा उपदिष्ट एक मूर्ख नाविक की कथा

अविकम्पी -- स्थिर-चित्त

अविक्खेप -- शान्ति, विक्षेप का अभाव

अविग्गह -- अशरीरी, कामदेव

अविज्‍जमान -- अविद्यमान

अविज्‍जा -- अविद्या

अविञ्‍ञाणक -- चेतना-रहित

अविञ्‍ञात -- अज्ञात, अप्रसिद्ध

अविदित -- अज्ञात

अविदूर -- समीप

अविदूरे-निदान -- तृषित देव-लोक से च्युत होकर बोधि-वृक्ष के नीचे बुद्धत्व प्राप्त करने तक का गौतम-चरित्र अविदूरे-निदान कहलाता है

अविद्दसु -- मूर्ख

अविनासक -- नाश न करने वाला

अविनिब्भोग -- अस्पष्ट, जो पृथक् न किया जा सके

अविनीत -- जो विनम्र नहीं

अविप्पवास -- उपस्थिति

अविभूत -- अस्पष्ट

अविरुद्ध -- अविरोधी, अनुकूल

अविरुळ्हि -- वृद्धि का न होना

अविरोध -- विरोध का अभाव

अविसंवादक -- वञ्‍चा न करने वाला, झूठ न बोलने वाला

अविसग्गता -- स्थिर चित्त होना

अविस्सासनिय -- अविश्वसनीय

अविलम्बित -- जल्दी, शीघ्रता से

अविवटह -- विवाह के अयोग्य

अविसंवाद -- सत्य

अविसंवादक -- सत्यवादी

अविहित -- अकृत, जो कभी किया नहीं गया

अविहिंसा -- हिंसा का अभाव, दया

अविहेठक -- कष्ट न देने वाला, हैरान न करने वाला

अवीचि -- बिना लहर के

अवीचि -- नरक-विशेष

अवीतिक्‍कम -- नियम के व्यतिक्रमण का अभाव

अवुट्ठिक -- वर्षा का अभाव

अवेक्खति -- देखता है

अवेच्‍च -- जानकर

अवेच्‍च-पसाद -- द्दढ़ श्रद्धा

अवेभंगिक -- जो बाँटा न जा सके

अवेर -- अवैर

अवेर -- मैत्री

अवेरी -- शत्रुता रहित, मैत्रीपूर्ण

अवेला -- अनुचित समय

अव्यत्त -- 1. अव्यक्त, 2. अपण्डित

अव्यय -- 1. सभी वचनों, विभक्तियों, पुरुषों में एकरूप रहने वाला शब्द, 2. हानि का अभाव

अव्ययेन -- बिना किसी खर्च के

अव्ययीभाव -- वह सामासिक पद, जिसका किसी अव्यय के साथ समास हो

अव्याकत -- अव्याख्यात, जो नहीं कहा गया

अव्यापज्झ -- रोष-रहित, दुःख-रहित

अव्यापाद -- ईर्ष्या-रहित

अव्यावट -- उपेक्षावा

अव्हय -- नाम

अव्हयति -- बुलाता है

अव्हात -- बुलाया गया

अव्हान -- नाम, बुलावा

असंवर -- असंयम

असकिं -- एक बार से अधिक

असक्‍क -- असमर्थ

असंकिण्ण -- असंकीर्ण, बिना मिलावट के

असंकिय जातक -- बोधिसत्व की जागरूकता के कारण डाकू व्यापारियों को न लूट सके

असंकिलिट्ठ -- अलिप्त

असंखत -- असंस्कृत

असंखत-धातु -- असंस्कृत धातु

असंखेय्य -- अगणित

असङ्ग -- अनासक्ति

असच्‍च -- असत्य

असज्‍जमान -- अनासक्त

असञ्‍ञी -- चेतना-रहित

असञ्‍ञत -- संयम-रहित

असठ -- जो शठ नहीं, अदुष्ट

असण्ठित -- जो स्थिर नहीं, चंचल

असति -- खाता है

असति -- [अधिकरण], न होने पर

असतिया -- अनजाने

असत्त -- अनासक्त

असत्थ -- शस्त्र-रहित

असदिस -- असदृश, अनुपम

असदिस जातक -- असदिस राजकुमार की कथा

असद्धम्म -- 1. अधर्म, 2. मैथुन

असन -- 1. खाना, 2. भोजन, 3. तीर, 4. पत्थर

असनि -- वज्र

असनि-पात -- वज्र-पात

असन्त -- जिसका अस्तित्व न हो, दुष्ट

असन्तासी -- निर्भय

असंतुट्ठ -- असंतुष्ट

असंथव -- समाज से अलग रहना

असंधिता -- संधि का अभाव

असंधिमित्ता -- अशोक की पटरानी

असपत्त -- अजात-शत्रु

असप्पाय -- प्रतिकूल

असप्पुरिस -- असत्पुरुष

असबल -- बिना धब्बे के

असब्भ -- असभ्य

असम -- जो समान नहीं

असमण -- जो श्रमण नहीं

असमाहित -- जिसका चित्त एकाग्र नहीं

असमेक्खकारी -- जल्दबाज, बिना विचारे करने वाला

असमोसरण -- न मिलना

असम्पकम्पिय -- कम्पन-रहित

असम्पजञ्‍ञ -- ज्ञान के अभाव की स्थिति

असम्पत्त -- अप्राप्त

असम्पदान जातक -- अस्सी करोड़ के धनी संख सेठ की कथा

असम्मूळ -- जो मूढ नहीं

असम्मोस -- मूढता का अभाव

असयंवसी -- जिसका अपना आप वश में न हो

असय्ह -- जो सहन न किया जा सके

असरण -- जिसके लिए कोई शरण नहीं

असहाय -- अकेला, जिसका कोई सहायक नहीं

असंवास -- सहवास के अयोग्य

असंवुत -- जो बन्द नहीं

असंसट्ठ -- मिलावट-रहित

असंहारिम -- जिसे हिलाया न जा सके

असात -- प्रतिकूल

असात -- दुःख-कष्ट

असात-मन्त जातक -- माँ की आज्ञानुसार तरुण ब्राह्मण ने बोधिसत्त्व से असातमंत्र सीखे

असातरूप जातक -- कोशलनरेश तथा काशी-नरेश के परस्पर युद्ध करने की कथा

असाद -- अस्वादिष्ट

असार -- सार-हीन

असारद्ध -- अनुत्तेजित

असाहस -- दुस्साहस का अभाव

असि -- तलवार

असिग्गाहक -- तलवार धारी

असि-चम्म -- ढाल

असि-धारा -- तलवार की धार

असि-पत्त -- तलवार का फल

असित -- भोजन

असित -- काला

असित -- [काल-देवल], शुद्धोदन का राजगुरु

असिताभु जातक -- राजा ने राजकुमार तथा उसकी भार्या असिताभु को देशनिकाला दिया

असिलक्खण जातक -- तलवार को सूँघ कर उसके भाग्य सम्पन्‍न होने न होने की बात बताने वाले ब्राह्मण की कथा

असिथिल -- जो ढीला नहीं

असिनिद्ध -- खुरदुरा, चिकना नहीं

असीति -- अस्सी

असीतिम -- अस्सीवाँ

असु -- अमुक

असुक -- अमुक

असुचि -- गंदगी, वीर्य

असुभ -- अशुभ

असुर -- देवताआें के विरोधी असुर

असूर -- कायर

असेरव -- अशैक्ष, अर्हत

असेचन -- सन्तोषप्रद

असेवना -- संगति न करना

असेस -- सम्पूर्ण

असोक -- शोक-रहित

असोक -- वृक्ष-विशेष

असोक -- बिन्दुसार-नरेश का पुत्र मगधनरेश अशोक

असोकाराम -- पाटलिपुत्र का एक प्रसिद्ध विहार

असोभन -- अशोभन, कुरूप

अस्नाति -- खाता है

अस्मा -- पत्थर

अस्मि -- मैं हूँ

अस्मिमान -- अहंकार

अस्स -- घोड़ा

अस्सतर -- खच्‍चर

अस्स-पोतक -- बछेरा

अस्स-मण्डल -- घुड़-दौड़ की भूमि

अस्स-मेध -- अश्वमेध यज्ञ

अस्स-वाणिज -- घोड़ों का व्यापारी

अस्स-सेना -- घुड़सवार सेना

अस्साजानिय -- अच्छी नसल का घोड़ा

अस्सक -- गरीब, दरिद्र

अस्सक जातक -- अस्सक नरेश की कथा

अस्सकण्ण -- 1. साल-वृक्ष, 2. पर्वत-विशेष

अस्सत्थ -- अश्वत्थ, पीपल का पेड़, बोधि-वृक्ष

अस्सद्ध -- अश्रद्धावा

अस्सम -- आश्रम

अस्समण -- जो श्रमण नहीं

अस्सयुज -- असौज [महीना]

अस्सव -- स्वामी-भक्त

अस्सवणता -- ध्यान न देना

अस्सवनीय -- जिसका सुनना अच्छा न लगे

अस्ससति -- आश्वास लेता है

अस्साद -- आस्वाद

अस्सादेति -- स्वाद लेता है

अस्सास -- आश्वास

अस्सासक -- सान्त्वना देने वाला

अस्सासेति -- आश्वस्त करता है

अस्सु -- अश्रु, आंसू

अस्सुत -- अश्रुत, जो सुना नहीं गया

अस्तुतवन्त -- अज्ञानी

अह -- दिन

अहं -- मैं

अहंकार -- अभिमान

अहारिय -- अचल

अहि -- सर्प

अहि-गुण्ठिक -- सँपेरा

अहि-फेण -- अफीम

अहिगुण्डिक जातक -- बनारस के सँपेरे की कथा

अहिरिक -- लज्‍जा-रहित

अहिवातक रोग -- प्‍लेग [बीमारी]

अहीनिन्द्रिय -- जिसकी सभी इन्द्रियाँ सम्पूर्ण हों

अहुहालिय -- ऊँची हँसी

अहेतुक -- बिना हेतु के

अहो -- आश्चर्य-बोधक शब्द

अहोगङ्ग -- उत्तर-भारत का एक पर्वत

अहोरत्त -- दिन-रात

अहोसि -- [वह] था

अहोसिकम्म -- वह कर्म जो अब फलीभूत न होगा

अंस -- 1. हिस्सा, 2. कंधा

अंस-कूट -- कंधा

अंसु -- किरण

अंसुक -- वस्त्र

अंसु-माली -- सूर्य

अकतं -- निर्वाण

अकल्‍लं -- रोग

अकारादि -- स्वर, अ आ आदि

अकारिय -- कटु, कड़ुवा

अक्खदेवी -- जुआरी, धूर्त

अक्खरावयव -- मात्रा [प्रमाण], मात्रा [व्यंजन अक्षरों के साथ जुड़ने वाले स्वर]

अक्खग्गकील -- धुरे पर लगी हुई कील

अक्खोहिणी -- सम्पूर्ण सेना

अखात -- गढ़ा

अखिल -- समस्त

अगभेद -- वृक्ष-विशेष

अगळु -- मुसब्बर की लकड़ी

अग्गज -- बड़ा भाई

अग्गञ्‍ञ -- श्रेष्ठतम अथवा अग्रतम

अग्गता -- श्रेष्ठता

अग्गतो -- सामने

अग्गळत्थम्भ -- अर्गल-स्तम्भ

अग्गि-जाल -- धव का फूल

अग्गिमन्थ -- कर्णिका

अग्गिसञ्‍जित -- पित्रक

अग्घिय -- आतिथ्य

अङ्कोल -- तिलोचक

अंक्य -- एक प्रकार का ढोल

अंग विक्खेप -- नृत्य सम्बन्धी हावभाव

अंगारकपल्‍ल -- लुक, लुआठी

अंगुलिमुद्दा -- उँगली में पहनने की अँगूठी

अंगुली -- उँगली

अंगुल्याभरण -- अँगूठी

अच्‍चयाभाव -- निर्दोष

अच्‍चिमन्तु -- अर्चिवान, चमकदार

अच्छि -- अक्षि, आँख

अजगर -- अजगर-साँप

अजञ्‍ञ -- खतरा

अजपालक -- गड़रिया

अजा -- बकरी

अजिन-योनि -- मृग-विशेष की जाति

अजिम्ह -- सीधा

अजिर -- आँगन

अजी -- बकरी

अज्‍जक -- श्वेत पत्र

अज्झक्ख -- अध्यक्ष

अज्झारोह -- बड़ी मछली

अज्झेसना -- सत्कार

अञ्झोहत -- खाया गया

अञ्‍जली -- हाथ जोड़ना

अञ्‍ञतर -- अन्यतर, दूसरा

अञ्‍ञतरोपन -- लपेट

अञ्‍ञथाभाव -- परिवर्तन

अञ्‍ञोञ्‍ञ -- परस्पर

अट्ट -- संख्या-विशेष

अटनी -- चारपाई का पैर की ओर का हिस्सा

अट्टहास -- जोर की हँसी

अट्टालक -- अटारी

अट्टित -- पीड़ित

अट्ठपुरिसा -- स्रोतापत्ति-मार्ग, स्रोतापत्ति-फल आदि प्राप्त आठ प्रकार के लोग

अट्ठानरियवोहार -- आठ प्रकार का अनार्य-व्यवहार

अट्ठापद -- शतरंज-फलक

अड्ढयोग -- महल

अण्डज -- पक्षी

अण्डूपक -- चुम्बटक, बर्तन के नीचे रखने का कपड़े या रस्सी का बना घेरा

अतक्‍कित -- सहसा

अतसी -- अलसी का पौधा

अतिक्‍कम -- अतिक्रमण, सीमा लाँघना

अतिखिण -- कोमल, मृदु

अतिचारिणी -- व्यभिचारिणी

अतितण्ह -- अत्यन्त लोभी

अतिप्पसत्थ -- अति प्रसिद्ध

अतिमुत्त -- माधवी लता

अतियुव -- त्रिलिङ्गी, अतितरुण

अतिविसा -- महोषध

अतिवुद्ध -- बहुत बूढ़ा, बहुत प्रसिद्ध

अतिसन्त -- अतिशान्त [पुरुष]

अतिसय -- अतिशय, अधिक

अतिसुण -- पागल कुत्ता

अत्थना -- याचना, भिक्षा

अत्थसत्त -- अर्थशास्त्र

अत्थि -- अस्ति, है

अत्थु -- ऐसा हो

अत्यप्प -- बहुत कम

अत्राह -- यहाँ

अदास -- जो ‘दास’ नहीं रहा

अदिति -- देव-माता

अदुक्खमसुखा -- न-दुख न-सुख [वेदना]

अद्दा -- आद्रा नक्षत्र

अद्धि -- मार्ग

अधिमण्ण -- ऋणी

अधिगत -- मार्ग-फल प्राप्त

अधिच्‍चका -- पर्वत-शिखर

अधिट्ठान -- अधिष्ठान, संकल्प

अधिभू -- स्वामी

अधीन -- पराधीन

अनच्छ -- मैला

अनभिरद्धि -- दूसरे को हानि पहुँचाने की चिन्ता

अनरियवोहार -- आठ प्रकार के अनार्योचित व्यवहार

अनामिका -- छिछली उँगुली से बड़ी उँगुली

अनारत -- लगातार

अनासव -- निर्वाण

अनिच्छय -- अनिश्चय

अनिदस्सना -- निर्वाण

अनुट्ठुभ -- काव्य का छन्द-विशेष

अनुताप -- पश्चाताप

अनुपच्छिन्‍न -- सतत

अनुपुब्बि -- क्रमानुकूल [कथा]

अनुमान -- सन्देह, अनुमान [प्रमाण]

अनुलाप -- पुनर्कथन

अनुवाद -- निन्दा, दोषारोपण

अनुसासन -- आज्ञा

अनुसिट्ठि -- उपदेश, अनुशासना

अनूनक -- सम्पूर्ण

अनूप -- जल-बहुल भूमि, दलदल

अनेकत्थ -- अनेकार्थ

अन्तग्गत -- अन्तर्गत, सम्मिलित

अन्तरकप्प -- कल्प-भर, बीच का कल्प

अन्तरीप -- द्वीप

अन्तरीय -- अन्दर का वस्त्र, लुंगी

अन्तरेन -- बिना

अन्तिम -- आखिरी

अन्तोकुच्छि -- कोख के भीतर

अन्‍नादि -- भोजन

अन्वाचय -- संग्रह, भी

अपक्‍कम -- पलायन, भाग निकलना

अपटु -- मन्द बुद्धि, अदक्ष

अपण्डित -- मूर्ख

अपरण्ण -- मूँग आदि दालों की फसल

अपवज्‍जन -- परित्याग

अपवाद -- निन्दा, दोषारोपण

अपिनाम -- प्रशंसा, निन्दा आदि में व्यवह्रत होने वाला निपात

अपुञ्‍ञ -- पाप

अपूप -- पुआ, पृष्ठक

अपेक्खा -- आलय, आसक्ति

अप्पत्थ -- अल्पार्थ

अप्पना -- तर्क-वितर्क

अबव -- संख्या विशेष

अबाध -- बाधा रहित

अब्यासेक -- सन्तोषप्रद

अभिजन -- सगे सम्बन्धी

अभिजात -- कुलोत्पन्‍न

अभिलाव -- काटना

अभिविधि -- [मर्यादा-] अभिविधि

अभिसङ्खरण -- भूमि आदि की सफाई

अभिसंघि -- अभिप्राय

अभिस्संग -- अभिशाप

अभ्यास -- समीप

अमतप -- देवता

अमता -- आँवला

अमरावती -- इन्द्रपुरी

अमेज्झ -- शुक्र, वीर्य

अयिर -- स्वामी

अरुचि -- अरुचिकर, अच्छा न लगना

अलहुक -- भारी

अवगणित -- अपमानित

अवाट -- गढ़ा

अवितथ -- सत्य, यथार्थ

अविरत -- लगातार

अवीर -- डरपोक

-- संयुक्त व्यंजन के पूर्व आ ह्रस्व ‘अ’ हो जाता है

आकङ्खति -- इच्छा करता है

आकङ्खा -- आकांक्षा, इच्छा

आकड्ढति -- खींचता है

आकड्ढन -- खींचना

आकप्प -- चाल-ढाल

आकप्प-सम्पन्‍न -- सदाचरणयुक्त

आकम्पित -- काँपता हुआ

आकर -- खान [सोने-चाँदी की]

आकस्सति -- खींचता है, आकर्षित करता है

आकार -- शक्‍ल, बनावट

आकास -- आकाश

आकास-गङ्गा -- आकाश-गङ्गा

आकास-चारी -- आकाश में विचरण करने वाला

आकासट्ठ -- आकाशस्थित

आकासतल -- किसी मकान की छत

आकिञ्‍चञ्‍ञ -- ‘कुछ नहीं’ की अवस्था

आकिण्ण -- भीड़-युक्त

आकिरति -- फैला देता है

आकुल -- उलझा हुआ

आकोटन -- खटखटाना

आखु -- चूहा

आख्या -- नाम, संज्ञा

आख्यात -- कहा हुआ, बताया हुआ

आख्यायिका -- कहानी

आगच्छति -- आता है

आगत -- आया हुआ

आगद -- वचन, भाषण

आगन्तु -- आने वाला

आगन्तुक -- अतिथि, अपरिचित

आगम -- 1. आना, 2. धर्म, धर्मग्रन्थ, 3. मित्र की तरह आकर दो अक्षरों के बीच में बैठ जाने वाला तीसरा व्यञ्‍जन

आगमन -- आना

आगमेति -- प्रतीक्षा करता है

आगम्म -- पहुँचकर

आगामिक -- आने वाला काल

आगामी -- आने वाला

आगामीकाल -- भविष्य

आगारक -- घर वाला [भण्डागारिक, खजानची]

आगारिक -- घर वाला [भण्डागारिक, खजानची]

आगाळ्ह -- मजबूत, कठोर

आगिलायति -- पीड़ा देता है

आगु -- दोष, अपराध

आगुचारी -- अपराधी

आघात -- 1. रोष, घृणा, 2. रगड़

आघातन -- कसाई-खाना

आचमति -- कुल्‍ला करता है, आब-दस्त लेता है

आचमन -- [मुँह] धोना

आचमन-कुम्भी -- मुँह धोने का पात्र

आचय -- संग्रह

आचरति -- आचरण करता है

आचरिय -- आचार्य, शिक्षक

आचरिय-धन -- आचार्य को दी जाने वाली फीस

आचरिय-मुट्ठि -- आचार्य का ज्ञान-विशेष

आचरिय-वाद -- परम्परागत मत

आचरियानी -- स्त्री-आचार्या अथवा आचार्य की भार्या

आचाम -- उबलते चावलों की माण्ड या पिच्छा

आचार -- व्यवहार, आचरण

आचार-कुसल -- व्यवहार-कुशल, सदाचार-युक्त

आचिक्खक -- कहने वाला, बताने वाला

आचिक्खति -- कहता है, बताता है

आचिण्ण -- अभ्यस्त

आचिण्ण-कप्प -- रिवाज के अनुसार

आचित -- संग्रहीत

आचिनाति -- इकट्ठा करता है

आचीयति -- ढेर हो जाता है

आचेर -- ‘आचरिय’ का संक्षिप्त रूप, अध्यापक

आजञ्‍ञ -- अच्छी नसल का

आजञ्‍ञ जातक -- बोधिसत्व के श्रेष्ठ नसल के घोड़े की योनि में उत्पन्‍न होने की कथा

आजानन -- ज्ञान

आजानाति -- जानता है

आजानीय -- अच्छी नसल का घोड़ा

आजि -- युद्ध

आजीव -- जीविका, जीविका का साधन

आजीवक -- निर्वस्त्र रहने वाले तपस्वियों का एक सम्प्रदाय

आजीवन -- जीविका

आट -- पक्षी-विशेष

आण -- आश्वास

आणा -- आज्ञा

आणा-सम्पन्‍न -- अधिकृत

आणापक -- आज्ञा देने वाला

आणापेति -- आज्ञा देता है

आणि -- मेख

आणी -- अर्गल

आतङ्क -- रोग, बीमारी, भय

आतत -- एक प्रकार का ढोल

आतत-वितत -- आतत-वितत नाम के दोनों प्रकार के ढोल

आततायी -- जो वध आदि अत्याचार करने के लिए उद्यत रहे

आतत्त -- तप्त, तपाया हुआ

आतपत्त -- छाता

आतप -- धूप

आतपाभाव -- धूप का अभाव, छाँव

आतपति -- चमकता है

आतप्प -- प्रयत्न, प्रयास

आताप -- चमक, गर्मी

आतापन -- काय-क्‍लेश, आत्मपीड़ा

आतापी -- प्रयत्नशील

आतापेति -- शारीरिक कष्ट देता है

आतुमा -- कुसीनारा तथा श्रावस्ती के बीच का एक नगर

आतुर -- रोगी

आतोज्‍जं -- बाजा

आदर -- गौरव

आदाति -- लेता है

आदान -- ग्रहण करना

आदायी -- ग्रहण करने वाला

आदास -- मुँह देखने का शीशा

आदास-तल -- शीशे का तला

आदि -- आरम्भ

आदि-कम्मिक -- आरम्भ करने वाला

आदि-कल्याण -- आरम्भ में कल्याणकारक

आदिम -- पहला

आदिच्‍च -- सूर्य

आदिच्‍च-पथ -- आकाश

आदिच्‍च-बन्धु -- सूर्यवंशी, बुद्ध का एक नाम

आदिच्युपट्ठान जातक -- तपस्वियों के आश्रम को नष्ट-भ्रष्ट करने वाले बन्दर की कथा

आदितो -- आरम्भ से

आदित्त -- जलता हुआ

आदित्त जातक -- सोवीर राष्ट्र के रोरुव के राजा भरत की कथा

आदिन्‍न -- गृहीत

आदियति -- ग्रहण करता है

आदिसति -- कहता है, घोषणा करता है

आदीनव -- दुष्परिणाम

आदु -- या, लेकिन

आदेति -- लेता है, ग्रहण करता है

आदेय्य -- अनुकूल

आदेय्य-वचन -- स्वागत

आदेवना -- रोना-पीटना

आदेस -- आदेश

आदेस -- अक्षर-विशेष के स्थान पर किसी दूसरे व्यञ्‍जन का शत्रुवत् आ बैठना

आदेसना -- भविष्य वाणी करना, अनुमान लगाना

आधान-गाही -- दुराग्रही

आधार -- सहारा

आधावति -- दौड़ता है

आधावन -- दौड़

आधिपच्‍च -- स्वामित्व

आधुनाति -- धुन डालता है, हिला देता है

आधूत -- हिलाया गया

आधेय्य -- धारण करने योग्य

आन -- आश्वास

आनक -- भेरी

आनण्य -- ऋण-मुक्ति

आनन -- चेहरा

आनन्तरिक -- ठीक बाद में घटने वाला, बिना किसी अन्तर के घटने वाला

आनन्द -- प्रीति, प्रसन्‍नता

आनन्द -- भगवान बुद्ध के प्रधान शिष्यों में से एक, जिन्होंने अनन्य भाव से भगवान की सेवा की थी आनन्द-बोधि, जेतवन-द्वार पर भिक्षु आनन्द द्वारा रोपा गया बोधि वृक्ष

आनयति -- लाता है

आनापान -- आश्वास-प्रश्वास

आनाय -- जाल

आनिसंस -- शुभ परिणाम

आनिसद -- नितम्ब, चूतड़

आनीत -- लाया हुआ

आनुपुब्बी -- क्रमशः

आनुभाव -- प्रताप, तेज

आनेञ्‍ज -- स्थिर, अचञ्‍चल

आनेति -- लाता है

आप -- जल, पानी

आपगा -- नदी

आपज्‍जति -- पड़ता है, भेंट करता है

आपण -- बाजार

आपण -- अंगुत्तराप जनपद का एक नगर, सम्भवतः राजधानी

आपणिक -- व्योपारी, दुकानदार

आपतति -- गिरता है

आपतन -- गिरावट

आपत्ति -- विनय का उल्‍लंघन, अपराध

आपदा -- दुःख, कष्ट, दुर्भाग्य

आपन्‍न -- अनुप्राप्त

आपन्‍न-सत्ता -- गर्भिणी

आपाण -- श्वास लेना, प्रश्वास

आपाण-कोटिक -- प्राण रहने तक

आपाथ -- इन्द्रिय का गोचर क्षेत्र

आपाथ-गत -- इन्द्रिय-गोचर होना

आपादक -- बच्‍चे की देखभाल करने वाला

आपादिका -- दाई

आपादेति -- दूध पिलाती है

आपान -- पेय-भवन

आपानक -- पियक्‍कड़

आपानीय -- पीने योग्य

आपानीय-कंस -- सुरा-पात्र

आपायिक -- नारकीय

आपुच्छति -- पूछता है, अनुज्ञा चाहता है

आपुच्छा -- अनुज्ञा

आपूरति -- भरता है, सम्पूर्ण होता है

आपूरण -- पूर्ति

आपोधातु -- जलीय तत्त्व

आफुसति -- प्राप्त करता है, साक्षात् करता है

आबद्ध -- बँधा हुआ

आबन्धक -- बाँधने वाला

आबन्धति -- बाँधता है

आबाध -- रोग

आबाधिक -- रोगी

आबाधित -- बाधित, दलित, दबाया हुआ

आबाधेति -- दबाता है, हैरान करता है

आभत -- लाया हुआ

आभरण -- गहना, अलंकार

आभरति -- लाता है

आभस्सर -- प्रकाशमान

आभा -- प्रकाश

आभाकर -- सूर्य

आभास -- रोशनी

आभाति -- चमकता है

आभावेति -- अभ्यास करता है

आभिदोसिक -- गत रात्रि से सम्बन्धित

आभिधम्मिक -- अभिधर्म का जानकार

आभिन्दति -- काटता है

आभिमुख्य -- सामने होना

आभिसमाचारिक -- छोटे-मोटे कर्तव्य

आभिसेकिक -- अभिषेक सम्बन्धी

आभुजति -- झुकाता है

आभुजन -- झुकाना

आभुजी -- भोजपत्र

आभोग -- विचार

आम -- हाँ

आम, आमक -- कच्‍चा, जो पका नहीं

आम-गन्ध -- मांस

आमगंधि -- कच्‍चे मांस की-सी गन्ध

आमक-सुसान -- कच्‍चा-श्मशान

आमट्ठ -- स्पृष्ट, छुआ हुआ, हाथ लगाया हुआ

आमण्ड -- एरण्ड का पौधा

आमण्डलीय -- मण्डल के समान

आमत्तिक -- मिट्टी का बर्तन

आमद्दन -- पीसना, मीड़ना

आमन्तन -- निमंत्रण

आमन्तित -- निमंत्रित

आमन्तेति -- निमंत्रित करता है

आमय -- रोग

आमलक -- आँवला

आमसति -- स्पर्श करता है

आमसन -- स्पर्श करना, मलना

आमा -- दासी

आमासय -- पेट

आमिस -- भोजन, मांस

आमिस-दान -- भौतिक आवश्यकताआें की पूर्ति

आमुञ्‍चति -- धारण करता है

आमुत्त -- धारण किये हुए

आमेण्डित -- घोषित, घोषणा

आमो -- हाँ

आमोद -- आनन्दित होना, प्रमुदित होना

आमोदति -- प्रमुदित होता है

आमोदना -- प्रमुदित होना

आमोदमान -- आनन्दित, प्रमुदित

आमोदेति -- प्रमुदित करता है

आय -- आमदनी, लाभ

आय-कम्मिक -- आय एकत्र करने वाला

आय-कोसल्‍ल -- आमदनी बढ़ाने में कुशल होना

आय-मुख -- आमदनी का साधन

आयत -- लम्बा

आयतन -- क्षेत्र, इन्द्रिय, स्थिति

आयतनिक -- क्षेत्र-सम्बन्धी

आयति -- भविष्य

आयतिक -- भावी

आयतिका -- नली

आयत्त -- निर्भृत

आयत्त -- मलकीयत

आयस -- लोह-निर्मित

आयसक्य -- अगौरव, अपमान

आयसमन्त -- आयुष्यमान्, आदरणीय

आयाग -- यज्ञ सम्बन्धी दान

आयाचक -- माँगने वाला, याचना करने वाला

आयाचति -- माँगता है

आयाचना -- माँग, प्रार्थना

आयाचमान -- प्रार्थना करते हुए, याचना करते हुए

आयाचिका -- याचना करने वाली स्त्री

आयाचितभत्त जातक -- वृक्ष-देवता ने पशु-हत्या की निन्दा की

आयात -- आगत

आयाति -- आता है

आयाम -- लम्बाई

आयामति -- फैलता है

आयास -- कष्ट, परेशानी

आयु -- उमर

आयुक -- आयुवाला

आयु-कप्प -- जीवन-भर

आयु-क्खय -- आयु का क्षय

आयु-सङ्खय -- आयु-समाप्ति

आयु-सङ्खार -- जीवन, आयु की लम्बाई

आयुत्त -- जुता हुआ

आयुत्तक -- एजेण्ट [मुनीम], ट्रस्टी [धरोहर रखने वाला]

आयुध -- हथियार

आयुवन्त -- अधिक आयु वाला

आयुस्स -- आयु-सम्बन्धी

आयूहक -- क्रियाशील

आयूहति -- प्रयत्न करता है, परिश्रम करता है

आयूहन -- प्रयत्न, परिश्रम

आयूहापेति -- अन्य से प्रयत्न करवाता है

आयोग -- अनुरक्ति, प्रयत्न, बन्धन

आयोधन -- युद्ध

आर -- सूई

आरग्ग -- सूई का सिरा

आरपन्थ -- सूई का रास्ता

आरकत्त -- दूरीपन

आरका -- दूरी

आरकूट -- पीतल

आरक्खक -- पहरेदार

आरक्खा -- पहरा, हिफाजत

आरञ्‍ञक -- आरण्यक, अरण्य [जंगल] में रहने वाला

आरञ्‍ञिक -- आरण्यक, अरण्य [जंगल] में रहने वाला

आरञ्‍ञकत्त -- अरण्य में रहने का भाव

आरञ्‍जित -- खरोंच

आरञ्‍जित -- हल चलाया गया

आरति -- दूरी, त्याग

आरद्ध -- आरम्भ किया गया

आरद्ध-चित्त -- जिसने अपना चित्त जीत लिया हो

आरद्ध-विरिय -- प्रयत्नशील

आरनाळ -- काँजी

आरब्भ -- सम्बन्ध में, बारे में

आरब्भति -- 1. आरम्भ करता है, 2. वध करता है, 3. कष्ट पहुँचाता है

आरभन -- आरम्भ करना

आरम्भ -- शुरू

आरम्मण -- इन्द्रियों का विषय, जैसे चक्षु का विषय रूप

आरवा -- चिल्‍लाहट, रोना

आरा -- 1. दूर, 2. मोची का सूआ

आराचारी -- त्रिलिङ्गी, दूर रहने वाला

आराधक -- प्रसन्‍न करने वाला

आराधना -- निमन्त्रण, प्रसन्‍न करना

आराधेति -- निमन्त्रण देता है, प्रसन्‍न रखता है

आराधित -- निमन्त्रित, प्रसन्‍न कृत

आराम -- आनन्द, बगीचा, विहार

आराम-पाल -- माली

आराम-वत्थु -- बगीचे का स्थान

आरामिक -- 1. विहार-सेवक, 2. विहार सम्बन्धी

आरामता -- आसक्ति

आरामदूसक जातक -- बन्दरों द्वारा सात दिन तक बगीचे के सींचे जाने की कथा

आरुण्ण -- रोना, पश्चाताप करना

आरुप्प -- आकार रहित, रूप-विहीन स्थिति

आरुहति -- चढ़ता है

आरुहन -- चढ़ाई

आरुहन्त -- चढ़ता हुआ

आरूळ्ह -- चढ़ा हुआ

आरोग्य -- स्वास्थ्य

आरोग्य-मद -- स्वास्थ्य का अहंकार

आरोग्य-साला -- हस्पताल

आरोचना -- घोषणा

आरोचापन -- किसी दूसरे के द्वारा घोषणा कराना

आरोचापेति -- किसी दूसरे के द्वारा घोषणा कराता है

आरोचित -- सूचित

आरोचेति -- सूचना देता है

आरोदना -- रोना-धोना, विलाप करना

आरोपन -- लगाना

आरोपित -- जिस पर दोष लगाया गया हो

आरोपेति -- दोषारोपण करता है

आरोह -- ऊपर चढ़ना, वृद्धि, ऊँचाई

आरोहक -- चढ़ने वाला

आरोहति -- चढ़ता है

आरोहन -- चढ़ाई

आलकमंदा -- कुबेर की पुरी

आलका -- अलका-पुरी

आलग्गित -- लगा हुआ, लटकता हुआ

आलग्गेति -- लगा रहता है, लटका रहता है

आलपति -- बातचीत करता है

आलपन -- बातचीत, सम्बोधन करना

आलम्ब -- सहारा, लटके रहने का आधार

आलम्बणदण्ड -- हाथ की सहारे की लकड़ी

आलम्बति -- लटकता है, पकड़े रहता है, सहारा लिए रहता है

आलम्बन -- इन्द्रिय का विषय, जैसे घ्राण का विषय गन्ध

आलम्बर -- एक प्रकार की भेरी

आलय -- स्थान, इच्छा, आसक्ति, बहाना

आलवालक -- उपजाऊ जमीन

आळवी -- श्रावस्ती से तीस और बनारस से लगभग बारह योजन की दूरी पर एक नगर। यह श्रावस्ती तथा राजगृह के बीच में बसा हुआ था

आलस -- आलस्य

आलान -- हाथी बाँधने का स्तम्भ

आलाप -- बातचीत

आळार-कालाम -- गृह-त्याग के अनन्तर सिद्धार्थ-कुमार ने सर्वप्रथम जिस आचार्य से शिक्षा ग्रहण की

आलि -- एक प्रकार की मछली

आलि -- खाई

आलिखति -- आलेखन करता है, चित्र बनाता है

आलिङ्गति -- आलिङ्गन करता है

आलित्त -- लिप्त

आलिन्द -- घर का बरामदा

आलिम्पन -- लीपना

आलिम्पित -- लीपा हुआ

आलिम्पेति -- लीपता है

आली -- सखी

आलु -- जमीकन्द, आलू [?]

आलुम्पति -- खोद डालता है

आलुळति -- हलचल करता है

आलेप -- आलेपन, लेप

आलोक -- प्रकाश

आलोकन -- 1. खिड़की, 2. बाहर देखना

आलोक-सन्धि -- झरोखा

आलोकित -- देखा हुआ

आलोकेति -- बाहर देखता है

आलोप -- कौर, आहार-पिण्ड

आलोळ -- हलचल

आलोळेति -- हलचल करता है, [छाछ] बिलोता है

आळाहन -- दाह-क्रिया का स्थान, श्मशान

आवज्‍जति -- आवर्जन करता है, विचार करता है

आवज्‍जेति -- ध्यान लगाता है

आवट्ट -- आवृत्त, ढका हुआ

आवट्टति -- उलटता है, पलटता है

आवट्टन -- 1. आवर्तन, 2. किसी भूत-प्रेत का सिर आना

आवट्टनी -- जादू, आवर्तनी-माया

आवट्टेति -- जादू कर देता है

आवत्त -- पीछे लौटा हुआ

आवत्तक -- पीछे लौटने वाला

आवत्तति -- वापस लौटा है, पीछे मुड़ता है

आवत्तन -- वापस लौटना

आवत्तिय -- जो वापस लौट सके या वापिस लौटाया जा सके

आवत्थिक -- योग्य, मौलिक

आवपति -- भेंट करता है

आवपन -- बोना, बखेरना

आवर -- बाधक

आवरण -- परदा, ढक्‍कन

आवरणीय -- परदा रखने के योग्य

आवरति -- बाधा उपस्थित करता है

आवरित -- बाधित

आवरिय -- बाधा उपस्थित कर, परदा डाल

आवलि -- पाँति, कतार

आवली -- पंक्ति, माला

आवसति -- वास करता है, रहता है

आवसथ -- निवास-स्थान

आवहति -- लाता है

आवाट -- गढ़ा

आवहन -- लाना

आवाप -- कुम्हार का आवा

आवास -- निवास-स्थान, घर

आवासिक -- नैवासिक

आवि -- प्रकट रूप से, सबकी आँखों के सामने

आविज्झति -- चारों ओर से घेर लेता है

आविज्झन -- चक्‍कर काटना

आविञ्‍जति -- बिलोता है

आविञ्‍जनक -- लटकता हुआ

आविट्ठ -- प्रविष्ट

आविद्ध -- बींधा गया, घेरा गया

आविल -- गन्दला, मलिन

आविलत्त -- गन्दला किया गया या बिलोया गया

आविसति -- प्रवेश करता है

आवुणाति -- पिरोता है, धागा बाँधता है

आवुत -- घिरा हुआ

आवुध -- हथियार

आवुसो -- सम्बोधन-पद [मित्र! आयुष्यमान्!]

आवेट्ठन -- लपेटना

आवेठेति -- लपेटता है

आवेणिक -- विशेष, असाधारण

आवेला -- फूलों का गजरा

आवेल्‍लित -- टेढ़ा

आवेसन -- प्रवेश-द्वार

आवेसिक -- त्रिलिङ्गी, अतिथि

आसंक जातक -- राजा ने लड़की के नाम का पता लगाकर उसका पाणि-ग्रहण किया, लड़की का नाम था आसंका

आसंकति -- शंका करता है, सन्देह करता है

आसंका -- शंका, सन्देह

आसंकित -- सशंकित

आसंगवचन -- आसक्ति

आसंसत्थ -- आशीर्वाद अथवा प्रशंसा के अर्थ में

आसज्‍ज -- प्राप्तकर, पहुँचकर, समीप जाकर

आसज्‍जति -- आसक्त होता है, क्रोधित होता है, विरोध करता है

आसज्‍जन -- निग्रह करना, अपमानित करना, आसक्त होना

आसति -- बैठता है

आसत्त -- आसक्त

आसन -- बैठने का आसन

आसन-साला -- बैठने का स्थान

आसन्दि -- कुर्सी, चौकी

आसन्‍न -- पास, पड़ोस

आसभ -- वृषभ-समान

आसय -- आशय, निवासस्थान

आसव -- जो बहे, अकुशल-विचार

आसव-क्खय -- आस्रवों का क्षय

आससान -- इच्छा करते हुए

आसा -- आशा

आसा-भङ्ग -- निराश होना

आसाटिका -- मक्खी का अण्डा

आसादेति -- अपमानित करता है

आसार -- अतिवृष्टि

आसाळ्ह -- आषाढ़ का महीना

आसि -- [वह] था

आसिञ्‍चति -- छिड़कता है

आसिट्ठ -- आशीर्वाद-प्राप्त

आसित्त -- सींचा हुआ

आसित्तक -- मसाला

आसिलेसा -- नक्षत्र विशेष

आसिविस -- सर्प

आसिं -- [मैं] था

आसिंसक -- इच्छा करने वाला, आशान्वित

आसिंसना -- इच्छा, आशा

आसी -- आशीर्वाद, साँप का फन

आसीतिक -- अस्सी वर्ष का

आसीन -- बैठा हुआ

आसीविस -- सर्प

आसु -- शीघ्रता से

आसुं -- [वे] थे

आसुम्भति -- किसी तरल पदार्थ का फेंकना

आसेवति -- अभ्यास करता है, संगति करता है

आसेवना -- अभ्यास, संगति

आह -- [उसने] कहा

आहच्‍च -- जो हटाया जा सके

आहच्‍च-पाद -- पलँग

आहट -- लाया हुआ

आहत -- चोट खाया हुआ

आहनति -- चोट पहुँचाता है

आहनन -- चोट पहुँचाना

आहरण -- लाना

आहरति -- लाता है

आहव -- युद्ध

आहवनीय -- यज्ञाग्नि

आहार -- भोजन

आहारट्ठितिक -- आहार पर निर्भर

आहारेति -- भोजन ग्रहण करता है

आहाव -- कुँए के पास की नाद

आहिण्डति -- घूमता है, इधर-उधर डोलता है

आहुति -- यज्ञ-आहुति

आहुण -- भेंट

आहुणेय्य -- भेंट देने के योग्य

आहुंदरिक -- ठसाठस

आळ्हक -- हाथी बांधने का खूँटा

इक्‍क -- रीछ, भालु

इक्खण -- देखना

इक्खणिक -- ज्योतिषी

इक्खति -- देखता है

इक्खित -- दिखाई दिया

इङ्ग -- इशारा, संकेत

इङ्गित -- चेष्टा, इशारा

इङ्गिरीलि -- अंग्रेजी-भाषा के लिए पालि शब्द

इंगुदी -- हिंगोट का पेड़

इङ्घ -- इधर देखें

इच्छ -- इच्छा करता हुआ

इच्छक -- इच्छा करने वाला

इच्छति -- इच्छा करता है

इच्छा -- कामना

इच्छानङ्गल -- कोसल जनपद का एक ब्राह्मण गाँव

इज्झति -- सफल होता है, उन्‍नति करता है

इज्झन -- सफलता, वृद्धि

इञ्‍जति -- हिलना, कम्पित होना

इञ्‍जन -- हलचल, कम्पन

इट्ठ -- इष्ट, अनुकूल

इट्ठका -- ईट

इट्ठिका -- ईंट

इट्ठगंध -- त्रिलिङ्गी, सुगन्धि

इट्ठविपाक -- शुभ परिणाम

इट्ठस्सासिंसना -- आशीर्वाद

इट्ठिय -- जो भिक्षु महास्थविर महेन्द्र के साथ सिंहल-द्वीप पधारे थे, उनमें से एक भिक्षु विशेष

इण -- ऋण

इणट्ठ -- ऋणी

इण-पण्ण -- ऋण-पत्र, हुण्डी

इण-मोक्ख -- ऋण-मोक्ष

इण-सामिक -- ऋण देने वाला

इण-सोधन -- ऋण उतारना

इणयिक -- ऋणी, कर्जदार

इणुक्खेप -- ऋण, उधार

इतर -- दूसरा

इतरीतर -- कोई

इति -- वाक्य की समाप्ति का संकेत, बहुधा इसका आरम्भिक स्वर ‘इ’ लुप्त रहता है, जैसे ति किर– ऐसा मैंने सुना

इतिवुत्त -- वृत्तान्त

इतिवुत्तक -- खुद्दक निकाय की 110 पदों की चौथी पुस्तक, इसकी प्रथम पंक्ति एक-विध है–कहने के अधिकारी भगवान बुद्ध द्वारा यह कहा गया

इतिह -- परम्परागत उपदेश

इतिहा -- पुरावृत्त

इतिहास -- परम्परा का इति-वृत्त

इतो -- इससे आगे

इतो-पट्ठाय -- यहाँ से आरम्भ करके

इत्तर -- संक्षिप्त, थोड़ा

इत्तर-काल -- थोड़ा-सा समय

इत्थत्त -- 1. [इत्थ+त्त] वर्तमान अवस्था, 2. [इत्थि+त्त] स्त्रीत्व

इत्थं -- इस प्रकार

इत्थं-नाम -- इस नाम का

इत्थं-भूत -- इस प्रकार का

इत्थागार -- स्त्रियों के रहने का हिस्सा

इत्थि -- औरत

इत्थिका -- औरत

इत्थि-धुत्त -- स्त्रियों के चक्‍कर में रहने वाला

इत्थि-लिङ्ग -- इत्थिनिमित्त, स्त्रीत्व का चिह्न

इदं -- इम [सर्वनाम] का कर्ता, कर्म [एकवचन]

इदपच्‍चयता -- ‘इस’ का हेतु होना

इदानि -- अब

इद्ध -- सम्पन्‍न

इद्धि -- ऋद्धि

इद्धि-बल -- अलौकिक शक्ति

इद्धिमन्तु -- अलौकिक बल सम्पन्‍न

इद्धि-विसय -- अलौकिक शक्ति का क्षेत्र

इध -- यहाँ, इस जन्म में, इस लोक में

इधुम -- जलावन

इन्द -- [वैदिक]इन्द्र, [देवताआें का] अधिपति

इन्द-खील -- नगर-द्वार के बाहर गड़ा हुआ मजबूत खम्भा

इन्द-गज्‍जित -- बादलों का गर्जन

इन्द-गोपक -- वर्षा ऋतु में पृथ्वी से बाहर आने वाले लाल रंग के कीड़े, वीर-बहूटियाँ

इन्द-अग्गि -- बिजली

इन्द-जाल -- इन्द्र-जाल, जादू

इन्द-जालिक -- जादूगर

इन्द-धनु -- इन्द्र-धनुष

इन्द-नील -- नीलम

इन्द-पत्त -- कुरु जनपद का एक नगर, इन्द्र-प्रस्थ। आधुनिक दिल्‍ली इन्द्रप्रस्थ की भूमि पर ही बसी हुई है

इन्द-यव -- इन्द्र जौ

इन्द-वारुणि -- खीरे, ककड़ी की बेल

इन्दसाल -- इन्द्रसाल [वृक्ष]

इन्दावुध -- इन्द्र का वज्र

इन्दीवर -- नीलकमल

इन्द्रिय -- चक्षु आदि इन्द्रियाँ

इन्द्रिय-गुत्ति -- इन्द्रियों का संरक्षण

इन्द्रिय-दमन -- इन्द्रियों का दमन

इन्द्रिय-संवर -- इन्द्रियों का संयम

इन्द्रिय-जातक -- नारद तपस्वी का एक अप्सरा के द्वारा लुभाया जाना

इन्दु -- चन्द्रमा

इन्धन -- ईंधन, जलावन

इब्भ -- धनी

इभ -- हाथी

इभ-पिप्फली -- काली मिर्च के समान तिक्त, लम्बाकार औषध-विशेष

इरिण -- महान जंगल, रेगिस्तान, बंजर-भूमि

इरियति -- हलचल करता है

इरिया -- इरियना, चाल-ढाल

इरिया-पथ -- अङ्ग-संचालन

इरीण -- कान्तार

इरु -- ऋग्वेद

इरुब्बेद -- ऋग्-वेद

इल्‍ली -- एक छोटी तलवार

इल्‍लीस जातक -- इल्‍लीस नामक कंजूस सेठ की कथा

इस -- सिंह की जाति-विशेष

इसि -- ऋषि

इसि-पब्बज्‍जा -- ऋषियों के ढंग की प्रव्रज्या

इसिगिलि -- राजगृह के आसपास के पाँचों पर्वतों में से एक

इसिपतन -- बनारस के पास के प्रसिद्ध मिगदाय की भूमि [वर्तमान सारनाथ]। यहीं भगवान बुद्ध का धर्मचक्र प्रवर्तित हुआ था

इस्स -- भालू

इस्सति -- ईर्षा करता है

इस्सत्थ -- 1. धनुर्विद्या, 2. धनुषधारी

इस्सर -- स्वामी, मालिक, ईश्वर [सृष्टि-रचयिता]

इस्सर-जन -- धनी या प्रभावशाली लोग

इस्सर-निम्माण -- ईश्वर-निर्माण

इस्सर-निम्माण-वादी -- त्रिलिंगी, जो ईश्वर के सृष्टि-रचयिता होने में विश्वास करता है

इस्सरिय -- ऐश्वर्य

इस्सरिय-मद -- ऐश्वर्य-मद

इस्सरियता -- ऐश्वर्य-भाव

इस्सा -- ईर्षा

इस्सा-मनक -- ईर्षालु

इस्सास -- धनुषधारी

इस्सुकी -- ईर्षालु

इह -- यहाँ

इह-लोक -- यह लोक, यह जन्म

इहलौकिक -- इस लोक से सम्बन्धित

ईध -- दुःख, खतरा

ईति -- विपत्ति, आपत्ति

ईतिक -- विपत्ति-ग्रस्त

ईदिस -- ऐसा

ईरति -- चलाता है, हिलाता-डुलाता है

ईरित -- कम्पित

ईरेति -- बोलता है

ईस -- ईश, स्वामी

ईसं -- थोड़ा, अल्प

ईसक -- थोड़ा-सा

ईसधर -- सिनेदा पर्वत के चारों ओर की सात पर्वत-श्रृंखलाआें में से एक

ईसम्पण्डु -- भूरा रंग

ईसत्थ -- थोड़े का पर्याय

ईसदत्थ -- थोड़े का पर्यायवाची

ईसा -- हल की फाल

ईसा-दन्त -- हल की फाल के समान दान्तों वाला हाथी

ईहति -- प्रयत्न करता है

ईहा -- प्रयत्न, प्रयास

ईहान -- प्रयत्न, प्रयास

-- पालि वर्णमाला का चौथा स्वर

उक्‍कंस -- उत्कृष्ट होना, श्रेष्ठ होना

उक्‍कंसक -- बड़ाई करते हुए, प्रशंसा करते हुए

उक्‍कंसना -- बड़ाई करना, बढ़ावा देना

उक्‍कंसेति -- बड़ाई करता है, बढ़ावा देता है

उक्‍कट्ठि -- उत्कृष्ट, श्रेष्ठ

उक्‍कट्ठता -- उत्कृष्टता

उक्‍कण्ठति -- उत्कण्ठित होता है, असन्तुष्ट होता है

उक्‍कण्ठना -- उत्कण्ठा, असंतोष

उक्‍कण्ठित -- उत्कण्ठित, असंतुष्ट

उक्‍कण्ण -- जिसके कान सीधे खड़े हों

उक्‍कंतति -- काटता है, फाड़ डालता है

उक्‍कमति -- एक ओर हट जाता है

उक्‍कल -- आधुनिक उड़ीसा ही उत्कलजनपद है

उक्‍किलिस्सति -- पतित होता है

उक्‍का -- मशाल, उल्का [-पात], लोहार की भट्ठी

उक्‍काचेति -- उलीचता है

उक्‍कार -- गोबर, गूँह

उक्‍कार-भूमि -- मैला स्थान

उक्‍कासति -- खाँसता है, गला साफ करता है

उक्‍किण्ण -- खोदा हुआ

उक्‍किलेदेति -- कूड़ा साफ करता है

उक्‍कुज्‍ज -- सीधा रखा हुआ

उक्‍कुज्‍जेति -- आैंधे को सीधा रखता है

उक्‍कुटिक -- उकड़ूँ बैठा हुआ

उक्‍कुट्ठि -- चिल्‍लाना, घोषणा करना

उक्‍कुस -- मछली खाने वाला पक्षी

उक्‍कूल -- ढलवान

उक्‍कोच -- भेंट, उपहार

उक्‍कोटन -- रिश्वत लेकर न्याय न करना

उक्‍कोटेति -- किसी मुकद्दमे को नये सिरे से उठाता है

उक्खलि -- बर्तन

उखा -- बर्तन, ऊखली

उक्खलिखका -- छोटा बर्तन

उक्खित्त -- उठाया गया या हटाया गया

उक्खित्त-पलिघ -- बाधा-रहित

उक्खिपति -- 1. ऊपर उठाता है, धारण करता है, फेंकता है, 2. स्थगित करता है

उक्खिपन -- ऊपर फेंकना

उक्खेपक -- ऊपर फेंकने वाला

उक्‍लाप -- कूड़ा-कचरा

उग्ग -- बड़ा, भयानक, शक्तिशाली, उग्र

उग्गच्छति -- ऊपर जाता है

उग्गज्‍जति -- चिल्‍लाता है

उग्गण्हन -- सीखना, पढ़ना

उग्गण्हाति -- सीखता है, पढ़ता है

उग्गण्हापेति -- सिखाता है

उग्गय्ह -- सीखकर

उग्गत -- ऊपर उठा हुआ

उग्गत्थन -- आभरण विशेष

उग्गम -- ऊपर उठना

उग्गमन -- चढ़ाई, वृद्धि

उग्गहित -- सीखा हुआ, ऊपर उठा हुआ, अनुचित तौर पर लिया हुआ

उग्गहेतु -- सीखने वाला

उग्गहेत्वा -- सीखकर

उग्गार -- उल्टी करना, डकार, वायु को पेट से बाहर निकालना

उग्गाहक -- सीखने वाला

उग्गिरति -- मुँह से शब्द निकालता है, डकार लेता है

उग्गिरण -- उद्गार

उग्गिलति -- थूकता है, उल्टी करता है

उग्घटित -- प्रयत्नशील

उग्घरति -- बूँद-बूँद टपकता है

उग्घंसेति -- रगड़ता है

उग्घाटन -- उद्घाटन, विवृत करना, खोलना

उग्घाटित -- उद्घाटन किया हुआ

उग्घाटेति -- उद्घाटन करता है, खोलता है

उग्घात -- झटका

उग्घातित -- झटका खाया हुआ

उग्घातेति -- अचानक झटका देता है

उग्घोसना -- घोषणा

उग्घोसित -- घोषित

उग्घोसेति -- घोषणा करता है

उच्‍च -- ऊँचा, श्रेष्ठ

उच्‍चत्त -- ऊँचाई

उच्‍चतरस्सर -- ऊँची आवाज

उच्‍चय -- संग्रह

उच्‍चसद्दन -- घोषणा

उच्‍चा -- ऊँचा

उच्‍चा-सद्द -- ऊँचा शब्द

उच्‍चासयन -- ऊँचा पलङ्ग

उच्‍चार -- गोबर, गूँह

उच्‍चारण -- 1. ऊपर उठाना, 2. [शब्द का] उच्‍चारण

उच्‍चारित -- जिसका उच्‍चारण हुआ है

उच्‍चारेति -- उच्‍चारण करता है

उच्‍चालिङ्ग -- झिनगा

उच्‍चावच -- ऊँचा-नीचा

उच्‍चिनाति -- चुनाव करता है

उच्छङ्ग -- गोद

उच्छंग जातक -- स्त्री ने राजा की कैद से अपने पति तथा पुत्र को भी छोड़ देने की याचना न कर, अपने भाई को छोड़ देने की याचना की

उच्छादन -- बदन का मिलना

उच्छादेति -- बदन को रगड़ता है

उच्छिट्ठ -- जूठन

उच्छिट्ठभत्त-जातक -- स्त्री ने अपने यार का जूठा भात ब्राह्मण को खिलाया

उच्छिज्‍जति -- नष्ट हो जाता है

उच्छित -- ऊँचा

उच्छिन्दति -- तोड़ डालता है, नाश कर डालता है

उच्छिन्‍न -- टूटा हुआ, नष्ट हुआ

उच्छु -- गन्‍ना

उच्छु-यन्त -- गन्‍ना पेरने की मशीन

उच्छु-रस -- गन्‍ने का रस

उच्छेद -- नाश, विनाश

उच्छेद-दिट्ठि -- पुनर्जन्म में अविश्वास

उच्छेदवादी -- पुनर्जन्म को न मानने वाला

उजु, उजुक -- सीधा

उजुता -- सीधापन

उजुं -- सीधे

उज्‍जग्घति -- जोर से खिलखिलाकर हँसता है

उज्‍जग्घिका -- जोर की हँसी

उज्‍जङ्गल -- बंजर या बालू की जमीन

उज्‍जल -- उज्‍ज्वल, चमकदार

उज्‍जलति -- चमकता है

उज्‍जवति -- नदी के ऊपर की ओर जाता है

उज्‍जवनिका -- नदी में ऊपर की ओर जाने वाली नाव

उज्‍जहति -- छोड़ देता है

उज्‍जेनी -- अवन्ति जनपद की राजधानी

उज्‍जोत -- प्रकाश

उज्‍जोतित -- प्रकाशित

उज्‍जोतेति -- प्रकाशित करता है

उज्झति -- छोड़ देता है

उज्झान -- शिकायत

उज्झान-सञ्‍जी -- दोषारोपण की चेतना-युक्त

उज्झापन -- उत्तेजित करना

उज्झापेति -- चिढ़ाता है, शिकायत करता है

उज्झायति -- असन्तोष प्रकट करता है

उज्झित -- त्यक्त, फेंका गया

उञ्छति -- फेंकी हुई खाद्यसामग्री इकट्ठी करता है

उञ्‍ञातब्ब -- घृणास्पद

उट्ठहति -- उठ खड़ा होता है

उट्ठातु -- उठ खड़े होने वाला

उट्ठान -- उत्थान, उठ खड़े होना

उट्ठापेति -- उठा देता है, निकाल बाहर करता है

उट्ठायक -- अप्रमादी, क्रियाशील

उट्ठित -- उठा हुआ

उड्डाहति -- जलाता है

उड्डेति -- उड़ता है

उण्ण -- ऊन

उण्णा -- बुद्ध के भाैंहों के बीच के बाल

उण्णा-नाभि -- मकड़ी

उण्णामय -- बालों का बुना हुआ [बिछावन]

उण्ह -- ऊष्ण, गरम

उण्हत्त -- गरमी

उण्हरंसि -- सूर्य

उण्हीस -- पगड़ी

उतु -- ऋतु

उतु-काल -- मासिक धर्म का समय

उतु-परिस्सय -- ऋतु-परिवर्तन से उत्पन्‍न होने वाले कष्ट

उतु-सप्पाय -- ऋतु की अनुकूलता

उतुनी -- ऋतु-स्त्राव वाली स्त्री

उत्त -- उक्त, कहा गया

उत्तण्डुल -- कुपच [भात]

उत्तत्त -- गरम किया हुआ, चमकता हुआ

उत्तम -- श्रेष्ठ

उत्तमङ्ग -- श्रेष्ठ अङ्ग अर्थात् मस्तिष्क

उत्तमङ्गरुह -- सिर के बाल

उत्तमण्ण -- ऋणदाता

उत्तमत्थ -- श्रेष्ठतम परमार्थ

उत्तमा -- श्रेष्ठ स्त्री, सुन्दर नारी

उत्तम-पोरिस -- श्रेष्ठतम पुरुष

उत्तर -- उच्‍चतर, उत्तर [दिशा]

उत्तर -- [प्रश्न का] उत्तर

उत्तर-कुरु -- निकायों तथा उत्तरकालीन पालि वाङ्मय में वर्णित काल्पनिक प्रदेश

उत्तरत्थरण -- ऊपर का बिछावन

उत्तरच्छद -- चँदवा

उत्तरसुवे -- परसों

उत्तर-पञ्‍चाल -- राष्ट्र-विशेष, जिसकी राजधानी कम्पिल्‍ल थी

उत्तरण -- पार होना, [परीक्षा में] उत्तीर्ण होना

उत्तरति -- जल से बाहर आता है

उत्तरविपरीत -- अनुत्तरीय

उत्तरा -- उत्तर-दिशा

उत्तरा नन्द-माता -- बुद्ध का उपस्थान करने वाली गृहस्थ उपासिकाआें में प्रमुख

उत्तरापथ -- जम्बु द्वीप का उत्तरी विभाग, [स्पष्ट उल्‍लेख प्राप्त नहीं]हो सकता है कि उत्तरापथ से श्रावस्ती से तक्षिला तक जाने वाला महामार्ग अभिप्रेत हो

उत्तरायण -- सूर्य की उत्तरायण, दक्षिणायन दो गतियों में से पहली

उत्तरासङ्ग -- ऊपर का कपड़ा

उत्तरि, उत्तरिं -- अधिकतर

उत्तरि-करणीय -- आगे का कार्य

उत्तरि-भङ्ग -- भोजन की समाप्ति पर दिया जाने वाला स्वादिष्ट खाद्य पदार्थ

उत्तरि-मनुस्स-धम्म -- परामानुषिक स्थिति

उत्तरि-साटक -- ऊपर का वस्त्र

उत्तरितर -- अधिक श्रेष्ठ

उत्तरिय -- 1. श्रेष्ठ अवस्था [अनुत्तरिय, श्रेष्ठतम अवस्था], 2. प्रत्युत्तर

उत्तरीय -- ऊपर की चादर

उत्तसति -- त्रसित होता है, चौकन्‍ना हो जाता है

उत्तसन -- त्रास, भय

उत्तस्त -- भयभीत, त्रसित

उत्तान -- आकाश की ओर मुँह करके लेटा हुआ

उत्तानक -- आकाश की ओर मुँह करके लेटा हुआ

उत्तान-सेय्यक -- बच्‍चा

उत्तानीकम्म -- स्पष्टीकरण

उत्तानीकरण -- स्पष्टीकरण

उत्तानीकरोति -- स्पष्ट करता है

उत्तापेति -- कष्ट देता है, त्रास देता है

उत्तारित -- पार उतारा हुआ

उत्तारेति -- पार उतारता है, रक्षा करता है, सहायता करता है

उत्तास -- त्रास, भय

उत्तासन -- त्रास देना, मृत्यु-दण्ड देना

उत्तासित -- जिसे त्रास दिया गया है, जिसे मृत्यु-दण्ड दिया गया है

उत्तासेति -- त्रास देता है, डराता है

उत्तिट्ठति -- उठ खड़ा होता है

उत्तिण -- तृण-रहित

उत्तिण्ण -- उत्तीर्ण, उस पार चला गया

उत्रास -- त्रास, भय

उत्रासी -- त्रसित, भयभीत, कायर

उद -- अथवा, या

उदक -- पानी

उदक-काक -- समुद्री चिड़िया

उदक-धारा -- जल-धारा

उदक-बिन्दु -- जल-बिन्दु

उदक-माणिक -- जल रखने का बड़ा बर्तन

उदक-साटिका -- नहाने का वस्त्र

उदकच्छ -- दलदल

उदकन्ति -- पानी में उतरना

उदकायतिक -- पानी का पाइप

उदकुम्भ -- जल का घड़ा

उदकोघ -- पानी की बाढ़

उदग्ग -- प्रसन्‍न-चित्त

उदञ्‍चन -- छोटी बाल्टी, जलपात्र

उदञ्‍चनी जातक -- स्त्री के आकर्षण के वशीभूत हुए पुत्र को पिता ने उसके साथ जाने की आज्ञा दी

उदण्ह -- सूर्योदय

उदधि -- समुद्र

उदपादि -- उत्पन्‍न हुआ

उदपान -- कुआँ

उदपान-दूसक जातक -- कुएँ के जल को खराब करने वाले गीदड़ की कथा

उदय -- उन्‍नति, वृद्धि, आय, सूद

उदय जातक -- उदय भद्द तथा उदय भद्दा की कथा

उदयत्थगम -- उन्‍नति तथा पतन

उदय-ब्बय -- वृद्धि तथा ह्रास, जन्म तथा मृत्यु

उदयन्त -- उठता हुआ, वृद्धि को प्राप्त होता हुआ

उदयति -- उदय होता है

उदयन -- ऊपर उठता है

उदर -- पेट

उदरग्गि -- भूख

उदरावदेहकं -- पेट को गले तक भरना

उदरिय -- पेट, पेट का भोजन

उदहारक -- पानी लाने वाला

उदहारिय -- पानी लाने के लिए जाता हुआ

उदागच्छति -- सम्पूर्ण होता है

उदान -- उल्‍लासपूर्ण कथन

उदान -- खुद्दक निकाय का एक ग्रन्थ

उदानेति -- उल्‍लास-पूर्ण कथन करता है

उदार -- विशाल-हृदय, महान

उदासीन -- उपेक्षा-युक्त, अक्रियाशील

उदाहट -- उक्त, बोला गया

उदाहरण -- मिसाल, उदाहरण

उदाहरति -- पाठ करता है, उच्‍चारण करता है

उदाहार -- कथन

उदाहु -- अथवा, या

उदिक्खति -- देखता है, नजर घुमाता है

उदिक्खितु -- देखने वाला, नजर डालने वाला

उदिच्‍च -- श्रेष्ठ, उत्तरकुलोत्पन्‍न

उदित -- उदय हुआ, ऊपर उठा

उदीचि -- उत्तर दिशा

उदीरण -- कथन

उदीरित -- कहा गया, कथित

उदीरेति -- कहता है, बोलता है

उदुक्खल -- ऊखल

उदुम्बर -- गूलर का वृक्ष

उदुम्बर जातक -- एक बन्दर द्वारा दूसरे बन्दर के ठगे जाने की कथा

उदेति -- उदय होता है, वृद्धि को प्राप्त होता है

उदेन -- कोसम्बी-नरेश

उद्द -- ऊद-बिलाव

उद्दक-रामपुत्त -- गृहत्याग के अनन्तर जिन आचार्यों से गौतम बुद्ध ने शिक्षा ग्रहण की, उनमें से एक

उद्दलोमी -- ऊर्ध्व-लोमी, ऐसा कम्बल जिसके दोनों सिरों पर उसें हों

उद्दस्सेति -- दिखाता है

उद्दान -- सूची-समूह

उद्दाप -- प्राकार की नींव

उद्दाम -- चञ्‍चल

उद्दालन -- फाड़ डालना

उद्दालक जातक -- उद्दालक पुरोहित की कथा

उद्दालेति -- फाड़ डालता है

उद्दिट्ठ -- बताया हुआ, इशारा किया हुआ

उद्दिसति -- नियम करता है, उच्‍चारण करता है

उद्दिसापेति -- नियम कराता है

उद्दीपना -- व्याख्या, तेज करना

उद्देक -- [उद्रेक]डकार

उद्देस -- संकेत, व्याख्या, पाठ

उद्देसक -- संकेत करने वाला, व्याख्याता, पाठ करने वाला

उद्देहक -- उबलने वाला

उद्ध -- ऊपर का

उद्धग्ग -- ऊपर की ओर मुँह वाला

उद्धगति -- ऊर्ध्वगति

उद्धच्‍च -- उद्धतपन

उद्धट -- खींचा हुआ, नष्ट किया हुआ

उद्धत -- उद्धत

उद्धदेहिक -- मृतक-दान, श्राद्ध

उद्धन -- चूल्हा

उद्धपाद -- ऊपर की ओर पाँव वाला

उद्धम्म -- मिथ्या मत

उद्धरण -- ऊपर उठाना, जड़ खोदना

उद्धरति -- उठाता है, जड़ खोदता है

उद्धं -- ऊपर

उद्धंगम -- ऊपर जाने वाला, ऊर्ध्वगामी वायु, शरीर में विचरण करने वाली वायु

उद्धंभागिय -- ऊपरी भाग से सम्बन्धित

उद्धंविरेचन -- वमन

उद्धंसोत -- जीवन-स्रोत पर ऊपर की ओर चढ़ना

उद्धंसेति -- नष्ट करता है, विनाश करता है

उद्धार -- बाहर खींच लाना

उद्धुमात -- सूजा हुआ, फूला हुआ

उद्धुमातक -- सूजा हुआ, फूला हुआ

उद्धुमायति -- सूज जाता है

उद्रय -- कारण होना

उद्रीयति -- फूट पड़ता है, टुकड़े-टुकड़े हो जाता है

उद्रीयन -- फूट पड़ना, गिर पड़ना

उद्रेक -- वमन

उद्देक -- वमन

उन्दु -- चूहा

उन्दुर -- चूहा

उन्दूर -- चूहा

उन्‍न -- गीलापन

उन्‍नत -- ऊपर उठा हुआ

उन्‍नति -- वृद्धि

उन्‍नदति -- चिल्‍लाता है

उन्‍नम -- ऊँचाई

उन्‍नमति -- ऊपर उठता है

उन्‍नल -- अभिमानी, अहंकारी

उन्‍नाद -- शोर

उन्‍नादेति -- शोर करता है

उप -- समीप आदि अनेक अर्थों का बोधक

उपक -- समीप जाना

उपग -- समीप जाना

उपकच्छ -- बगल

उपकट्ठ -- समीप

उपकड्ढति -- खींचता है

उपकण्णक -- ऐसा स्थान, जहाँ से दूसरों की आपसी बातचीत सुनाई दे सके

उपकप्पति -- पास जाता है, योग्य होता है, अनुकूल होता है

उपकप्पन -- समीप जाना, उपयोगी होना, योग्य होना

उपकरण -- साधन

उपकरोति -- उपकार करता है

उपकार -- सहायता

उपकारक -- उपकार करने वाला

उपकिण्ण -- बिखेरा हुआ

उपकूजति -- [पक्षी] चहचहाता है

उपकूल -- नदी-तट

उपकूळित -- उबाला हुआ, भूना हुआ

उपक्‍कम -- साधन, उपाय

उपक्‍कमति -- प्रयास करता है, आक्रमण करता है

उपक्‍कमन -- आक्रमण, समीप जाना

उपक्‍किलिट्ठ -- मैला, दागी

उपक्‍किलेस -- चित्त-मैल

उपक्‍कीतक -- क्रीत दास

उपक्‍कुट्ठ -- जिस पर दोषारोपण हुआ हो

उपक्‍कोस -- दोषारोपण

उपक्‍कोसति -- दोषारोपण करता है

उपक्खट -- पास लाया हुआ

उपक्खर -- रथ का अङ्ग-विशेष

उपक्खलन -- स्खलन, पाँव लड़खड़ाना

उपग -- जाता हुआ, समीप जाता हुआ

उपगच्छति -- पास जाता है

उपगत -- पास गया

उपगमन -- पास जाना

उपगूहति -- गले मिलता है

उपगूहन -- गले मिलना

उपग्घात -- झटका

उपघात -- चोट

उपघातक -- चोट पहुँचाने वाला

उपघाती -- चोट पहुँचाने वाला, जान से मार डालने वाला

उपचय -- संग्रह

उपचरति -- व्यवहार करता है, उद्यत रहता है

उपचरित -- अभ्यस्त, सेवित

उपचार -- पास-पड़ोस, पूर्व-तैयारी

उपचिका -- दीमक

उपचिण्ण -- अभ्यस्त, एकत्रित

उपचित -- ढेर लगा हुआ

उपचिनाति -- एकत्र करता है

उपच्‍चगा -- लाँघ गया, आगे बढ़ गया, बढ़ निकला

उपच्छिन्दति -- तोड़ डालता है, नष्ट कर डालता है, बाधक होता है

उपच्छिन्‍न -- तोड़ दिया गया, काट दिया गया, नष्ट कर दिया गया

उपच्छेद -- रुकावट, विनाश

उपच्छेदक -- रुकावट डालनेवाला, नष्ट करने वाला

उपजानाति -- सीखता है, प्राप्त करता है

उपजीवति -- किसी के आश्रय से जीता है

उपजीवी -- किसी के आश्रय से जीने वाला

उपज्झाय -- उपाध्याय

उपञ्‍ञात -- सीखा हुआ, ज्ञात

उपञ्‍ञास -- वचन-क्रम

उपट्ठपेति -- समर्पित करता है, सेवा में उपस्थित रहता है

उपट्ठहति -- प्रतीक्षा करता है, सेवा करता है, सेवा में उपस्थित रहता है, समझता है, उपस्थान करता है

उपट्ठाक -- सेवक

उपट्ठान -- सेवा

उपट्ठान-साल -- सभा भवन

उपट्ठित -- उपस्थित, तैयार

उपट्ठेति -- सेवा में रहता है, गौरव प्रदर्शित करता है

उपडय्हति -- जलता है

उपड्ढ -- आधा

उपतप्पति -- अनुत्तप्त होता है

उपताप -- पश्चाताप

उपतापक -- अनुत्ताप तथा पश्चाताप का कारण

उपतापेति -- कष्ट देता है, पीड़ा पहुँचाता है

उपतिट्ठति -- समीप खड़ा होता है, देखभाल करता है

उपतिस्स -- धर्म-सेनापति सारिपुत्र का गृहस्थ-नाम

उपत्थद्ध -- कड़ा, कठोर, सहारे खड़ा

उपत्थम्भ -- सहारा

उपत्थम्भेति -- सहारा देता है

उपत्थर -- दरी, आस्तरण

उपदस्सेति -- प्रदर्शित करता है

उपदहति -- देता है, कारणीभूत होता है

उपदा -- भेंट, उपहार

उपदिट्ठ -- उपदिष्ट

उपदिसति -- उपदेश देता है

उपदिसन -- उपदेश

उपदिस्सति -- प्रकट होता है

उपदेस -- उपदेश

उपद्दव -- उपद्रव, दुर्भाग्य

उपद्दवेति -- कष्ट पहुँचाता है

उपद्दुत -- उपद्रुत, कष्ट का भागी

उपधान -- तकिया

उपधान -- कारण होना

उपधानेति -- कल्पना करता है, विचार करता है

उपधारण -- दूध का बर्तन

उपधारणा -- विचार

उपधारित -- विचारित

उपधारेति -- विचार करता है, परिणाम निकालता है

उपधावति -- दौड़ता है

उपधावन -- पीछे दौड़ना

उपधि -- पुनर्जन्म का कारण, आसक्ति

उपनच्‍चति -- नृत्य करता है

उपनत -- झुका हुआ

उपनदति -- आवाज देता है

उपनद्ध -- शत्रु-भाव रखना

उपनन्धति -- शत्रु-भाव रखता है

उपनमति -- झुकता है

उपनमन -- झुकना, नम्र होना

उपनयन -- पास लाना, हिन्दुआें का उपनयन-संस्कार

उपनय्हति -- शत्रु-भाव रखता है

उपनय्हना -- शत्रु-भाव

उपनामित -- पास लाया गया, भेंट

उपनामेति -- पास लेता है, भेंट लाता है

उपनायिक -- समीप आता हुआ, लाता हुआ

उपनाह -- वैर, शत्रु-भाव

उपनाही -- वैरी

उपनिक्खमति -- अभिनिष्क्रमण करता है

उपनिक्खित्त -- निक्षिप्त, रखा गया

उपनिक्खित्तक -- चर-पुरुष

उपनिक्खिपति -- रखता है

उपनिक्खिपन -- निक्षेप, रखना

उपनिक्खेप -- निक्षेप, रखना

उपनिघंसति -- रगड़ता है, [कोल्हू में] पेरता है

उपनिज्झान -- विचार, मनन

उपनिज्झायति -- विचार करता है, मनन करता है

उपनिधा -- तुलना

उपनिधि -- वचन देना

उपनिधाय -- तुलना किया गया

उपनिपज्‍जति -- पास लेट जाता है

उपनिबद्ध -- सटा हुआ

उपनिबन्ध -- नजदीकी सम्बन्ध

उपनिबन्ध -- निर्भृत, सम्बन्धित

उपनिबन्धति -- सटाकर बाँधता है, मिन्‍नत करता है

उपनिबन्धन -- नजदीकी सम्बन्ध, अति-विनम्र प्रार्थना

उपनिसा -- कारण, साधन, समानभाव

उपनिसीदति -- समीप बैठता है

उपनिसेवति -- संगति करता है

उपनिस्सय -- आधार, आश्रय

उपनिस्सयति -- संगति करता है

उपनिस्साय -- पास, समीप, कारण से, साधन से

उपनिस्सित -- निर्भृत, आश्रित

उपनीत -- लाया गया, पाला गया

उपनीय -- लाकर

उपनीयति -- लाया जाता है, ले जाया जाता है

उपनील -- नील-वर्ण

उपनेति -- पास लाता है, भेंट करता है

उपन्तसेल -- उपत्यका

उपन्तिक -- 1. पास, 2. पास-पड़ोस

उपपज्‍जति -- पुनर्जन्म ग्रहण करता है

उपपति -- यार, जार

उपपत्ति -- जन्म, पुनर्जन्म

उपपन्‍न -- जन्म ग्रहण किया

उपपरिक्खण -- परीक्षा

उपपरिक्खति -- परीक्षा लेता है

उपपरिक्खा -- परीक्षा

उपपातिक -- बिना माता-पिता के उत्पन्‍न होने वाले सत्व, जैसे देवता

उपपादित -- समुत्पन्‍न

उपपादेति -- उत्पन्‍न करता है

उपपारमी -- छोटी-पारमिताएँ [गुण-विशेष की पराकाष्ठायें]

उपपीळक -- पीड़ा देने वाला, कष्ट देने वाला

उपपीळा -- पीड़ा, कष्ट

उपप्फुसति -- स्पर्श करता है

उपप्‍लवति -- तैरता है

उपब्बूजति -- जाता है, विदा होता है

उपब्बळ्ह -- भीड़ वाली जगह

उपब्रूहन -- वृद्धि

उपब्रूहति -- बढ़ाता है, फैलाता है

उपभुञ्‍जक -- खाने वाला, भोगने वाला

उपभुञ्‍जति -- भोगता है

उपभोग -- भोगना

उपभोगी -- उपभोग करने वाला

उपमा -- समानता

उपमातु -- दाई

उपमान -- तुलना, जिससे तुलना की जाये

उपमेति -- तुलना करता है

उपमेय्य -- जिसकी तुलना की जाय

उपय -- आसक्ति

उपयम -- विवाह

उपयाचति -- याचना करता है, माँगता है

उपयाचितक -- याचना, माँग

उपयाति -- समीप जाता है

उपयान -- पहुँच

उपयानक -- केकड़ा

उपयुज्‍जति -- सम्बन्ध जोड़ता है, अभ्यास करता है, उपयोग करता है

उपयोग -- [उप+योग] सम्बन्ध

उपरचित -- निर्मित

उपरज्‍ज -- उप-राजपना

उपरत -- विरत हुआ

उपरति -- संयम

उपरमति -- विरत रहता है, संयत रहता है

उपराजा -- वाइसराय, राजा का स्थानापन्‍न

उपरि -- ऊपर

उपरिट्ठ -- सर्वोपरि

उपरि-पासाद -- सबसे ऊपर का तल्‍ला

उपरि-भाग -- ऊपर का हिस्सा

उपरि-मुख -- ऊपर की ओर मुँह वाला

उपरित्त -- ऊपर होने का भाव

उपरिम -- सर्वोपरि

उपरुज्झति -- अवरोध को प्राप्त होता है, रुक जाता है

उपरुन्धति -- रोकता है, रुकावट डालता है

उपरूळ्ह -- उगा हुआ

उपरोचति -- प्रसन्‍न करता है

उपरोदति -- विलाप करता है

उपरोधेति -- बाधा डालता है

उपरोप -- [?]पौधा

उपल -- पत्थर

उपलक्खणा -- विवेक करना

उपलक्खित -- उपलक्षित, विवेककृत

उपलक्खेति -- विवेक करता है

उपलद्ध -- प्राप्त

उपलद्धि -- प्राप्ति

उपलब्भति -- प्राप्त होता है, विद्यमान होता है

उपलभति -- प्राप्त करता है

उपलापन -- प्रेरणा, बकवास

उपलापेति -- प्रेरित करता है

उपलालेति -- लालन करता है

उपलिक्खति -- खरोचता है, उत्कीर्ण करता है

उपलिप्पति -- लेप करता है

उपलिम्पति -- रंग पोतता है

उपलेप -- लेप

उपलोहितक -- लाल रंग का

उपवज्‍ज -- सदोष

उपवण्णेति -- वर्णन करता है

उपवत्त -- हिरण्यवती के तट पर कुसीनारा के मल्‍लों का शाल-वन, यहीं भगवान बुद्ध का परिनिर्वाण हुआ था

उपवत्तन -- हिरण्यवती के तट पर कुसीनारा के मल्‍लों का शाल-वन, यहीं भगवान बुद्ध का परिनिर्वाण हुआ था

उपवत्तति -- विद्यमान होता है

उपवत्तन -- समीप होना

उपवदति -- दोषारोपण करता है, अपमानित करता है

उपवन -- छोटा जंगल, बगीचा

उपवसति -- वास करता है, रहता है

उपवाद -- दोष, अपमान

उपवादक -- दोष देने वाला, अपमान करने वाला

उपवायति -- [हवा] चलती है

उपवास -- आहार-त्याग, व्रत

उपवासन -- सुगन्धित करना

उपवासित -- सुगन्धित

उपवासेति -- सुगन्धित करता है

उपवाहन -- ले जाना, बहाकर ले जाना

उपविजञ्‍ञा -- ऐसी स्त्री जिसको प्रसव होने ही वाला हो

उपविसति -- समीप आता है, समीप बैठ जाता है

उपवीण -- वीणा का सिरा

उपवीत -- बुना हुआ

उपवीयति -- बुनता है

उपवुत्त -- दोषारोपित किया गया

उपवुत्थ -- [उपोसथ-] व्रत रखा गया

उपवेसन -- बैठना

उपव्ह्यति -- बुलाता है

उपसंवसति -- किसी के साथ रहता है

उपसंहरण -- पास-पास लाकर एकत्र करना, तुलना करना

उपसंहरति -- इकट्ठा करता है, समीप लाता है, ढेर लगाता है

उपसंहार -- एकत्र करना, सार ग्रहण करना, तुलना करना

उपसङ्कमति -- पास जाता है

उपसङ्कमन -- पहुँच, नजदीक जाना

उपसङ्कमित्वा -- पास जाकर

उपसग्ग -- खतरा, किसी क्रिया के पूर्व में आने वाले वर्ण-समूह [उपसर्ग]

उपसन्त -- शान्त-चित्त

उपसम -- शान्ति, सन्तोष

उपसमेति -- सन्तुष्ट करता है, शान्त करता है

उपसम्पज्‍ज -- पहुँच जाना, प्रविष्ट होना, उपसम्पन्‍न-भिक्षु होना

उपसम्पज्‍जति -- पहुँचता है, प्रविष्ट होता है, [भिक्षु] उपसम्पन्‍न होता है

उपसम्पदा -- बौद्ध-भिक्षु की संघ के द्वारा दी जाने वाली दीक्षा

उपसम्पन्‍न -- उपसम्पदा प्राप्त

उपसम्पादेति -- उपसम्पदा की दीक्षा देता है

उपसम्फस्सति -- गले मिलता है

उपसम्मति -- शान्त होता है, सन्तुष्ट होता है

उपसाळ्ह जातक -- उस ब्राह्मण की कथा जिसने अपने लड़के को आदेश दिया था कि उसकी दाहक्रिया ऐसी जगह की जाय, जहाँ पहले किसी की दाह-क्रिया न हुई हो

उपसिंघति -- नाक बजाता है

उपसिंघन -- नाक बजाना

उपसुस्सति -- सूख जाता है

उपसुस्सन -- सूख जाना

उपसेचन -- भोजन को स्वादिष्ट बनाने के लिए उस पर [नमक-मिर्च] छिड़कना

उपसेनिया -- जो लड़की सदैव अपनी माँ के पास रहना चाहे, लाडली

उपसेवति -- अभ्यास करता है, संगति करता है

उपसेवना -- अभ्यास, संगति

उपसेवित -- जिसने अभ्यास किया हो, जिसने संगति की हो

उपसेवी -- अभ्यास करने वाला, संगति करने वाला

उपसोभति -- सुशोभित होता है, सुन्दर लगता है

उपसोभित -- सुशोभित

उपसोभेति -- सुशोभित कराता है

उपसोसेति -- सुखाता है

उपसट्ठ -- दमित, जिसका दमन किया गया

उपस्सय -- निवास-स्थान

उपस्सास -- साँस लेना

उपस्सुति -- उपश्रुति, दूसरों की गुप्त बातचीत

उपस्सुतिक -- दूसरों की बातचीत सुनने वाला

उपहञ्‍ञति -- भ्रष्ट होता है, चोट खाता है

उपहत -- चोट खाया हुआ

उपहत्तु -- लाने वाला

उपहनति -- हानि पहुँचाता है, चोट पहुँचाता है

उपहरण -- भेंट

उपहरति -- भेंट लाता है

उपहार -- भेंट, पुरस्कार

उपहिंसति -- हानि पहुँचाता है, चोट पहुँचाता है

उपागच्छति -- समीप आता है

उपागत -- समीप आया हुआ

उपातिधावति -- दौड़ता रहता है

उपातिपन्‍न -- गिरा हुआ, शिकार हुआ

उपातिवत्त -- सीमातिक्रान्त हुआ

उपातिवत्तति -- सीमोल्‍लंघन करता है

उपादा -- उपादाय का संक्षिप्त रूप, सकारण

उपादान -- आसक्ति, ईधन

उपादानक्खन्ध -- आसक्ति के रूप, वेदना आदि स्कन्ध

उपादानक्खय -- आसक्ति का क्षय

उपादानिय -- आसक्ति से सम्बन्धित

उपादाय -- कारण होकर

उपादि -- जीवन का ईधन

उपादि-सेस -- जिसमें रूप, वेदना आदि स्कन्ध अवशेष हों

उपादिन्‍न -- गृहीत

उपादियति -- ग्रहण करता है

उपाधि -- पद, गद्दी

उपान्तभू -- पास की भूमि

उपाय -- साधन

उपाय-कुसल -- साधन-सम्पन्‍न

उपाय-कोसल्‍ल -- उपाय-कुशलता

उपायन -- भेंट

उपायास -- चिन्ता, दुःख, पश्चाताप

उपारम्भ -- डाँट-डपट

उपालि स्थविर -- भगवान बुद्ध के महाश्रावकों में से एक अत्यन्त प्रसिद्ध महास्थविर प्रथम संगीति में उपालि स्थविर ही विनय के विषय में प्रमाण माने गये थे

उपाविसि -- स्थान ग्रहण किया

उपासक -- गृहस्थ शिष्य

उपासकत्त -- उपासक-भाव

उपासति -- उपासना करता है, सेवा में रहता है

उपासन -- 1. सेवा, 2. धनुर्विद्या

उपासिका -- स्त्रीधर्मानुयायी

उपासित -- पूजित, सेवित

उपासीन -- पास बैठा हुआ

उपाहत -- जिसे आघात लगा हो, जिसने चोट खाई हो

उपाहन -- जूता

उपेक्खक -- उपेक्षा करने वाला

उपेक्खति -- उपेक्षा करता है

उपेक्खना -- उपेक्षा

उपेक्खा -- उपेक्षा-भाव, मध्यस्थभाव

उपेत -- पास गया हुआ, प्राप्त हुआ

उपेति -- पास जाता है, प्राप्त करता है

उपेत्वा -- पास जाकर

उपोग्घात -- उदाहरण

उपोचित -- संग्रहित, ढेर लगा हुआ, सुखद

उपोसथ -- 1. हाथियों का कुलविशेष, 2. महीने की दोनों अष्टमियाँ, अमावस्या तथा पूर्णिमा के चार उपोसथ [-व्रत] के दिन

उपोसथ-कम्म -- उपोसथ [-व्रत] का क्रियात्मक रूप

उपोसथागार -- उपोसथ-भवन

उपोसथिक -- उपोसथ [-व्रत] के दिन आठ शील ग्रहण करने वाला

उप्पक्‍क -- सूजा हुआ, फूला हुआ

उप्पच्‍चति -- पकता है

उप्पज्‍जति -- उत्पन्‍न होता है

उप्पज्‍जन -- उत्पन्‍न होना

उप्पज्‍जमान -- उत्पन्‍न होने वाला

उप्पज्‍जितब्ब -- उत्पन्‍न होने के योग्य

उप्पटिपाति -- क्रमाभाव, अनियम

उप्पटिपाटिया -- क्रम-विरुद्ध

उप्पण्डना -- हँसी उड़ाना, मज़ाक उड़ाना

उप्पण्डुकजात -- पीला पड़ गया

उप्पण्डेति -- मुँह चिढ़ाता है

उप्पतति -- उड़ता है, ऊपर उछलता है

उप्पतन -- उड़ान, उछलन

उप्पतमान -- उड़ता हुआ, उछलता हुआ

उप्पतित -- उड़ा, उछला

उप्पतित्वा -- उड़कर, उछलकर

उप्पत्ति -- उत्पत्ति, पुनर्जन्म

उप्पत्ति-भूमि -- जन्म-भूमि

उप्पथ -- कुमार्ग

उप्पन्‍न -- उत्पन्‍न

उप्पब्बजति -- भिक्षु-संघ से निकल जाता है, पुनः गृहस्थ हो जाता है

उप्पब्बजित -- भिक्षु-संघ से निकला हुआ, पुनः गृहस्थ बना हुआ

उप्पब्बाजेति -- भिक्षु-संघ से निकाल देता है, पुनः गृहस्थ बना देता है

उप्पल -- कँवल

उप्पलवण्णा थेरी -- भगवान बुद्ध की दो प्रधान भिक्षुणियों में से एक, वह एक सेठ की पुत्री थी, उसकी चमड़ी उत्पल-वर्ण होने के कारण ही उसका नाम उप्पलवण्णा स्थविरी पड़ा था

उप्पालिनी -- कँवलों से भरा हुआ तालाब

उप्पाटन -- उखाड़ना

उप्पाटित -- उखाड़ा गया

उप्पाटेति -- उखाड़ता है, छीलता है

उप्पात -- ऊपर उड़ना, उल्कापात, असाधारण घटना

उप्पाद -- उत्पन्‍न होना, अस्तित्व में आना

उप्पादक -- उत्पन्‍न करने वाला

उप्पादन -- उत्पत्ति

उप्पादेति -- उत्पन्‍न करता है

उप्पादेतु -- उत्पन्‍न करने वाला

उप्पादेतुं -- उत्पन्‍न करने के लिए

उप्पीळन -- पीड़ा देना, दबाना, दमन करना

उप्पीळित -- पीड़ित

उप्पीळेति -- पीड़ा देता है, दबाता है, कष्ट देता है

उप्पोठन -- झाड़ना, पीटना

उप्पोठेति -- झाड़ता है, पीटता है

उप्‍लवन -- तैरना

उप्‍लवति -- तैरता है

उप्‍लापेति -- डुबकी लगाता है

उप्फालेति -- फाड़ता है

उप्फासुलिक -- पसली मात्र दिखाई देने वाला

उब्बट्टन -- बदन को रगड़ना, उबटन लगाना

उब्बट्टित -- मला गया, उबटन लगाया गया

उब्बट्टेति -- मालिश करता है, उबटन लगाता है

उब्बत्तेति -- ऊपर उठता है, फूलता है, सुपथ से हट जाता है

उब्बन्धति -- मार डालता है

उब्बन्धति -- फाँसी लटका देता है, गला घोंट देता है

उब्बन्धन -- गला घोंटना, फाँसी लगा लेना, फाँसी लटकाना

उब्बहति -- खींचता है, ले जाता है, उठाता है

उब्बहन -- खींचना, ले जाना, उठाना

उब्बाळह -- कष्ट-प्राप्त, हैरान किया गया

उब्बिग्ग -- उद्विग्न

उब्बिज्‍जति -- उद्वेग को प्राप्त होता है

उब्बिज्‍जना -- उद्वेग, अशान्ति

उब्बिलावितत्त -- अत्यन्त आह्लाद

उब्बी -- भूमि

उब्बेग -- उद्वेग, उत्तेजना

उब्बेजेति -- उद्वेग उत्पन्‍न करता है, भयभीत करता है

उब्बेध -- ऊँचाई

उब्भट्ठक -- सीधा खड़ा हुआ

उब्भत -- वापिस ले लिया गया, खींच लिया गया

उब्भव -- उद्भव, उत्पत्ति

उब्भार -- हटा दिया जाना

उब्भिज्‍ज -- बाहर आकर, अँखुआ फूट निकलकर

उब्भिज्‍जति -- ऊपर उछलता है, अँखुआ फूट निकलता है

उब्भिद -- 1. खाने का नमक, 2. पानी का चशमा, 3. अंकुर निकलता हुआ

उब्भुजति -- ऊपर उठाता है

उभ, उभय -- दोनों

उभतो -- दोनों तरह से

उभतो भट्ठ जातक -- एक मछुवे की कथा, जो दोनों ओर से गया

उभयतोदिक -- दोनों ओर

उभो -- दोनों

उम्मग्ग -- सुरँग, चोर-रास्ता

उम्मज्‍जन -- शरीर को धोना

उम्मत्त -- पागल

उम्मदन्ती जातक -- एक सेठ की लड़की की कथा, जो अपने सौन्दर्य के कारण देखने वालों को उन्मत्त बना देती थी

उम्मा -- अलसी के बीज

उम्माद -- उन्माद, पागलपन

उम्मादवन्तु -- पागल

उम्मार -- देहली, चौखट

उम्मि -- ऊर्मि, लहर

उम्मिसति -- आँख खोलता है

उम्मिहति -- पेशाब करता है

उम्मीलन -- उन्मीलन, आँख खोलना

उम्मीलेति -- उन्मीलन करता है, आँख खोलता है

उम्मुक -- लुआठी, मशाल

उम्मुक्‍क -- गिरा हुआ

उम्मुख -- जिसका मुँह आकाश की ओर हो

उम्मुज्‍जति -- पानी से बाहर निकलता है

उम्मुज्‍जन -- बाहर निकलना

उम्मुज्‍ज-निमुज्‍जा -- इतराना-डूबना

उम्मुज्‍जमान -- इतराता हुआ

उम्मूल -- उन्मूल

उम्मूलित -- जड़ खोदा हुआ

उम्मूलन -- जड़ खोदना

उम्मूलेति -- जड़ खोदता है

उय्यान -- उद्यान

उय्यान-कीळा -- उद्यान-क्रीड़ा

उय्यान-पाल -- उद्यान-पालक, माली

उय्यान-भूमि -- उद्यान-भूमि

उय्यानवन्त -- अनेक उद्यानों वाला

उय्याम -- उद्यम, प्रयत्न

उय्युज्‍जति -- जुतता है, प्रयास करता है

उय्युज्‍जन -- उद्योग, क्रियाशीलता

उय्युजन्त -- उद्योग-रत, क्रियाशील

उय्युत्त -- उत्साही, लगा हुआ

उय्योग -- उद्योग

उय्योजन -- प्रेरणा

उय्योजित -- प्रेरित, भेज दिया गया

उय्योजेति -- प्रेरित करता है, भेज देता है

उय्योधिक -- लड़ाई की योजना, सेना की झूठ-मूठ की लड़ाई

उर -- छाती

उर-चक्‍क -- छाती पर रखा हुआ लोह-चक्र

उर-च्छद -- छाती की ढाल

उर-त्ताळि -- अपनी छाती पीटना

उरग -- सर्प

उरग-जातक -- साँप तथा गरुड़ का संघर्ष, बोधिसत्व ने दो स्थायी वैरियों में मैत्री कराई

उरग-जातक -- पुत्र की मृत्यु पर घर का कोई भी नहीं रोया

उरण -- भेड़, मेढ़ा

उरणी -- भेड़ी

उरब्भ -- मेढ़ा

उरु -- बड़ा, चौड़ा, प्रमुख

उरुवेल कप्प -- मल्‍ल जनपद में मल्‍लों का एक नगर

उरुवेला -- बुद्धगया में, बोधिवृक्ष के समीप, नेरञ्‍जरा के तट पर एक स्थान

उलूक -- उल्‍लू

उलूक-जातक -- पक्षियों द्वारा उल्‍लू को अपना राजा बनाये जाने का प्रस्ताव किया गया

उल्‍लंघन -- सीमोल्‍लंघन

उल्‍लंघेति -- सीमा लाँघ जाता है

उल्‍लपति -- आत्म-प्रशंसा करता है

उल्‍लपना -- आत्म-प्रशंसा

उल्‍लिखति -- अलग करता है, लकीर खींचता है

उल्‍लिखन -- अलग करना, लकीर खींचना

उल्‍लित्त -- उपलिप्त, लेप किया गया

उल्‍लुम्पति -- ऊपर उठाता है, सहायक होता है

उल्‍लुम्पन -- ऊपर उठाना, संरक्षण

उल्‍लोकक -- द्रष्टा

उल्‍लोकन -- द्दष्टि, खिड़की

उल्‍लोकेति -- देखता है

उल्‍लोच -- वितान, चँदुआ

उल्‍लोल -- चलन, बड़ी लहर

उल्‍लोलेति -- हलचल पैदा करता है

उसभ -- वृषभ, श्रेष्ठ पुरुष, दूरी का माप-विशेष

उसभंग -- वृषभ का अंग

उसीर -- खस

उसु -- तीर

उसुकार -- तीर बनाने वाला

उसुवड्ढकी -- तीर बनाने वाला बढ़ई

उसूयक -- ईर्षा करने वाला

उसूयति -- ईर्षा करता है

उसूया -- ईर्षा

उसूयोपगम -- ईर्षा का आगमन

उस्मा -- ऊष्णता

उस्सङ्की -- शंकालु, भयभीत

उस्सद -- विपुल

उस्सन्‍न -- विपुल

उस्सन्‍नता -- विपुलता

उस्सव -- उत्सव

उस्सहति -- कोशिश करता है

उस्सहन -- प्रयास, प्रयत्न

उस्सापन -- उठाना

उस्सापित -- उठाया गया

उस्सापेति -- उठाता है, ऊँचा करता है

उस्सारणा -- भीड़

उस्सारित -- एक ओर ढकेल दिया गया

उस्सारेति -- एक ओर ढकेल देता है

उस्साव -- ओस

उस्साव-बिन्दु -- ओस की बूँद

उस्साह -- उत्साह

उस्साहवन्तु -- उत्साही

उस्साहेति -- उत्साहित करता है

उस्सिञ्‍चति -- पानी उठाता है, सींचता है

उस्सिञ्‍चन -- पानी उठाना, सींचना

उस्सित -- उठाया गया, ऊँचा किया गया

उस्सीसक -- सिर रखने की जगह, तकिया

उस्सुक -- उत्सुक, उत्साही, क्रियाशील

उस्सुक्‍क -- औत्सुक्य, उत्साह, क्रिया-शीलता

उस्सुक्‍कति -- कोशिश करता है, प्रयत्न करता है

उस्सुक्‍कापेति -- प्रेरित करता है

उस्सुस्सति -- सूख जाता है

उस्सूर -- सूर्योदय के बाद का

उस्सूर-सेय्या -- सूर्योदय के बाद सोते रहना

उस्सोळही -- उत्साह

उळार -- उदार, विशाल, श्रेष्ठ, प्रमुख

उळारत्त -- उदारता, विशालता, श्रेष्ठत्व, प्रमुखत्व

उळु -- तारा

उळु-राज -- चन्द्रमा

उळुङ्क -- करछुल

उळूम्प -- डोंगी

उळूक -- उल्‍लू

उल्ळूक-पक्खिक -- उल्‍लू के पैरों से बना हुआ पहनावा

ऊका -- जूँ, चीलर

ऊन -- कम, न्यून

ऊनत्त -- कमी, न्यूनता

ऊनता -- कमी, न्यूनता

ऊमी -- लहर

ऊमि -- लहर

उरट्ठि -- जाँघ की हड्डी

ऊरु -- जाँघ

ऊरु-पब्ब -- जाँघ का जोड़

ऊस -- खारी मिट्टी

ऊसवन्तु -- खारी मिट्टी वाला

ऊसा -- खारा पदार्थ

ऊसर -- क्षार-युक्त, ऊसर

ऊहच्‍च -- खींचा गया, हटा दिया गया

ऊहदति -- साफ करता है, मैल दूर करता है

ऊहन -- विचार, संग्रह

ऊहनति -- खींचता है, हटाता है

ऊहसति -- हँसता है, मुँह चिढ़ाता है

ऊहा -- चिन्तन-मनन

एक -- संख्यावाचक शब्द। बहुवचन में ‘एक’ का अर्थ हो जाता है कुछ

एक-चर -- अकेला रहने वाला

एक-चारी -- अकेला रहने वाला

एक-देश -- एक विभाग, एक हिस्सा

एक-पट्ट -- एक तह वाला कपड़ा

एकभत्तिक -- दिन में एक ही बार खाने वाला

एकक -- अकेला

एककूटयुत -- एक तल्‍ला भवन

एकक्खरकोस -- सोलहवीं शताब्दी में सद्धम्म-कित्ति द्वारा रचित पालि शब्द-सूची

एकक्खी -- एक आँख वाला

एकग्ग -- एकाग्र

एकग्गता -- एकाग्रता

एकच्‍च -- कुछ, चन्द

एकच्‍चिय -- कुछ, चन्द

एकज्झं -- एक ही स्थान पर

एकतो -- एक ओर

एकत्त -- 1. एकता, 2. अकेलापन, 3. अनुकूलता

एकदा -- एक बार

एकन्त -- निश्चय से, पूर्ण निश्चय से, एकतरफा

एकन्त-लोमी -- कम्बल जिसके एक ओर उसें हों

एकन्तरिक -- एक का बीच देकर, एक के बाद एक छोडकर

एकपटलिक -- एक तह वाला कपड़ा

एकपण्ण जातक -- बोधिसत्व ने राजकुमार को नीम के पत्ते खिलाकर अपना आचरण सुधारने की शिक्षा दी

एकपद जातक -- बोधिसत्व ने एक शब्द द्वारा अपने पुत्र को उपदेश दिया। वह शब्द था दक्खेय्य अर्थात् दक्षता

एकपदिक-मग्ग -- पगडण्डी

एकमन्तं -- एक ओर

एकमेक, एकेक -- एक-एक करके

एकराज जातक -- देखो सेय्यसं जातक, एकराज जातक

एकरूप -- अपरिवर्तनशील

एकविध -- एक ही तरह का समान

एकसो -- एक-एक करके

एकंस -- 1. निश्चित रूप से, 2. एक कंधे से सम्बन्धित

एकंसिक -- 1. निश्चित रूप से, 2. एक कंधे से सम्बन्धित

एकाकी -- अकेला [आदमी]

एकाकिनी -- अकेली [स्त्री]

एकागारिक -- चोर

एकादस -- संख्यावाची, ग्यारह

एकायन -- एक ही मार्ग

एकासनिक -- दिन में एक ही बार खाने वाला

एकाह -- एक दिन

एकाहिक -- एक ही दिन रहने वाला

एकिका -- अकेली स्त्री

एकीभाव -- एकता, एकान्त

एकीभूत -- एकत्रित, सम्बन्धित

एकून -- एक कम

एकूनचत्तालीसति -- उनतालीस

एकूनतिंसति -- उनत्तीस

एकूनपञ्‍ञास -- उनंचास

एकूनवीसति -- उन्‍नीस

एकूनसट्ठि -- उनसठ

एकूनसत्तति -- उनहत्तर

एकूननवुति -- नवासी

एकूनसत -- निन्‍नानवे

एकूनासीति -- उनास्सी

एकोदिभाव -- एकाग्रता

एजा -- तृष्णा, चलन, [हिलना]

एट्ठि -- तलाश, इच्छा, चाह

एण -- एक प्रकार का हिरण

एणिमिग -- मृग-विशेष

एणेय्य -- मृग-विशेष

एणेय्यक -- एक प्रकार का कष्टदान

एत -- वह, यह, एसो, एसा

एतरहि -- अब

एतादिस -- ऐसा, इस तरह का

एति -- आता है

एतिहा -- इति-वृत्त

एतिटय्ह -- परम्परागत वृत्तान्त

एत्तक -- इतना

एत्तावता -- यहाँ तक, इतनी दूर तक

एत्तो -- यहाँ से, यहाँ

एत्थ -- यहाँ

एदिस -- ऐसा, इस प्रकार का

एदिसक -- ऐसा, इस प्रकार का

एध -- ईधन, जलावन

एधति -- प्राप्त करता है, सफल होता है

एन -- एत का ही रूप

एरक -- घास-विशेष

एरक-दुस्स -- एरक की बनी चादर

एरण्ड -- रेंड़

एरावण -- इन्द्र के हाथी का नाम

एरावत -- नारंगी, संतरा

एरित -- कम्पित

एरेति -- हिलता है

एला -- थूक

एव -- ही

एवरूप -- ऐसा, इस प्रकार का

एवं -- इस प्रकार

एवं -- हाँ

एवम्पि -- इस प्रकार भी

एवमेव -- इसी प्रकार

एवंविध -- इस प्रकार

एसति -- खोजता है

एसना -- खोज

एसन्त -- खोजता हुआ

एसमान -- खोजता हुआ

एसिकत्थम्भ -- नगर-द्वार के सामने गड़ा हुआ खम्भा

एसित -- खोजा गया

एसितब्ब -- खोजने योग्य

एसी -- खोजने वाला

एसिनी -- खोजने वाली

एहलोकिक -- इहलोक सम्बन्धी

एहिपस्सिक -- जो धर्म सभी को कहे कि आओ और परीक्षा करके देखो

एहि-भिक्खु -- प्राचीनतम समय में किसी को भिक्षु बनाने की पद्धति “भिक्षु, आ’’

एळक -- भेड़

एळगल -- जिसके मुँह से लार टपकती हो

एल्मूग -- बहरा तथा गूँगा

एळा -- थृक

एळालुक -- खीरा-ककड़ी

ओक -- 1. जल, 2. निवासस्थान

ओकड्ढति -- खींच लाता है, हटा देता है

ओकन्तति -- काटता है

ओकप्पति -- व्यवस्था करता है, तैयारी करता है, विश्वास करता है

ओकप्पना -- विश्वास करना

ओकप्पनिय -- विश्वसनीय

ओकप्पेति -- विश्वास करता है

ओकम्पेति -- हिलाता है

ओकार -- नीचपन, विकृति

ओकास -- स्थान, अवसर, अनुज्ञा

ओकास-कम्म -- अनुज्ञा, इजाजत

ओकिण्ण -- बिखरा हुआ, ढका हुआ

ओकिरण -- बिखेरा जाना, फेंका जाना

ओकिरति -- बिखेरता है

ओक्‍कन्त -- आगत, घटित

ओक्‍कन्ति -- प्रवेश प्रकट होना, घटित होना

ओक्‍कन्तिक -- घटित होने वाला

ओक्‍कमति -- प्रवेश करता है, आता है

ओक्‍कमन -- प्रवेश, आगमन

ओक्‍कमन्त -- प्रवेश होता हुआ

ओक्‍कम्म -- हटकर

ओक्‍काक -- शाक्यों तथा कोलियों का पूर्वज ओकाक्‍क नरेश

ओक्खित्त -- नीचे गिराये हुए

ओक्खित्त-चक्खु -- नीची-नजर वाला

ओक्खिपति -- फेंकता है, गिराता है

ओगच्छति -- नीचे जाता है, अस्त होता है, पीछे हटता है

ओगण -- गण से पृथक् हुआ, अकेला

ओगध -- सम्मिलित, डूबा हुआ

ओगय्ह -- मिल जाने पर, डूब जाने पर

ओगाह -- ओगाहन, डुबकी लगाना

ओगाहति -- डुबकी लगाता है

ओगाहमान -- डुबकी लगाते हुए

ओगिलति -- निगलता है

ओगुण्ठित -- घूँघट निकला हुआ, ढका हुआ

ओगुण्ठेति -- घूँघट निकालती है, ढकती है

ओगुम्फेति -- [माला] पिरोता है

ओग्गत -- अवगत, अस्त होना

ओघ -- बाढ़

ओघ-तिण्ण -- बाढ़ से सुरक्षित

ओघनिय -- जो बाढ़ में आ सकता है

ओचरक -- गुप्तचर

ओचिण्ण -- संगृहीत

ओचिनन -- संग्रह करना, एकत्र करना

ओचिनन्त -- संग्रह करते हुए, एकत्र करते हुए

ओचिनाति -- संग्रह करता है, एकत्र करता है

ओछिन्दति -- काट डालता है

ओज -- शरीर-शक्ति

ओजवन्त -- शक्तिवर्धक

ओजवन्तता -- शक्तिवर्धक भाव

ओजहाति -- छोड़ देता है, त्याग देता है

ओजा -- शरीर का आधार ओज

ओजिनाति -- जीतता है, हराता है

ओट्ठ -- 1. ऊँट, 2. होंठ

ओट्ठुभति -- थूकता है

ओड्डित -- [जाल] फेंका गया

ओड्डेति -- [जाल] बिछाता है

ओणमति -- झुकता है

ओणमन -- झुकना

ओणमित -- झुका हुआ

ओतरण -- उतरना, नीचे आना

ओतरति -- नीचे उतरता है

ओतरन्त -- नीचे उतरते हुए

ओतापेति -- धूप में तपता है

ओतार -- उतराव, पहुँच, अवसर, दोष

ओतार-गवेसी -- अवसर खोजने वाला

ओतारण -- उतराव

ओतारेति -- उतारता है

ओतिण्ण -- अवतरित

ओत्तप्प -- पाप-भीरुता

ओत्तप्पति -- पाप करने से भयभीत होता है

ओत्तप्पी -- पाप-भीरू

ओत्थट -- फैला हुआ, नीचे गया हुआ

ओत्थरक -- कपड़-छान

ओत्थरति -- फैलाता है, नीचे जाता है, छानता है

ओदकन्तिक[ओद्रकन्तिक] -- 1. जल-समीप स्थान, 2. जिसका अन्त जल में हो

ओदग्य -- उदग्र भाव, तेजस्वी भाव

ओदन -- पकाया हुआ चावल, भात

ओदन-संभव -- पिच्छा

ओदनिक -- रसोइया

ओदनिय -- ओदन-सम्बन्धी

ओदरिक -- पेटू, पेट भरने के लिए जीने वाला

ओदहति -- रखता है, ध्यान देता है

ओदहन -- नीचे रखना, ध्यानावस्थित होना

ओदात -- सफेद, स्वच्छ

ओदात-कसिण -- श्वेत रंग का चित्त को एकाग्र करने का साधन

ओदात-वसन -- श्वेत वस्त्रधारी

ओदिस्स -- उद्देश्य से

ओदिस्सक, विशेष रूप से ओदुम्बर -- गूलर-वृक्ष सम्बन्धी

ओधि -- अवधि, सीमा

ओधिसो -- सीमित मात्रा में

ओधुनाति -- धुनता है

ओनद्ध -- बँधा हुआ, ढका हुआ, लिपटा हुआ

ओनन्धति -- बाँधता है, ढकता है, लपेटता है

ओनमक -- झुकता हुआ

ओनमति -- झुकता है

ओनमन -- झुकना

ओनय्हति -- ढकता है, बाँध डालता है

ओनहन -- ढकना

ओनीत -- हटाया गया, ले जाया गया

ओनेति -- हटाया जाता है, ले जाया जाता है

ओनोजन -- बँटवारा, भेंट

ओनोजेति -- बाँटता है

ओनोजित -- बाँटा हुआ

ओपक्‍कमिक -- किसी उपक्रम अथवा उपाय-विशेष से उत्पन्‍न किया गया कष्ट

ओपक्खी -- जिसके पर कटे हों

ओपतति -- गिरता है, उड़ जाता है

ओपतित -- गिरा हुआ

ओपत्त -- पत्र-विहीन, एसा पेड़ जिसके पत्ते गिर गये हों

ओपधिक -- पुनर्जन्म के आधार सम्बन्धी

ओपनयिक -- पास ले जाने वाला

ओपपातिक -- प्रत्यक्ष कारण के बिना उत्पन्‍न, सहज रूप से उत्पन्‍न हुआ

ओपम्प -- उपमा, तुलना

ओपरज्‍ज -- उपराजपन

ओपवय्ह -- चढ़ने के योग्य

ओपसमिक -- शान्ति-कारक

ओपात -- 1. गड्ढा, 2. पतन

ओपातेति -- गिराता है

ओपान -- कुआँ

ओपारम्भ -- सहायक

ओपायिक -- योग्य

ओपिलापित -- तैराया गया

ओपिलापेति -- तैराता है

ओपुणाति -- साफ करता है

ओपुप्फ -- कली

ओबंधति -- बाँधता है

ओभग्ग -- टूटा हुआ

ओभज्‍जति -- तोड़ डालता है

ओभत -- ले जाया गया

ओभरति -- ले जाता है

ओभास -- प्रकाश

ओभासति -- चमकता है

ओभासन -- चमक

ओभासित -- प्रकाशित

ओभासेति -- चमकाता है

आभासेन्त -- चमकते हुए

ओभोग -- झुकना, लपेटना, [चीवर का] तह करना

ओम -- निम्न कोटि का

ओमक -- निम्न कोटि का

ओमट्ठ -- छुआ गया, मैला किया गया

ओमद्दति -- मलता है, दबाता है

ओमसति -- स्पर्श करता है

ओमसना -- स्पर्श

ओमसवाद -- अपमान, निन्दा

ओमान -- अगौरव

ओमिस्सक -- मिश्रित

ओमुक्‍क -- फेंका गया

ओमुञ्‍चति -- खोलता है, [वस्त्र] उतारता है

ओमुत्त -- मुक्त हुआ, स्वतन्त्र हुआ

ओमुत्तेति -- मूत्र करता है

ओयाचति -- बुरा चाहता है, शाप देता है

ओर -- 1. इस ओर का तट, यह संसार, 2. निम्न-स्तर का

ओर-पार -- इहलोक तथा परलोक

ओर-मत्तक -- तुच्छ, मामूली

ओरब्भिक -- भेड़ों का व्यापार करने वाला, या भेड़ मारने वाला कसाई

ओरमति -- इधर ही रुक जाता है

ओरमापेति -- [किसी अन्य को] रोक देता है

ओरम्भागिय -- इस लोक सम्बन्धी

ओरस -- स्वकीय पुत्र

ओरिम -- इस ओर का

ओरिम-तीर -- नजदीक का तट

ओरुद्ध -- जिसके मार्ग में बाधा डाली गई हो

ओरुन्धति -- प्राप्त करता है, पत्री बनाता है

ओरूळह -- उतरा हुआ

ओरोध -- रनिवास, बाधा

ओरोपन -- उतारना, हटाना

ओरोपेति -- उतारता है, हटाता है

ओरोहण -- उतरना

ओरोहति -- [नीचे] उतरता है

ओलग्गेति -- रोकता है

ओलंघना -- नीचे झुकना

ओलंघेति -- नीचे कूदता है

ओलम्बति -- नीचे रोकता है

ओलम्बन -- लटकना

ओलिखति -- लकीर खींचता है, खरोचता है

ओलिगल्‍ल -- चहवच्‍चा, नावदान

आलीन -- प्रमादी, ढीला-ढाला

ओलीयति -- प्रमाद करता है

ओलीयना -- आलस्य

ओलीयमान -- पीछे छूट गया

ओलुग्ग -- टुकड़े-टुकड़े हो गया

ओलुज्‍जति -- टुकड़े-टुकड़े हो जाता है

ओलुम्पेति -- छिलका उतारता है, पकड़ता है, चुनता है, चुगता है

ओलोकन -- देखना

ओलोकनक -- खिड़की, झरोखा

ओलोकेति -- देखता है

ओळारिक -- स्थूल

ओवज्‍जमान -- उपदिष्ट, अनुशासित

ओवट्टिक -- कमरबन्द

ओवदति -- उपदेश देता है

ओवदन -- उपदेश देना

ओवदितब्ब -- उपदेश देने के योग्य

ओवमति -- उल्टी करता है, कै करता है

ओवरक -- अन्दर का कमरा

ओवरति -- रोकता है

ओवस्सति -- बरसता है

ओवस्सापेति -- बारिश में भिगवाता है

ओवहति -- नीचे ले जाता है

ओवाद -- उपदेश

ओवादक -- उपदेश देने वाला

ओवादक्खम -- शिक्षा-प्रेमी, उपदेश मानने वाला

ओविज्झति -- बींधता है

ओसक्‍कति -- पीछे हटता है

ओसज्‍जति -- छोड़ता है

ओसध -- औषध, दवाई

ओसधी -- 1. दवाई का पौधा, 2. चमकदार तारा-विशेष

ओसधीस -- चन्द्रमा

ओसन्‍न -- त्यक्त

ओसप्पति -- पीछे हटता है

ओसरण -- वापसी

ओसरति -- वापस आता है

ओसान -- समाप्ति

ओसापेति -- समाप्त करता है

ओसारक -- ओसारा

ओसारणा -- पुनर्नियुक्ति

ओसारेति -- पुनर्नियुक्त करता है

ओसिञ्‍चति -- सींचता है

ओसीदन -- डूबना

ओसीदापन -- डुबाना

ओसीदापेति -- डुबाता है

ओस्सग्ग -- शिथलीकरण

ओस्सजति -- ढीला छोड़ता है, मुक्त करता है

ओस्सजन -- मुक्ति, परित्याग

ओहरति -- ले जाता है

ओहाय -- छोड़कर

ओहारण -- 1. हटाना, 2. हजामत करना

ओहित -- छिपा हुआ

ओहीन -- पीछे छूटा हुआ

ओहीयति -- पीछे रह जाता है

ओहीयन -- पीछे रह जाना

ओहीयमान -- पीछे रह जाता हुआ

-- पालि वर्णमाला का प्रथम व्यञ्‍जन, प्रश्नवाचक सर्वनाम ‘किं’ का एक रूप, कौन, क्या, कौन-सा

कंस -- काँसा-धातु

ककच -- आरा

ककण्टक -- गिरगिट

ककण्टक जातक -- महा-उम्मग जातक में आगत ककण्टक-पञ्ह-कथा

ककु -- शिखर

ककुट्ठा -- कुसीनारा के समीप की एक नदी, जिसमें परिनिर्वाण से पूर्व भगवान बुद्ध ने स्नान किया था और जिसका जल ग्रहण किया था

ककुध -- साण्ड की पीठ का ककुद, अर्जुन-वृक्ष

ककुध-भण्ड -- राजकीय चिह्न

कक्‍क -- लेप-विशेष

कक्‍कट -- केकड़ा

कक्‍कटक जातक -- कुलीरदह में रहने वाले हाथियों को खाने वाले केकड़े की कथा

कक्‍कर -- तीतर

कक्‍कर जातक -- बुद्धिमान पक्षी की कथा

कक्‍करता -- कर्कश-भाव

कक्‍कस -- कर्कश

कक्‍कारी -- ककड़ी

कक्‍कारु जातक -- दुर्गुणी पुरोहित द्वारा देवताआें द्वारा दी गई माला के पहनने की माँग

कक्‍कारेति -- खखारता है

कक्खळ -- खुरदुरा

कक्खळता -- कठोरपन

कङ्क -- सारस, बगुला

कंकट -- कवच

कङ्कण -- कंगन

कङ्कावितरणी -- विनय-पिटक के प्रातिमोक्ष पर बुद्धघोषाचार्य द्वारा रचित अट्ठकथा

कङ्खति -- सन्देह करता है

कङ्खना -- सन्देह

कङ्खनीय -- सन्दिग्ध

कङ्खा -- सन्देह

कङ्खी -- सन्देह करने वाला

कङ्ग -- बाजरा

कच -- बाल

कचवर -- कूड़ा-करकट

कच्‍चानि-जातक -- धर्म के श्राद्ध की कथा

कच्‍चायन-व्याकरण -- कच्यायन द्वारा रचित व्याकरण

कच्‍चि -- सन्देहार्थक-पद

कच्छ -- दलदल, बख़ल

कच्छक -- अंजीर का पेड़

कच्छन्तर -- 1. राजा का अपना कमरा, 2. बगल के नीचे

कच्छप -- कछुआ

कच्छप जातक -- एक कछुवे की कथा, जिसने सूखा पड़ने पर भी अपना तालाब नहीं छोड़ा था

कच्छप जातक -- एक कछुवे की कथा, जिसकी दो हंसों से दोस्ती थी

कच्छप जातक -- एक बंदर की कछुवे के साथ की गई शरारत की कथा

कच्छपुट -- बगली बाँधकर सौदा बेचने वाला

कच्छबन्धन -- कमर-बन्द

कच्छा -- काछ

कच्छु -- खुजलाहट, चर्मरोगविशेष

कजङ्गल -- मध्यमण्डल की पूर्वी सीमा

कज्‍जल -- काजल

कञ्‍चन -- स्वर्ण

कञ्‍चन-वण्ण -- सोने के रंग वाला

कञ्‍चुक -- कञ्‍चुक, जाकेट, कवच, केंचुल

कञ्‍चुकी -- राजकीय सेवक

कञ्‍जिक -- काँजी

कञ्‍जिय -- काँजी

कञ्‍ञा -- कन्या

कट -- 1. कृत, किया गया, 2. चटाई, गाल

कटक -- बाजूबंद

कटकटायति -- [दाँतों से] कट-कट करता है

कटच्छु -- कड़छी

कटल्‍लक -- कठपुतली

कटसार -- चटाई

कटसी -- श्मशान-भूमि

कटाह -- कड़ाह

कटाहक जातक -- दासी-पुत्र कटाहक की कथा

कटि -- कमर

कटु -- कड़ुवा

कटुक -- तेज, तिक्त, कड़वा

कटुक-भण्ड -- मसाले

कटुक-विपाक -- दुष्परिणाम

कटुक-रोहिणी -- कटुका

कटुविय कत -- कड़वा

कटुका -- कटुरोहिणी

कट्ठ -- काष्ठ, लकड़ी

कट्ठक -- बाँस का पेड़

कट्ठत्थर -- लकड़ी के तख्तों का आस्तरण

कट्ठमय -- लकड़ी का बना

कट्ठहारि जातक -- दुष्यन्त के शकुन्तला को अँगूठी देने की तरह राजा ने लकड़ी चुनने वाली स्त्री को अपनी अँगूठी दी

कट्ठिस्स -- रेशमी चादर

कठल -- ठीकरे

कठित -- उबाला हुआ

कठिन -- 1. मुश्किल, 2. प्रतिवर्ष भिक्षुआें को दिया जाने वाला चीवर-विशेष

कठिनत्थार -- कठिन चीवर का भेंट करना

कड्ढति -- खींचता है

कड्ढन -- खींचना, चूसना

कण -- [चावल के टूटे] कण

कणय -- बर्छी

कणवीर -- करवीर, एक विषैला पौधा

कणवेर जातक -- सामा नामक राज्यगणिका द्वारा मृत्यु-दण्ड को प्राप्त कैदी को मुक्त कराने का प्रयत्न किया गया

कणाजक -- टूटे चावलों की खिचड़ी

कणिका -- कर्णिका

कणिकार -- फूलदार वृक्ष-विशेष

कणेरिक -- झोंपड़ी

कणिट्ठ -- छोटा

कणिट्ठक -- छोटा भाई

कणिट्ठा -- छोटी बहन

कणेरू -- हाथी, हथिनी

कण्टक -- काँटा

कण्टक-अपस्सय -- काँटों का बिस्तरा

कण्टकाधान -- काँटों की झाड़ी

कण्टकीफल -- कटहल

कण्ठ -- गला

कण्ठज -- गले से उच्‍चारित

कण्ड -- 1. परिच्छेद, 2. तीर

कण्डक -- सुरक्षित

कण्डर -- प्रधान शिरा

कण्डरा -- पुट्ठा

कण्डरि जातक -- रानी किन्‍नरा के एक कोढ़ी पर आसक्त हो जाने की कथा

कण्डिन जातक -- एक मृग के एक मृगी पर आसक्त होने की कथा

कण्डु -- खाज, खुजली

कण्डुति -- खाज, खुजली

कण्डूवति -- खुजलाता है

कण्डोलिका -- टोकरी

कण्ण -- कान

कण्ण-कटुक -- सुनने में अप्रिय

कण्ण-गूथ -- कान का मैल

कण्ण-छिद्द -- कान का छेद

कण्ण-छिन्‍न -- कान कटा

कण्ण-जप्पक -- कानाफूसी करने वाला

कण्ण-जलूका -- कान-खजूरा

कण्ण-भुसा -- कर्णाभूषण

कण्ण-मूल -- कान की जड़

कण्ण-विज्झन -- कान का बींधना

कण्ण-वेठन -- कान का आभरणविशेष

कण्ण-सक्खलिका -- कान का बाह्य भाग

कण्ण-सुख -- सुनने में सुखद

कण्ण-सूल -- कान का दर्द

कण्णधार -- नौका की पतवार पकड़ने वाला

कण्णिका -- शिखर, कान का आभरण

कण्ह -- कृष्ण, काला, काला रंग

कण्ह-जातक -- कृष्ण-तपस्वी की कथा

कण्ह-तुण्ड -- बन्दर

कण्ह-दीपायन जातक -- कोसाम्बी के दीपायन तथा मण्डव्य नामक दो ब्राह्मणों की कथा

कण्ह-पक्ख -- महीने का कृष्ण-पक्ष

कण्ह-वत्तनी -- आग

कण्ह-विपाक -- दुष्परिणाम

कण्ह-सप्प -- काला साँप

कत -- कृत

कत-कल्याण -- शुभ-कर्मी

कत-किच्‍च -- कृत-कृत्य, जो करणीय कर चुका

कतञ्‍जली -- जिसने दोनों हाथ जोड़ रखे हों

कतञ्‍ञुता -- कृतज्ञता

कतञ्‍ञू -- कृतज्ञ

कत-पटिसंथार -- जिसका स्वागत हुआ हो

कत-परिचय -- अभ्यस्त, परिचित

कत-पातरास -- जिसने प्रातःकाल का भोजन किया हो

कत-पुञ्‍ञ -- जिसने पुण्य किये हों

कत-भत्तकिच्‍च -- जिसने भोजन समाप्त कर लिया

कत-वेदी -- कृतज्ञ

कत-सङ्गह -- जिसे आतिथ्य प्राप्त हुआ

कत-सङ्केत -- कृत-संकेत

कताधिकार -- जिसने कोई संकल्प-विशेष किया हो

कतापराध -- दोषी

कताभिसेक -- जिसका अभिषेक हुआ हो

कतत्त -- कर्तव्य

कतम -- कौन-सा

कतमत्ते -- अधिकरण, ज्यों ही कोई कार्य सम्पन्‍न हुआ

कतर -- दोनों में से कौनसा

कति -- कितने

कति-वस्स -- कितने वर्ष का

कतिविध -- कितने प्रकार का

कतिका -- वार्तालाप

कतिकावत्त -- निश्चय, करणीय

कतिपय -- कुछ, कई

कतिपाह -- कुछ दिन

कतिपाहं -- कुछ दिन के लिए

कतिमि -- कौन-सी तिथि

कतुपासन -- धनुषविद्या में चतुर

कतूपकार -- उपकृत

कते -- उसके लिए

कतोकास -- आज्ञा-प्राप्त, अवसरप्राप्त

कत्तब्ब -- कर्तव्य

कत्तर -- बहुत छोटा

कत्तर-दण्ड -- सैर करने की लाठी

कत्तर-यट्ठि -- सैर करने की लाठी

कत्तर-सुप्प -- छोटा छाज

कत्तरिका -- कैंची

कत्तिक मास -- कार्तिक मास

कत्तिका -- कृत्तिका नक्षत्र

कत्तु -- कर्ता, लेखक, वाक्य का कर्ता-अंश

कत्तु-काम -- करने की इच्छा वाला

कत्तुं -- करने के लिए

कत्थ -- कहाँ

कत्थचि -- कहीं न कहीं

कत्थति -- शेखी मारता है

कत्थन -- प्रशंसा

कत्थना -- शेखी

कत्थी -- शेखी मारने वाला

कथुद्दिका -- कस्तूरी

कथं -- कैसे

कथंकथा -- सन्देह

कथंकथी -- सन्देही

कथंकर -- कैसी

कथं-भूत -- कैसा, किस प्रकार का

कथं-विध -- किस प्रकार का

कथंसील -- कैसे शील का

कथन -- बातचीत, कहना

कथा -- बातचीत, कहानी

कथापाभत -- कथा का विषय

कथामग्ग -- कथा का वर्णन

कथावत्थु -- विवाद का विषय

कथा-वत्थु -- अभिधम्म के सात प्रकरणों में से पाँचवाँ ग्रन्थ

कथा-सल्‍लाप -- मैत्री-पूर्ण बातचीत

कथापेति -- कहलवाता है, सन्देश भेजता है

कथित -- कहा गया

कथेति -- कहता है

कथेत्वा -- कहकर

कदन्‍न -- खराब अन्‍न

कदम्ब -- वृक्ष-विशेष

कदम्बक -- समूह

कदर -- वृक्ष-विशेष, खराब हालत वाला

कदरिय -- कंजूस

कदलि -- केले का पेड़

कदलि-फल -- केले का फल

कदलि-मिग -- मृग-विशेष, जिसकी चमड़ी मूल्यवान् मानी जाती है

कदा -- कब

कदाचि-करहचि -- कभी-कभी

कद्दम -- कर्दम, काँदो

कद्दम-बहुल -- जहाँ कीचड़ का बाहुल्य हो

कद्दमोदक -- मटमैला पानी

कनक -- सोना

कनकच्छवि -- सुनहरी चमड़ी

कनकप्पभा -- स्वर्ण-प्रभा

कनक-विमान -- सुनहरा महल

कनय -- आयुध-विशेष

कनिट्ठ -- छोटा भाई

कनिट्ठा -- सबसे छोटी लड़की

कनिय -- छोटा

कनीनिका -- आँख का तारा

कन्त -- प्रियकर, अनुकूल, पति, प्रियतम

कन्तति -- कातता है, काटता है

कन्तन -- कताई, काट

कन्ता -- औरत, पत्नी

कन्तार -- जंगल, बियाबान

कन्तार-नित्थरण -- रेगिस्तान में से गुजरना

कन्ति -- कान्ति, शोभा

कन्तित -- काटा गया

कन्तिमत्त -- चलता हुआ

कन्थक -- वह घोड़ा जिस पर बैठकर सिद्धार्थ-गौतम ने महाभिनिष्क्रमण किया था

कन्द -- कन्द-मूल

कन्दगलक जातक -- खदिरवनिय नामक कठफोड़े तथा कन्दगलक नामक उसके मित्र की कथा

कन्दति -- चिल्‍लाता है, रोता है, पश्चाताप करता है

कन्दन्त -- रोता हुआ

कन्दर -- कन्दरा

कन्दरा -- गुफा

कन्दुक -- गेंद

कपण -- दरिद्र, भिखमंगा

कपल्‍लक -- चूल्हे का तवा

कपल्‍लक-पूव -- तवे का पुआ

कपाल -- खोपड़ी

कपि -- बंदर

कपिकच्छ -- वृक्ष-विशेष, केवांच

कपि जातक -- एक बन्दर तपस्वी का भेष बनाये आ पहुँचा

कपि जातक -- एक बन्दर ने पुरोहित के मुँह मे विष्ठा गिरा दी

कपिञ्‍जल -- तीतर की जाति का एक पक्षी

कपित्थ -- कैथ

कपिल -- 1. भूरा, 2. ऋषि का नाम

कपिलवत्थु -- शाक्यों की राजधानी कपिलवस्तु

कपिला -- शीशम का पेड़

कपिसीस -- अर्गल-स्तम्भ

कपोत -- कबूतर

कपोत जातक -- कौवे ने मांस-लोभ से पिंजरे में रहने वाले कबूतर से दोस्ती की

कपोत जातक -- बहुत कुछ उक्त जातक के समान ही

कपोत-पालिका -- चिड़ियाखाना

कपोल -- गाल

कप्प -- कल्प, योग्य, अनुकूल

कप्पक -- नाई, राजमहल का कर्मचारी

कप्पक्खय -- कल्प का क्षय

कप्पट्ठायी -- कल्पस्थायी

कप्प-रुक्ख -- कल्प-वृक्ष

कप्प-विनास -- कल्प के अन्त में संसार का विनाश

कप्पट -- पुराना कपड़ा, चीथड़ा

कप्पति -- योग्य होता है

कप्पना -- व्यवस्थित करना

कप्पबिन्दु -- भिक्षु के चीवर पर बना हुआ काला निशान

कप्पर -- कोहनी

कप्पास -- कपास

कप्पास-पटल -- कपास की तह

कप्पासिक -- रुई का बना

कप्पासी -- कपास का पौधा

कप्पिक -- कल्प सम्बन्धी

कप्पित -- तैयार किया हुआ

कप्पिय -- योग्य, उचित

कप्पिय-कारक -- जो व्यक्ति भिक्षुआें की उचित आवश्यकताएँ पूरी करता है

कप्पिय-भाण्ड -- वे बर्तन जिनका उपयोग भिक्षुआें के लिए विहित है

कप्पुर -- कपूर

कप्पूर -- कपूर

कप्पेति -- तैयार करता है, काटता है, बनाता है, [जीवन] व्यतीत करता है

कप्पेत्वा -- तैयारीकर, काटकर

कबर -- चितकबरा

कबरमणि -- ल्हुसुनिया रत्न

कबल -- कौर

कवलिंकार -- मुँह भरा कौर

कबलिंकाराहार -- भोजन

कब्ब -- काव्य, काव्यात्मक रचना

कम -- क्रम

कमति -- जाता है

कमण्डलु -- कमण्डल

कमनीय -- वाञ्छनीय, सुन्दर, आकर्षक

कमल -- कँवल

कमल-दल -- कँवल की पंखुड़ी

कमलासन -- कँवल पर आसन लगाये बैठा ब्रह्मा

कमलिनी -- कँवल का तालाब या झील

कमितु -- कामुक

कमुक -- सुपारी का पेड़

कम्पक -- कँपा देने वाला

कम्पति -- काँपता है

कम्पमान -- काँपता हुआ

कम्पित -- काँप उठा

कम्पिय -- जो कँपाया जा सके, हिलाया जा सके

कम्पेति -- कँपाता है

कम्पेत्वा -- हिलाकर

कम्बल -- कंबल

कम्बली -- कंबल वाला

कम्बु -- स्वर्ण, शंख

कम्बुगीव -- त्रि-रेखा युक्त गर्दन वाला

कम्बोज -- देश-विशेष का नाम

कम्म -- कर्म, कार्य

कम्मकार -- कर्मकार, मजदूर

कम्म-करण -- परिश्रम, मजदूरी

कम्म-कारणा -- शारीरिकदण्ड

कम्म-क्खय -- पूर्व जन्म के कर्मो का क्षय

कम्मज -- कर्म से उत्पन्‍न

कम्मजात -- नाना प्रकार के कर्म

कम्म-दायाद -- कर्म का उत्तराधिकारी

कम्म-नानत्त -- कर्मो का नानाविध होना

कम्म-निब्बत्त -- कर्मो के द्वारा उत्पन्‍न

कम्म-पथ -- कर्म-मार्ग

कम्म-प्पच्‍चय -- कर्माधारित

कम्म-फल -- कर्म-फल, कर्म का परिणाम

कम्म-बन्धु -- कर्म ही जिसका बन्धु हो

कम्म-बल -- कर्म ही जिसका बल हो

कम्म-योनि -- कर्म से ही जिसकी उत्पत्ति हुई हो

कम्म-वाद -- कर्मो ओर उनके फलों का मानना

कम्म-वादी -- कर्म-वादी

कम्म-विपाक -- कर्मो का फल

कम्म-वेग -- कर्मो का वेग

कम्म-समुट्ठान -- कर्मोत्पन्‍न

कम्म-सम्भव -- कर्मो से उत्पन्‍न

कम्म-सरिक्खक -- कर्मो के सद्दश विपाक

कम्म-सक -- कर्म ही जिसका अपना-आप है

कम्मयूहन -- कर्मो की ढेरी

कम्म-उपचय -- कर्मो का संग्रह

कम्मज-वात -- प्रसव-वेदना

कम्मञ्‍ञ -- कमाया हुआ [चमड़ा]

कम्मञ्‍ञता -- कमाया हुआ होने का भाव

कम्मट्ठान -- ध्यान का विषय, जिस पर चित्त एकाग्र किया जाता है

कम्मट्ठानिक -- योगाभ्यास करने वाला

कम्मधारय -- कर्मधारय समास

कम्मन्त -- काम, कारोबार

कम्मन्तट्ठान -- कारोबार की जगह

कम्मन्तिक -- मजदूर

कम्मप्पत्त -- ऐसे भिक्षु जो विनयकर्म करने के लिए एकत्र हुए हों

कम्मवाचा -- विनय-कर्म का पाठ

कम्मस्सामी -- कारोबार का स्वामी

कम्माधिट्ठायक -- कारोबार का निरीक्षक

कम्मानुरूप -- कर्मानुसार

कम्मार -- लोहार या सुनार

कम्मारभण्ड -- लोहार का सामान

कम्मार-साला -- लोहार या सुनार की काम करने की जगह

कम्मारम्भ -- कार्य-विशेष का आरम्भ करना

कम्मारह -- काम के योग्य

कम्माराम -- कार्य में रस लेना

कम्मारामता -- दुनियाबी कार्यो में मन लगे रहने का भाव

कम्मास -- चितकबरा, बेमेल

कम्मास-दम्म -- कुरुआें का एक नगर, जहाँ भगवान बुद्ध एक से अधिक बार ठहरे और जहाँ उन्होने महासतिपट्ठान-सुत्त सद्दश महत्त्वपूर्ण सूत्रों का उपदेश दिया

कम्मिक -- करने वाला, मजदूर

कम्मी -- करने वाला, मजदूर

कम्यता -- इच्छा

कय -- क्रय, खरीद

कय-विक्‍कय -- क्रय-विक्रय

कय-विक्‍कयी -- व्यापारी

कयिक -- खरीदार

कर -- 1. हाथ, 2. किरण, 3. टैक्स, 4. हाथी का सूण्ड

करक -- अनार, जल-पात्र

करका -- ओले

करग्ग -- हाथ का सिरा

करज -- हायं का नाखून

करजकाय -- गन्दा शरीर

करञ्‍ज -- करंजुआ

करतल -- हाथ की हथेली

कर-पुट -- जुड़े हुए हाथ

कर-भुसा -- हाथ का आभरण, पहुँची, बाजूबंद

करण -- 1. करना, बनाना, 2. उत्पत्ति

करणत्थ -- साधन बनने का भाव

करणविभत्ति -- तीसरी विभक्ति

करणीय -- कर्तव्य

करण्डक -- टोकरी, पिटारी

करभ -- 1. ऊँट, 2. कलाई

करमद्द -- करमर्दक

करमर -- कैदी

करमरानीत -- युद्ध-बन्दी

करवीक -- कोयल

करवीक-भाणी -- स्पष्ट तथा मधुर स्वर वाला

करसाखा -- अंगुली

करहाट -- कन्द, जड़

करिसापण्ण -- कार्षापण

करी -- हाथी

करीयति -- किया जाता है

करीयमान -- किया जाता हुआ

करीर -- क्रकच

करीस -- गोबर, गुँह

करीस-मग्ग -- गुदा

करुणं -- करुणा-पूर्वक

करुणा -- दया

करुणायति -- दया अनुभव करता है

करेणु -- हथिनी

करेरि -- वृक्ष-विशेष

करोति -- करता है

करोन्त -- करते हुए

कल -- मधुर आवाज

कलंक -- चिह्न, दाग, धब्बा

कलण्डुक जातक -- बनारस के एक सेठ के पास कलण्डुक नाम का दास था। उसने जाली पत्र बना पड़ोसी प्रदेश के एक सेठ की लड़की से विवाह किया

कलत्त -- पत्नी

कलन्दक -- गिलहरी

कलन्दक-निवाप -- वेळुवन का वह स्थान जहाँ गिलहरियों को नियम से खाना मिलता था

कलभ -- हाथी का बच्‍चा

कलल -- कीचड़

कलल-मक्खित -- कीचड़ सना हुआ

कलल-रूप -- गर्म की आरम्भावस्था

कलविंक -- चिड़िया

कलस -- कलश, जल-पात्र

कलसिगाम -- अलसन्दा [अलैक्जैण्डरिया] द्वीप का वह स्थान, जहाँ मिलिन्द नरेश पैदा हुआ था

कलह -- झगड़ा

कलह-कारक -- झगड़ने वाला

कलह-कारण -- झगड़े का कारण

कलह-सद्द -- झगड़े की आवाज

कला -- सम्पूर्ण का एक भाग, कला-शिल्प

कलाप -- बण्डल, तरकश, महाभूतों के कणों का समूह

कलापी -- मोर, तरकश वाला

कलायमुट्ठी जातक -- एक बंदर की कथा, जिसने एक मटर के दाने के लिए मुट्ठी के सभी मटर गँवा दिये थे

कलि -- हार, दुर्भाग्य, पाप, कष्ट

कलिका -- फूल की कली

कलिग्गह -- हार का पाँसा

कलियुग -- सत-युग, त्रेता-युग आदि का अंतिम युग

कलिङ्गर -- लट्ठा, लकड़ी का सड़ा हुआ लट्ठा

कलिल -- गहन

कलीर -- ताड़-वृक्ष के तने का कोमल भाग

कलुस -- कलुष, पाप-कर्म, अपवित्रता

कलेवर -- कलेबर, शरीर

कल्याण -- शुभ

कल्याण-काम -- भला चाहने वाला

कल्याण-कारी -- शुभ-कर्मी

कल्याण-दस्सन -- सुन्दर

कल्याण-पटिभाण -- शीघ्र-बोध

कल्याण-मित्र -- शुभचिंतक मित्र

कल्याण-अज्झासय -- शुभ-चेतना

कल्याण-धम्म जातक -- सास के बहरेपन के कारण बहू ने कुछ कहा और सास ने दूसरा ही समझा

कल्याणी -- 1. सुन्दर स्त्री, 2. लंका की एक नदी तथा एक नगरी

कल्‍ल -- दक्ष, योग्य, स्वस्थ

कल्‍लता -- दक्षता

कल्‍ल-सरीर -- स्वस्थ शरीर वाला

कल्‍लहार -- श्वेत कँवल

कल्‍लोल -- तरङ्ग, बड़ी लहर

कवच -- जिरह-बख्तर, सन्‍नाह

कवंध -- बिना सिर का धड़

कवाट -- खिड़की, दरवाजे के किवाड़

कवि -- कवि, शायर

कविट्ठ -- कैथ

कविता -- काव्य-कृति

कवित्त -- कवित्व, कवि की अवस्था या काव्य-सामर्थ्य

कसट -- कूड़ा-करकट, कसैला स्वाद

कसति -- हल चलाता है

कसन -- हल चलाना

कसंत -- हल चलाता हुआ

कस्समान -- हल चलाता हुआ

कसम्बु -- कूड़ा-करकट

कसम्बु-जात -- कूड़े-करकट में से उत्पन्‍न

कसा -- चाबुक

कसाहत -- चाबुक के आघात प्राप्त

कसाय -- दुछान्दा

कसाव -- 1. कसैला स्वाद, 2. काषाय-रंग

कसि -- कृषि, खेती-बाड़ी

कसि-कम्म -- खेती

कसि-भण्ड -- कृषि के औजार

कसि-भारद्वाज -- कसि-भारद्वाज गोत्र का एक ब्राह्मण, जो दक्षिणगिरि के एकनाळ में रहता था। बुद्धत्व-प्राप्ति के ग्यारहवें वर्ष में उसकी भगवान् बुद्ध से भेंट हुई थी

कसिण -- कृत्स्न, समस्त, चित्त एकाग्र करने का साधन

कसिण-परिकम्म -- योगाभ्यास की पूर्व-तैयारी

कसिण-मण्डल -- योगाभ्यास के लिए कागज या दीवार पर खींचा गया चक्र

कसितट्ठान -- हल चलाई हुई भूमि

कसित्वा -- हल चलाकर

कसिर -- कठिन, कठिनाई

कसिरेन -- कठिनाई से

कस्मीर -- उत्तर-भारत का प्रदेश, आधुनिक काश्मीर

कस्सक -- कृषक, किसान

कस्सति -- खींचता है

कस्सपमन्दिय जातक -- वृद्धों की तरुणों के साथ सहनशीलता का बर्ताव करने की शिक्षा

कहं -- कहाँ

कहापण -- स्वर्ण-मुद्रा, कार्षापण

कहापणक -- दण्ड-विधान, जिसमें अपराधी के मांस के कार्षापणों के समान छोटे-छोटे टुकड़े कर दिये जाते थे

काक -- कौआ, राजा चण्ड प्रद्योत का अति शीघ्र चलने वाला दास

काक-पाद -- कौवे का पाँव, क्रॉस चिह्न

काक-पेय्य -- लबालब भरा हुआ, ताकि कौवा भी पी सके

काक-वर्ग -- कौवे के रंग का

काक-जातक -- राजपुरोहित स्नान करके लौट रहा था। कौवे ने उस पर बीट कर दी। राजपुरोहित ने क्रुद्ध हो सभी कौवों को मरवा डालना चाहा

काक-जातक -- कौवा तथा उसकी कौवी शराब पीकर मस्त हो गये। कौवी को समुद्र की लहर बहा ले गई। कौवे का विलाप सुन सभी कौवे समुद्र के शत्रु बन बैठे

काक-जातक -- लोभी कौवे ने मांस-लोभ से पिंजरे में रहने वाले कबूतर से दोस्ती की और रसोई के हाथ पड़ जान गँवाई

काकच्छति -- नाक बजाता है

काकणिका -- काकणी, कौड़ी

काकतालीय -- काकतालीयन्याय, अकस्मात् घटित

काकतिन्दुक -- काकतिन्दुक

काकपक्ख -- बालों का गुच्छा, शिखा

काकली -- धीमा स्वर

काकसूर -- कौवे की तरह शूर, निर्लज्‍ज

काकाति जातक -- बनारस के राजा की काकाति नामक पटरानी पर गरुड़ मोहित हो गया और उसे उड़ा ले गया

काकी -- कौवी

काकोल -- काला कौवा, जंगली कौआ

काकोळ -- काला कौवा, जंगली कौआ

काच -- काँच

काच-तुम्ब -- काँच की बोतल

काचमय -- काँच-निर्मित

काज -- बहँगी

काज-हारक -- बहँगी ढोने वाला

काट -- पुरुषेन्द्रिय

काण -- काना, एक आँख का अंधा

कातब्ब -- कर्तव्य

कातर -- दुखी, दरिद्र

कातवे -- कातुं, करने के लिए

कातुकाम -- करने की इच्छा वाला

कादम्ब -- बत्तख-विशेष

कानन -- जंगल

कापिलवत्थव -- कपिलवस्तु का

कापुरिस -- घृणित व्यक्ति

कापोतक -- कबूतर के समान सफेद

कापोतिका -- एक तरह की शराब

काम -- कामना, कामुकता

काम-गिद्ध -- इन्द्रिय-सुख का लोभी

काम-गुण -- इन्द्रिय सुख

काम-गेध -- इन्द्रिय-सुख के प्रति आसक्ति

कामच्छन्द -- कामुकता

काम-तण्हा -- काम-तृष्णा

काम-दद -- इच्छित वस्तु का देना

काम-धातु -- इच्छा-लोक

काम-पङ्क -- इच्छाआें का कीचड़

काम-परिळाह -- काम-ज्वर

काम-भव -- कामनाआें का संसार

काम-भोगी -- इन्द्रिय-सुख का भोगने वाला

काम-मुच्छा -- काम-मूर्च्छा

काम-रति -- कामुकता का आनन्द

काम-राग -- काम-चेतना

काम-लोक -- कामनाआें का लोक

काम-वितक्‍क -- कामनाआें सम्बन्धी विचार

काम-संकप्प -- कामनाआें के सम्बन्ध में संकल्प-विकल्प

काम सञ्‍ञोजन -- कामनाआें के बन्धन

काम-सुख -- कामेन्द्रिय-जनित सुख

काम-सेवना -- मैथुन-धर्म का सेवन

काम जातक -- राजकुमार की कामना उत्तरोत्तर बढ़ गई

कामनीत जातक -- बहुत कुछ काम जातक के समान ही

कामता -- आकांक्षा, इच्छा

कामी -- कामेन्द्रिय सुखों के साधनों से सम्पन्‍न

कामुक -- रागी

कामेति -- इच्छा करता है

कामेतब्ब -- इच्छा किये जाने के योग्य

काय -- ढेर, संग्रह, शरीर

काय-कम्म -- शारीरिक कर्म

काय-कम्मञ्‍ञता -- शरीर की कमनीयता[कमाया हुआ होना]

काय-गत -- शरीर-सम्बन्धी

काय-गन्थ -- शारीरिक बंधन

काय-गुत्त -- शरीर से संयत

काय-डाह -- शरीर-ज्वर

काय-दरथ -- शारीरिक कष्ट

काय-दुच्‍चरित -- शारीरिक दुश्चरित्र

काय-द्वार -- शारीरिक इन्द्रियाँ

काय-धातु -- स्पर्शेन्द्रिय

कायप्पकोप -- शारीरिक दुष्कर्म

कायप्प-चालकं -- शरीर का हिलना-डोलना

काय-पटिबद्ध -- शरीर से संम्बन्धित

काय-प्पयोग -- शारीरिक साधन

काय-परिहारिक -- शरीर का पालन

काय-प्पसाद -- स्पर्शेन्द्रिय का स्पष्ट बोध

काय-प्पसद्धि -- इन्द्रियों की शान्ति

काय-पागब्भिय -- शारीरिक प्रगल्मता, शारीरिक असंयम

काय-बंधन -- कमर की पट्टी

काय-बल -- शारीरिक-बल

काय-मुदुता -- इन्द्रियों की कोमलता

काय-लहुता -- इन्द्रियों का हलकापन

काय-वङ्क -- टेढ़े कार्य

काय-विकार -- संकेत

काय-विञ्‍ञत्ति -- शारीरिक सूचना

काय-विञ्‍ञाण -- स्पर्श द्वारा चेतना

काय-विञ्‍ञेय्य -- स्पर्श द्वारा जानने योग्य

काय-विवेक -- शारीरिक एकान्त

काय-वेय्यावच्‍च -- शारीरिक सेवाकार्य

काय-संसग्ग -- शारीरिक संसर्ग

काय-सक्खी -- शरीर से सत्य का साक्षात्-कृत

काय-संखार -- शरीर का सूक्ष्म स्वरूप

काय-समाचार -- सदाचरण

काय-सम्फस्स -- स्पर्शेन्द्रिय

काय-सुचरित -- शारीरिक सदाचरण

काय-सोचेय्य -- शारीरिक पवित्रता

कायविच्छिन्द जातक -- धार्मिक जीवन बिताने का संकल्प करने पर पीलिका रोग चला गया

कायिक -- शारीरिक

कायिक-दुक्ख -- शारीरिक वेदना

कायुजुकता -- शरीर का सीधापन

कायूपग -- शरीर से आसक्त, नया जन्म ग्रहण करने वाला

कायूर -- बाजूबंद

कार -- कर्म, सेवा [रथ-] कार, रथ बनाने वाला

कारक -- कर्ता, करने वाला। व्याकरण में कर्ता-कारक आदि ‘कारक’

कारण -- हेतु, कारणा, अपादान[कारक]हेतु से। किं कारणा, किस हेतु से, क्यों?

कारण्डिय जातक -- बिना किसी की योग्यता-अयोग्यता परखे हर किसी को उपदेश देने वाले आचार्य की कथा

कारणा -- यातना, शारीरिक दण्ड

कारणिक -- यातना देने वाला

कारवेल्‍ल -- कारवेल्‍लक

कारा -- जेल

काराघर -- जेलखाना

कारापक -- कराने वाला

कारापिका -- कराने वाली

कारापन -- करवाना

कारापित -- करवाया गया

कारापेति -- करवाता है

कारा-भेदक -- जेल से भाग आने वाला

कारिका -- व्याख्या

कारिय -- कार्य, कर्तव्य

कारी -- करने वाला

कारुञ्‍ञ -- करुणा

कारुणिक -- दयालु

कारेति -- करवाता है

काल -- समय

कालस्सेव -- समय रहते

कालेन -- ठीक समय पर

कालेन कालं -- समय-समय पर

कालं करोति -- मर जाता है

कालं कत -- मर गया

काल-किरिया -- मृत्यु

काल-कण्णी -- मनहूस

काल-पवेदन -- समय की सूचना

काल-वादी -- समयोचित बोलने वाला

कालञ्‍ञू -- [उचित] समय का जानकार

कालंतर -- व्यवधान, समयविभाग

कालिक -- समय सम्बन्धी

कालिङ्ग -- पूर्व-भारत का एक जनपद

कालुसिय -- मैल [कालुष्य]

कावेय्य -- काव्य

कास -- नरकट, तपेदिक [रोग]

कासाय -- [कासाव] काषाय-वस्त्र, काषाय-वर्ण युक्त

कासि -- सोलह जनपदों में से एक

इसकी राजधानी वाराणसी थी कासिक -- काशी का, काशी में निर्मित

कासु -- गड्ढा

काळ -- काला

काल -- काला रंग

कूट -- हिमालय पर्वत का एक शिखर

काळ-केस -- काले बाल वाला

काळ-तिपु -- काला सीसा

काळ-पक्ख -- कृष्ण-पक्ष

काळ-लोण -- काला नमक

काळ-सीह -- काला सिंह

काळ-सुत्त -- काला सूत्र

काळ-हंस -- काला हंस

काळक -- काला [चिह्न], धब्बा, धान में काला दाना

काळकण्णी जातक -- अनाथ पिण्डक के काळकण्णी मित्र की कथा के समान

काळबाहु-जातक -- काळ-बाहु बन्दर की कथा

काळाम -- गोत्र-विशेष, काळामों को ही भगवान् बुद्ध ने प्रसिद्ध काळामसुत्त का उपदेश दिया था

काळायस -- काला लोहा [ताँबा]

काळावक -- एक प्रकार का हाथी

काळिंग-बोधि-जातक -- काळिंग-नरेश के दो पुत्रों की कथा

कासाव जातक -- काषाय वस्त्र के कारण हाथी ने दुष्ट आदमी को क्षमा कर दिया

किकी -- नील-कण्ठी, मुर्गी

किंकर -- नौकर, सेवक

किंकिणी -- छोटी घंटी, घुँघरू

किंकिणिक-जाल -- घुँघरुआें की जाली

किच्‍च -- कृत्य

किच्‍चकारी -- अपना कर्तव्य निभाने वाला

किच्‍चाकिच्‍च -- कृत्य तथा अकृत्य, करणीय तथा अकरणीय

किच्छ -- कठिन, दुखद, कठिनाई, दुःख

किच्छति -- कष्ट पाता है

किंचन -- कुछ, सांसारिक आसक्ति, तुच्छ

किंचापि -- कुछ भी, कैसे भी कितना भी, लेकिन

किंचि -- कुछ

किंचिक्ख -- तुच्छ

किंजक्ख -- रेणु

किट्ठ -- उगता हुआ धान

किट्ठाद -- धान खाने वाला

किट्ठा-सम्बाध-समय -- खेती पक जाने का समय

किणन्त -- खरीदते हुए

किणित्वा -- खरीदकर

किण्ण -- बिखरा हुआ, खमीर

कितव -- ठग

कित्तक -- कितना, किस सीमा तक, कितने

कित्तन -- कीर्तन, प्रशंसा, स्तुति

कित्तावता -- कहाँ तक किस सम्बन्ध में

कित्ति -- कीर्ति, प्रसिद्धि

कित्ति-घोस -- [कित्ति-सद्द], यश

कित्ति-मन्तु -- यशस्वी

कित्तिम -- कृत्रिम

कित्तेति -- प्रशंसा करता है

किन्‍नर -- पक्षी-विशेष, जंगल में रहने वाली जाति-विशेष

किन्‍नरी -- किन्‍नर-स्त्री

किपिल्‍लिका -- चींटी

किब्बिस -- अपराध

किब्बिसकारी -- अपराधी

किमि -- कीड़ा, कृमि

किमि-कुल -- कीड़ों का समूह

किमक्खायी -- किस उपदेश का उपदेष्टा

किमर्त्थ -- किस लिए

किमत्थिय -- किस उद्देश्य से

किमपक्‍क-फल -- आम की शक्‍ल का जहरीला फल

किम्पुरिस -- देखो, किन्‍नर

किंसुकोपम जातक -- बुद्ध द्वारा चार भिक्षुआें को चार भिन्‍न-भिन्‍न कर्मस्थान दिये गये चारों ने अर्हत्व-लाभ किया

किच्छन्द जातक -- रिशवत लेने वाले न्यायाधीश पुरोहित की कथा

किर -- वास्तव में

किरण -- [सूर्य या चन्द्र की] किरण

किरति -- बिखेरता है

किरात -- जंगली जाति-विशेष

किरिय -- क्रिया

किरियवाद -- कर्म-फल में विश्वास

किरिय-वादी -- कर्म-फल में विश्वासी

किरीट -- राज-मुकुट

किलञ्‍जा -- चटाई

किमन्त -- थका हुआ

किलमति -- थकता है

किलमय -- थकावट

किलमन्त -- थकता हुआ

किलमित -- थका हुआ

किलमेति -- थकाता है

किलास -- छूत का रोग, कोढ़

किलिट्ठ -- मैला

किलिन्‍न -- भीगा

किलिस्सति -- दाग लगता है, अशुद्ध होता है

किलिस्सन -- मैला होना, दाग लगना

किलेस -- कामुकता

किलेसक्खय -- कामुकता का क्षय

किलेसप्पहाण -- कामुकता का नाश

किलेस-वत्थु -- आसक्ति के पात्र

किलेसेति -- धब्बा या दाग लगाता है

किंलोमक -- फुप्फुस का आवरण

किस -- कृश, दुबला-पतला

किं -- क्या

को -- कौन पुरुष

का -- कौन

कं -- किस वस्तु को

किं कारणा -- किस कारण से

किंवादी -- किस मत का

कीट -- कीड़ा

कीत -- खरीदा हुआ

कीदिस -- कैसा

कीर -- तोता

कील -- खूँटा

कीय -- कितना, कब तक

कीवतिक -- कितने, कितना

कीळति -- खेलता है

कीळनक -- खिलौना

कीळना -- केळी, क्रीड़ा, विनोद

कीळा -- क्रीड़ा

कीळा-गोलक -- खेलने की गेंद

कीळा-पसुत -- खेल में लगा हुआ

कीळा-भण्डक -- खिलौना

कीळा-व्मण्डल -- क्रीड़ा-भूमि

कीळा-पनक -- खिलाड़ी, खिलौना

कीळापेति -- खिलाता है

कीळित -- खेला हुआ

कुकुत्थक -- एक प्रकार का पक्षी

कुक्‍कु -- हाथ भर का माप

कक्‍कु जातके -- राजा ब्रह्मदत्त [बनारस] को समझाने के लिए दी गई अनेक उपमाआें से युक्त कथा

कुक्‍कुच्‍च -- कौकृत्य, पश्चात्ताप

कुक्‍कुचायति -- पश्चात्ताप करता है

कुक्‍कुट -- मुर्गा

कुक्‍कुट-जातक -- एक बिल्‍ली ने एक मुर्गे की पत्नी बनने की बात बना उसे ठगना चाहा, वह उसमें असफल हुई

कुक्‍कुट जातक -- एक बाज ने एक मुर्गी को ठगना चाहा

कुक्‍कुटी -- मुर्गी

कुक्‍कुर -- कुत्ता

कुक्‍कुर-वतिक -- कुक्‍कुर-व्रती

कुक्‍कुर-जातक -- बनारस के राजा ने अपने कुत्तों के अपराध के कारण सभी दूसरे निरपराध कुत्तों को भी मरवाने की आज्ञा दी

कुक्‍कुळ -- गर्म राख

कुंकुम -- केसर

कुच्छि -- पेट

कुच्छिट्ठ -- कुच्छि-स्थित

कुच्छि-दाह -- पेट की जलन

कुच्छित -- कुत्सित, घृणित

कुज -- वृक्ष-विशेष, मङ्गल-ग्रह

कुज्झति -- क्रोधित होता है

कुज्झन -- क्रोध

कुज्झित्वा -- क्रुद्ध होकर

कुञ्‍चनाद -- क्रौञ्‍च-नाद, हाथी की चिंघाड़

कुञ्‍चिका -- चाबी

कुञ्‍चिका-विवर -- चाबी का छेद

कुञ्‍चित -- मुड़ा हुआ

कुञ्‍ञ -- घाटी, लताआें आदि से ढका स्थान

कुञ्‍ञर -- हाथी

कुट -- जल-पात्र

कुटज -- औषध-विशेष, बूटी-विशेष [कुरैया]

कुटि -- झोंपड़ी

कुटि दूसक जातक -- बये ने बरसात में भीगे बन्दर को उपदेश दिया, बन्दर ने बये का घोंसला ही उजाड़ दिया

कुटिल -- टेढ़ा

कुटिलता -- टेढ़ापन

कुटुम्ब -- परिवार

कुटुम्बिक -- परिवार का मुखिया

कुट्ठ -- कुष्ठ, एक पौधा-विशेष

कुट्ठी -- कोढ़ी

कुठारी -- कुल्हाड़ी

कुडुब -- कुडव

कुडुमल -- कोंपल, मुकुल

कुड्ड -- दीवार

कुणप -- लाश

कुणप-गन्ध -- लाश की सड़ाँध

कुणाल -- कोयल

कुणाल-जातक -- कोयलों के कुणाल नाम के राजा की कथा

कुणी -- लंगड़ा

कुण्ठ -- भोथरा

कुण्ठेति -- कुण्ठित कर देता है

कुण्डक -- चावलों के भीतर से प्राप्त चूर्ण

कुण्डक-पूव -- कुण्डक के बने पूए

कुण्डल -- कान की बाली

कुण्डल-केस -- घुँघराले बाल

कुण्डली -- जिसके कान में कुण्डल हो या जिसके बाल घुँघराले हों

कुण्डिका -- कूण्डी, मिट्टी का जल-पात्र

कुतूहल -- उत्तेजना, कौतूहल

कुतो -- कहाँ से?

कुत्त -- आचरण, नखरा

कुत्तक -- बड़ा गलीचा

कुत्ति -- सजावट

कुत्थ -- कुत्र, कहाँ

कुथित -- उबाला गया

कुदस्सु -- कब

कुदाचन -- कुदाचनं, कभी, किसी समय

कुद्दाल -- कुदाली

कुद्दाल जातक -- कुद्दाल पण्डित अपनी कुदाली के प्रति असीम आसक्ति के कारण छह बार गृहस्थ बना और गृहस्थी के झंझटों के कारण छह बार साधु

कुद्ध -- क्रुद्ध

कुदरूसक -- धान्य-विशेष

कुन्त -- बर्छी, पक्षी-विशेष

कुन्तनी -- सारस, बगुला

कुन्तनी जातक -- लड़कों ने बगुली के दो बच्‍चे मरवा डाले, बगुली ने शेर को कहकर लड़कों को मरवा डाला और स्वयं हिमालय की ओर चली गई

कुन्तल -- केश-राशि

कुन्थ -- चींटी-विशेष

कुन्द -- जूही के समान सफेद फूल

कुन्‍नदी -- छोटी नदी

कुपथ -- कुमार्ग

कुपित -- क्रुद्ध

कुपुरिस -- दुष्ट आदमी

कुप्प -- अस्थिर, चञ्‍चल

कुप्पति -- क्रोधित होता है, उत्तेजित होता है

कुप्पन -- उत्तेजना, क्रोध

कुब्बति -- करता है

कुब्बनक -- छोटा जंगल

कुब्बन्त -- करता हुआ

कुब्बर -- गाड़ी के पहियों की धुरी

कुमति -- मिथ्या द्दष्टि

कुमार -- लड़का

कुमार-कीळा -- कुमार-क्रीड़ा

कुमार-पञ्ह -- खुद्दक-निकाय [सुत्तपिटक] का चौथा परिच्छेद, सात वर्ष के सोपाक अर्हत् से पूछे गये प्रश्न

कुमारिका -- कुँवारी

कुमुद -- श्वेत कँवल

कुमुद-णाल -- श्वेत कँवल की नलिका

कुमुद-वण्ण -- श्वेत कुँवल के वर्ण का

कुम्भ -- घड़ा

कुम्भक -- जहाज का मस्तूल

कुम्भकार -- कुम्हार

कुम्भकार जातक -- बोधिसत्व के कुम्हार की योनि में उत्पन्‍न होने पर गृहत्याग की कथा

कुम्भकार-साला -- बर्तन बनाने का स्थान

कुम्भ-दासी -- पानी लाने वाली दासी

कुम्भ-जातक -- शराब के आरम्भ की कथा

कुम्भण्ड -- दिव्य-लोक के प्राणीविशेष, कद्दू

कुम्भी -- बर्तन

कुम्भील -- मगरमच्छ

कुम्म -- कछुआ

कुम्मग्ग -- कुमार्ग

कुम्मास -- कुल्माष

कुम्मासपिण्ड-जातक -- कुल्माष-पिण्ड के दान की कथा

कुर -- भात

कुरण्डक -- एक पौधा, जिसमें फूल लगते हैं

कुरर -- कुररी, मछली खाने वाला पक्षी-विशेष

कुरु -- सोलह महाजन पदों में से एक

कुरुंग -- मृगों की एक जाति

कुरुंग-मिग-जातक -- शिकारी ने कुरुंगमृग को छलकर मारना चाहा, वह उसके छल को भाँप गया

कुरुंग-मिग-जातक -- मृग, कठफोड़े तथा कछुवे की कथा

कुरु-धम्म-जातक -- पंचशील अथवा कुरु-धम्म के पालन से जनपद समृद्ध हो गया

कुरुमान -- करते हुए

कुरु-रट्ठ -- उत्तर-भारत का कुरु राष्ट्र

कुरूर -- क्रूर, अत्याचारी

कुल -- परिवार, जाति

कुल-गेह -- माता-पिता का घर

कुलङ्गार -- कुल-विनाशक

कुल-तन्ति -- कुल-परम्परा

कुल-दूसक -- कुल की बदनामी करने वाला

कुल-धीता -- कुल की बेटी

कुल-पुत्त -- कुल-पुत्र

कुल-वंस -- वंश-परम्परा

कुलटा -- कुलटा नारी

कुलत्थ -- पौधा-विशेष

कुल-पालिका -- कुल, कुल का पालन करनेवाली

कुलल -- बाज, गीध

कुलाल -- कुम्हार

कुलाला-चक्‍क -- कुम्हार का चाक

कुलावक-जातक -- गाँव के उनतीस परिवारों के मुखिया के रूप में मघ की समाज-सेवा की कथा

कुलिस -- वज्र [इन्द्रायुध] गदा

कुलीन -- श्रेष्ठ कुल का

कुलीर -- केकड़ा

कुलूपग -- परिवार-विशेष से सुपरिचित

कुल्‍ल -- बेड़ा

कुवलय -- जल-कँवल

कुवेर -- यक्षाधिपति

कुस -- कुश [दर्भ]

कुसग्ग -- कुश का सिरा

कुसचीर -- कुश-निर्मित पहनावा

कुस जातक -- स्त्री के प्रति आसक्त हुए एक भिक्षु को सावधान करने के लिए कही गई कथा

कुसल -- कुशल-कर्म, शुभ [कर्म]

कुसल-चेतना -- शुभ-चिंतन

कुसल-धम्म -- कुशल-धर्म, शेष दो हैं अकुशल-धर्म तथा अव्याकृत-धर्म

कुसल-विपाक -- शुभ-कर्मो का फल

कुसलता -- कुशलता

कुसा -- नाक की नकेल

कुसि -- चीवर के अङ्ग

कुसीनारा -- मल्‍लों की राजधानी

कुसीत -- आलसी

कुसीतता -- आलस्य

कुसुम -- फूल

कुसुमित -- पुष्पित

कुसुब्भ -- छोटा तालाब

कुसुम्भ -- केशर

कुसूल -- धान्यागार

कुसेसय -- पद्य

कुह -- कुहक, ठग, ढोंगी

कुहक जातक -- तपस्वी ने धनी गृहस्थ का सोना हड़प जाना चाहा

कुहण -- ढोंग

कुहणा -- ढोंग

कुहर -- सुराख, छिद्र

कुहिं -- कहाँ

कुहेति -- ठगता है

कूजति -- कूजता है

कूजन -- पक्षियों की आवाज

कूजंत -- कूजता हुआ

कूट -- मिथ्या

कूट-गोण -- दुष्ट बैल

कूट-अट्ट -- झूठा मुकद्दमा

कूट-अट्टकारक -- झूठा मुक़द्दमा दायर करनेवाला

कूट-जटिल -- ढोंगी तपस्वी

कूट-वाणिज -- ठग व्यापारी

कूट वाणिज जातक -- पण्डित तथा अपण्डित नाम के दो व्यापारियों की कथा

कूट वाणिज जातक -- एक सदगृहस्थ ने एक व्यापारी को अपने लोहे के हल सुरक्षित रखने के लिए दिये, वापिस माँगने पर उसका वह मित्र बोला, चूहे खा गये

कूटागार -- शिखर वाला भवन

कूप -- कुआँ

कूपक -- मस्तूल

कूल -- किनारा

केका -- मोर की आवाज

केणि[नि]पात -- नौका का चप्पु

केतकी -- पौधा-विशेष, जिसके पत्ते काँटेदार होते है

केतन -- पताका

केतव -- नपुं शठता

केतु -- झण्डा, पताका

केतु-कम्यता -- प्रमुखता की कामना

केतु-मन्तु -- पताकाआें से सुसज्‍जित

केतुं -- खरीदने के लिए

केदार -- खेत

केदार-पाळि -- दो खेतों के बीच का बाँध

केयूर -- वाजूबंद

केय्य -- खरीदने योग्य

केराटिक -- ठग, ढोंगी

केराटिय -- ठगी, ढोंग

केलास -- कैलास पर्वत

केळि -- क्रीड़ा

केळि सील जातक -- हँसोड़ राजा को इन्द्र ने लोगों के परिहास का भाजन बनाया

केवट्ट -- मछुवा

केवल -- एकान्त, समस्त

केवल-कप्पं -- लगभग सारा

केवल-परिपुण्णं -- सम्पूर्ण

केवलि -- सम्पूर्णता-प्राप्त, अर्ह

केस -- सिर के बाल

केसोहारक -- नाई

केस-कम्बल -- बालों का बना कम्बल

केस-कलाप -- केश-गुच्छ

केस-कल्याण -- केशों का सौन्दर्य

केस-धातु -- भगवान् बुद्ध की पवित्र केश-धातु

केसर -- रेणु, अयाल [पशुआें के कन्धे के बाल]

केसर-सीह -- केसरी [सिंह]

केसव -- केशों वाला

केसव -- केशव [वासुदेव कृष्ण]

केसव जातक -- तपस्वी को राज-वैद्य अच्छा न कर सके, वह अपने शिष्यों के बीच पहुँचकर बिना दवाईके ही अच्छा हो गया

केसोरोपन -- बालों का काटना

केसोहारण -- बाल काटना

को -- कौन

कोक -- भेड़िया

कोकनद -- लाल कँवल

कोकिल -- कोयल

कोचि -- कोई

कोच्छ -- 1. झाड़ू, 2. कुर्सी, काउच

कोज -- कवच

कोजव -- गलीचा

कोकालिक जातक -- वाचाल नरेश को वाचालता के विरुद्ध दिया गया शिक्षण

कोञ्‍च -- सारस

कोञ्‍चनाद -- हाथी की चिंघाड़

कोट -- शिखर

कोटचिका -- चूत

कोटि -- शिखर, करोड़

कोटिप्पकोटि -- 10,000,000,000,000,000,000,00 संख्या

कोटिप्पत्त -- सिरे तक पहुँच गया, भली प्रकार समझ गया

कोटिल्‍ल -- कुटिलता, टेढ़ापन

कोटिसिम्बलि जातक -- गरुड़ ने नाग को पकड़ा, नाग वट-वृक्ष के गिर्द लिपट गया, गरुड़ वट-वृक्ष को भी उखाड़ ले गया

कोटुम्बर -- वस्त्र-विशेष

कोट्टन -- कूटना

कोट्ठ -- कोठा

कोट्ठागार -- धान्यागार

कोट्ठागारिक -- भाण्डागारिक

कोट्ठासय -- पेट में रहने वाला

कोट्ठक -- 1. द्वार, 2. छिपने का स्थान

कोट्ठास -- हिस्सा, भाग

कोण -- कोना, सिरा

कोण्डञ्‍ञ -- प्रसिद्ध ब्राह्मण-क्षत्रिय गोत्र

कोतूहल -- उत्तेजना, जिज्ञासा

कोत्थु -- कोत्थुक, गीदड़

कोदण्ड -- धनुष

कोध -- क्रोध, गुस्सा

कोधन -- असंयत चित्त

कोप -- क्रोध, गुस्सा

कोपनेय्य -- क्रोध उत्पन्‍न करनेवाला

कोपी -- क्रोधी

कोपीन -- लँगोटी

कोपेति -- क्रोध उत्पन्‍न करता है

कोमल -- नर्म

कोमार -- कुमार-सम्बन्धी

कोमारभच्‍च -- 1. बच्‍चों की चिकित्सा, 2. [राज-] कुमार द्वारा पोषित

कोमाय-पुत्त जातक -- कोमाय-पुत्त ने तपस्वियों का आश्रम हथिया लिया

कोमुदी -- चाँदनी

कोरक -- कोंपल

कोरब्य -- कोरव्य, कुरु-वंश का

कोल -- रसभरी

कोलक -- मिर्च

कोलम्ब -- बड़ा बर्तन

कोलाप -- खोखला पेड़

कोलाहल -- शोर-गुल

कोलित -- मौद्गल्यायन स्थविर का गृहस्थनाम

कोलिय -- शाक्यों के समान ही एक दूसरी जाति

कोलेय्यक -- अच्छी नस्ल का [विशेष रूप से कुत्तों की नस्ल]

कोविद -- यक्ष, पण्डित

कोस -- भण्डार, खजाना, म्यान

कोसक -- पानी पीने का पात्र

कोसज्‍ज -- आलस्य

कोसम्बी -- वत्स्य-देश की राजधानी

कोसल -- कोशल जनपद

कोसल्‍ल -- कुशलता

कोसारक्ख -- खजानची

कोसिक -- कौशिक, उल्‍लू

कोसिनारक -- कुसिनारा सम्बन्धी

कोसिय जातक -- ब्राह्मणी रोग का बहाना बना दिन-भर लेटी रहती और रात को मौज मनाती

कोसिय जातक -- कौआें द्वारा उल्‍लू के आक्रान्त होने की कथा

कोसी -- म्यान

कोसोहित -- अण्डकोश से ढका हुआ

कोहञ्‍ञ -- ढोंग

क्‍व -- कहाँ

क्‍वचि -- कहीं

-- कवर्ग का दूसरा अक्षर, आकाश

खग -- पक्षी

खगन्तर -- कठफोड़ा

खगादि -- पक्षी

खगादिबन्धन -- पक्षियों को फँसाने का जाल

खग्ग -- तलवार

खग्ग-कोस -- तलवार की म्यान [तलवार रखने का खाना]

खग्ग-गाहक -- तलवार-धारी

खग्ग-तल -- तलवार का फलक

खग्ग-धर -- तलवार-धारी

खग्ग-विसाण -- गेण्डा

खचति -- जड़ता है [अँगूठी में नगीना जड़ता है]

खज्‍ज -- खाद्य, खाजा

खज्‍जकन्तर -- नानाविध मिठाइयाँ

खज्‍जु -- खाज

खज्‍जूरी -- खजूर

खज्‍जोपनक -- जुगनू

खञ्‍ज -- लँगड़ा

खञ्‍जति -- लंगड़ाता है

खञ्‍जन -- लँगड़ाना, खञ्‍जन पक्षी

खटक -- मुट्ठी

खण -- क्षण, अवसर

खणेन -- क्षण में

खणातीत -- जो अवसर से चूक गया

खणति -- खोदता है

खणन -- खोदना

खणिक -- क्षणिक

खणित्ती -- खन्ति, कुदाल

खण्ड -- हिस्सा, टुकड़ा

खण्ड-दन्त -- टूटे दाँत वाला

खण्ड-फुल्‍ल -- खँडहर

खण्डन -- टूटना, टूटा हुआ होना

खण्डहाल जातक -- रिश्वतखोर पुरोहित ने राजा के पुत्र की हत्या करानी चाही

खण्डाखण्ड -- टुकड़े-टुकड़े टूटा हुआ

खण्डिका -- टुकड़ा

खण्डिच्‍च -- खण्डित होना

खण्डेति -- टुकड़े-टुकड़े करता है

खत -- खोदा हुआ, घायल, चोट लगा हुआ

खत्त -- शासन, अधिकार

खत्त-धम्म -- क्षात्र-धर्म, राजनीति

खत्तिय -- क्षत्रिय, क्षत्रिय-वर्ण का

खत्तिय-कञ्‍ञा -- क्षत्रिय-कन्या

खत्तिय-कुल -- क्षत्रिय-कुल

खत्तिय-परिसा -- क्षत्रिय-परिष

खत्तिय-महासाल -- धनी क्षत्रिय

खत्तिय-सुखुमाल -- राजकुमार के समान कोमल शरीरवाला

खत्तिया -- खत्तियानी, क्षत्रियाणी

खत्तु -- सारथी, राजा का सलाहकार

खदिर -- बबूल

खदिरङ्गार -- बबूल की लकड़ी के अँगारे

खदिरङ्गार जातक -- सेठ ने जलते कोयलों के गड्ढे में गिर पड़ने का खतरा मोल लेकर भी दान देना चाहा

खन्ति -- सहनशीलता

खन्ति-बल -- सहन-शक्ति

खन्तिमन्तु -- सहनशील

खन्तिक -- मत-विशेष का [अञ्‍ञखन्तिक, अन्य मत का]

खन्तिवादी जातक -- कलाबु नाम के राजा ने तपस्वी के अंग-अंग कटवा दिये, तपस्वी ने क्षमाशीलता को सीमा पर पहुँचा दिया

खन्तु -- क्षमाशील

खन्ध -- स्कन्ध, पेड़ का तना, ढेर, परिच्छेद, रूप-वेदनादि पाँच स्कन्ध

खन्ध-पञ्‍चक -- रूप, वेदना संज्ञा, संस्कार और विज्ञान

खन्धक -- विभाग, परिच्छेद

खन्धकोट्ठास -- शरीर का भाग

खन्धदेस -- आसन

खन्धवत्त जातक -- नियमित मैत्री-भावना करने से सर्प-दंश से बचा रहा जा सकता है

खन्धावार -- छावनी

खम -- क्षमाशील

खमति -- क्षमा करता है

खमन -- क्षमा

खमापन -- क्षमा-याचना करना

खमापेति -- क्षमा-याचना करता है

खमितब्ब -- क्षमा देने योग्य

खमित्वा -- क्षमा देकर

खम्भकत -- हाथों को कमर पर रखकर खंभे की तरह खड़ा हुआ

खय -- क्षय, नाश

खयानुपस्सना -- संसार के क्षयशील स्वभाव का ज्ञान

खर -- कठोर, तेज, दुखद, गदहा

खरपुत्तजातक -- राजा ने गाँव के लड़कों से नाग की रक्षा की

खरत्त -- कठोरता

खरादिय जातक -- भानजे मृग ने मामा से मृगों की प्राण-रक्षा की विधि नहीं सीखी

खल -- खलिहान

खलग्ग -- धान का भूसा निकालने का आरम्भ

खलति -- स्खलित होता है, लड़खड़ाता है

खलित -- स्खलन, अपराध

खलीन -- [घोड़े की] लगाम

खलु -- वास्तव में

खलुङ्क -- घटिया किस्म का घोड़ा

खल्‍लाट -- खल्वाट, गंजा

खलोपि -- एक प्रकार का बर्तन

खळ -- कठोर, दुष्ट पुरुष

खाणु -- पेड़ का ठूँठ

खात -- खोदा हुआ

खादक -- खानेवाला

खादति -- खाता है

खादन -- खाना

खादनीय -- खाने योग्य, मिठाई

खादापन -- खिलाना

खादापित -- खिलाया गया

खादापेति -- खिलाता है

खादित -- खाया गया

खादितब्ब -- खाने योग्य

खादितुं -- खाने के लिए

खायति -- प्रतीत होता है

खायित -- खाया गया

खार -- क्षार, खार

खारी -- बहंगी से लटकी हुई टोकरी, खरिया

खारी-काज -- बहंगी की टोकरी तथा बहंगी

खालेति -- धोता है, कुल्‍ला करता है

खिड्डा -- क्रीड़ा

खिड्डा-पदोसिक -- खेल-कूद के कारण खराब हुआ

खिड्डा-रति -- क्रीड़ा में रत होना

खित्त -- फेंका हुआ

खित्त-चित्त -- विक्षिप्त-चित्त

खिप -- जाल, फैलाई गई वस्तु

खिपति -- फैलाता है

खिपन -- फेंकना, फैलाना

खिपित -- फेंका गया

खिप्प -- शीघ्र, क्षिप्र

खिल -- कठोरता

खीण -- क्षीण, क्षय-प्राप्त

खीण-मच्छ -- मछलियों से रहित

खीण-बीज -- पुनर्जन्म के बीज से रहित

खीणासव -- जिसके, आस्त्रव अर्थात् चित्त-मैल क्षीण हो गये

खीयति -- क्षय होता है, नष्ट होता है

खीर -- क्षीर, दूध

खीरण्णव -- श्वेत समुद्र, क्षीरार्णव

खीरपक -- दूध चूसता हुआ

खीरोदन -- दूध-भात

खील -- कील, खूँटा

खुंसेति -- गाली देता है

खुज्‍ज -- कुबड़ा

खुदा -- क्षुधा, भूख

खुद्दक -- छोटा, तुच्छ

खुद्दक-निकाय -- पाँचों निकायों में से एक

खुद्दक-पाठ -- खुद्दक-निकाय की पहली पोथी खुद्दक-पाठ

खुद्दा -- शहद की छोटी मक्खी, क्षुद्रा

खुद्दानुखुद्दक -- छोटे-मोटे [नियम]

खुप्पिपासा -- भूख और प्यास

खुभति -- क्षुब्ध होता है

खुर -- उस्तरा, पशु का खुर

खुरग्ग -- मुण्डन-संस्कार का स्थान

खुर-कोस -- उस्तरे का खोल

खुर-चक्‍क -- उस्तरे जैसा तेज चक्र

खुर-धारा -- उस्तरे की धार

खुर-भण्ड -- नाई का सामान

खुर-मुण्ड -- मुँडा हुआ सिर

खुरप्प -- एक प्रकार का तीर

खुरप्प जातक -- जंगल में सार्थवाहों को रास्ता दिखाते समय डाकुआें ने आक्रमण किया

खेट -- ढाल

खेटक -- ढाल

खेत्त -- खेत, क्षेत्र

खेत्तोपम -- क्षेत्र के समान

खेत्त-कम्म -- खेत में काम

खेत्त-गोपक -- खेत का रखवाला

खेत्त-सामिक -- खेत का स्वामी

खेत्ताजीव -- किसान

खेद -- अफसोस

खेप -- फेंक

खेपक -- धनुर्धारी

खेपन -- काल-क्षेप

खेपेति -- काल-क्षेप करता है

खेम -- क्षेम, शान्ति

खेमट्ठान -- शान्ति-स्थान

खेमप्पत्त -- क्षेम-प्राप्त

खेम-भूमि -- कल्याण-भूमि

खेमी -- सुखपूर्वक रहने वाला

खेळ -- थूक

खेळ-मल्‍लक -- थूकदान, पीकदान

खेळ-सिंघानिका -- थूक-सींढ

खेळासिक -- थूक चाटने वाला [अपशब्द]

खो -- वास्तव में

खोभ -- क्षोम

खोम -- सन का कपड़ा

ख्यात -- प्रसिद्ध

ख्यापन -- प्रसिद्धि

गगन -- आकाश

गगन-गामी -- नभ-चर, आकाश में विचरने वाला

गग्ग-जातक -- छींकने पर ‘दीर्घायु हो’ कहना अनिवार्य, न कह सकने पर यक्ष का आहार बनना पड़ता था

गग्गरा -- एक झील का नाम

गग्गरायति -- गर्जता है

गग्गरी -- लोहार की धकनी

गङ्गा -- नदी, गङ्गा-नदी

गङ्गा-तीर -- गङ्गा-तट

गङ्गा-द्वार -- नदी के समुद्र में गिरने की जगह

गङ्गा-धार -- गङ्गा की धारा

गङ्गा-पार -- गङ्गा का दूसरा तट

गङ्गा-सोत -- गङ्गा का स्त्रोत

गङ्ग-माल जातक -- उपोसथ-व्रतधारी नौकर निराहार रहकर मर गया

गङ्गेय्य -- गङ्गा सम्बन्धी

गच्छ -- पौधा, [गाछ]

गच्छति -- जाता है

गज -- हाथी

गज-कुम्भ -- हाथी का सिर

गज-पोतक -- हाथी का बच्‍चा

गज्‍जति -- गर्जना करता है

गज्‍जना -- गर्जना

गज्‍जित -- गृर्जित

गज्‍जितु -- गरजने वाला

गण -- समूह, दल, [भिक्षु-] संघ

गण-पूरक -- जिससे गण-पूर्ति हो

गण-पूरण -- गण-पूर्ति

गण-बंधन -- सहयोग

गण-सङ्गणिका -- मण्डली में रहने की इच्छा

गणक -- हिसाब-किताब रखने वाला, मुनीम

गणनपथातीत -- गिनती से बाहर

गणना -- संख्या

गणाचरिय -- अनेकों का शिक्षक

गणारामता -- मण्डली-प्रेम

गणिका -- वेश्या

गाणिकण्टक -- बारहसिंगा

गणित -- गिना गया, गणितशास्त्र

गणी -- जिसके अनुयायी हों

गणेति -- गिनता है

गण्ठि -- ग्रन्थि

गण्ठिका -- ग्रन्थि

गण्ठि-कासाव -- ग्रन्थि-युक्त काषाय वस्त्र

गण्ठिट्ठान -- कठिन स्थल

गण्ठिपद -- ग्रन्थि-पद, कठिनाई से समझ में आने वाला पद

गण्ठिपास -- बेड़ी

गण्ड -- फोड़ा

गण्डक -- फोड़े वाला, गैंडा

गण्डम्ब -- श्रावस्ती के द्वार पर स्थित आम्र-वृक्ष, जिसके नीचे भगवान् बुद्ध ने यमक-पाटिहारिय नाम का चमत्कार दिखाया था

गण्डिका -- भीतर से खोखला लकड़ी का लट्ठा, जिससे घण्टे बजाने का काम लिया जाता है

गण्डी -- घंटा, जल्‍लाद का ब्लाक, फोड़ो वाला

गण्डुप्पाद -- पृथ्वी का कीड़ा

गण्डूस -- मुँह-भर, कौर

गण्हाति -- ग्रहण करता है

गण्हापेति -- ग्रहण कराता है

गण्हितुं -- लेने के लिए

गत -- गया हुआ

गतक -- संदेशवाहक

गतट्ठान -- जाने की जगह

गतद्ध -- जिसने अपना रास्ता पूरा कर लिया

गतद्धी -- जिसने अपना रास्ता पूरा कर लिया

गतयोब्बन -- जिसका यौवन चला गया

गति -- जाना

गतिमन्तु -- दक्ष, होशियार

गत्त -- शरीर, गात्र

गयित -- बँधा हुआ

गद -- रोग, वाणी

गदति -- बोलता है

गदा -- एक प्रकार का आयुध

गद्दुल -- चमड़े का पट्टा

गद्दूहन -- दुहना

गद्रभ -- गधा

गधित -- देखो गथित

गन्तब्ब -- जाने योग्य

गन्तु -- जाने वाला

गन्तुं -- जाने के लिए

गन्त्वा -- जाकर

गन्थ -- ग्रन्थ

गन्थकार -- ग्रन्थकार

गन्थधुर -- पठन-पाठन का कार्य

गन्थप्पमोचन -- बन्धन-मोक्ष

गन्थति -- गांठ बाँधता है

गन्थन -- ग्रन्थन, गाँठ बाँधना

गन्थेति -- गाँठ बँधवाता है

गन्ध -- [सु]गन्ध

गन्ध-कुटि -- भगवान् बुद्ध के रहने की कोठिरी

गन्ध-चुण्ण -- सुगन्धितचूर्ण

गन्ध-जात -- सुगन्धियों के प्रकार

गन्ध-तेल -- सुगन्धित तेल

गन्ध-पञ्‍चङ्गुलिक -- सुगन्धित तेल से सनी हुई पाँच अँगुलियों का निशान

गन्धब्ब -- संगीतकार, जन्म ग्रहण करने वाला जीव, गन्धर्व

गन्धब्बाधिप -- गन्धर्वो का प्रधान

गन्धमादन -- हिमालय का एक पर्वत

गन्धवंस -- बर्मा में लिखा गया एक पालि-ग्रन्थ, यह नन्दपञ्‍ञ आरण्यक की रचना माना जाता है

गन्ध-सार -- चन्दन, चन्दन-वृक्ष

गन्धापण -- सुगन्धित तेल बेचने वाले की दुकान, गन्धी की दुकान गन्धार, सोलह जनपदों में से एक, वर्तमान कन्धार, इसकी राजधानी तक्षशिला थी

गन्धारी -- गन्धार से सम्बन्धित, जादू-टोना

गन्धिक -- सुगन्धि वाला

गन्धी -- सुगन्धि वाला

गन्धोदक -- सुगन्धित जल

गब्बित -- गर्वित, अहंकारी

गब्भ -- अन्दरूनी भाग, गर्भ

गब्भ-गत -- गर्भाधान हुआ

गब्भ-परिहरण -- गर्भ-संरक्षण

गब्भ-पातन -- गर्भ-पात

गब्भ-मल -- बच्‍चे के जन्म के समय उसके शरीर के साथ लगा हुआ घृणित अंश

गब्भ-वुट्ठान -- प्रसव

गब्भर -- गुफा

गब्भासय -- बच्‍चादानी

गब्भिनी -- गर्भिणी स्त्री

गभीर -- गहरा

गम -- गमन, यात्रा

गमन -- जाना

गमनन्तराय -- गमन में बाधा

गमन-कारण -- जाने का कारण

गमनागमन -- जाना-आना

गमनीय -- जाने योग्य

गमिक -- जाने वाला

गमिक-वत्त -- यात्रा की तैयारी

गमेति -- भेजता है, समझता है

गम्भीर -- गहरा

गम्भीरावभास -- गम्भीरता की प्रतीति

गम्भ -- गँवार, ग्राम्य

गया -- बोधि-वृक्ष तथा बनारस के बीच की सड़क पर स्थित प्रसिद्ध नगर

गया-सीस -- गया के पास का एक पर्वत

गय्ह -- ग्रहण करने योग्य

गय्हति -- ग्रहण करता है

गरहति -- दोष देता है, निन्दा करता है

गरहन -- दोषारोपण

गरहित जातक -- एक बंदर कुछ समय तक आदमियों में रहा, उसने जंगल में वापिस पहुँचकर अपने साथियों के सामने आदमियों के गर्हित जीवन का वर्णन किया

गरही -- दोषारोपण करने वाला

गरु -- भारी, गम्भीर, सम्मान्य

गरु-कातब्ब -- सम्मान के योग्य

गरु-कार -- सम्मान

गरु-गब्भा -- गर्भिणी

गरुट्ठानीय -- आचार्य

गरुक -- भारी, गम्भीर

गरु करोति -- आदर करता है

गरुत्त -- गुरुत्व

गरुळ -- एक काल्पनिक पक्षी

गल -- गला

गलग्गाह -- गले से पकड़ना

गल-नाळी -- गले की नाली

गलप्पमाण -- गले तक

गल-वाटक -- गले का घेरा

गलति -- बहता है

गलित -- बहा हुआ

गव -- वृषभ

गवक्ख -- गवाक्ष, झरोखा

गव-घातन -- गो-हत्या

गव-पान -- खीर [दूध-भात]

गवज -- देखिये गवय

गवय -- नील गाय

गवि -- हव्य-सामग्री, घी

गवेसक -- खोजने वाला

गवेसति -- खोजता है

गवेसन -- गवेषणा

गवेसी -- खोजने वाला

गह -- जो ग्रहण करता है, ग्रह [मंगल ग्रह आदि], घर

गह-कारक -- घर का निर्माता

गह-कूट -- घर का शिखर

गहट्ठ -- गृहस्थ

गहण -- ग्रहण करना

गहणिक -- अच्छी पाचन-शक्ति वाला

गहणी -- पाचन-शक्ति

गहन -- घना

गहनट्ठान -- जंगल में ऐसा स्थान जहाँ घुसना दुष्कर हो

गहपतानी -- गृह-पत्नी

गहपति -- गृहपति

गहपति जातक -- एक गृहस्थ की पत्नी, गाँव के मुखिया से फँसी थी, गृहस्थ जान गया, उसने मुखिया को पीटा

गहपति महासाल -- धनी गृहपति

गहित -- गृहीत

गळगळायति -- गल-गल शब्द करते हुए बरसता है

गळोचि -- गडुच

गाथा -- दो पंक्तियों का छन्दविशेष, त्रिपिटक के नौ अंगों में से एक

गाध -- गहरा, गहराई

गाधति -- दृढ़ [खड़ा] रहता है

गान -- गाना

गाम -- गाँव, ग्राम

गामक -- एक छोटा गाँव

गाम-घात -- गाँव की लूट

गाम-जेट्ठ -- गाँव का मुखिया

गाम-दारक -- गाँव का लड़का

गाम-दारिका -- गाँव की लड़की

गाम-द्वार -- गाँव का दरवाजा

गाम-धम्म -- ग्राम्य-धर्म, मैथुनधर्म

गाम-भोजक -- गाँव का मुखिया

गाम-वासी -- ग्राम-वासी

गाम-सीमा -- गाँव की सीमा

गामणी -- गाँव का मुखिया [ग्रामणी]

गामणी-जातक -- देखो संवर-जातक

गामिक -- ग्रामीण

गामी -- जाने वाला

गायक -- गाने वाला

गायति -- गाता है

गायन -- गाना

गायिका -- गाने वाली

गारय्ह -- निन्दनीय

गारव -- गौरव

गाळ्ह -- मजबूत, कसा हुआ

गावी -- गौ

गावुत -- गव्यूति, दूरी का माप

गावो -- पशु

गाह -- 1. पकड़, 2. दृष्टि, 3. मत

गाहक -- लेने वाला, ग्रहण करने वाला, ग्राहक

गाहति -- भीतर जाता है, डुबकी लगाता है

गाहन -- भीतर जाना, डुबकी लगाना

गाहपच्‍च -- गार्हपत्य

गाहापक -- ग्रहण कराने वाला

गाहापेति -- ग्रहण करवाता है

गाही -- गाहक [ग्राहक]

गाहेति -- ग्रहण कराता है

गिंगमक -- आभरण-विशेष

गिज्झ -- गीध

गिज्झ-कूट -- राजगृह के पास गृध्र-कूट पर्वत

गिज्झ जातक -- कृतज्ञ गीधों ने जहाँ-तहाँ से लोगों के आभूषण आदि उठा-उठा लाकर सेठ के मकान में गिराने आरम्भ किये

गिज्झ जातक -- सुपत्त गीध ने अपने पिता का कहना न मान जान गँवाई

गिज्झति -- लोभ करता है

गिञ्‍जका -- ईट

गिञ्‍जकावसथ -- ईटों का बना घर

गिद्ध -- लुब्ध

गिद्धि -- लोभ, आसक्ति

गिद्धी -- लोभी

गिनि -- अग्नि, आग

गिम्ह -- गरमी, ग्रीष्म ऋतु

गिम्हान -- ग्रीष्म-ऋतु

गिम्हिक -- ग्रीष्म ऋतु सम्बन्धी

गिरग्ग समज्‍जा -- समय-समय पर मनाया जाने वाला पहाड़वाला उत्सव

गिरा -- वाणी

गिरि -- पर्वत

गिरि-गब्भर -- पर्वत-गुफा

गिरि-दन्त जातक -- अपने शिक्षक को लँगड़ाता देख घोड़ा भी लँगड़ाने लगा

गिरिब्बज -- मगधों की पूर्व राजधानी

गिरि-राज -- मेरु पर्वत

गिरि-सिखर -- गिरि-शिखर

गिलति -- निगल जाता है

गिलन -- निगलना

गिलान -- रोगी

गिलान-पच्‍चय -- रोगी का पथ्य

गिलान-भत्त -- रोगी का भोजन

गिलान-साला -- रोगी-शाला

गिलानालय -- रोग का बहाना

गिलानुपट्ठाक -- रोगी-सेवक

गिलानुपट्ठान -- रोगी-सेवा

गिलायति -- रोगी होता है, दर्द करता है

गिलित -- खाया हुआ

गिही -- बन्धन, गृही-बन्धन

गिही-भोग -- गृहस्थ के भोग

गिही-व्यञ्‍जन -- गृहस्थ की विशेषताएँ

गिही-संसग्ग -- गृहस्थों के साथ संसर्ग

गीत -- गाना

गीत-रव -- गीत की आवाज

गीत-सद्द -- गीत की आवाज

गीवा -- गर्दन, ग्रीवा

गीवेय्यक -- गर्दन का गहना

गुग्गुलु -- गुग्गल

गुञ्‍जा -- रत्ती-भर [तौल]

गुण -- सद्गुण या दुर्गुण, धागा [दिगुण, दोहरा, द्विगुण]

गुण-कथा -- प्रशंसा

गुण-कित्तन -- आत्म-प्रशंसा

गुण-गण -- गुणों का समूह

गुणवन्तु -- गुणवा

गुणानुपेत -- गुणी

गुणहीन -- गुण-रहित

गुण-जातक -- शेर को गीदड़ ने दलदल में से निकाला

गुणक -- जिसके सिरे पर गाँठ हो

गुण्ठिक -- ढका हुआ

गुण्ठिका -- धागे का गोला

गुण्ठेति -- लपेटता है

गुण्डिक -- देखो गुण्ठिक

गुणेतर -- दोष

गुत्त -- संरक्षित

गुत्त-द्वार -- संयतेन्द्रिय

गुत्ति -- संरक्षक

गुत्तिक -- चौकीदार

गुत्तिल जातक -- आचार्य गुत्तिल तथा उसके शिष्य मूसिल का मुकाबला

गुद -- गुदा

गुम्ब -- झाड़ी

गुम्बिय जातक -- सार्थवाह ने अपने सार्थ को जंगल की कोई भी चीज बिना उससे पूछे खाने के लिए मना किया

गुय्ह -- रहस्य, छिपाने योग्य

गुय्ह-भण्डक -- पुरुष-लिङ्ग अथवा स्त्री-लिङ्ग

गुरु -- शिक्षक

गुरु-दक्खिणा -- गुरु की दक्षिणा

गुहा -- गुफा

गुळ -- गुड़, गोली, गेंद

गुळ-कीळा -- गोलियों की क्रीड़ा

गुळिका -- गोली

गूथ -- गोबर, गूँह

गूथ-पाणक -- गूँह में रहने वाला कीड़ा

गूथ-भक्ख -- गूँह खाने वाला

गूथ-भाणी -- बुरा बोलने वाला

गूथ-पाण जातक -- गोबर के कीड़े ने शराब पी ली, उसे नशा चढ़ गया

गूहति -- छिपाता है

गूहन -- छिपाव

गूहित -- छिपा हुआ

गूळ्ह -- छिपा हुआ

गेण्डुक -- गेंद

गेध -- लोभ

गेधित -- लुब्ध

गेय्य -- गाने योग्य, त्रिपिटिक के नौ अंगों में से एक, गेय्य अंश

गेरुक -- गेरू का रंग

गेलञ्‍ज -- रोग

गेह -- घर

गेहङ्गन -- घर का आँगन

गेहजन -- परिवार के सदस्य

गेहट्ठान -- घर के लिए जगह

गेह-द्वार -- घर का दरवाजा

गेह-निस्सित -- घर पर आश्रित

गेहप्पवेसन -- गृह-प्रवेश का संस्कार

गो -- गाय, बैल, साँड़, पशु

गो-कण्टक -- पशुआें के खुर

गो-कुल -- गो-घर, गौ-शाला

गो-गण -- पशु-समूह

गो-घातक -- कसाई

गोकुलिक -- वज्‍जिपुत्तकों का एक उपभेद

गोचर -- चरागाह

गोचर-गाम -- भिक्षाटन-क्षेत्र

गोच्छक -- गुच्छा

गोट्ठ -- गौआें का बाड़ा

गोण -- बैल, वृषभ

गोणक -- एक प्रकार का बैल, ऊन का गलीचा

गोतम -- गोतम-गोत्र सम्बन्धी, शाक्यों का गोत्र

गोतमी -- गोतम गोत्र की गोत्त, गोत्र

गोत्रभू -- एक पारिभाषिक शब्द, वह जो सांसारिक न रहा, बल्कि निर्वाण जिसका उद्देश्य हो गया हो

गोध जातक -- तपस्वी ने गोह-मांस के लोभ से गोह की हत्या करनी चाही

गोध-जातक -- गोह-बच्‍चे ने गिरगिटबालिका से यारी की

गोध-जातक -- गोह ने ढोंगी तपस्वी को आश्रम त्यागने पर मजबूर किया

गोध-जातक -- राजकुमार तथा उसकी भार्या को शिकारियों ने गोह का मांस दिया

गोधा -- गोह

गोधावरी -- दक्षिणापथ की एक नदी [गोदावरी]

गोधूम -- गेहूँ

गोनस -- विषैला सर्प

गोपक -- पहरेदार, चौकीदार

गोपानसी -- कड़ियाँ

गोपी -- ग्वाले या चरवाहे की स्त्री

गोपुर -- द्वार

गोपेति -- रक्षा करता है

गोपेतु -- रक्षक

गोप्फक -- गुलेल

गोमय -- गोबर

गोमिक -- पशुआें का मालिक

गोमी -- पशुआें का मालिक

गोमुत्त -- गोमूत्र

गो-यूथ -- गौआें का झुण्ड

गोरक्खा -- गौ-रक्षा, गौ-पालन

गोळक -- गेंद

गोसीस -- पीला चन्दन

-- कवर्ग का चौथा अक्षर

घंसति -- रगड़ता है

घच्‍चा -- विनाश

घट -- घड़ा

घटक -- छोटा बर्तन

घटजातक -- कोसल नरेश के मन्त्री को लेकर सुनाई गई कथा

घटजातक -- किस प्रकार घट पण्डित ने अपने भाई वासुदेव का कष्ट दूर किया

घटति -- कोशिश करता है, प्रयास करता है

घटना -- मेल

घटा -- भीड़

घटासन जातक -- वृक्ष पर रहने वाले पक्षियों को मार डालने के लिए जलाशय में रहने वाले नाग-देवता ने आग भड़काई

घटिका -- सुराही

घटी -- जल-पात्र

घटीकार -- कुम्हार

घटी-यन्त -- घटी-यन्त्र, रहट

घटीयति -- सम्बन्धित होता है

घटेति -- प्रयत्न करता है

घट्टन -- संघर्ष

घट्टेति -- चोट पहुँचाता है, रुष्ट करता है

घण्टा -- [बजाने का] घण्टा

घत -- घृत%घी

घत-सित्त -- जिस पर घी डाला गया हो

घन -- मोटा, स्थूल

घनतम -- बहुत मोटा, अत्यन्त स्थूल

घन-पुप्फ -- फूलों वाला गलीचा

घनसार -- कपूर

घनोपल -- ओले

घम्म -- ऊष्णता

घम्म-जल -- पसीना

घम्माभितत्त -- गरमी से हैरान

घर -- गृह

घर-गोलिका -- छिपकली

घर-बन्धन -- विवाह

घर-मानुष -- घर के लोग

घर-सप्प -- चूहा

घराजिर -- घर का आँगन

घरावास -- गृहस्थ जीवन

घरणी -- गृहिणी

घस -- खाने वाला

घसति -- खाता है

घंसेति -- रगड़ता है

घात -- हत्या

घातन -- हत्या

घातक -- हत्यारा, लुटेरा

घाती -- हत्यारा, लुटेरा

घातापेति -- हत्या करवाता है, लुटवाता है

घातेति -- हत्या करता है, लूटता है

घाण -- नाक

घाण-विञ्‍ञाण -- घ्राणेन्द्रिय के माध्यम से उत्पन्‍न होनेवाला ज्ञान

घायति -- सूंघता है

घायित -- खाया हुआ

घास -- घास, जानवरों का आहार

घासच्छादन -- भोजन-वस्त्र

घास-हारक -- घास लाने वाला

घुट्ठ -- घोषित

घोटक -- बिना सधा हुआ घोड़ा

घोर -- भयानक

घोरतर -- अधिक भयानक

घोस -- घोषणा, शब्द

घोसक -- घोषणा करने वाला

घोसापेति -- घोषणा कराता है

घोसिताराम -- कोसम्बी का प्रसिद्ध विहार

घोसेति -- घोषणा करता है

-- और तब, अब

चकित -- हैरान, भयभीत

चकोर -- चकोर

चक्‍क -- चक्र, चक्‍का, पहिया

चक्‍क-अङ्कित -- चक्रांकित, चक्र के निशान वाला

चक्‍क-पाणी -- चक्र-पाणि, विष्णु

चक्‍क-युग -- पहियों का जोड़ा

चक्‍क-रतन -- चक्रवर्ती राजा का रत्न-चक्र

चक्‍क-वत्ती -- चक्रवर्ती राजा

चक्‍क-समारूळ्ह -- चक्रों [गाड़ियों] पर चढ़े हुए

चक्‍कवाक -- चकवा

चक्‍कवाक जातक -- संतोष सौन्दर्य प्रदान करता है जैसे चकवा-चकवी का, और लोभ सौन्दर्य नष्ट करता हैजैसे कौवे का

चक्‍कवाक जातक -- ऊपरी जातक के समान

चक्‍क-वाळ -- धेरा, क्षेत्र

चक्‍कव्ह -- चक्रवाक, चकवा

चक्‍किक -- एकसाथ स्तुति-पाठ करने वाले

चखुक -- आँख

चक्खुक -- आँख वाला

चक्खुदद -- आँख देनेवाला

चक्खु-धातु -- दृष्टि

चक्खु-पथ -- द्दष्टिपथ

चक्खु-भूत -- सम्यक् द्दष्टिवाला

चक्खुमन्तु -- आँख वाला

चक्खु-लोल -- आँख का लोभी

चक्खु-विञ्‍ञाण -- द्दष्टि के द्वारा प्राप्त ज्ञान

चक्खु-सम्फस्स -- चक्षु-स्पर्श

चक्खुस्स -- आँख को अच्छा लगने वाला या आँख के लिए अच्छा

चङ्कम -- चंक्रमण-भूमि, चंक्रमण करना

चङ्कमन -- चंक्रमण करना

चङ्कमति -- चंक्रमण करता है

चङ्गवार -- दूध छानने का कपड़ा या छलनी

चङ्गोटक -- छोटी टोकरी

चच्‍चर -- आँगन, चौरस्ता

चजति -- त्याग देता है

चजन -- त्याग

चञ्‍चल -- अस्थिर

चटक -- चिड़िया

चणक -- चना

चण्ड -- भयानक, प्रचण्ड

चण्डपज्‍जोत -- बुद्ध का समकालीन अवन्ति-नरेश

चण्डासोक -- भाइयों की निर्दयतापूर्वक हत्या करने के कारण अशोक को दिया गया नाम

चण्डाल -- जाति-बहिष्कृत अथवा अस्पृश्य

चण्डाल-कुल -- नीचतम कुल

चण्डाली -- चण्डाल

चण्डिक्‍क -- भयानकता, प्रचण्डभाव

चतु -- चार

चतुक्‍कण्ण -- चतुष्कोण

चतुक्खत्तुं -- चार बार

चतुग्गुण -- चौगुना

चत्तालीसति -- चवालीस

चतुज्‍जाति-गन्ध -- चार प्रकार की सुगन्धि

चतुत्तिंसति -- चाैंतीस

चतुद्दस -- चौदह

चतुद्दिसा -- चारों दिशाएँ

चतुद्वार -- चारों द्वार

चतुनवुति -- चौरानबे

चतुपच्‍चय -- भिक्षु की चीवर आदि चार आवश्यकताएँ

चतुपण्णास -- चौवन

चतु-परिसा -- चार प्रकार की परिषद अर्थात् भिक्षु, भिक्षुणियाँ, उपासक तथा उपासिकाएँ

चतु-भूमक -- चार तल्‍लों का

चतु-मधुर -- चार प्रकार के घी, मधु आदि माधुर्य

चतुरङ्गिक -- चार हिस्सों वाला

चतुरङ्गिनी -- चार अंगो वाली सेना

चतुरङ्गल -- चार अंगुल भर

चतुरस्स -- चौकोर

चतुरस्सक -- चार तल्‍ले का महल

चतुरंस -- चतुष्कोण

चतुरासीति -- चौरासी

चतुवीसति -- चौबीस

चतुसट्ठि -- चसठ

चतु-सत्तति -- चौहत्तर

चतुक्‍क -- चार, चौरस्ता

चतुद्वार-जातक -- इसी कथा का दूसरा नाम महामित्तविन्दक जातक भी है

चतुत्थ -- चौथा

चतुत्थी -- पक्ष का चौथा दिन

चतुधा -- चार तरह से

चतुपोसथिक जातक -- 441वीं जातक का शीर्षक, वहाँ लिखा है कि यह पुण्णक जातक के अन्तर्गत है, इस नाम की कोई जातक कथा नहीं है

चतुप्पद -- चतुष्पाद, चार पैरों वाला जानवर

चतुब्बिध -- चार प्रकार से

चतुभानवार -- पाँच निकायों में से और विशेष रूप से खुद्दक-पाठ में से सत्ताईस उद्धरणों का एक संग्रह

चतुमट्ट जातक -- चित्रकूट पर्वत से आये हंसो की कथा

चतुर -- होशियार, बुद्धिमान

चतुरोपधि -- चार प्रकार के बन्धन

चत्त -- त्यक्त, त्यागा हुआ

चन -- ‘कभी कभी’ के अर्थ के वाचक ‘कुदाचन’ शब्द का एक अंश

चनं -- देखिये चन

चन्द -- चाँद

चन्दग्गाह -- चाँद-ग्रहण

चन्द-मण्डल -- चाँद की तश्तरी

चन्द किन्‍नर जातक -- बनारस-नरेश ने चन्दा किन्‍नरी पर आसक्त हो चन्दा के पति चन्द किन्‍नर को मार डाला, चन्दा किन्‍नरी की स्वामिभक्ति

चन्दन -- चन्दन का वृक्ष, चन्दन की लकड़ी

चन्दन-सार -- चन्दन का सार

चन्दाभ जातक -- चन्द्र तथा सूर्य पर चित्त एकाग्र करने वाले आभास्वर लोक में उत्पन्‍न होते हैं

चन्दनिका -- नाबदान

चन्दप्पभा -- चाँदनी

चन्दभागा -- चन्द्रभागा नदी

चन्दिका -- चाँदनी

चन्दिमा -- चाँद

चपल -- चंचल, अस्थिर

चपु-चपु-कारकं -- चपचप आवाज करते हुए [भोजन करना]

चमर -- हिमालय-प्रदेश की सुरागाय

चमू -- सेना

चमूपति -- सेनापति

चम्पक -- चम्पा

चम्पा -- इसी नाम की नदी के किनारे का एक नगर, यह अंग की राजधानी था, वर्तमान भागलपुर

चम्पेयक जातक -- मगध नरेश ने चम्पा नदी में रहने वाले नागराज की सहायता से अंग-नरेश को हराया

चम्म -- चर्म

चम्मकार -- चमार

चम्म-खण्ड -- आसन की तरह उपयोग में आने वाला चर्म-खण्ड

चम्म-पसिब्बक -- चमड़े का थैला

चय -- संग्रह, ढेर

चर -- घूमने वाला, चर-पुरुष [गुप्तचर]

चरक -- देखो चर

चरण -- चलना-फिरना, पैर आचरण

चरति -- चलता-फिरता है, आचरण करता है

चराचर -- चलाचल वस्तु

चरापेति -- चलाता है

चरित -- चरित्र [जीवन-]चरित

चरिम -- अन्तिम

चरिया -- आचरण, चरित

चरिया-पिटक -- खुद्दक निकाय के पन्द्रह ग्रन्थों में से एक, यह खुद्दक निकाय का अन्तिम ग्रन्थ माना जाता है

चरु -- यज्ञीय द्रव्य

चल -- अस्थिर

चल-चित्त -- अस्थिर चित्त

चलति -- चंचल होता है, काँपता है

चलन -- हिलना-डोलना, काँपना

चलनी -- वात मृग

चवति -- गिरता है

चवन -- पतन, मृत्यु

चसक -- पान पात्र

चाग -- भेंट, त्याग

चागानुस्सति -- अपनी उदारता का अनुस्मरण

चागी -- त्यागी

चाटि -- एक बर्तन

चाटुकम्यता -- चाटुकारिता, खुशामद

चातक -- चातक पक्षी

चातुद्दसी -- पक्ष की चतुर्दशी

चातुद्दिस -- चारों दिशाआें से सम्बन्धित

चातुद्दीपक -- चार द्वीपों पर छाया हुआ

चातुम्महापथ -- चारों सड़कों के मिलने की जगह, चौरस्ता

चातुम्महाभूतिक -- पृथ्वी, अप, तेज, वायु नाम के चारों महाभूतों से सम्बन्धित

चातुम्महाराजिक -- निम्मतम देवलोक में रहने वाले चातुर्महाराजिक देवताआें से सम्बन्धित

चातुरिय -- चतुराई

चाप -- धनुष

चापल्‍ल -- चपलता

चामर -- चँवरी

चामिकर -- स्वर्ण

चार -- चलन

चारक -- चलाने वाला, कैदखाना

चारण -- चलाया जाना, व्यवस्था

चारिका -- यात्रा

चारित्त -- आदत, आचरण, अभ्यास

चारु -- सुन्दर, आकर्षक

चारु-दस्सन -- सुन्दर

चारेति -- चलाता है, [इन्द्रियों को] दौड़ाता है

चाल -- आघात

चालेति -- चलाता है

चावना -- गिरावट, हटाना

चावेति -- गिराता है

चि [कोचि] -- कोई

चिक्खल्‍ल -- कीचड़, दलदल

चिङ्गुलायति -- अपने गिर्द घूमता है

चिटचिटायति -- चिट-चिट करता है

चिञ्वा -- इमली वृक्ष

चिण्ण -- अभ्यस्त

चिण्ह -- चिह्न, निशान

चित -- एकत्रित

चितक -- चिता

चिति -- ढेर

चित्त-सम्भूत जातक -- चित्त तथा सम्भूत दोनों चण्डाल-भाइयों के जाति-अभिमानियों द्वारा पीटे जाने की कथा

चित्त -- 1. चित्त, मन, विचार, 2. चित्र, तस्वीर, 3. चैत्र मास, 4. नानाविध, सुन्दर

चित्तक्खेप -- चित्त का विक्षेप

चित्तपस्सद्धि -- चित्त की शान्ति

चित्त-मुदुता -- चित्त की कोमलता

चित्त-समय -- चित्त की एकाग्रता

चित्तानुपस्सना -- चित्तानुपश्यना

चित्ताभोग -- विचार

चित्तुजुकता -- चित्त का सीधापन

चित्तुत्रास -- चित्त का त्रास, भय

चित्तुप्पाद -- चित्त की उत्पत्ति

चित्तकत -- सजा हुआ, चित्रकृत

चित्तकथिक -- श्रेष्ठ वक्ता

चित्त-कम्म -- चित्रकला

चित्त-कार -- चित्रकार

चित्ततर -- विचित्र-तर

चित्तागार -- चित्रागार

चित्तक -- तिलक, एक प्रकार का मृग

चित्तता -- विचित्रता, चित्त-भाव

चित्तीकार -- आदर, सत्कार

चिनाति -- ढेर लगाता है, संग्रह करता है

चिन्तक -- सोचने वाला, विचारक

चिन्ता -- चिन्ता, विचार

चिन्तामणि -- इच्छापूर्ति करने वाली मणि

चिन्तामय -- विचारयुक्त

चिन्तित -- विचार किया हुआ आविष्कृत

चिन्ती -- [समास में] सोचता हुआ

चिन्तेतब्ब -- विचारणीय

चिन्तेति -- सोचता है

चिन्तमान -- सोचता हुआ

चिन्तेय्य -- विचारणीय

चिमिलिका -- तकिये का खोल

चिर -- बहुत देर तक रहने वाला

चिरकाल -- दीर्घकाल

चिरट्ठितिक -- चिर स्थायी

चिरतर -- और भी अधिक देर

चिरनिवासी -- देर से रहने वाला

चिरपब्बजित -- देर से प्रब्रजित

चिरप्पवासी -- चिरकाल से प्रवास पर गया हुआ

चिरत्तं -- चिरकाल का भाव

चिरत्ताय -- चिरकाल के लिए

चिरं -- चिरकाल तक

चिरस्सं -- अति विलम्ब, अन्त में

चिरातीत -- चिरभूत [काल]

चिराय -- चिरकाल के लिए

चिरायति -- देर करता है

चिरेन -- बहुत समय बाद

चीन-पिट्ठ -- लाल सीसा

चीन-रट्ठ -- चीन राष्ट्र

चीर -- छाल, छाल का कपड़ा

चीरक -- देखिये चीर

चीरी -- झींगुर

चीवर -- बौद्ध भिक्षु का काषायवस्त्र

चीवर-कण्ण -- चीवर का कोना

चीवर-कम्म -- चीवर का बनाना

चीवर-कार -- चीवर बनाने वाला

चीवर-दान -- चीवर अथवा चीवरों का देना

चीवर-दुस्स -- चीवर बनाने के लिए वस्त्र

चीवर-रज्‍जु -- चीवर टाँगने की रस्सी

चीवर-दंस -- चीवर टाँगने के लिए बाँस

चुण्ण -- चूर्ण

चुण्ण-विचुण्ण -- चूर्ण-विचूर्ण

चुण्णक -- सुगन्धित चूर्ण

चुण्णक-जात -- चूर्णकृत

चुण्णक-चालनी -- चूर्ण-छलनी

चुण्णित -- चूर्ण किया हुआ

चुण्णेति -- चूर्ण कर डालता है

चुत -- गिरा

चुति -- च्युत होना, अदृश्य हो जाना

चुदित -- दोषारोपित

चुदितक -- दोषारोपित

चुद्दस -- चौदह

चुन्द -- सुनार या लोहार, पावा का निवासी उसी के यहाँ का भोजन भगवान् का अन्तिम भोजन सिद्ध हुआ

चुन्दकार -- खरादने वाला

चुन्दभण्ड -- चुन्द [सुनार] का सामान

चुबुक -- ठोड़ी

चुम्बटक -- गेण्डुरी

चुम्बति -- चूमता है

चुल्‍ल -- छोटा

चुल्‍लन्तेवासिक -- छोटा शिष्य

चुल्‍ल-पितु -- चाचा

चुल्‍ल-उपट्ठाक -- लघु-सेवक

चुल्‍लकसेट्ठि जातक -- मरी चुहिया से आरम्भ करके, व्योपार द्वारा धनी हो जाने की कथा

चुल्‍लकालिङ्ग जातक -- दन्तपुर नरेश कालिङ्ग की युद्ध-लिप्सा

चुल्‍लकुणाल जातक -- देखो कुणाल जातक

चुल्‍लधनुग्गह जातक -- तक्षशिला के आचार्य ने अपने धनुर्धारी शिष्य से अपनी बिटिया की शादी की

चुल्‍लधम्मपाल जातक -- रानी राजा का सत्कार करने के निमित्त खड़ी न हो सकी, राजा ने

पुत्र के हाथ-पाँव कटवा दिये चुल्‍लनन्दिय जातक -- ब्राह्मण ने बूढ़ी बंदरी की हत्या की

चुल्‍लनारद जातक -- तपस्वी-पुत्र तरुणी पर आसक्त हुआ

चुल्‍लपदुम जातक -- राजा ने अपने सभी बेटों को देश-निकाला दिया

चुल्‍लपलोभन जातक -- राजकुमार को स्त्रियों से घृणा थी, शनैःशनैः एक नर्तकी उसे लुभाने में समर्थ हुई

चुल्‍लबोधि जातक -- माता-पिता के निधन के बाद पति-पत्नी तपस्वी बन गये

चुल्‍लसुतसोम जातक -- सोम-रस पेय करने वाले राजकुमार की सोलह हजार रानियों की कथा

चुल्‍लहंस जातक -- नब्बे हजार सुनहरी बत्तखों के राजा की कथा

चुल्‍ली -- चूल्हा

चूचुक -- स्तन का अगला भाग

चूलजनक जातक -- देखो महाजनक जातक

चूल-वग्ग -- विनय-पिटक के दोनों खन्धकों में से एक

चूळा -- सिर के बाल, जूड़ा

चूळामणि -- चूड़े या जूड़े में पहनी जाने वाली मणि

चूळिका -- बालों का गुच्छ

चे -- यदि

चेट -- सेवक, बालक

चेटक -- नौकर, गुलाम

चेटिका -- सेविका, बालिका

चेटी -- सेविका, बालिका

चेत -- चित्त

चेतक -- वन्य जन्तु, बन्धन

चेतना -- इरादा

चेतयति -- विचार करता है

चेतस -- मन [पाप-चेतस=पापी मन]

चेतसिक -- चैतसिक, चित्तसम्बन्धी

चेतापेति -- अदली-बदली करता है

चेतिय -- चैत्य, धातु-गर्भ

चेतियङ्गण -- चैत्य का आंगन

चेतिय-गब्भ -- चैत्य का गर्भ

चेतिय-पब्बत -- चैत्य-पर्वत

चेतिय जातक -- चेति-नरेश, अपचर तथा विश्व के प्रथम मिथ्यावादी की कथा

चेतेति -- देखो चेतयति

चेतोखिल -- चित्त-हानि

चेतोपणिधि -- निश्चय

चेतोपरिञ्‍ञाण -- दूसरों के विचारों को जान लेना

चेतोपसाद -- चित्त की प्रसन्‍नता

चेतोविमुत्ति -- चित्त की विमुक्ति

चेतोसमथ -- चित्त की शान्ति

चेल -- वस्त्र

चेल-वितान -- चँदवा

चेलुक्खेप -- वस्त्रों का उछालना

चोच -- केला [-फल]

चोच-पान -- केले का पेय

चोदक -- दोषारोपक

चोदना -- दोषारोपण

चोदित -- दोषारोपित

चोदेति -- दोषारोपण की प्रेरणा करता है

चोपन -- चलन

चोर -- चोर, डाकू

चोर-घातक -- जल्‍लाद

चोर-उपद्दव -- डाकुआें के द्वारा किया जाने वाला आक्रमण

चोरिका -- चोरी

चोरी -- चोरिणी, चोट्टी

चोळ -- वस्त्र

चोळ-रट्ठ -- चोळ राष्ट्र

चोळक -- चीथड़ा

चोळिय -- चोळ देश का

-- छह

छक्खत्तुं -- छह बार

छचत्तालीसति -- छियालीस

छद्वारिक -- छह इन्द्रियों से सम्बन्धित

छनवुति -- छियानवे

छपञ्‍ञास -- छप्पन

छब्बग्गिय -- षड्वर्गीय भिक्षु

छब्बण्ण -- छह वर्णो का

छब्बसिक -- छह वार्षिक

छब्बिध -- छह प्रकार का

छब्बीसति -- छब्बीस

छसट्ठि -- छियासठ

छसत्तति -- छिहत्तर

छक -- विष्ठा

छकन -- अश्वादि की लीद

छकल -- बकरा

छक्‍क -- छह-छह का बण्डल

छट्ठ -- छठा

छट्ठी -- षष्ठी विभक्ति

छड्डक -- फेंकने वाला

छड्डन -- फेंकना

छड्डनीय -- फेंकने योग्य

छड्डापेति -- फिंकवाता है

छड्डित -- फिंकवाया गया वमन किया गया

छड्डेति -- फेंकता है

छण -- त्योहार, उत्सव

छत्त -- छाता, छात्र, विद्यार्थी

छत्तकार -- छाता बनाने वाला

छत्त-गाहक -- छाता ले चलने वाला

छत्त-नाळि -- छाते का बेंत

छत्त-दण्ड -- छाते का बेंत

छत्त-पाणि -- छाता ले जाने वाला

छत्त-मङ्गल -- छत्र चढ़ाने का उत्सव

छत्त-उस्सापन -- राजकीय छत्र का उठाना

छत्तिंसति -- छत्तीस

छद -- छदन, ढाँकने का वस्त्र

छदन -- छत

छद्दन्त -- छह दाँतों वाला

छद्दन्त जातक -- हस्ति-राज छद्दन्त की कथा

छद्दिका -- वमन

छद्धा -- छह प्रकार से

छधा -- छह प्रकार से

छन्द -- इच्छा, कामना

छन्द-राग -- उत्तेजक कामना

छन्दक -- मत, चन्दा

छन्दागति -- पक्षपात

छन्‍न -- ढका गया, ठीक, योग्य

छन्‍न -- गौतम बुद्ध का सारथी, [बाद में] साथी

छप्पञ्‍च -- छह या पाँच

छप्पद -- शहद की मक्खी

छमा -- क्षमा [पृथ्वी] जमीन

छम्भति -- भय से जड़ीभूत हो जाता है

छरस -- तिक्त, मधुर आदि छह रस

छव -- शव, लाश

छव-कुटिका -- श्मशान

छवट्ठिक -- शव की हड्डी

छव-दाहक -- लाश जलाने वाला

छवालात -- चिता की आग

छवक जातक -- राजा ने अपने गले का हार चाण्डाल को पहनाया

छवि -- चमड़ी

छवि-कल्याण -- चमड़ी का सौन्दर्य

छवि-वण्ण -- चमड़ी का रंग

छळङ्ग -- छह अङ्गों से युक्त

छळभिञ्‍ञा -- छह प्रकार के दिव्यज्ञान [-अभिज्ञा]

छळंस -- षट्कोण

छा -- भूख-प्यास

छात -- भूखा

छातक -- भूख, अकाल

छादन -- आवरण, आच्छादन, शरीर ढकने के वस्त्र

छादना -- आवरण, आच्छादन, शरीर ढकने के वस्त्र

छादनीय -- ढकने योग्य

छादेति -- ढकता है

छाप -- पशु-शावक, पशुआें का छौना

छापक -- पशु-शावक, पशुआें का छौना

छाया -- छाया, साया

छायामान -- छाया को नापना

छायारूप -- छाया-चित्र, फोटो

छारिका -- राख

छाह -- छह दिन

छि -- निपात, निश्चयार्थ

छिग्गल -- छिद्र

छिज्‍जति -- कटता है

छिद -- टूटता हुआ [बन्धन-छिद, बन्धनों को छिन्‍न-भिन्‍न करने वाला]

छिद्द -- छिद्र, सूराख

छिद्दक -- छिद्र वाला

छिद्दगवेसी -- दूसरों के दोष खोजने वाला

छिद्दावच्छिद्दक -- छिद्रों से भरा हुआ

छिद्दित -- छेदा हुआ

छिन्दति -- काटता है

छिन्दिय -- जो काटा जा सके, जो टूट सके

छिन्‍न -- टूटा हुआ, नष्ट हुआ

छिन्‍नास -- निराश

छिन्‍ननास -- जिसकी नाक कटी हो

छिन्‍न-भत्त -- जिसे आहार न मिलता हो

छिन्‍न-वत्थ -- जिसके वस्त्र फट गये हों

छिन्‍न-हत्थ -- जिसके हाथ काट लिये गये हों

छिन्‍न-इरियापथ -- जो चल-फिर न सकता हो

छुद्ध -- क्षुब्ध, उत्तेजित, प्रक्षिप्त, फेंका गया

छुपति -- स्पर्श करता है

छुपन -- स्पर्श

छुरिका -- [छूरिकाभी] छुरी, चाकू

छेक -- दक्ष, होशियार

छेकता -- दक्षता, होशियारी

छेज्‍ज -- काट डालने योग्य, अंग-छेद द्वारा दिया जाने वाला दण्ड

छेतब्ब -- काट डालने योग्य

छेत्तु -- काटने वाला

छेत्वा -- काटकर

छेत्वान -- काटकर

छेद -- काट

छेदक -- काटने वाला

छेदन -- काट

छेदापन -- कटवाना

छेदापेति -- कटवाता है

छेप्पा -- पूँछ, दुम

जगती -- [जगति, समास पदों में ही], पृथ्वी, दुनिया

जगतिप्पदेस -- पृथ्वी-प्रदेश

जगति-रूह -- वृक्ष

जग्गति -- देख-भाल करता है, पोषण करता है, जागता रहता है

जग्गित्वा -- जागकर

जग्गन -- जागरण

जग्घति -- मजाक बनाता है

जग्घना -- मजाक

जग्घित -- मजाक

जङ्गम -- चल [सम्पत्ति]

जङ्गल -- आरण्य, रेगिस्तान

जङ्घमग्ग -- पगडण्डी

जङ्घपेसनिक -- संदेश-वाहन, संदेश-वाहक

जङ्घा -- जाँघ

जङ्घा-बल -- जाँघ की शक्ति

जङ्घा-विहार -- सैर

जङ्घेय्य -- जाँघ-भर ढकने का वस्त्र

जच्‍च -- जन्म-सम्बन्धी

जच्‍चन्ध -- जन्म से अन्धा

जच्‍चा -- जन्म से

जज्‍जर -- जरा से जर्जरित

जञ्‍ञ -- पवित्र, श्रेष्ठ, आकर्षक, कुलीन

जट -- मूठ, मुठिया

जटा -- जटा [-केश], पेड़ों की उलझी डालियाँ, [आलंकारिक अर्थ में] कामनाआें का उलझाव

जटाधर -- जटाधारी

जटित -- उलझा हुआ

जटी -- जटाधारी तपस्वी

जटिल -- जटाधारी तपस्वी

जठर -- पेट

जठरग्गि -- जठराग्नि, भूख

जण्णु -- घुटना

जण्णुतग्ध -- घुटने तक गहरा

जण्हु -- घुटना

जण्हुमत्त -- घुटने तक

जतु -- लाख

जतुमट्ठक -- लाख-बन्द

जतुका -- चिमगादड़

जत्तु -- कंधा, कन्धे की हड्डी

जन -- आदमी, लोग

जन-काय -- जनता

जनपद -- प्रान्त, देश, देहात, काशीकोसल आदि सोलह जनपद

जनपद-कल्याणी -- देश की सुन्दरतम स्त्री

जनपद-चारिका -- देश-भ्रमण

जनसम्मद्द -- लोगों की भीड़

जनक -- उत्पन्‍न करने वाला, पिता, उत्पन्‍न करता हुआ

जनन -- उत्पत्ति

जननी -- माँ

जनसंध जातक -- जनसंघ की दानशीलता की कथा

जनाधिप -- राजा

जनालय -- मण्डप

जनिका -- माँ

जनित -- उत्पन्‍न हुआ

जनिन्द -- राजा

जनेति -- उत्पन्‍न करता है

जनेन्त -- उत्पन्‍न करता हुआ

जनेत्वा -- उत्पन्‍न कर

जनेतु -- उत्पन्‍न करने वाला

जनेत्ती -- माँ

जन्ताघर -- वाष्प-स्नान का घर

जन्तु -- जीव

जप -- जपना

जपति -- जाप करता है

जपित -- जप किया हुआ

जपित्वा -- जप करके

जपा -- जवा, अड़हुल

जप्पना -- लोभ, जल्पना

जप्पा -- लोभ, जल्पना

जम्बाली -- गंदा तालाब

जम्बीर -- नीबू

जम्बु -- जामुन

जम्बुखादक जातक -- लोमुड़ी की खुशामद के चक्‍कर में कौवे ने लोमड़ी के लिए फल गिराये

जम्बुदीप -- जामुन का देश, चारों महाद्वीपों में से एक

जम्बु-सण्ड -- जामुन का बगीचा

जम्बुक -- गीदड़

जम्बुक जातक -- गीदड़ ने हाथी पर आक्रमण किया, हाथी ने उसे पैरों तले कुचल दिया

जम्बोनद -- सोने [स्वर्ण] का प्रकार

जम्भ -- गँवार, निकृष्ट

जम्भति -- अँगड़ाई लेता है, जँभाई लेता है

जम्भना -- जँभाई लेना

जय -- विजय

जयग्गाह -- विजय, पाँसे का अनुकूल पड़ना

जय-पान -- विजय-पान

जय-सुमन -- विजय-सुमन

जयति -- जीतता है

जयद्दिस-जातक -- कम्पिल्‍ल-नरेश पञ्‍चाल के पुत्रों को एक चुड़ैल दो बार खा गई

जया -- पत्नी

जयम्पति -- पत्नी तथा पति

जर -- ज्वर, बूढ़ा

जरग्गव -- बूढ़ा बैल

जरता -- बुढ़ापा

जरा -- बुढ़ापा

जरा-दुक्ख -- बुढ़ापे का दुख

जरा-धम्म -- ह्रास-धर्म

जरा-भय -- बुढ़ापे का भय

जरुदपान जातक -- धन के मोह में अधिक और अधिक खोदने वाले सार्थों ने प्राण गँवाये

जल -- पानी

जल-गोचर -- पानी में रहने वाला

जलचर -- मछली

जलज -- कमल

जलद -- बादल

जलधि -- समुद्र

जल-निग्गम -- जल का बहाव, नाली

जलनिधि -- समुद्र

जलाधार -- जल-संग्रह-स्थल

जलासय -- झील, जलाशय

जलति -- चमकता है, जलता है

जलन -- चमक, जलन

जलाबु -- गर्भाशय

जलाबुज -- गर्भ से उत्पन्‍न होने वाले

जलूका -- जोंक

जल्‍ल -- गन्दगी, मैलापन

जळ -- जड़, अचेतन

जव -- गति, शक्ति

जवति -- दौड़ता है

जवन -- दौड़

जवन-पञ्‍ञ -- क्षिप्र-प्रज्ञा

जवन-हंस जातक -- हंस-राज तथा बनारस-नरेश की मैत्री की कहानी

जव-सकुण जातक -- कठफोड़े ने शेर के मुँह में फँसी हुई हड्डी निकाली

जवनिका -- परदा

जवाधिक -- शीघ्रगामी घोड़ा

जहति -- छोड़ता है

जागर -- जागने वाला

जागर जातक -- वृक्ष-देवता ने तपस्वी से प्रश्न पूछा

जागरति -- जागता रहता है, पहरा देता है

जागरण -- जागते रहना

जागरिय -- जाग्रत

जागरियानुयोग -- जागते रहना

जाणु -- घुटना

जाणु-मण्डल -- टखना

जाणु-मत्त -- घुटने तक

जात -- उत्पन्‍न, घटित, संग्रह, प्रकार

जात-दिवस -- जन्म-दिन

जात-रूप -- सोना

जात-वेद -- अग्नि

जातस्सर -- एक प्राकृतिक झील

जातक -- जन्मकथा, सुत्तपिटक के खुद्दक निकाय का दसवाँ ग्रन्थ, जिसमें बुद्ध के पूर्व-जन्मों की कथाआें का वर्णन है

जातकट्ठकथा -- जातक की अट्ठकथा, इसमें जातक के पद्य-भाग का सम्बन्धित गद्य-विस्तार है

जातक-भाणक -- जातक कथा सुनाने वाले

जातत्त -- उत्पत्ति-भाव

जाति -- जन्म, पुनर्जन्म, जाति [वंश-परम्परा], [सिंहल-]जाति

जाति-कोस -- जावित्री का छिलका

जातिक्खय -- पुनर्जन्म की संभावना का न रहना

जातिक्खेत्त -- जन्म-स्थान

जातित्थद्ध -- जन्माभिमानी

जाति-निरोध -- पुनर्जन्म का निरोध

जाति-फल -- जावित्री

जाति-मन्तु -- अच्छी जाति का, गुणवान

जाति-वाद -- जाति[-वंश परम्परा]के सम्बन्ध में विवाद

जाति-सम्पन्‍न -- अच्छी जाति का

जाति-सुमना -- चमेली

जातिस्सर -- पूर्व जन्मों की स्मृति

जाति-हिंगुलुक -- सेंदूर

जातिक -- जातिगत, जातिसम्बन्धी

जातु -- निश्चय से

जानन -- ज्ञान, पहचान

जाननक -- जानने वाला

जाननीय -- जानने योग्य

जानपद -- जनपद सम्बन्धी, गँवार, देहाती

जानपदिक -- जनपद-सम्बन्धी

जानाति -- जानता है

जानापेति -- जनवाता है

जानि -- हानि, पत्नी

जानि-पति -- पत्नी तथा पति

जामातु -- जँवाई

जायति -- उत्पन्‍न होता है

जायत्तन -- पत्नीत्व

जायन -- जन्म

जाया -- पत्नी

जाया-पति -- पत्नी तथा पति

जार -- यार, उपपति

जारत्तन -- यारी, उपपतित्व

जारी -- छिनाल, उपपत्नी

जाल -- [मछली पकड़ने का] जाल, उलझन

जाल-पूप -- पुआ

जालक -- छोटा जाल, कोंपल

जालक्खिक -- जालरन्ध्र

जाला -- ज्वाला

जालाकुल -- ज्वालाआें सें घिरा

जालिक -- जाल का उपयोग करने वाला मछुआ

जालिका -- लोह-कवच, जाली का बना कवच

जालिनी -- तृष्णा

जालेति -- जलाता है

जिगिंसक -- इच्छुक

जिगिंसति -- इच्छा करता है

जिगुच्छक -- जिगुप्सा करने वाला, घृणा करने वाला

जिगुच्छति -- घृणा करता है

जिगुच्छन -- घृणा

जिगुच्छना -- घृणा, अरुचि

जिगुच्छा -- घृणा, अरुचि

जिघच्छति -- भूखा होता है, खाना चाहता है

जिघच्छा -- भूख

जिञ्‍जुक -- जंगली धतूरा

जिण्ण -- बूढ़ा

जिण्णवसन -- पुराना वस्त्र

जित -- जीता हुआ, जीत लिया गया

जितत्त -- जीत, आत्मविजयी

जिति -- जय, विजय

जिन -- विजेता, जीतने वाला, बुद्ध

जिन-चक्‍क -- बुद्ध-मत

जिन-पुत्त -- बुद्ध-पुत्र

जिन-सासन -- बुद्ध की शिक्षा

जिनाति -- जीतता है

जिम्ह -- टेढ़ा, बेईमान

जिया -- धनुष की डोरी

जिव्हा -- जीभ

जिव्हग्ग -- जीभ का सिरा

जिव्हायतन -- रसेन्द्रिय, रसना

जिव्हाविञ्‍जाण -- जिह्वा के द्वारा प्राप्त ज्ञान

जिव्हिन्द्रिय -- जिह्वा

जीन -- हीन

जीमूत -- बादल

जीयति -- जरा को प्राप्त होता है, बूढ़ा होता है, पुराना पड़ता है

जीरक -- जीरा

जीरति -- जरा को प्राप्त होता है, घटता है, पुराना पड़ता है

जीरण -- जीर्णता

जीरापेति -- जरा को प्राप्त होने का कारण होता है, हजम कराता है

जीव -- जीवन, आत्मा, जीव

जीव-दन्त -- जीवित हाथी के दाँत

जीवक -- जीने वाला, [नाम] बुद्ध का समकालीन प्रसिद्ध वैद्य

जीवकम्बवन -- राजगृह का वह आम्रवन, जो जीवक ने बुद्ध-प्रमुख भिक्षुसंघ को दान कर दिया था

जीवति -- जीता है

जीवन -- जीना

जीविका -- जीवन-यात्रा का साधन [जीविकं कप्पेति, जीविका चलाता है]

जीवित -- जीवन

जीवितक्खय -- जीवन की हानि

जीवित-दान -- जीवन का दान

जीवित-परिपोसान -- जीवन का अन्त

जीवित-मद -- जीवन मद

जीवित-वृत्ति -- जीविका

जीवित-संखय -- जीवन का अन्त

जीवितासा -- जीवनाशा

जीवितिन्द्रिय -- जान, जीवन

जीवित-संसय -- जीवन के लिए खतरा

जीवी -- जीने वाला

जुण्ह -- चमकदार

जुण्ह-पक्ख -- शुक्‍ल पक्ष

जुण्ह -- जातक, राजकुमार जुण्ह ने भिक्षापात्र तोड़ने के बदले में राजा बनने पर ब्राह्मण को दान दिया

जुण्हा -- चाँदनी, चाँदनी रात

जुति -- द्युति, चमक

जुतिक -- चमकदार

जुतिधर -- प्रकाशमा

जुतिमन्तु -- प्रकाशमान

जुहति -- आहुति डालता है

जुहन -- यज्ञ

जूत -- द्यूत, जुआ

जूत-कार -- जुआरी

जे -- नीच कुल की स्त्री को सम्बोधन करने के लिए अव्यय-पद

जेगुच्छ -- घृणित

जेगुच्छी -- घृणा करने वाला

जेट्ठ -- ज्येष्ठ

जेट्ठतर -- ज्येष्ठतर

जेट्ठ-भगिनी -- बड़ी बहिन

जेट्ठ-भातु -- बड़ा भाई

जेट्ठ-मास -- ज्येष्ठ महीना

जेट्ठापचायन -- बड़ों का सम्मान

जेतब्ब -- जीतने योग्य

जेतवन -- श्रावस्ती का वह प्रसिद्ध उद्यान, जिसमें अनाथ पिण्डिक का जेतवनाराम बना था

जेति -- जीतता है

जेतुत्तर -- नगर-विशेष

जेतुमिच्छा -- जीतने की इच्छा

जेय्य -- जीतने योग्य

जोतक -- द्योतक

जोतति -- चमकता है

जोतन -- चमक

जोति -- ज्योति, प्रकाश, तारा, आग

जोति-पाषाण -- चकमक पत्थर

जोतिसत्थ -- ज्योतिष शास्त्र

जोतेति -- प्रकाशित करता है

ज्या -- धनुष की डोरी

झज्झरी -- झंझट

झत्वा -- जलाकर

झल्‍लिका -- झिंगुर

झस -- मछली

झसा -- नागबाला

झाटल -- वृक्ष-विशेष

झान -- ध्यान

झान-अङ्घ -- ध्यान का एक अङ्ग

झान-रत -- ध्यान-रत

झान-विमोक्ख -- ध्यान द्वारा विमुक्ति

झानसोधक जातक -- “न-संज्ञा, न-असंज्ञा’’ की व्याख्या

झानिक -- जिसने ध्यान प्राप्त किया है, ध्यान-सम्बन्धी

झापक -- आग लगाने वाला

झापन -- आग लगाना

झापित -- जलाया गया

झापियति -- जलाया जाता है

झापेति -- जलाता है

झापेत्वा -- जलाकर

झाबुक -- पिचुल

झाम -- जला हुआ

झामक -- जला हुआ

झायक -- ध्यानी

झायति -- ध्यान लगाता है, आग जलाता है

झायन -- ध्यान लगाना, आग जलाना

झायी -- ध्यान लगाने वाला

ञत्त -- ज्ञात

ञत्ति -- घोषणा

ञत्वा -- जानकर

ञाण -- ज्ञान, बुद्धि

ञाण-करण -- ज्ञान देने वाला

ञाण-चक्खु -- ज्ञान की आँख

ञाण-जाल -- ज्ञान का जाल

ञाण-दस्सण -- ज्ञान-दर्शन, सम्पूर्ण ज्ञान

ञाण-विप्पयुत्त -- ज्ञान-शून्य

ञाण-सम्पयुत्त -- ज्ञान-युक्त

ञाणी -- ज्ञानी

ञात -- ज्ञात, प्रसिद्ध, साक्षात्कृत

ञातक -- रिश्तेदार

ञाति -- रिश्तेदार

ञाति-कथा -- रिश्तेदारों की चर्चा

ञाति-धम्म -- रिश्तेदारों का कर्तव्य

ञाति-परिवट्ट -- रिश्तेदारों की मण्डली

ञाति-पेत -- मृत रिश्तेदार

ञाति-व्यसन -- रिश्तेदारों का दुख

ञाति-सङ्गह -- रिश्तेदारों के साथ सयवहार

ञाति-सालोहित -- सम्बन्धी तथा रक्त-सम्बन्धी

ञापन -- घोषणा

ञायेति -- प्रकट करता है, घोषित करता है

ञाय -- व्यवस्था, पद्धति, उचित ढंग

ञाय-पटिपन्‍न -- सुपथगामी

ञेय्य -- ज्ञान का विषय

ञेय्य-धम्म -- जिसे सीखना या जानना योग्य हो

टण्क -- पत्थर काटने की छैनी

टीका -- व्याख्या

टीकाचरिय -- अनुटीकाकार

ठत्वा -- खड़े होकर

ठपन -- स्थापित करना

ठपापेति -- स्थापित कराता है

ठपित -- स्थापित

ठपेति -- रखता है, निश्चित करता है

ठपेत्वा -- रखकर, एक ओर करके

ठान -- स्थान, कारण

ठानसो -- सकारण

ठानीय -- स्थानीय, स्थान देने योग्य

ठापक -- खड़ा रहने वाला, स्थापित करने वाला या रखने वाला

ठायी -- स्थती

ठित -- स्थित

ठितक -- खड़ा होने वाला

ठितट्ठान -- जहाँ आदमी खड़ा था

ठितत्त -- स्थितत्व, संयत

ठिति -- स्थिति

ठितिक -- निर्भर, स्थायी

ठिति-भागीय -- स्थायित्व से सम्बन्धित

डसति -- डंक मारता है

डसन -- डंक मारना

डय्हति -- जलाया जाता है

डहति -- जलाता है

डंस -- डांस

डाक -- खाने योग्य पौधे

डाह -- चमक, गरमी, जलन

डीयन -- उड़ाना

डेति -- उड़ता है

-- [सर्वनाम] सो, वह, सा, वह [स्त्री], तं, वह [वस्तु]

तक्‍क -- विचार, तर्क

तक्‍क -- तक्र, मट्ठा, पञ्‍च गोरस में से एक

तक्‍क जातक -- तपस्वी ने गंगानदी में से डूबती हुई सेठ-कन्या को उबारा

तक्‍कन -- तर्क करना, विचार करना

तक्‍कर -- कर्ता, तस्कर, चोर

तक्‍करु जातक -- देखो कक्‍करु जातक

तक्‍कळ जातक -- वसिट्ठक ने अपनी भार्या के कहने से अपने बूढ़े पिता को मारकर गाड़ देने की तैयारी की, वसिट्ठक के लड़के ने बाप की आँख खोली

तक्‍कसिला -- गन्धार की राजधानी, यहीं प्रसिद्ध तक्षशिला विश्वविद्यालय था

तक्‍कसिला जातक -- सम्भवतः तेलपत्त जातक का ही एक और नाम

तक्‍कारी -- वैजयन्ती

तक्‍काल -- उस समय

तक्‍कारिय जातक -- ब्राह्मण ने अपनी चुप न रह सकने की सामर्थ्य के कारण अपनी जान को खतरे में डाला

तक्‍किक -- तार्किक

तक्‍की -- तार्किक

तक्‍केति -- सोचता है, तर्क करता है

तक्‍कोल -- एक प्रकार की सुगन्धि

तगर -- सुगन्धित द्रव्य

तग्गरुक -- उधर झुका हुआ

तग्घ -- यथार्थ रूप से

तच -- चमड़ी

तच-गन्ध -- छाल की सुगन्ध

तच-पञ्‍चक -- शरीर के केश, लोम, नख, दन्त तथा त्वचा, पाँच अवयव

तच-परियोसान -- ‘त्वचा’ तक सीमित

तचसार जातक -- गाँव के वैद्य ने लड़कों द्वारा साँप पकड़वाना चाहा, एक बुद्धिमान लड़के ने साँप को

मार कर अपनी जान बचाई तचुब्भव -- छाल-निर्मित

तच्छ -- सत्य, यथार्थ, सत्य

तच्छक -- बढ़ई, लकड़ी छीलने वाला

तच्छति -- छीलता है

तच्छन -- छीलना

तच्छनी -- बसूला

तच्छसूकर जातक -- सूअर ने अपने साथियों को संगठित कर सूअर को मार डाला

तच्छेति -- छीलता है

तज्‍ज -- उससे उत्पन्‍न

तज्‍जना -- तर्जना, भय का कारण

तज्‍जनीय -- तर्जना करने के योग्य

तज्‍जनी -- तर्जनी उँगली

तज्‍जारी -- छत्तीस अणु

तज्‍जेति -- तर्जना करता है, डराता है, धमकाता है

तट -- [नदी का] तट, पर्वत या चट्टान की खड़ी दीवार, कगार

तटतटायति -- तट-तट शब्द करता है

तट्टक -- थाली, तश्तरी, ताट [मराठी]

तट्टिका -- एक छोटी चटाई

तण्डुल -- चावल के दाने

तण्डुलनालि जातक -- राजा के मूल्यनिश्चय करने वाले ने पाँच सौ घोड़ों की कीमत चावल की नली बताई

तण्डुल-मुट्ठि -- चावल की मुट्ठी

तण्हा -- तृष्णा

तण्हाक्खय -- तृष्णा का क्षय

तण्हा-जाल -- तृष्णा का जाल

तण्हा-दुतिय -- तृष्णा सहित

तण्हा-पच्‍चय -- तृष्णा के कारण

तण्हा-मूलक -- तृष्णा जिनके मूल में हो

तण्हा-विचारित -- तृष्णा का विचार

तण्हा-संखय -- तृष्णा का मूलोच्छेद

तण्हा-संयोजन -- तृष्णा का बन्धन

तण्हा-सल्‍ल -- तृष्णा-शल्य

तण्हीयति -- तृष्णा करता है

तत -- फैला हुआ

ततिय -- तृतीय

ततिया -- तृतीया

ततियं -- तीसरी बार

ततो -- वहाँ से, उससे, उस लिये

ततो निदानं -- उस कारण से

ततो पट्ठाय -- उस समय से आरम्भ करके

ततो परं -- उसके बाद

तत्त -- तत्त्व, वास्तविकता, तपा हुआ

तत्ततो -- वास्तविक रूप से

तत्तक -- उतने तक, उतने माप तक

तत्थ[तत्र भी] -- वहाँ, उस स्थान पर

तथ -- तथ्य, सत्य

तथता -- सत्यता

तथत्त -- सत्यता

तथवचन -- सत्य वचन

तथा -- वैसे

तथाकारी -- वैसा करने वाला

तथागत -- भगवान् बुद्ध का स्वयं अपने लिए व्यक्हृत वचन, जैसे आया अथवा जैसे गया

तथागत-बल -- तथागत की दस विशिष्ट शक्तियाँ

तथा-भाव -- वैसा-पन

तथा-रूप -- इस प्रकार का, इस रूप का

तथेव -- वैसे ही

तदग्गे -- इससे आगे

तदङ्ग -- वह अङ्ग, वह प्रकरण

तदत्थं -- उस उद्देश्य के लिए

तदनुरूप -- उसके अनुरूप

तदह -- तदहु, उसी दिन

तदहुपोसथे -- उसी उपोसथ-व्रत के दिन

तदा -- उस समय, तब

तदुपिय -- उसके अनुरूप, योग्य

तदुपेत -- उसके साथ

तनय -- [तनुज भी], पुत्र, सन्तान

तनया -- [तनुजा भी], लड़की

तनु -- पतला, दुबला, शरीर

तनुकत -- दुबलाया हुआ

तनुकरण -- दुबलाना

तनुतर -- दुर्बलतर

तनुत्त -- पतले होने का भाव

तनुता -- पतले होने का भाव

तनु-भाव -- पतला होने का भाव

तनु-रूह -- शरीर पर उगे बाल

तनोति -- फैलाता है

तन्त -- धागा

तन्त-वाय -- जुलाहा

तन्ताकुलकजात -- धागे की गेंद की तरह उलझा हुआ

तन्ति -- पंक्ति, परम्परा, पवित्रग्रन्थ

तन्ति-घर -- परम्परा-संरक्षक

तन्तिस्सर -- सितार का संगीत

तन्तु -- धागा

तन्दित -- थका हुआ, सुस्त, अक्रियाशील

तन्दी -- आलसी, प्रमादी

तप -- तपस्या

तपो-कम्म -- तपस्या की

तपो-धन -- तपस्या ही जिसका धन है

तपोवन -- तपस्या का स्थान

तपति -- चमकता है

तपन -- चमक

तपनीय -- अनुताप का कारण, सोना

तपस्सी -- तपस्वी, तपस्वी साधु

तपस्सिनी -- तपस्विनी

तपस्सु -- उत्कल [उक्‍कल] का एक व्योपारी, वह तथा उसका साथी भल्‍लुक, ये दोनों ही केवल द्वि-शरणागमन से उपासकत्व को प्राप्त हुए थे

तपोदा -- राजगृह के बाहर वैभार पर्वत के नीचे एक बड़ा जलाशय

तप्पण -- संतोष

तप्पति -- जलता है, चमकता है, अनुतप्त होता है

तप्पर -- तत्पर, समर्पित

तप्पित -- संतर्पित, संतुष्ट

तप्पिय -- संतुष्ट होने योग्य, संतुष्ट होकर

तप्पेति -- संतुष्ट होता है

तप्पेतु -- संतुष्ट होने वाला

तब्बहुल -- अधिकतया वही

तब्बिपक्ख -- उसके विपक्ष में

तब्बिपरीत -- उसके विपरीत

तब्बिसय -- वही विषय

तब्भाव -- वही भाव

तम -- अन्धकार, अज्ञान

तमो-खन्ध -- अन्धकार-समूह

तमो-नद्ध -- अन्धकाराच्छन्‍न

तमोनुद -- अन्धकार को दूर करने वाला

तमो-परायण -- अन्धकार में जाने वाला

तमाल -- वृक्ष-विशेष

तम्ब -- ताँबा, ताँबे के वर्ण का

तम्ब-केस -- ताम्र-वर्ण केश

तम्ब-चूल -- मुर्गा

तम्ब-नख -- ताम्र-वर्ण नाखून वाला

तम्ब-नेत्त -- ताम्र-वर्ण आँखों वाला

तम्ब-भाजन -- ताम्र-बर्तन

तम्बपण्णि -- सुप्पारक से विदा होकर विजय राजकुमार तथा उसके साथियों का लंका में

प्रथम पदार्पण करने का स्थान तम्बूल -- पान का पत्ता

तम्बूल-पसिब्बक -- पान रखने की थैली

तम्बूल-पेळा -- पान की पेटी

तय -- तीन

तयी -- [वेद-]त्रयी

तयो -- तीन जने

तयोधम्म जातक -- बन्दर-पिता अपनी सन्तान की स्वयं हत्या कर डालता था

तर -- तरणी, नौका

तरङ्ग -- लहर

तरच्छ -- भालू

तरण -- [तैरकर] पार जाना, उस ओर पहुँचना

तरणी -- नौका

तरति -- तैरता है

तरमान-रूप -- जल्दी में

तरल -- काँजी, यवागु

तरितु -- पार जाने वाला

तरी -- नाव

तरु -- वृक्ष, पेड़

तरा-सण्ड -- वृक्षों का झुण्ड

तरुण -- नौजवान

तल -- नीचे का स्तर, चौपट स्थान, चौपट छत, किसी हथियार का फल

तल-घातक -- हाथ की चपत

तल-सत्तिक -- हाथ की हथेली, जो तलवार जैसी लगे

तळाक -- तालाब

तळुण -- देखो तरुण

तस -- चञ्‍चल, अस्थिर

तसर -- फिरकी, जुलाहे की नाल

तसति -- काँपता है, भयभीत होता है

तसिना -- तृष्णा

तस्सन -- तृषा, पिपासा

तहं -- वहाँ, उस स्थान पर

तहिं -- वहाँ, उस स्थान पर

ताण -- त्राण, शरण

तात -- पिता, पुत्र [स्नेह-पूर्ण आमन्त्रण बड़ों तथा छोटों, दोनों के लिए]

तादिस -- तादृश, वैसा

तापन -- आत्म-क्‍लेश

तापस -- तपस्वी

तापसी -- तपस्विनी

तापेति -- तपाता है, गरमी पहुँचाता है

तामबूली -- तमोली

तामलित्ति -- जिस पत्तन से अशोक ने बोधि वृक्ष की शाखा सिंहल भेजी थी

तायति -- रक्षा करता है

तायन -- संरक्षण

तार -- अत्यन्त ऊँची आवाज

तारका -- [आकाश का] तारा

तारा -- [आकाश का] तारा

तारा-गण -- तारा-समूह

तारा-पति -- चन्द्रमा

तारा-पथ -- आकाश

तारेतु -- तरण में सहायक, संरक्षक

ताल -- ताड़ का वृक्ष

तालट्ठिक -- ताड़ के भीतर की गुठली

ताल-कन्द -- ताड़ की कोंपल

तालक्खन्ध -- ताड़-वृक्ष का तना

ताल-पक्‍क -- ताड़ का फल

ताल-पण्ण -- ताड़ का पत्ता

ताल-वन्त -- पंखा

तालावत्थुकत -- जड़ से उखाड़ दिया गया

तालु -- तालु

तालुज -- तालव्य

ताव -- तब तक

तावकालिक -- अस्थायी

तावतक -- इतना ही, इतनी देर तक ही

तावता -- तब तक

तावतिंस -- तैंतीस संख्या, केवल समासपदों में जहाँ 33 देवताआें का जिक्र हो

तावतिंस-देवलोक -- चातुम्महाराजिक देव-लोक के बाद दूसरा काल्पनिक देव-लोक [तैंतीस देवताआें का]

तावतिंस-भवन -- तैंतीस देवताआें का भवन

तावदेव -- उस समय, तुरन्त

ताळ -- चाबी, गीत की ताल

ताळच्छिग्गल -- चाबी का छेद

ताळच्छिद्द -- चाबी का छेद

ताळावचर -- संगीत, संगीतज्ञ

ताळन -- ताड़न, चोट पहुँचाना

ताळी -- चोट

ताळेति -- ताड़ना देता है

तास -- त्रास, भय, कंपन

तासेति -- त्रास देता है

ति -- तीन

ति-कटुक -- तीन मसाले [दवाइयाँ]

तिक्खत्तुं -- तीन बार

तिगावुत -- तीन गव्यूति माप

तिगोचर -- तीन जनों द्वारा सुना गया शब्द

तिचीवर -- भिक्षु के तीन चीवर

तिदिव -- दिव्य-लोक

तिदिवाधार -- मेरु पर्वत

तिदिवादिभू -- शक्र, देवेन्द्र

तिपिटक -- पालि त्रिपिटक, 1. सुत्त-पिटक, 2. विनय-पिटक, 3. अभिधम्म-पिटक

तिपुटा -- तेवरी

तिपेटक -- तिपेटकी, त्रिपिटक का ज्ञाता

तियामा -- रात्रि

तियोजन -- तीन योजन की दूरी

तिरक्‍कार -- तिरस्कार, अपमान

तिलिङ्गिक -- जिस शब्द की गिनती तीनों लिङ्गों के अन्तर्गत हो

तिलिच्छ -- सर्प-विशेष

तिलोक -- तीनों लोक

तिवग्ग -- त्रिवर्ग, जीवन के तीन परमार्थ– धर्म, अर्थ, काम

तिवङ्गिक -- जिसके तीनों अङ्ग हों

तिवस्सिक -- तीन वर्ष का

तिविज्‍जा -- त्रिविद्या

तिविध -- त्रिविध

तिवुता -- शुक्‍लवर्ण तेवरी

तिक -- तीसरा, जिसके अन्तर्गत तीन हों

तिकिच्छक -- चिकित्सक

तिकिच्छति -- चिकित्सा करता है

तिकिच्छा -- चिकित्सा

तिक्ख -- तीक्ष्ण

तिक्खपञ्‍जा -- तेज प्रज्ञा वाला

तिखिण -- तीक्ष्ण, तेज

तिट्ठति -- ठहरता है

ठित -- ठहरता है

तिण -- तृण

तिणअण्डूपक -- घास का गद्दा

तिण-उक्‍का -- तिनकों की मशाल

तिण-गहण -- तृण-ग्रहण

तिण-जाति -- तिनकों की जाति

तिण-भक्ख -- तिनके खाकर रहने वाला

तिण-भिसि -- तिनकों की चटाई

तिण-संथार -- तिनकों का बिछौना

तिण-हारक -- घास बेचने वाला, घसियारा

तिणागार -- तिनकों की कुटिया

तिन्दुक जातक -- देखो तिण्दुक जातक

तिण्ण -- तीर्ण, पार उतर गया

तिण्ह -- तेज

तितिक्खति -- सहन करता है

तितिक्खा -- सहनशीलता

तित्त -- तिक्त, तीता, कड़ुवा, तृप्त, संतुष्ट

तित्तक -- तिक्त, तीता, कड़ुवा

तित्ति -- तृप्ति

तित्तिर -- तीतर

तित्तिर जातक -- तीतर, बन्दर और हाथी की कथा

तित्तिर जातक -- बिना मतलब किसी को उपदेश देने का दण्ड

तित्तिर जातक -- एक तीतर के आवाज करने पर, दूसरे तीतर भी आ इकट्ठे होते और शिकारी के हाथ से मारे जाते

तित्तिर जातक -- तीतर ने तीनों वेद कण्ठस्थ कर लिये

तित्थ -- तीर्थ, पत्तन

तित्थकर -- सम्प्रदाय-विशेष का संस्थापक

तित्थायतन -- सम्प्रदाय-विशेष के सिद्धान्त

तित्थ जातक -- राजकीय घोड़े ने अपने स्नान करने की जगह पर दूसरा घोड़ा नहला दिये जाने के कारण वहाँ नहाने से इनकार कर दिया

तित्थिय -- दूसरे मत का संस्थापक

तित्थिय-सावक -- दूसरे मत का शिष्य

तित्थियाराम -- तपस्वियों का आश्रम

तिथि -- चान्द्र-मास की तिथि

तिदस -- देवता

तिदसपुर -- देव-नगर

तिदसिन्द -- देवताआें का राजा

तिदण्ड -- तिपाई

तिधा -- तीन तरह से

तिन्त -- गीला, भीगा

तिन्दुक -- वृक्ष-विशेष

तिन्दुक जातक -- तिन्दुक-फल खाने वाले बन्दरों की कथा

तिपञ्‍ञास -- तिरपन

तिपल्‍लत्थ मिग जातक -- मृग-पोतक ने झूठ-मूठ मरने का ढोंग रच जान बचाई

तिपु -- सीसा

तिपुस -- कद्दू

तिप्प -- तीव्र

तिब्ब -- तीव्र

तिमि -- एक बड़ी मछली-विशेष

तिमिंगल -- विशाल मछली, जो छोटी मछलियों को निगल जाती है

तिमिर -- अँधेरा

तिमिरायितत्त -- अँधेरापन

तिमिस -- अँधेरा

तिमिसिका -- अत्यन्त अँधेरी रात

तिम्बरु -- देखो तिंदुक

तिरच्छान -- पशु

तिरच्छान-कथा -- बेकार बातचीत

तिरच्छानगत -- पशु

तिरच्छान-योनि -- पशु-योनि

तिरियं -- तिरछे

तिरियं-तरण -- पार उतरना

तिरीटक -- छाल का बना आच्छादन

तिरीटवच्छ जातक -- तिरीटवच्छ तपस्वी ने अपने आश्रम में राजा का स्वागत किया

तिरो -- पार, बाह्य

तिरोकरणी -- परदा

तिरोकुड्ड -- दीवार के बाहर की ओर

तिरोक्‍कार -- अपमान, तिरस्कार

तिरोधान -- ढक्‍कन

तिरोभाव -- अदृश्य होना

तिल -- तिल

तिल-कक्‍क -- तिल लेप

तिल-पिञ्‍ञाक -- तिल की खली

तिल-पिट्ठ -- तिल की खली

तिल-मुट्ठि -- तिलों की मुट्ठी

तिल-मुट्ठि जातक -- बुढ़िया के फैलाये हुए तिलों को मुट्ठी-भर खाने वाले राजकुमार की कथा

तिल-वाह -- गाड़ी-भर तिल

तिल-सङ्गुलिका -- तिल का लड्डू

तिंसति -- तीस

तिंसा -- तीस

तीर -- किनारा, तट

तीर-दस्सी -- तीर-द्रष्टा

तीरण -- निर्णय, निश्चय

तीरेति -- निश्चय करता है

तीरित -- निश्चय किया गया

तीरेत्वा -- निश्चय करके

तीह -- तीन दिन का समय

तु -- जैसे-तैसे, लेकिन, अभी, अब, तब

तुङ्ग -- ऊँचा, प्रसिद्ध

तुंग-नासिक -- ऊँची नाक वाला

तुच्छ -- खाली, व्यर्थ, त्यक्त

तुट्ठ -- संतुष्ट

तुट्ठि -- प्रसन्‍नता, प्रीति

तुण्डक -- चोंच

तुण्डिल जातक -- महातुण्डिल तथा चुल्‍लतुण्डिल, सूअर-पोतकों की कथा

तुण्ण-कम्म -- सिलाई का काम

तुण्ण-वाय -- दर्जी

तुण्ही -- चुप

तुण्ही-भाव -- मौन

तुण्ही-भूत -- चुप

तुण्हीयति -- चुप रहता है

तुत्त -- हाथी का अंकुश

तुदति -- चुभोता है

तुदित -- चुभोया गया

तुदन -- चुभोना

तुदम्पति -- पत्नी-पति दोनों जने

तुमुल -- बड़ा, विशाल

तुम्ब -- तुम्बा

तुम्ब-कटाह -- लौकी का बर्तन

तुम्बी -- लौकी

तुम्ह -- [मध्यम पुरुष-बहुवचन] तुम

तुरग -- घोड़ा

तुरति -- जल्दी करता है

तुरित -- शीघ्र

तुरितं -- शीघ्रता से

तुरिय -- तूर्य-बाजा

तुरियंतर -- वाद्य-विशेष

तुरुक्ख -- तुर्को से सम्बन्धित

तुलना -- तोलना, विचार करना

तुलसी -- तुलसी का पौधा

तुला -- तराजू

तुलाकूट -- खोटा तराजू

तुला-दण्ड -- तराजू की डण्डी

तुलिय -- चिमगादड़, समान जो तोला जा सके

तुलेति -- तोलता है

तुल्य -- समान, जो तोला जा सके

तुल्यता -- समानता

तुल्‍ल -- देखो तुल्य

तुवं -- तू

त्वं भी -- तू

तुवटं -- शीघ्रता से

तुवट्टेति -- बाँटता है

तुस्सति -- संतुष्ट होता है

तुस्सना -- संतोष

तुसित -- छह देव-लोकों में से चौथा देवलोक

तुहिन -- ओस

तूण -- तरकश

तूणीर -- देखो तूण

तूरिय -- देखो तुरिय

तूल -- कपास

तूलिका -- चित्रकार की तूलिका, रूई का गद्दा

ते-असीति -- तिरासी

ते-किच्छ -- चिकित्सा कर सकने योग्य

ते-चत्तालीसति -- तितालीस

ते-चीवरिक -- त्रिचीवर वाला

तेज -- ऊष्णता, प्रकाश

तेजो-धातु -- ऊष्णता

तेजो-कसिन -- ध्यान लगाने के लिए अग्नि-प्रकाश

तेजन -- तीर

तेजवन्तु -- तेजयुक्त

तेजित -- तेज किया हुआ

तेजेति -- ऊष्णता उत्पन्‍न करता है

तेत्तिंसा -- तैंतीस

तेन -- इस कारण से

ते-नवुति -- तिरानबे

ते-पञ्‍ञासति -- तिरपन

तेमन -- गीला होना, भीग जाना

तेमियति -- भीगता है, गीला हो जाता है

तेरस -- तेळस, तेरह

तेरो-वस्सिक -- तीन वर्ष का

तेल -- तेल, स्निग्ध पदार्थ

तेल-घट -- तेल का घड़ा

तेल-चाटी -- तेल का बर्तन

तेल-धूपित -- तेल में छौका गया

तेल-पदीप -- तेल-लैम्प

तेल-मक्खन -- तेल माखना, तेल लगाना

तेलक -- थोड़ा-सा तेल

तेल-पत्त जातक -- राजकुमार इन्द्रियसुखों के फेर में न पड़कर तक्षशिला पहुँचा और राजा बना

तेलिक -- तेली

तेलोवाद जातक -- त्रिकोटि परिशुद्ध मांस-मछली का भोजन कर सकने के बारे में कथा

तेसकुण जातक -- राजा ने अण्डों में से निकले बच्‍चों को अपनी सन्तान की तरह पाला-पोसा

तेसट्ठि -- तिरसठ

तेसत्तति -- तिहत्तर

तोमर -- बर्छी

तोय -- जल

तोरण -- तोरण-द्वार

तोस -- प्रसन्‍नता, प्रीति

तोसना -- संतोष

तोसापेति -- संतुष्ट करता है

तोसेति -- संतोष देता है

त्यादो -- बहु, अनेक

थकन -- बन्द करना, ढक्‍कन

थकेति -- बन्द करता है

थकेसि -- बन्द किया

थकित -- बन्द किया हुआ

थकेन्त -- बन्द करता हुआ

थकेत्वा -- बन्द करके

थञ्‍ज -- स्तन्य, माँ का दूध

थण्डिल -- कड़ी जमीन

थण्डिल-सायिका -- नंगी जमीन पर लेटना [एक प्रकार की तपस्या]

थण्डिल-सेय्या -- नंगी जमीन पर बिस्तर

थद्ध -- कठोर, कड़ा

थद्ध-मच्छरी -- अत्यन्त कंजूस

थन -- का स्तन, गौ-बकरी का स्तन

थनग्ग -- चूची

थनप -- स्तनपायी, शिशु

थनयति -- गर्जता है

थनित -- गर्जन

थनेति -- गर्जता है

थनेसि -- गर्जा

थनित -- गर्जा हुआ

थनेन्त -- गर्जता हुआ

थनेत्वा -- गर्जकर

थपति -- बढ़ई

थबक -- गुच्छा

थम्भ -- खम्भा, स्तम्भ

थम्भक -- घास की मुट्ठी

थरु -- तलवार[या अन्य किसी शस्त्र] की मूठ, तलवार

थल -- भूमि, जमीन

थल-गोचर -- स्थल-निवास करने वाला

थलज -- भूमि से उत्पन्‍न

थलट्ठ -- भूमि पर स्थित

थलपथ -- जमीन पर मार्ग

थव -- प्रशंसा, स्तुति

थवति -- प्रशंसा करता है

थविका -- थैली

थाम -- सामर्थ्य, शक्ति

थामवन्तु -- सामर्थ्यवान, शक्तिशाली

थाल -- थाल

थाली -- थाली

थालक -- छोटा भाजन

थालिका -- नोकदार पात्र

थाली-पाक -- दूध में पका भात या जौ

थावर -- स्थिर, अचल

थावरिय -- स्थिरपन, अचलपन

थिर -- दृढ़

थिरतर -- दृढ़तर

थिरता -- दृढ़तर

थी -- स्त्री

थी-रज -- स्त्रियों का मासिक धर्म

थीन -- जड़ता, आलस्य

थुति -- स्तुति

थुति-पाठक -- भाट

थुनाति -- कराहता है

थुनि -- कराहा

थुनंत -- थुनमान, कराहता हुआ

थुनित्वा -- कराहकर

थुल्‍ल -- स्थूल, बड़ा, विशाल

थुल्‍लच्‍चय -- बड़ा अपराध

थुल्‍ल-कुमारी -- मोटी लड़की

थुल्‍ल-फुसितक -- बड़ी-बड़ी बूँदों वाली वर्षा

थुल्‍ल-सरीर -- मांसल, मोटे शरीर वाला

थुस -- भूसी

थुसग्गि -- भूसी की आग

थुस-पच्छि -- भूसी से ठूसी हुई, पक्षी

थुस-सोडक -- सिरके का एक प्रकार

थुस जातक -- आचार्य ने बनारस राज्य के उत्तराधिकारी अपने शिष्य राजकुमार को चार गाथाएँ सिखा दी थीं। उन्होंने ही उसकी जान बचाई

थूण -- खम्भा, वध-स्थल, पशुआें की बलि देने का स्थान

थूण -- मज्झिम-देस की पश्चिम-सीमा पर एक गाँव। वर्तमान थानेश्वर

थूप -- स्तूप

थूपारह -- स्तूप-निर्माण द्वारा पूज्य

थूप-वंस -- वाचिस्सर रचित पालि रचना। इस काव्य के एक अंश में अनुराधपुर के महास्तूप की रचना का वर्णन है

थूपिका -- शिखर

थूपीकत -- स्तूप की तरह कृत

थूल -- स्थूल

थूलता -- स्थूलता

थूल-साटक -- मोटा वस्त्र

थेत -- विश्वसनीय

थेन -- चोर

थेनक -- चोर

थेनित -- चोरीकृत

थेनेति -- चोरी करता है

थेनेसि -- चोरी की

थेनेन्त -- चोरी करते हुए

थेनेत्वा -- चोरी करके

थेय्य -- चोरी

थेय्य-चित्त -- चोरी का इरादा

थेय्य-संवासक -- झूठ-मूठ भिक्षुआें का वस्त्र धारण कर भिक्षुआें के साथ रहने वाला

थेर -- ज्येष्ठ भिक्षु, जो कम-से-कम दस वर्ष का उपसम्पन्‍न भिक्षु हो

थेर-गाथा -- खुद्दक निकाय का आठवाँ ग्रन्थ। इसकी गाथाएँ बुद्ध के समकालीन भिक्षुआें की रचनाएँ मानी जाती हैं

थेर-वाद -- स्थविर-वाद, स्थविरों का सिद्धान्त

थेरी -- ज्येष्ठ भिक्षुणी, बुढ़िया

थेरी-गाथा -- खुद्दक निकाय की नौवों रचना। यह स्थविरियों की काव्य-कृतियों का संग्रह माना जाता है

थेव -- बूँद

थोक -- थोड़ा

थोकं थोकं -- थोड़ा-थोड़ा

थोमन -- स्तुति

थोमेति -- स्तुति करता है

दक -- जल

दक-रक्खस -- जल-राक्षस

दक-रक्खस जातक -- देखो महाउम्मग्ग जातक। दकरक्खस जातक नाम की कोई कथा पृथक रूप से अस्तित्व में नहीं है

दकसीतलिक -- सफेद कुदुम का फूल

दक्ख -- दक्ष, योग्य

दक्खक -- देखने वाला

दक्खता -- दक्षता

दक्खति -- देखता है

अदक्खि -- देखा

दक्खिण -- दक्षिण, दायाँ, दायीं

दक्खिणक्खक -- दाहिनी हँसली

दक्खिण-दिसा -- दक्षिण-दिशा

दक्खिण-देस -- दक्षिण देश

दक्खिणापथ -- भारत का दक्षिणी हिस्सा, वर्तमान दक्‍किन

दक्खिणायन -- [सूर्य का] दक्षिणायन [-पथ]

दक्खिणारह -- दक्षिणा के योग्य

दक्खिणावत्त -- दाहिनी ओर मुड़ना

दक्खिणा -- दक्षिण[दिशा], दक्षिणा

दक्खिणा-विसुद्धि -- दक्षिणा की पवित्रता

दक्खिणोदक -- दक्षिणा का जल

दक्खिणेय्य -- दक्षिणा देने के योग्य

दक्खिणेय्य-पुग्गल -- दक्षिणा का अधिकारी व्यक्ति

दक्खी -- देखने वाला, अनुभव करने वाला

दट्ठ -- डसा गया

दट्ठट्ठान -- वह स्थान जहाँ डसा गया

दट्ठ-भाव -- डसे जाने की बात

दड्ढ -- जला हुआ

दड्ढट्ठान -- वह स्थान जो जल गया

दड्ढ-गेह -- ऐसा आदमी जिसका घर जल गया हो

दण्ड -- 1.लकड़ी, 2.सजा

दण्डक-मधु -- लकड़ी पर लटका हुआ मधु का छत्ता

दण्ड-कम्म -- सजा

दण्ड-कोटि -- छड़ी का सिरा

दण्ड-दीपिका -- मशाल

दण्डनीय -- जिसे दण्डित करना उचित हो

दण्डप्पत्त -- जिसे दण्ड दिया गया हो

दण्ड-परायण -- जिसे छड़ी का सहारा हो

दण्ड-पाणि -- जिसके हाथ में छड़ी हो

दण्ड-पाणि -- अंजन तथा यशोधरा का पुत्र, कपिलवस्तु का शाक्य। शुद्धोदन की दोनों रानियाँ, माया तथा प्रजापति, इसकी बहनें थीं

दण्ड-भय -- दण्ड का भय

दण्ड-हत्थ -- जिसके हाथ में छड़ी हो

दत्त -- दिया गया

दत्ति -- भोजन रखने के लिए छोटा-सा बर्तन

दत्तु -- एक मूर्ख आदमी

दत्वा -- देकर

दद -- देता हुआ

ददित्वा -- देखो दत्वा

ददाति -- देता है

दद्दभ जातक -- बेल के पेड़ के नीचे पड़े खरगोश ने पेड़ से गिरते फल को देखकर सोचा कि प्रलय होने वाला है। वह भागा

दद्दर जातक -- जब गीदड़ भी शेर की तरह गर्जने लगे, तो शेर संकोच के मारे चुप हो गये

दद्दर जातक -- महादद्दर तथा चूळदद्दर नागों की कथा

दद्दरी -- वाद्य-विशेष

दद्दु -- दाद

दद्दुर -- मेंढक

दद्दुल -- स्पंज की तरह नर्म ढाँचा, एक प्रकार का चावल

दधि -- दही

दधि-घट -- दहीं का घड़ा

दधि-मण्ड[क] -- मठा, छाछ

दधिवाहन जातक -- दधिवाहन राजा ने अपने शत्रुआें को दही के समुद्र में डुबोकर मार डाला था

दन्त -- दाँत, संयत

दन्त-कट्ठ -- दातून

दन्त-कार -- हाथी-दाँत का काम करने वाला

दन्त-पाळि -- दाँतों की पाँत

दन्तपोण -- दाँत की सफाई करनेवाली वस्तु

दन्त-वलय -- हाथी-दाँत की चूड़ी

दन्त-विदंसक -- दाँत दिखाने वाला

दन्तावरण -- दाँत का ढक्‍कन, होंठ

दन्तपुर -- कलिंग राज्य की राजधानी

दन्तता -- संयत भाव

दन्तसठ -- नीबू का पेड़, नीबू

दन्ध -- ढीला, मूर्ख

दन्धता -- ढिलाई, आलस्य, मूर्खता

दनु -- दानव-माता

दप्प -- दर्प

दप्पण -- दर्पण

दप्पित -- अहंकारी, अभिमानी

दब्ब -- बुद्धिमान, योग्य, लकड़ी, धन, पदार्थ

दब्ब-जातिक -- समझदार

दब्ब-तिण -- दूब

दब्ब-सम्भार -- मकान बनाने का सामान

दब्बी -- कड़छी

दब्भ -- कुश घास

दमन -- संयम

दमक -- संयत, संयत करनेवाला

दमित -- दमन किया गया

दमिळ -- दक्षिण भारत की तमिल जाति

दमेति -- संयत बनाता है

दमेतु -- दमन करने वाला

दम्पति -- पत्नी और पति

दम्म -- जिसे दमित अथवा शिक्षित करना हो

दया -- करुणा

दयालु -- दया करने वाला

दयित -- दयापात्र

दयितब्ब -- जिस पर दया करना या जिसके प्रति दया दिखाना योग्य हो

दयिता -- औरत

दर -- दुःख, कष्ट, चिन्ता

दरथ -- दुःख, कष्ट, चिन्ता

दरीमुख जातक -- मगध नरेश के पुत्र ब्रह्मदत्त तथा उसके सहपाठी दरीमुख की कथा

दल -- फलक, पत्ता

दलिद्द -- [दळिद्द भी], दरिद्र

दळ्ह -- दृढ़

दळ्हपरक्‍कम -- दृढ़ पराक्रमी, उत्साही

दळ्ह -- दृढ़ता-पूर्वक

दळ्हीकम्म -- दृढ़ बनाना

दळ्हधम्म जातक -- दळहधम्म नामक बनारस-नरेश के मंत्री की कथा

दव -- क्रीड़ा, आग, गरमी

दवकम्यता -- हँसी-मजाक करने की रुचि

दवधु -- जलन

दव-डाह -- जंगली आग

दस -- दस, देखनेवाला [देखना या दिखाई पड़ना भी]

दसक -- दशाब्द

दसक्खत्तुं -- दस बार

दसधा -- दस प्रकार से

दस-बल -- दस शक्तियों वाला, भगवान बुद्ध के लिए प्रयुक्त एक विशेषण-पद

दस-विध -- दस प्रकार से

दस-सत -- सहस्त्र, हजार

दस-सत-नयन -- सहस्त्र आँखों [वाला]

दस-सहस्स -- दस हजार

दुद्दस -- जो कठिनाई से दिखाई दे

दसण्ण -- मध्य-भारत का भूमि भाग, दशार्णव

दसण्णक जातक -- राजा ने पुरोहित-पुत्र को अपनी रानी सप्ताह-भर के लिए ही दी थी। वह उसे लेकर भाग गया

दसब्राह्मण जातक -- इन्द्रप्रस्थ नरेश के दान की सीमा न थी। किन्तु उसका सारा दान दुष्ट आदमियों के पल्‍ले पड़ता था

दसरथ जातक -- वनवास के समय राम, लक्ष्मण तथा सीता को राजा दशरथ की मृत्यु का समाचार मिला। रामपण्डित ने असाधारण सहनशीलता का परिचय दिया

दसन -- दाँत

दसनच्छद -- होंठ

दसा -- किनारी, दशा

दसिक-सुत्त -- किनारी का धागा

दस्सक -- दिखानेवाला

दस्सति -- [वह] देगा, दिखाई पड़ता है

दस्सन -- दर्शन, दृष्टि, अन्तःप्रेरणा

दस्सनीय -- दर्शनीय, देखने योग्य

दस्सावी -- देखने वाला, [भयदस्सावी, भयभीत]

दस्सु -- दस्यु, डाकू

दस्सेति -- दिखाता है

दस्सेतु -- दिखानेवाला

दह -- झील, जलाशय

दहति -- जलाता है, स्वीकार करता है

दहन -- जलन, आग

दहर -- तरुण, लड़का

दहरा -- तरुणी, लड़की

दाडिम -- अनार

दाढा -- दाढ़

दाढा-धातु -- [बुद्ध के] दन्त-अवशेष

दाढावुध -- दाँतों को शस्त्र की तरह उपयोग करने वाला

दाढाबली -- दाँतों का बलवान

दात -- काटा गया

दातब्ब -- देने योग्य

दातु -- देनेवाला

दातुं -- देने के लिए

दात्त -- दाँति, दराँति, काटा गया

दान -- दान

दान-कथा -- दान-सम्बन्धी उपदेश

दानग्ग -- दान देने का स्थान

दान-पति -- दान-शूर

दान-फल -- दान-फल

दान-मय -- दान-मय

दान-वट्ट -- सतत दान

दान-वत्थु -- दान देने की चीज

दान-वेय्यावटिक -- दान बाँटने वाला

दान-साला -- दानशाला

दान-सील -- दानशील

दान-सोण्ड -- दान-प्रिय

दानारह -- दान देने योग्य

दानव -- राक्षस

दानि -- देखो इदानि

दापन -- दिलाना

दापेति -- दिलाता है

दापेतु -- दिलाने वाला

दाब्बि -- सूखी हल्दी

दाम -- माला, रस्सी, जंजीर

दाय -- जंगल, भेंट

दायपाल -- माली

दायक -- दाता, सहायक

दायज्‍ज -- उत्तराधिकार

दायज्‍ज -- उत्तराधिकारी

दायति -- काटता है

दायन -- काटना

दायाद -- उत्तराधिकार

दायादक -- उत्तराधिकारी

दायिका -- देनेवाली

दायी -- देनेवाला

दार -- स्त्री

दार-भरण -- स्त्री का पालन-पोषण

दारक -- लड़का, बच्‍चा

दारा -- स्त्री

दारिका -- लड़की, बच्‍ची

दारित -- चीरा गया, फाड़ा गया

दारेति -- फाड़ता है

दारेत्वा -- फाड़कर, चीरकर

दारेन्त -- फाड़ता हुआ, चीरता हुआ

दारेसि -- फाड़ा, चीरा

दारु -- लकड़ी

दारु-खण्ड -- लकड़ी का टुकड़ा

दारुक्खन्ध -- लकड़ी का लट्ठा

दारु-भण्ड -- लकड़ी का सामान

दारु-मय -- लकड़ी का बना

दारु-सङ्घात -- लकड़ी की नाव

दारुण -- कठोर

दालन -- चीरना-फाड़ना

दालेति -- देखो दारेति

दावग्गि -- जंगल की आग

दास -- गुलाम

दास-गण -- गुलामों का समूह

दासत्त -- दास-भाव

दासित्त -- दासी-भाव

दासी -- दासी

दाह -- जलन, गर्मी

दाळिद्दिय -- दरिद्रता

दाळिम -- देखो दाडिम

दिक्खति -- 1. देखता है, 2. दीक्षा ग्रहण करता है

दिक्खित -- दीक्षित

दिगम्बर -- नग्न साधु

दिगुण -- द्विगुण, डबल

दिग्घिका -- खाई

दिज -- 1. ब्राह्मण, 2. पक्षी

दिजगण -- ब्राह्मणों या पक्षियों का समूह

दिट्ठ -- देखा गया, दृश्य

दिट्ठ-धम्म -- यही संसार, सत्य का साक्षात्कृत

दिट्ठधम्मिक -- इसी लोक से सम्बन्धित

दिट्ठिमङ्गलिक -- शकुन-अपशकुन का विचार करने वाला

दिट्ठसंसन्दन -- दृष्ट अथवा ज्ञात बातों के बारे में तुलनात्मक विवेचन

दिट्ठानुगति -- दृष्ट का अनुकरण

दिट्ठि -- सिद्धान्त, मत, विश्वास

दिट्ठिक -- मत-विशेष को माननेवाला

दिट्ठि-कन्तार -- मतों का जंगल

दिट्ठिगत -- मत, मिथ्या-मत

दिट्ठि-गहन -- मतों का जमघट

दिट्ठि-जाल -- मतों का जाल

दिट्ठि-विपत्ति -- मत असफलता

दिट्ठि-विपल्‍लास -- मतों की विकृति

दिट्ठि-विसुद्धि -- स्पष्ट दृष्टि, स्पष्ट मत

दिट्ठि-सम्पन्‍न -- सम्यक् दृष्टि से युक्त

दिट्ठि-संयोजन -- व्यर्थ के मतों का बंधन

दित्त -- दीप्त

दित्ति -- प्रकाश, दीप्ति

दिद्ध -- दिग्ध, लिपटा हुआ, विष दिया हुआ

दिन -- दिन

दिनकर -- सूर्य

दिनच्‍चय -- दिन का अन्त, सन्ध्या

दिन-पति -- सूर्य

दिन्दिभ -- टिटिहिरी

दिन्‍न -- दिया गया

दिन्‍नादायी -- जो दिया गया हो उसी को ग्रहण करनेवाला

दिन्‍नक -- दत्तक[पुत्र], दी गई [वस्तु]

दिपद -- द्विपद, दो पैरों वाला, मनुष्य

दिपदिन्द -- मनुष्येन्द्र, तथागत बुद्ध

दिपदुत्तम -- मनुष्यों में श्रेष्ठ, तथागत बुद्ध

दिप्पति -- चमकता है

दिप्पन -- चमकना

दिब्ब -- दिव्य

दिब्ब-चक्खु -- दिव्य-चक्षु

दिब्ब-चक्खुक -- दिव्य-चक्षु से युक्त

दिब्ब-विहार -- दिव्य-विहार, करुणा, मुदिता आदि भावनाआें में चित्त का लगाना

दिब्ब-सम्पत्ति -- दिव्य सम्पत्ति

दिब्बत -- मनोविनोद करता है

दियड्ढ -- डेढ़

दिव -- दिव्यलोक

दिवस -- दिन

दिवसकर -- सूर्य

दिवस-भाग -- दिन का समय

दिवा -- दिन, दिन में

दिवाकर -- सूर्य

दिवा-ठान -- दिन का समय गुजारने की जगह

दिवा-विहार -- दिन में विश्राम करना

दिवा-सेय्या -- दिन में लेटना

दिस -- शत्रु

दिसम्पति -- नरेश

दिसा -- दिशा

दिसा-काक -- स्थल-भूमि की खोज करने के लिए नौका पर रखा हुआ कौआ

दिसा-कुसल -- दिशा-ज्ञान में कुशल

दिसा-पामोक्ख -- लोक-प्रसिद्ध

दिसा-भाग -- दिशा

दिसा-मूळ्ह -- जिसे दिशाआें का ज्ञान नहीं

दिसा-वासिक -- देश के विभिन्‍न भागों में अथवा विदेश में रहने वाला

दिस्सति -- ऐसा दिखाई देता है, ऐसा प्रतीत होता है

दीघ -- लम्बा

दीघङ्गुली -- लम्बी अँगुलियों वाला

दीघजातिक -- सर्प की जाति का जीव

दीघता -- लम्बाई

दीघत्त -- लम्बाई

दीघ-दस्सी -- दीर्घ-दर्शी

दीघ-निकाय -- सुत्तपिटक का पहला ग्रन्थ, जिसमें लम्बे आकार के 34 सुत्त हैं

दीघ-भाणक -- दीर्घनिकाय का पाठ करनेवाला

दीघ-रत्तं -- दीर्घ काल तक

दीघ-लोमक -- लम्बे बाल वाला

दीघ-सोत्थिय -- सम्पन्‍नता

दीघ-हत्थ -- लम्बे हाथवाला

दीघिति -- प्रकाश, चमक दीप्ति

दीन -- गरीब, दीनावस्था को प्राप्त

दीनता -- दीनत्व

दीप -- 1. दीपक, 2. द्वीप, आश्रय, 3. एक प्रकार का यान जो चीते के चमड़े से ढका हो

दीपक -- छोटा दीपक या द्वीप, प्रकट करने वाला

दीपङ्कर -- दीपक जलाने वाला, 24 बुद्धों में से सर्वप्रथम

दीपच्‍चि -- दीपक की लौ

दीप-रुक्ख -- दीप-स्तम्भ, लैम्प का स्टैंड

दीप-सिखा -- दीपक की लौ

दीपालोक -- दीपक का प्रकाश

दीपना -- व्याख्या

दीपनी -- व्याख्यात्मक टिप्पणी

दीप-वंस -- सिंहल का प्राचीनतम ऐतिहासिक काव्य

दीपि -- चीता

दीपिक -- चीता

दीपि जातक -- बकरी ने मीठे शब्दों से चीते को बहलाना चाहा, किन्तु वह उसे खा ही गया

दीपिका -- मशाल, व्याख्या

दीपित -- व्याख्यात, जिसकी व्याख्या की गई हो

दीपिनी -- चीती

दीपेति -- प्रकाशित करता है, स्पष्ट करता है

दुक -- जोड़ा, जोड़ी

दुकूल -- अच्छी किस्म का कपड़ा

दुक्‍कट -- दुष्कृत, अकुशल कर्म

दुक्‍कर -- दुष्कर, कठिन

दुक्‍कर-भाव -- दुष्करता, कठिनता

दुक्ख -- कष्ट, अप्रिय, कष्टदायी

दुक्खं -- कठिनाई से

दुक्खक्खय -- दुःख का क्षय

दुक्खक्खन्ध -- दुःख का समूह

दुक्ख-निदान -- दुःख का मूल

दुक्ख-निरोध -- दुःख का नाश

दुक्ख-निरोध-गामिनी पटिपदा -- दुःख-निरोध की ओर ले जाने वाला मार्ग

दुक्खन्तगू -- जो दुःख का अन्त कर चुका

दुक्ख-पटिकूल -- दुःख के प्रतिकूल

दुक्ख-परेत -- दुःख से दुखित

दुक्खप्पत्त -- दुःख-प्राप्त

दुक्खप्पहाण -- दुःख का दूर करना

दुक्ख-विपाक -- जिसका फल दुःख हो

दुक्ख-सच्‍च -- दुःख के सम्बन्ध में सत्य

दुक्ख-समुदय -- दुःख की उत्पत्ति के सम्बन्ध में सत्य

दुक्ख-सम्फस्स -- दुःख का स्पर्श

दुक्खसेय्या -- बे-आराम की नींद

दुक्खानुभवन -- दण्ड भोगना

दुक्खापगम -- दुःख का हटाना

दुक्खापन -- कष्ट-प्रद

दुक्खापेति -- कष्ट देता है, दुखाता है

दुक्खित -- अप्रसन्‍न

दुक्खी -- अप्रसन्‍न

दुक्खीयति -- दुखी होता है

दुक्खुद्रय -- दुःखद

दुक्खूपसम -- दुःख का उपशमन

दुग्ग -- दुर्ग, किला

दुग्गत -- दरिद्र, दुर्गति-प्राप्त

दुग्गति -- दुर्गति

दुग्गन्ध -- बदबू, बदबूदार

दुग्गम -- ऐसी जगह जहाँ जाना कठिन हो

दुग्गहीत -- जिसे ठीक से नहीं समझा, मिथ्या-मत

दुग्ग-संचार -- दुर्ग तक पहुँचने का रास्ता, दुर्गम रास्ता

दुच्‍चज -- जिसे त्यागना कठिन हो

दुच्‍चरित -- दुराचरण

दुजिव्ह -- साँप

दुज्‍जह -- जिसे छोड़ना कठिन हो

दुज्‍जान -- जिसे जानना कठिन हो

दुज्‍जीवित -- मिथ्या जीविका

दुट्ठ -- दुष्ट, द्वेष-युक्त

दुट्ठ-चित्त -- दुष्ट चित्त वाला

दुट्ठु -- बुरी तरह से

दुट्ठुल्‍ल -- फूहड़ बातचीत, घटिया

दुतप्पयं -- जिसे आसानी से सन्तुष्ट न किया जा सके

दुतिय -- द्वितीय, दूसरा

दुतियक -- साथी

दुतियं -- दूसरी बार

दुतियपलायी जातक -- गान्धार नरेश के पलायन की कथा

दुतिया -- पत्नी, द्वितीया विभक्ति कर्मकारक

दुतियिका -- पत्नी

दुत्तर -- जो कठिनाई से पार किया जा सके

दुद्दद जातक -- तक्षशिला-शिक्षित तपस्वी और उनके साथियों के बनारस आने पर वाराणसी के लोगों ने अन्‍न-पान से संतर्पित किया

दुद्दम -- जिसका कठिनाई से दमन किया जा सके

दुद्दस -- जो कठिनाई से दिखाई दे या समझ में आये

दुद्दसतर -- जो और भी अधिक कठिनाई से दिखाई दे, या समझ में आये

दुद्दसा -- दुर्दशा, बुरी हालत

दुद्दसापन्‍न -- दुर्दशा-ग्रस्त

दुद्दसिक -- बदशक्‍ल

दुद्दिन -- दुर्दिन, बारिश का दिन या खराब दिन

दुद्ध -- दुग्ध, दूध, दुहा हुआ

दुंदुभि -- ढोल

दुन्‍नामक -- बवासीर

दुन्‍निक्खित्त -- अयोग्य ढंग से रखा गया

दुन्‍निग्गह -- जिसे काबू में रखना कठिन हो

दुन्‍निमित्त -- अपशकुन

दुन्‍नीत -- अनुचित ढंग से ले जाया गया

दुपट्ट -- दो तहों वाला

दुप्पञ्‍ञ -- मूर्ख, मूर्ख [आदमी]

दुप्पटिनिस्सग्गिय -- जिसे छोड़ना कठिन हो

दुप्पटिविज्झ -- जिसे समझना कठिन हो

दुप्पमुञ्‍च -- जिसे छोड़ना दूभर हो

दुप्परिहारिय -- जिसकी व्यवस्था करना कठिन हो

दुफस्स -- अप्रिय स्पर्श

दुब्बच -- जो बात न मानता हो, अनाज्ञाकारी

दुब्बच्‍च जातक -- आचार्य ने बोधिसत्व का कहना नहीं माना

दुब्बण्ण -- दुर्वर्ण

दुब्बल -- दुर्बल

दुब्बल-भाव -- कमजोरी

दुब्बल-कट्ठ जातक -- जंजीर तोड़कर भागे हुए हाथी की कथा

दुब्बा -- दूर्वा-तृण, दूब

दुबिजान -- कठिनाई से समझ में आने योग्य

दुब्बिनीत -- दुर्विनीत

दुब्बुट्ठिक -- दुर्वृष्टिक, जहाँ बारिश कम हो, अकाल

दुब्भक -- विश्वासघाती

दुब्भति -- विश्वासघात करता है, षड्यन्त्र करता है

दुब्भन -- द्रोहीपन, विश्वासघात

दुब्भर -- दूभर, जिसका पालनपोषण कठिन हो

दुब्भासित -- अपमानसूचक शब्द, अपशब्द

दुब्भिक्ख -- अकाल, आहार की कमी

दुब्भी -- विश्वासघात करने वाला

दुम -- द्रुम, पेड़

दुमग्ग -- पेड़ का शिखर

दुमन्तर -- नाना प्रकार के पेड़

दुमिन्द -- वृक्षराज, बोधि-वृक्ष

दुमुत्तम -- देखो दुमिन्द

दुमुप्पल -- पीले फूलों वाला वृक्षविशेष

दुम्मङ्कु -- जिसे कठिनाई से चुप कराया जा सके

दुम्मती -- बुद्धि-भ्रष्ट आदमी

दुम्मन -- अप्रसन्‍न, दुखी

दुम्मुख -- अप्रसन्‍न मुख

दुम्मेध -- कुबुद्धि

दुम्मेध जातक -- राजा ने दुष्कर्म करने वालों की बलि देने की घोषणा की

दुम्मेध जातक -- राजा ने ईर्षावश अपने हस्तिराज को ही मरवा डालना चाहा

दुय्योधन -- दुर्योधन

दुय्हति -- दुहा जाता है

दुरक्ख -- जिसका संरक्षण कठिन हो

दुरच्‍चय -- जिसे लाँघना कठिन हो

दुराजान -- जिसे जानना या समझना कठिन हो

दुराजान जातक -- आचार्य ने अपने शिष्य को सलाह दी कि वह अपनी स्त्री की करतूतों को उपेक्षा की दृष्टि से देखे

दुरासाद -- जिसके पास पहुँचना कठिन हो

दुरित -- पाप, अकुशल कर्म

दुरुत्त -- बुरी तरह से कहा गया, बुरी बात, बुरी वाणी

दुल्‍लद्ध -- कठिनाई से प्राप्त

दुल्‍लद्धि -- मिथ्या-दृष्टि

दुल्‍लभ -- जिसे कठिनाई से प्राप्त किया जा सके

दुवङ्गिक -- दो अङ्गों से युक्त

दुविध -- दो प्रकार का

दुवे -- संख्यावाची, दो [आदमी या वस्तुएँ]

दुस्स -- कपड़ा

दुस्स-करण्डक -- कपड़ो की पेटी

दुस्स-कोट्ठागार -- कपड़ो का भण्डार

दुस्स-युग -- कपड़ो का जोड़ा

दुस्स-वट्टि -- कपड़ो का थान, कपड़े की किनारी

दुस्सति -- द्वेष करता है, क्रोधित होता है

दुस्सित्वा -- द्वेष करके

दुस्सन -- द्वेष, विकृति, क्रोध

दुस्सह -- जिसका सहन करना कठिन हो

दुस्सील -- दुराचारी

दुहति -- [दूध] दुहता है

दुहन -- दुहा जाना

दुहितु -- बेटी, दुहिता

दूत -- संदेश-वाहक

दूती -- दूतिका

दूतेय्य -- संदेश, संदेश-वाहन

दूत जातक -- एक लोभी आदमी अपने को ‘पेट-दूत’ कहता हुआ राजा के खाने की मेज तक पहुँच गया।

दूत-जातक -- गुरु-दक्षिणा देने के लिए इकट्ठी की गई राशि गङ्गा नदी में गिर पड़ी

दूभक -- देखो दुब्भक

दूर -- दूरी, दूर

दूरङ्गम -- दूर तक जाने वाला

दूरतो -- दूर से

दूरत्त -- दूरत्व, दूर होने का भाव

दूसक -- दूषित करने वाला, विकृत करने वाला, गन्दा करने वाला

दूसन -- दूषण, विकृति, गन्दगी

दूसित -- दूषित

दूसेति -- दूषित करता है, खराब करता है, बदनाम करता है, बुरा व्यवहार करता है

दूहन -- डाका डालना, दूध दुहना

देड्डुभ -- जल-सर्प

देण्डिम -- दौण्डी

देति -- देता है

देव -- देवता, आकाश, बादल, राजा

देव-कञ्‍ञा -- देव-कन्या

देव-काय -- देव-गण

देव-कुमार -- दिव्य राजकुमार

देव-कुसुम -- देव-लोक के फूल

देव-गण -- देव-समूह

देव-चारिका -- देव-लोक में भ्रमण

देवच्छरा -- देवप्सरा

देवञ्‍ञतर -- लघु-देवता

देवट्ठान -- देवस्थान

देवत्तभाव -- दैवी शरीर

देवदत्तिक -- देवता द्वारा दिया गया

देव-दुन्दुभि -- गर्जना

देव-दूत -- देवता का दूत

देव-देव -- देवताआें का देवता

देव-धम्म -- दिव्य-गुण, पाप-भीरुता

देव-धीतु -- अप्सरा

देव-नगर -- देवताआें का नगर

देव-निकाय -- देवताआें का समूह

देव-परिसा -- देव-परिषद

देव-पुत्त -- देवता का पुत्र

देव-पुर -- देव-नगर

देव-भवन -- देवताआें का निवासगृह

देव-यान -- स्वर्ग-मार्ग, हवाई जहाज

देवराजा -- देवताआें का राजा शक्र

देव-रुक्ख -- देवताआें का वृक्ष, पारिजात

देव-रूप -- देवता की मूर्ति

देव-लोक -- स्वर्ग-लोक

देव-विमान -- देव-लोक का भवन

देवता -- देव

देवत्त -- देवत्व

देवदत्त -- शाक्य मुनि गौतम बुद्ध के मामा सुप्रबुद्ध शाक्य का पुत्र, जो जन्म-भर बुद्ध-द्वेषी बना रहा

देवदह -- शाक्यों का एक निगम, कस्बा। बुद्ध ने अनेक बार वहाँ पदार्पण किया था

देवदारु -- देवदार-वृक्ष

देव-धम्म जातक -- देव-धम्म अर्थात् पाप से विरति का उपदेश

देवर -- देवर, पति का छोटा भाई

देवसिक -- दैनिक

देवातिदेव -- देवताआें का देवता

देवानुभाव -- देव-प्रताप

देवानम्पिय तिस्स -- धर्माशोक का समकालीन तथा मित्र सिंहल नरेश

देविसि -- दिव्य ऋषि

देवी -- देवी, रानी, महेन्द्र स्थविर तथा संघमित्रा की माता, अशोक पत्नी का नाम

देवुपपत्ति -- देवताआें में उत्पत्ति

देस -- देश, प्रदेश

देसक -- देशना करने वाला, उपदेशक

देसना -- उपदेश

देसना-विलास -- देशना का सौन्दर्य

देसिक -- प्रदेश-विशेष से सम्बन्धित

देसित -- उपदिष्ट

देसेति -- उपदेश देता है

देसेतु -- देखो देसक

देस्स -- प्रतिकूल

देस्सिय -- देखो देस्स

देह -- शरीर

देह-निक्खेप -- शरीर-त्याग, मृत्यु

देह-निस्सित -- शरीर-सम्बन्धी

देहनी -- देहली

देहावयव -- शरीर का कोई अंग

देही -- देहधारी

दोण -- माप-विशेष, भगवान बुद्ध का शरीरान्त होने पर उनकी अस्थियों का बँटवारा करने वाला दोण-ब्राह्मण

दोणि -- दोणिका, द्रोणि, नौका

दोणिका -- देखो दोणि

दोमनस्स -- असंतोष, चैतसिक दुःख

दोला -- झूला

दोलायति -- झुलाता है

दोवारिक -- द्वारपाल

दोस -- द्वेष, क्रोध, दोष

दोसक्खान -- दोषारोपण

दोसग्गि -- द्वेषाग्नि

दोसञ्‍ञू -- पण्डित

दोसापगत -- दोष-रहित

दोसिना -- चाँदनी

दोसो -- रात्रि

दोह -- द्रोह, दूध दुहना

दोहक -- दूध दुहने वाला, दूध की बाल्टी

दोहळ -- गर्भिणी की बलवती इच्छा, दोहद

दोहळिनी -- दोहद की इच्छा वाली

दोही -- दूध दुहने वाला, द्रोही, अकृतज्ञ

द्रव -- रस, तरल पदार्थ

द्वङ्गुल -- दो अङ्गुल भर

द्वत्तिक्खत्तुं -- दो-तीन बार

द्वत्तिपत्त -- दो-तीन पात्र

द्वत्तिंसति -- बत्तीस

द्वन्द -- जोड़ा, द्वन्द्व [समास]

द्वय -- दो

द्वाचत्तालीसति -- बयालीस

द्वादस -- बारह

द्वानवुति -- बानबे

द्वार -- दरवाजा

द्वार-कवाट -- दरवाजे के किवाड़

द्वार-कोट्ठक -- दरवाजे के ऊपर का कमरा

द्वार-गाम -- नगर-द्वार के बाहर का गाँव

द्वारपाल -- चौकीदार, पहरेदार

द्वार-बाहा -- दरवाजे का खम्बा

द्वार-साला -- दरवाजे के समीप की शाला

द्वारिक -- द्वार से सम्बन्धित, द्वारपाल

द्वाबीसति -- बाईस

द्वासट्ठिदिट्ठि -- बासठ मिथ्या मत

द्वासत्तति -- बहत्तर

द्वासीति -- बयासी

द्वि -- दो

द्विक -- दो की जोड़ी

द्विक्खुत्तुं -- दो बार

द्विगुण -- दुगुना

द्विचत्तालीसति -- बयालीस

द्विज -- देखो दिज

द्वि-जिव्ह -- दो जीभों वाला [सर्प]

द्वि-पञ्‍ञासति -- बावन

द्वि-मासिक -- दो ही महीने का

द्वि-सट्ठि -- बासठ

द्वि-सत -- दो सौ

द्वि-सत्तति -- बहत्तर

द्वि-सहस्स -- दो हजार

द्विगोचर -- दो जनों के बीच की बातचीत

द्विधा -- दो तरह

द्विधा-पथ -- सड़क का दो ओर बँट जाना

द्विप -- हाथी

द्विरद -- हाथी

द्वीह -- दो दिन

द्वीहं -- दो दिन में

द्वीह-तीहं -- दो या तीन दिन में

द्वे -- संख्यावाची, दो

द्वे-वाचिक -- दो शब्द ही दोहराने वाला

द्वेज्झ -- सन्देह, विरोध

द्वेधा -- दो तरह से

द्वेधा-पथ -- सड़क का बँटवारा

द्वेळहक -- शक, सन्देह

धंक -- कौवा

धंसित -- ध्वस्त

धज -- ध्वजा

धजग्ग -- ध्वजा का सिरा

धजालु -- ध्वजाआें से सुसज्‍जित

धजाहट -- युद्ध में जीतकर लाया हुआ

धजविहेठ जातक -- दिन में तपस्वी, रात में बनारस के राजा की रानी के पास जाने वाले जादूगर की कथा

धजिनी -- सेना

धञ्‍ञ -- धान्य, सौभाग्य-सम्पन्‍न

धञ्‍ञ-पिटक -- धान्य की टोकरी

धञ्‍ञ-रासि -- धान्य का ढेर

धञ्‍ञवन्तु -- सौभाग्य-सम्पन्‍न

धञ्‍ञगार -- अनाज का गोदाम

धत -- धृत, धारण किया हुआ, स्मरण रखा हुआ

धन -- धन, दौलत

धनग्ग -- श्रेष्ठ धन

धनत्थिक -- धनार्थी, धन की इच्छा रखने वाला

धनक्खय -- धन का क्षय

धनक्‍कीत -- धन से खरीदा गया

धनत्थद्ध -- धन का अभिमानी

धन-लोल -- धन का लोभी

धनवन्तु -- धनवान

धन-हेतु -- धन के लिए

धनासा -- धन की आशा

धनञ्‍जय जातक -- इन्द्रप्रस्थ का राजा पुराने योद्धाआें की ओर ध्यान न दे नये योद्धाआें का सम्मान करता था

धनायति -- धन समझता है

धनिक -- ऋणदाता

धनित -- आवाज, ध्वनित, आवाज किया गया

धनी -- धनवान, धनी आदमी

धनु -- धनुष, कमान

धनुक -- छोटा धनुष

धनुकार -- धनुष बनाने वाला

धनुकेतकी -- केतकी

धनुग्गह -- धनुर्धारी

धनुसिप्प -- तीरंदाजी

धनुपञ्‍चसत -- पाँच सौ धनुष या कोस-भर का फासला

धन्त -- फूँका हुआ

धम -- बजाने वाला

धमक -- बजाने वाला

धमकरक -- पानी छानने का साधन

धमति -- बजाता है

धमनि -- नस, रग

धमनि-संथत-गत्त -- जिसके सारे शरीर पर नसें ही नसें दिखाई दें

धमेति -- बजाता है

धमापेति -- बजवाता है

धम्म -- धर्म, सिद्धान्त, स्वभाव, सत्य, सदाचार

धम्मक्खान -- धर्म की व्याख्या

धम्म-कथा -- धार्मिक कथा

धम्म-कथिक -- उपदेष्टा

धम्म-कम्म -- कानूनी कार्रवाई, विनय के अनुकूल कार्रवाई

धम्म-काम -- धर्म-प्रिय, धर्म चाहने वाला

धम्म-काय -- धर्म-काय

धम्म-क्खन्ध -- धर्म-स्कन्ध

धम्म-गण्ठिका, [धम्म-गण्डिका भी], बलि-वेदी धम्म-गरू -- धर्म का गौरव

धम्म-गुत्त -- धर्म द्वारा सुरक्षित

धम्म-घोसक -- धर्म की घोषणा करने वाला

धम्म-चक्‍क -- धर्म-चक्र

धम्म-चक्‍क-पवत्तन -- धर्म-चक्र-प्रवर्तन, धर्म-देशना

धम्मचक्‍कपवत्तन-सुत्त -- आषाढ़-पूर्णिमा के दिन इसिपतन के मिगदाय में पञ्‍चवर्गीय भिक्षुआें को भगवान बुद्ध द्वारा दिया गया सर्वप्रथम उपदेश

धम्म-चक्खु -- धर्म-चक्षु

धम्म-चरिया -- धर्माचरण

धम्मचारी -- धर्मानुसार आचरण करने वाला

धम्म-चेतिय -- पवित्र धर्म-ग्रन्थालय

धम्मजातक -- धर्म तथा अधर्म का शास्त्रार्थ

धम्मजीवी -- धर्मानुसार जीवन वाला

धम्मञ्‍ञु -- धर्मज्ञ

धम्मट्ठ -- धर्म-स्थित

धम्मट्ठिति -- धर्म-स्थिति

धम्म-तक्‍क -- धर्म-तर्क, सही तर्क करना

धम्मता -- स्वाभाविक नियम

धम्म-दान -- धर्म-दान

धम्म-दायाद -- धर्म का उत्तराधिकारी

धम्म-दीप -- धर्म-द्वीप

धम्म-देसना -- धर्म-देशना, धर्म का उपदेश

धम्म-देस्सी -- धर्म-द्वेषी

धम्म-धज -- जो धर्म को ही ध्वजा समझे

धम्मद्धज-जातक -- बनारस-नरेश के रिश्वतखोर काळक पुरोहित तथा धर्मध्वज नामक धार्मिक पुरोहित का संघर्ष

धम्मद्धज जातक -- धर्मध्वजी कौवे ने दूसरे पक्षियों को धोखा देकर उन सबके अण्डे-बच्‍चे खा डाले

धम्मधर -- धर्म-घर

धम्म-नियाम -- प्राकृतिक नियम, स्वाभाविक नियम

धम्मनी -- गृह-सर्प

धम्म-पण्णाकार -- धर्म-भेंट

धम्म-पद -- धर्म के पद्य, खुद्दकनिकाय का दूसरा ग्रन्थ सम्भवतः यह थेरगाथा व थेरीगाथा के बाद का गाथा-संकलन है

धम्मपद-अट्ठकथा -- धम्मपद की वैसी ही अर्थ-कथा, जैसी जातक अर्थ-कथा [जातकट्ठकथा]

धम्मप्पमाण -- धर्म-माप

धम्म-भण्डागारिक -- धर्म का खजान्ची, भगवान बुद्ध के निकटतम शिष्य आनन्द के लिए प्रयुक्त

धम्म-भेरि -- धर्म का ढोल

धम्म-रक्खित -- धर्म-रक्षित

धम्म-रत -- धर्म-रत, धर्म-प्रिय

धम्म-रति -- धर्म-प्रीति

धम्म-रस -- धर्म-रस

धम्म-राजा -- धर्म-राजा, भगवान बुद्ध के लिए प्रयुक्त

धम्म-लद्ध -- धर्म से प्राप्त

धम्मवर -- धर्म-श्रेष्ठ

धम्मवादी -- धर्मानुसार बोलने वाला

धम्म-विचय -- धर्म का चयन, धर्ममीमांसा

धम्म-विदू -- धर्म का जानकार

धम्म-विनिच्छय -- धार्मिक निश्चय

धम्म-सङ्गणि -- अभिधम्म-पिटक के सात प्रकरणों में से पहला ग्रन्थ

धम्म-संविभाग -- धर्मानुसार बँटवारा

धम्म-संगीति -- धर्म-संगायन

धम्म-संगाहक -- धर्म का संग्रह करने वाला

धम्म-समादन -- धर्म का ग्रहण

धम्म-सवण -- धर्म का श्रवण

धम्म-साकच्छा -- धार्मिक चर्चा

धम्म-सेनापति -- धर्म-सेनापति, प्रायः भगवान बुद्ध के अग्रश्रावक सारिपुत्र के लिए प्रयुक्त

धम्म-सोण्ड -- धर्म-प्रेमी

धम्माधिपति -- धर्म को स्वामी मानने वाला

धम्मानुधम्म -- धर्मानुसार आचरण

धम्मानुवत्ती -- धर्मानुयायी

धम्माभिसमय -- धर्म की समझ

धम्मामत -- धर्म-रूपी अमृत

धम्मादास -- धर्म-दर्पण

धम्माधार -- धर्म ही सहारा

धम्मासन -- धर्मासन

धम्मिक -- धार्मिक, धर्मानुकूल

धम्मिल्‍ल -- बालों की गाँठ

धम्मीकथा -- धार्मिक कथा

धर -- धारण करनेवाला

धरण -- भार-विशेष, धारण करने वाला

धरणी -- पृथ्वी

धरति -- धारण करता है, जारी रहता है

धरा -- भूमि

धव -- पति, बबूल का पेड़

धवल -- श्वेत, स्वच्छ, श्वेत रंग

धात -- भरा-पेट, संतुष्ट

धातकी -- अग्निज्वाला

धाती -- दाई

धातु -- स्वाभाविक अवस्था, पवित्र [अस्थि] धातु, शब्द का मूलस्वरूप, शारीरिक धातु, इन्द्रिय

धातु-कथा -- धातुआें की व्याख्या, अभिधम्मपिटक का तीसरा ग्रन्थ

धातु-घर -- पवित्र धातु-गृह

धातु-नानत्त -- धातुआें के नाना प्रकार

धातु-विभाग -- धातुआें का पृथक-पृथक विश्लेषण

धातुक -- धातु की प्रकृति लिये

धाना -- भुना हुआ जौ

धार -- धारण करनेवाला

धारक -- धारण करनेवाला, पालन-पोषण करनेवाला, याद रखने वाला

धारण -- धारण करना

धारा -- [जल-]धारा

धाराधर -- बादल

धारित -- धारण किया हुआ

धारी -- धारण करनेवाला

धारेति -- धारण करता है

धारेतु -- धारण करनेवाला

धारेन्त -- धारण करता हुआ

धारेसि -- धारण किया

धारेत्वा -- धारण करके

धावति -- दौड़ता है

धावन्त -- दौड़ता हुआ

धावि -- दौड़ा

धावित -- दौड़ा हुआ

धाविय -- दौड़कर

धावित्वा -- दौड़कर

धावन -- दौड़

धावी -- दौड़ने वाला

धि -- धिक्‍कार

धिक्‍कत -- घृणित

धिति -- धैर्य, सहन-शक्ति

धितिमन्तो -- धृतिमान

धी -- बुद्धि

धीमन्तो -- बुद्धिमान

धीतलिका -- गुड़िया

धीतु -- धी, बेटी

धीतु-पति -- जमाता, जँवाई

धीयति -- उत्पन्‍न होता है

धीयमान -- उत्पन्‍न होने वाला

धीर -- बुद्धिमान

धीरत्त -- धीरज, धीरता, धैर्यभाव

धीवर -- मछुआ

धुत -- धुना गया, हटाया गया

धुतङ्ग -- तपस्वियों के व्रतविशेष

धुत-धर -- धुतङ्गधारी

धुतवादी -- धुतङ्ग-अभ्यासी

धुत्त -- धूर्त

धुत्तक -- धूर्त

धुत्तिका -- धूर्तपन

धुत्ती -- धूर्तपन

धुनन -- हटाना, दूर करना, झाड़ फेंकना

धुनाति -- हिलाता है, दूर करता है

धुनन्त -- धुनता हुआ

धुनितब्ब -- धुनने योग्य

धुनित्वा -- धुनकर

धुपित -- गर्म किया गया

धुर -- उत्तरदायित्व

धुर-गाम -- पड़ोसी ग्राम

धुरंधर -- पदाधिकारी

धुर-निक्खेप -- पद-परित्याग

धुर-भत्त -- नियमित भोजन

धुर-वहन -- पद-धारण

धुरवाही -- भारवाहक पशु

धुर-विहार -- पड़ोसी विहार

धुव -- स्थायी

धुवं -- ध्रुव, लगातार, सिलसिलेवार

धूत -- देखो धुत

धूप -- धूप [-बत्ती]

धूपन -- धूप जलाना, छाैंकना

धूपायति -- धुआँ देता है

धूपायी -- धुआँ दिया

धूपायन्ति -- धुआँ देता हुआ

धूपायित -- धुआँ दिया हुआ

धूपेति -- छाैंकता है

धूपेसि -- छाैंका

धूपित -- छाैंका हुआ

धूपेत्वा -- छाैंककर

धूम -- धुआँ

धूम-केतु -- धूम-केतु तारा

धूम-जाल -- धुएँ का जाल

धूम-नेत्त -- धुआँ निकलने का रास्ता

धूम-सिख -- धूम्र-शिखा, आग

धूमयति -- धूम्रपान करता है, धुआँ करता है

धूमायति -- देखो धूमयति

धूमायितत्त -- धुँधला करना, अस्पष्ट करना

धूमायि -- धूम्रपान किया

धूलि -- धूल

धूसर -- मटमैला

धेनु -- गौ

धेनुप -- दूध पीता बछड़ा

धोत -- धोया हुआ

धोन -- बुद्धिमान

धोरय्ह -- भार वहन करने में समर्थ

धोवति -- धोता है

धोवन -- धोना

-- नहीं

नकुल -- नेवला

नकुल-जातक -- साँप तथा नेवले में भी मैत्री-सम्बन्ध स्थापित होने की कथा

नक्‍क -- कछुआ

नक्खत्त -- नक्षत्र

नक्खत्त-कीळा -- नक्षत्र-क्रीडा

नक्खत्त-पाठक -- ज्योतिषी

नक्खत्त-योग -- नक्षत्रों का योग, जन्म-पत्री

नक्खत्त-राज -- चन्द्रमा

नक्खत्त-जातक -- नक्षत्र के अनुसार शादी करने जाकर वर-पक्ष वालों ने अपना काम बिगाड़ा

नख -- नाखून

नख-पञ्‍जर -- पंजा

नरवी -- पंजों वाला

नग -- पर्वत

नगर -- छोटा शहर

नगर-गुत्तिक -- नगराधिपति

नगर-वर -- श्रेष्ठ नगर

नगर-वासी -- नागरिक

नगर-सोधक -- नगर-शोधक, शहर की सफाई करने वाला

नगर-सोभिनी -- नगर-वधू

नग्ग -- नग्न, नंगा

नग्ग-चरिया -- नग्न रहना

नग्ग-समण -- नग्न-श्रमण

नग्गिय -- नग्नता, नंगापन

नङ्गल -- हल

नङ्गल-फाल -- हल की फाल

नङ्गलीस जातक -- मूर्ख विद्यार्थी हर चीज की उपमा हल की फाल से ही देता था

नङ्गुट्ठ -- पूँछ, दुम

नङ्गुट्ठ जातक -- ब्रह्मचारी ने अग्निदेवता को गौ की पूँछ ही अर्पित की

नङ्गुल -- पूँछ, दुम

न चिरस्सं -- अचिर काल में, थोड़े समय में

नच्‍च -- नृत्य, नाटक

नच्‍च जातक -- हंस-राज ने निर्लज्‍ज मोर को अपनी कन्या नहीं दी

नच्‍चट्ठान -- नृत्य-स्थान, नाटकगृह

नच्‍चक -- नाचने वाला, नाटक का पात्र

नच्‍चति -- नाचता है

नच्‍चि -- नाचा

नच्‍चन्त -- नाचता हुआ

नच्‍चित्वा -- नाचकर

नच्‍चन -- नाचना, नाच

नट -- नृत्यकार

नटक -- नृत्यकार

नट्ट -- नृत्य, नाटक

नट्टक -- नृत्यकार

नट्ठ -- नष्ट हुआ

नत -- झुका हुआ

नति -- नम्रता, झुकाव

नत्त -- नृत्य, नाटक

नत्तक -- नृत्यकार

नत्तकी -- नर्तकी

नत्तन -- नृत्य, नाटक

नत्तमाल -- वृक्ष-विशेष

नत्तु -- नाती

नत्थि -- नहीं है

नत्थिक-दिट्ठि -- नास्तिक मत

नत्थिक-वादी -- नास्तिक

नत्थिता -- नास्तिकता

नत्थि-भाव -- न होने का भाव

नत्थु -- नाक

नत्थु-कम्म -- नाक की चिकित्सा, नाक के माध्यम से चिकित्सा

नदति -- गर्जता है

नदि -- गर्जा

नदन्त -- गर्जता हुआ

नदित -- गर्जा हुआ

नदित्वा -- गर्जकर

नदन -- गर्जन

नदी -- नदी, दरिया

नदी-कूल -- नदी-तट

नदी-दुग्ग -- जहाँ पहुँचने में नदी बाधक हो

नदी-मुख -- नदी का मुहाना

नद्ध -- बँधा हुआ

नद्धि -- चमड़े की रस्सी

नन्द थेर -- शुद्धोदन तथा महाप्रजापति गौतमी की सन्तान, सिद्धार्थ गौतम का सौतेला भाई

नन्द -- नव-नन्द नाम से प्रसिद्ध नौ राजागण

नन्द जातक -- पिता ने अपने दास नन्द को अपने गाड़े धन की जगह बता दी थी और कह दिया था कि पुत्र के बड़े होने पर वह उसे बता दे

ननन्दा -- ननद

ननु -- निश्चय से

नन्दक -- खुशी देनेवाला, आनन्ददायक

नन्दति -- प्रसन्‍न होता है

नन्दि -- प्रसन्‍न हुआ

नन्दित -- प्रसन्‍नचित्त

नन्दमान -- प्रसन्‍न होता हुआ

नन्दितब्ब -- प्रसन्‍न करने योग्य

नन्दित्वा -- प्रसन्‍न करके

नन्दन -- प्रसन्‍नता, इन्द्र-नगर का उद्यान

नन्दि -- मनोविनोद

नन्दिक्खय -- तृष्णा का क्षय

नन्दि-राग -- अनुराग

नन्दि-संयोजन -- तृष्णा का बंधन

नन्दियमिग जातक -- नन्दिय मृग की सच्‍चरित्रता ने उसकी तथा उसके माता-पिता की रक्षा की

नन्दि विसाल जातक -- नन्दि विसाल वृषभ ने शर्त जीतकर अपने मालिक को धनी बनाया

नन्धति -- बाँधता है

नन्धि -- बाँधा

नन्धित्वा -- बाँध कर

नपुंसक -- नपुंसक, पुरुषत्व-हीन

नभ -- आकाश

नमक्‍कार -- नमस्कार

नमति -- झुकता है

नमि -- झुका

नमन्त -- झुकता हुआ

नमित्वा -- झुककर

नमितब्ब -- झुकना चाहिए

नमस्सति -- नमस्कार करता है

नमस्सि -- नमस्कार किया

नमस्सित्वा -- नमस्कार करके

नमस्सिय -- नमस्कार करने योग्य

नमस्सितुं -- नमस्कार करने के लिए

नमस्सन -- नमस्कार

नमस्सना -- नमस्कार

नमुचि -- नष्ट करने वाला, मृत्यु, ‘मार’ का नाम

नमो -- नमस्कार है

नम्यदा -- नर्मदा नदी

नय -- क्रम, पद्धति, ढंग, ठीक परिणाम

नयति -- ले जाता है, मार्ग-दर्शन करता है, देखो नेति

नयन -- आँख, ले जाना

नयनावुध -- जिसके नयन ही उसके शस्त्र हों–यमराज

नय्हति -- बाँधता है

नय्हन -- बंधन, बाँधना

नय्हित्वा -- बाँधकर

नर -- आदमी

नरक -- नरक, जहन्‍नुम

नर-देव -- राजा

नर-वीर -- नरों में वीर, प्रायः भगवान बुद्ध के लिए प्रयुक्त

नर-सीह -- नरों में सिंह, प्रायः भगवान बुद्ध के लिए प्रयुक्त

नराधम -- अधम आदमी, नीच पुरुष

नरासभ -- आदमियों का स्वामी, प्रायः भगवान बुद्ध के लिए प्रयुक्त

नरुत्तम -- आदमियों में श्रेष्ठ, प्रायः भगवान बुद्ध के लिए प्रयुक्त

नळपान जातक -- बंदरों ने सरकण्डे के माध्यम से जलाशय का पानी पिया

नलाट -- ललाट, मस्तक

नलिनी -- जलाशय, कमल-जलाशय

नव -- नया, नौ

नव-कम्म -- नया काम, मरम्मत

नव-कम्मिक -- नया काम [भवननिर्माण] कराने वाला

नवङ्ग -- जिसके नौ हिस्से हों

नव-नवुति -- निन्‍नानबे

नवक -- नवागन्तुक, तरुण, जो नयानया संघ में प्रविष्ट हुआ हो, नौ जनों का समूह

नवकतर -- तरुण से भी तरुण

नवनीत -- मक्खन

नवम -- नौवाँ

नवमी -- चान्द्र मास की नवमी

नवुति -- नब्बे

नस्सति -- नष्ट होता है, लुप्त होता है

नस्सि -- नष्ट हुआ

नस्सन्त -- नष्ट होता हुआ

नस्सित्वा -- नष्ट होकर

नस्सन -- नाश

नहात -- स्नान किया हुआ

नहान -- स्नान

नहानिय -- स्नान-सामग्री

नहापक -- नहलाने वाला

नहापन -- स्नान, धोना

नहापित -- नाई, नहाया हुआ

नहापेति -- नहलाता है

नहापेसि -- नहलाया

नहापेन्त -- नहाते हुए

नहापेत्वा -- स्नान करके

नहायति -- नहाता है

नहायि -- नहाया

नहायन्त -- नहाते हुए

नहायित्वा -- नहाकर

नहायितुं -- नहाने के लिए

नहायन -- स्नान

नहारु -- नस

नहि -- नहीं

नहुत -- दस हजार

नळ -- सरकण्डा

नळकार -- टोकरी बनाने वाला

नळ-कलाप -- सरकण्डों का ढेर

नळ-मीन -- समुद्री केकड़ा

नळागार -- सरकण्डों की झोंपड़ी

नळिनिका जातक -- राजकुमारी नळिनिका को ऋषि श्रृंग का तप भ्रष्ट करने के लिए भेजा गया

नाक -- स्वर्ग

नाग -- सर्प, हाथी, वृक्ष-विशेष, श्रेष्ठ, पुरुष

नाग-दन्त -- हाथी दाँत की कील या खूँटी

नाग-दीप -- सिंहलद्वीप का उत्तरी भाग, वर्तमान जाफना

नाग-बल -- हाथी के बल सदृश बल वाला

नाग-बला -- गंगेरन [लताविशेष]

नाग-भवन -- नागों का निवासस्थल

नाग-माणवक -- नाग-तरुण

नाग-माणविका -- नाग-तरुणी, नाग-कुमारी

नाग-राज -- नागों का राजा

नाग-रुक्ख -- नाग-वृक्ष

नाग-लता -- पान की बेल

नाग-लोक -- नाग-संसार

नाग-वन -- नागों का वन

नागसेन थेर -- मिलिन्द राजा से शास्त्रार्थ करने वाले प्रसिद्ध नागसेन स्थविर

नागर -- नगर वाला, शहरी

नागरिक -- नगर से सम्बन्धित

नाटक -- ड्रामा

नाटकित्थि -- नृत्य-कुमारी

नानच्छन्द जातक -- पुरोहित ने घर के लोगों से परामर्श किया कि वह राजा से क्या चीज माँगे और नाना माँगें सामने आई

नाथ -- संरक्षण, संरक्षक, लोकनाथ, लोकों के संरक्षक, भगवान बुद्ध के लिए प्रयुक्त नाम

नाद -- आवाज

नानता -- नानत्व, विविधता

नानत्त -- नानत्व, विविधता

नानत्त-काय -- नाना प्रकार के शरीरों वाला

नाना -- अनेक, भिन्‍न-भिन्‍न

नाना-कारण -- अनेक कारण

नाना-गोत्त -- अनेक गोत्र

नाना-जच्‍च -- अनेक जातियों का

नाना-जन -- अनेक प्रकार की जनता

नाना-तित्थिय -- नाना सम्प्रदाय के लोग

नाना-प्रकार -- अनेक प्रकार

नाना-रत्त -- नाना वर्ण

नानावाद -- नानावाद

नाना-विध -- नाना प्रकार का

नाना-संवास -- जो अलग-अलग रहते हों

नाभि, [नाभी भी] -- नाभी, पेट का मध्य-बिन्दु, चक्र का मध्य-भाग

नाम -- नाम, व्यक्तित्व का चैतसिक-भाग, नाम [वाला]

नाम-करण -- नाम रखना

नाम-गहण -- नाम ग्रहण करना

नाम-धेय -- नाम, नाम वाला

नाम-धेय्य भी -- नाम, नाम वाला

नाम-पद -- नाम, संज्ञा

नामक -- नाम से, नाम मात्र का

नामसिद्धि जातक -- शिष्य अच्छा-सा नाम खोजने जाकर अपने पहले वाले नाम ‘पापक’ से ही संतुष्ट होकर लौट आया

नामेति -- झुकाता है

नामेसि -- झुकाया

नामित -- झुकाया गया

नामेत्वा -- झुका कर

नायक -- नेता, मार्ग-दर्शक

नायिका -- मार्ग-दर्शिका

नारङ्ग -- नारंगी का पेड़

नाराच -- लोहे की छड़, एक प्रकार का तीर

नारी -- औरत

नालं -- अपर्याप्त, प्रतिकूल

नालंदा -- राजगृह के पास का प्रसिद्ध स्थान, जहाँ भगवान बुद्ध कई बार ठहरे थे और जहाँ बाद की सदियों में बौद्ध विश्वविद्यालय बना

नाल -- नालिका, नाली

नालागिरि -- राजकीय हस्तिशाला का हाथी, जिसे देवदत्त की प्रेरणा से गौतम बुद्ध को शारीरिक हानि पहुँचाने के लिए उन पर छोड़ा गया था

नालि -- माप-विशेष

नालिमत्त -- नालिमात्र, सिर्फ एक नालि

नालिका -- नाली

नालिका-यन्त -- घड़ी

नालिकेर -- नारियल

नालि-पट्ट -- टोपी

नावा -- जहाज

नावा-तित्थ -- नौका का पत्तन

नावा-संचार -- नौकाआें का आना-जाना

नाविक -- मल्‍लाह, माँझी

नाविकी -- मल्‍लाहिन, माँझी की स्त्री

नावुतिक -- नब्बे वर्ष का

नास -- नाश, मृत्यु

नासन -- नाश करना, त्याग देना, निकाल बाहर कर देना

नासा -- नाक, नासिका

नासा-रज्‍जु -- नकेल

नासिका -- नाक

नासेति -- नष्ट करता है, खराब कर देता है, मार डालता है

नासेसि -- नष्ट किया

नासित -- नष्ट किया हुआ

नासेत्वा -- नष्ट करके

नासितब्ब -- नष्ट करने योग्य

निकट -- पड़ोस, पास

निकट्ठ -- निकृष्ट, गिरा हुआ

निकटि -- ठगी

निकत -- कपटी

निकति -- ठगी

निकन्त -- कटा हुआ

निकन्तति -- काटता है

निकन्ति -- काटा, इच्छा

निकन्तित -- कटा हुआ

निकन्तित्वा -- काटकर

निकर -- समूह

निकस -- कसौटी

निकामना -- इच्छा [=निकन्ति]

निकामलाभी -- बिना कठिनाई से प्राप्त करने वाला

निकामेति -- इच्छा करता है, चाहता है

निकामेसि -- इच्छा की

निकामित -- इच्छा किया हुआ

निकामेन्त -- इच्छा करता हुआ

निकाय -- समूह, सम्प्रदाय, संग्रह

निकास -- पड़ोस

निकिट्ठ -- निकृष्ट

निकुञ्‍ज -- वृक्षों तथा झाड़ियों से ढका घना स्थान

निकूजति -- कूजता है

निकूजि -- शब्द किया

निकूजित -- शब्द किया हुआ

निकूजमान -- शब्द करता हुआ

निकेतन -- निवास-स्थान, घर

निक्‍कङ्ख -- असंदिग्ध

निक्‍कड्ढन -- बाहर खींच लाना

निक्‍कण्टक -- निष्कण्टक, काँटों या शत्रुआें से रहित

निक्‍कद्दम -- कर्दम-रहित, कीचड़-रहित

निक्‍कम -- प्रयत्न

निक्‍करुण -- करुणा-विहीन

निक्‍कसाव -- अपवित्रता से मुक्त

निक्‍काम -- कामना-रहित

निक्‍कारण -- बिना कारण के

निक्‍कारणा -- कारण-रहित

निक्‍किलेस -- विकार-रहित

निक्‍कुज्‍ज -- फेंका गया

निक्‍कुज्‍जेति -- उलट देता है

निक्‍कुज्‍जेसि -- उलट दिया

निक्‍कुजित -- उलट दिया गया

निक्‍कुज्‍जेत्वा -- उलट कर

निक्‍कुज्‍जिय -- उलट देने योग्य

निक्‍कुह -- बिना ढोंग के

निक्‍कोध -- क्रोध-रहित

निक्‍केस-सीस -- गंजा सिर

निक्ख -- निकष, स्वर्ण-मुद्रा

निक्खन्त -- [घर से] बाहर निकला हुआ

निक्खम -- निष्क्रमण

निक्खमण -- निष्क्रमण, विदाई

निक्खमति -- [घर से] बाहर जाता है

निक्खमि -- निकला

निक्खमन्त -- निकलता हुआ

निक्खमित्वा -- निकलकर

निक्खम्म -- निष्क्रमण कर

निक्खमितब्ब -- निष्क्रमण करने योग्य

निक्खमितुं -- निष्क्रमण करने के लिए

निक्खमनीय -- सावन का महीना, इस महीने में बच्‍चे को बाहर निकाल कर सूर्य का दर्शन कराया जाता है

निक्खामेति -- निकाल बाहर करता है

निक्खामेसि -- निकाला

निक्खामित -- निकाला हुआ

निक्खामेन्त -- निकालता हुआ

निक्खामेत्वा -- निकाल कर

निक्खिक -- कोषाध्यक्ष, खजांची

निक्खित्त -- रखा गया

निक्खिपति -- एक ओर रख देता है

निक्खिपि -- रखा

निक्खिपन्त -- रखता हुआ

निक्खिपित्वा -- रख कर

निक्खिपितब्ब -- रखने के योग्य

निक्खेप -- निक्षेप, रख देना

निक्खेपन -- निक्षेपण, धर देना

निखणति [निखनति भी] -- खनता है, खोदता है

निखनि -- खोदा

निखात -- खोदा हुआ

निखनन्त -- खोदते हुए

निखनित्वा -- खोद कर

निखादन -- छेनी

निखिल -- समस्त

निगच्छति -- अनुभव करता है, सहन करता है

निगण्ठ -- न्रिग्रन्थ, जैन सम्प्रदाय का संन्यासी

निगण्ठनाथपुत्त -- बुद्ध के समकालीन छह प्रसिद्ध आचार्यो में से एक, जैनों के अन्तिम तीर्थकर वर्धमान महावीर

निगति -- भाग्य, अवस्था, आचरण

निगम -- कस्बा

निगमन -- व्याख्या, उद्धरण, दृष्टान्त

निगल -- हाथी के पैर की जंजीर

निगूहति -- ढकता है, छिपाता है

निगूहि -- छिपाया

निगूहित -- छिपाया हुआ

निगूळह -- छिपाया हुआ

निगूहित्वा -- छिपाकर

निगूहन -- छिपाना

निग्गच्छति -- बाहर जाता है

निग्गण्ठि -- ग्रन्थि-रहित

निग्गण्हन -- निग्रह करना, डाटनाडपटना

निग्गण्हाति -- दोषारोपण करता है, डाँटता-डपटता है

निग्गण्हि -- निग्रह किया

निग्गहीत -- निग्रह किया गया, अनुस्वार

निग्गण्हन्त -- निग्रह करता हुआ

निग्गय्ह -- निग्रह करके

निग्गहित्वा -- निग्रह करके

निग्गम -- बाहर जाना, बाहर निकलना

निग्गमन -- बाहर जाना, विदा होना

निग्गय्ह-वादी -- निग्रह करने वाला, दोष दिखाने वाला

निग्रोध मिग जातक -- निग्रोध मृग ने अपनी जान देकर भी अपने पक्ष की मृगी और उसके बच्‍चे की प्राण-रक्षा करनी चाही। वह सभी के प्राण बचाने में सफल हुआ

निग्गह -- निग्रह, दोषारोपण करना

निग्गहेतब्ब -- निग्रह करने योग्य

निग्गाहक -- निग्रह करने वाला

निग्गुण्डि [निग्गुण्डी भी] -- बूटी-विशेष

निग्गुम्ब -- जहाँ झाड़-झंखाड़ न हो

निग्घातन -- हत्या, विनाश

निग्घोस -- निर्घोष, चिल्‍लाना

निग्रोध -- वट वृक्ष, बरगद का पेड़

निग्रोध-पक्‍क -- वट का पका फल

निग्रोध-परिमण्डल -- वट का घेरा

निघंस -- रगड़ना

निघंसन -- रगड़ना

निघंसति -- रगड़ता है

निघंसि -- रगड़ा

निघंसित -- रगड़ा हुआ

निघंसित्वा -- रगड़कर

निघण्डु -- निघंटु, पर्याय वचनों का कोश

निघात -- मारना

निचय -- संग्रह, धन

निचित -- संग्रहीत

निचुल -- एक प्रकार का पौधा, मुचलिदो

निच्‍च -- नित्य, लगातार

निच्‍चं -- नित्य, सदैव, लगातार

निच्‍च-कालं -- सदैव

निच्‍च-दान -- स्थायी दान

निच्‍च-भत्त -- सतत भोजन-दान

निच्‍च-सील -- सतत शील-पालन, पंचशील

निच्‍चता -- नित्यता

निच्‍चम्म -- चर्म-रहित

निच्‍चल -- निश्चल, स्थिर

निच्‍चोल -- निर्वस्त्र, नंगा

निच्छय -- निश्चय

निच्छरण -- बाहर भेजना, बाहर निकलना

निच्छरति -- बाहर जाता है

निच्छरि -- बाहर निकला

निच्छरित -- बाहर निकला हुआ

निच्छरित्वा -- बाहर निकल कर

निच्छात -- बिना भूख के

निच्छारित -- प्रकट किया हुआ

निच्छारेति -- प्रकट करता है, बोलता है

निच्छारेत्वा -- प्रकट करके

निच्छारेसि -- प्रकट किया, बोला

निच्छित -- निश्चित, विचारित, मीमांसित

निच्छनाति -- विचार करता है, विमर्षण करता है

निज -- स्वकीय, अपना

निज-देस -- अपना देश

निज्‍जट -- सुलझा हुआ

निज्‍जर -- जरा-रहित, ह्रास-रहित, जिसे बुढ़ापा न व्यापे

निज्‍जरेति -- नष्ट करता है, विनाश करता है

निज्‍जिण्ण -- जरा-प्राप्त, ह्रासप्राप्त

निज्‍जिव्ह -- जिह्वा-विहीन, बिना जीभ के, जंगली मुर्गा

निज्‍जीव -- निर्जीव

निज्झान -- अन्तर्द्दष्टि

निज्झायति -- ध्यान लगाता है

निट्ठा -- अन्त, सारांश, निष्ठा

निट्ठाति -- समाप्त होता है, समाप्त करता है

निट्ठान -- समाप्ति

निट्ठासि -- समाप्त किया

निट्ठापित -- पूरा कराया हुआ

निट्ठापेति -- पूरा कराता है, समाप्त कराता है

निट्ठापेत्वा -- पूरा करके

निट्ठापेन्त -- पूरा करता हुआ

निट्ठापेसि -- पूरा कराया, समाप्त कराया

निट्ठित -- समाप्त, सम्पूर्ण

निट्ठुभति -- थूकता है

निट्ठुभन -- थूकना, थूक

निट्ठुभि -- थूका

निट्ठुभित -- थूका हुआ

निट्ठुभित्वा -- थूक करके

निट्ठुर -- निष्ठुर, कठोर, निर्दयी

निट्ठुरिय -- निष्ठुरता, निर्दयता

निड्ड -- नीड़, घोंसला, विश्रामस्थल

निड्डेति -- घास-पात हटाता है

निण्णय -- निर्णय

नितम्ब -- चूतड़, पर्वत का किनारा

नित्तण्ह -- तृष्णा-रहित

नित्तल -- गोल

नित्तिण्ण -- पार हुआ, तीर्ण हुआ

नित्तुदन -- घोंपना, चुभाना

नितेज -- तेज-रहित

नित्थरण -- पार हो जाना, तर जाना, समाप्ति

नित्थरति -- पार होता है

नित्थरि -- पार हुआ

नित्थरित -- पार हुआ

नित्थरित्वा -- पार होकर

नित्थुनन -- कराहना

नित्थुनाति -- कराहता है

नित्थुनन्त -- कराहता हुआ

नित्थुनि -- कराहा

नित्थुनित्वा -- कराह करके

निदस्सन -- उदाहरण, साक्षी, तुलना

निदस्सित -- दरसाया हुआ

निदस्सिय -- दरसाकर

निदस्सितब्ब -- दरसाने योग्य

निदस्सेति -- दरसाता है

निदस्सेसि -- दरसाया

निदस्सेत्वा -- दरसा करके

निदहति -- खजाना गाड़ता है

निदहि -- खजाना गाड़ा

निदहित -- निहित, खजाना गाड़े हुए

निदहित्वा -- खजाना गाड़ कर

निदाघ -- सूखा, ग्रीष्म-काल, गरमी

निदान -- मूल, कारण, उत्पत्ति

निदान-कथा -- जातकट्ठकथा का आरंभिक अंश [भूमिका]

निद्दय -- निर्दय

निद्दर -- दुख-रहित, भय-रहित

निद्दा -- निद्रा, नींद

निद्दारामता -- निद्रा-प्रियता

निद्दालु -- निद्रालु

निद्दासीली -- निद्रालु

निद्दायति -- सोता है

निद्दायन -- सोना

निद्दायन्त -- सोता हुआ

निद्दायि -- निद्दायित्वा, सोकर

निद्दिट्ठ -- निर्दिष्ट, निर्देश किया हुआ

निद्दिसति -- निर्देश करता है

निद्दिसि -- निर्देश किया

निद्दिसितब्ब -- निर्देश करने योग्य

निद्दिसित्वा -- निर्देश करके

निद्दुक्ख -- दुख-रहित

निद्देस -- विश्लेषणात्मक व्याख्या, खुद्दक निकाय के अन्तर्गत गिना जाने वाला एक टीका-ग्रन्थ

निद्दोस -- निर्दोष, निर्मल

निद्धन -- निर्धन

निद्धन्त -- फूँक मारते हुए

निद्धमति -- फूँक मारता है, बाहर निकालता है

निद्धमि -- फूँक मारी

निद्धमित्वा -- फूँक मारकर

निद्धमन -- नाली, नहर

निद्धमन-द्वार -- तालाब के पानी का निकास

निद्धारण -- निश्चित करना

निद्धारित -- निश्चित किया हुआ

निद्धारेति -- निश्चय करता है

निद्धारेसि -- निश्चित किया

निद्धारेत्वा -- निश्चित करके

निद्धुनन -- धुनना

निद्धुनाति -- धुनता है

निद्धुनि -- धुना

निद्धुनित्वा -- धुनकर

निद्धोत -- धोया हुआ, साफ किया हुआ, तेज किया हुआ

निधन -- मृत्यु, मौत

निधान -- छिपा खजाना

निधापित -- रखवाया हुआ

निधापेति -- रखवाता है, गड़वाता है

निधापेसि -- रखवाया, गड़वाया

निधाय -- रखकर, गाड़कर

निधि -- छिपा खजाना

निधि-कुम्भि -- खजाने का घड़ा

निधीपति -- रखवाता है, गड़वाता है

निधेति -- रखता है, गाड़ता है

निधेसि -- गाड़ा

निन्दति -- निन्दा करता है [निन्दि, निन्दित, निन्दन्त, निन्दित्वा, निन्दितब्ब]

निन्दन -- अपमान, अगौरव

निन्दना -- अपमान, अगौरव

निन्दिय -- निन्दनीय

निन्‍न -- निम्न, निम्न भूमि

निन्‍नता -- निम्नता

निन्‍नगा -- नदी

निन्‍नहुत -- संख्या-विशेष

निन्‍नाद -- स्वर-माधुर्य, लय, राग

निन्‍नादी -- ऊँची आवाज वाला

निन्‍नामेति -- झुकता है [निन्‍नामेसि, निन्‍नामेत्वा, निन्‍नामित]

निन्‍निमित्त -- इच्छानुसार

निन्‍नेजक -- धोबी

निन्‍नेतु -- निर्णय करने वाला, निर्णायक

निपक -- दक्ष, बुद्धिमान

निपच्‍च -- गिरकर

निपच्‍चाकार -- नम्रता

निपज्‍ज -- लेटकर

निपज्‍जति -- लेटता है [निपज्‍जि, निपन्‍न, निपज्‍जन्त, निपज्‍ज, निपज्‍जिय, निपज्‍जित्वा]

निपज्‍जन -- लेटना

निपठ -- पाठ

निपाठ -- पढ़ना

निपतति -- गिरता है [निपति, निपतित, निपतित्वा]

निपन्‍न -- लेटा

निपात -- गिरना, उतरना, अव्ययप्रत्यय

निपातन -- गिरना, नीचे गिरना

निपाती -- गिरने वाला, सोने वाला

निपातेति -- गिरने देता है, गिराता है [निपातेसि, निपातित, निपातेन्त, निपातेत्वा]

निपान -- पशुआें की जल पीने की जगह

निपुण -- दक्ष, होशियार

निपक्‍क -- उबला हुआ

निप्पदेस -- सर्व-व्यापक

निप्पपञ्‍च -- प्रपञ्‍च-रहित

निप्पभ -- निष्प्रभ

निप्परियाय -- बिना किसी भेद के

निप्पलाप -- प्रलाप-रहित

निप्पाप -- निष्पाप

निप्पाव -- सूप, छाज

निप्पितिक -- पिता-विहीन

निप्पीळन -- पीड़ना, दबाना, निचोड़ना

निप्पीळेति -- निचोड़ता है [निप्पीळेसि, निप्पीळित, निप्पीळेत्वा]

निप्पुरिस -- पुरुष-विहीन, स्त्रियाँ ही स्त्रियाँ

निप्पोयन -- पीटना

निप्फज्‍जति -- निष्पादन करता है, देखो निप्पज्‍जति [निप्फज्‍जि, निप्फन्‍न, निप्फज्‍जमान, निप्फज्‍जित्वा]

निप्फज्‍जन -- परिणाम, प्रभाव, प्राप्ति

निप्फत्ति -- निष्पत्ति, प्राप्ति

निप्फल -- निष्फल

निप्फादक -- निष्पादक, उत्पन्‍न करने वाला

निप्फादन -- उत्पत्ति

निप्फादेति -- उत्पन्‍न करता है [निप्फादेसि, निप्फादित, निप्फादेन्त, निप्फादेत्वा]

निप्फादेतु -- उत्पन्‍न करने वाला, उत्पादक

निप्फोटन -- पीटना

निप्फोटेति -- पीटता है [निप्फोटेसि, निप्फोटित, निप्फोटेन्त, निप्फोटेत्वा]

निबद्ध -- नियमित, लगातार

निबन्ध -- बंधन

निबन्धन -- बंधन

निबन्धति -- बाँधता है, प्रेरित करता है [निबन्धि, निबद्ध, निबद्धित्वा]

निब्बट्ट -- बिना बीज के

निब्बट्टेति -- हटाता है [निब्बट्टेसि, निब्बट्टित, निब्बट्टेत्वा]

निब्बत्त -- जिसका पुनर्जन्म हुआ हो

निब्बत्तक -- उत्पन्‍न करने वाला

निब्बत्तनक -- उत्पादक

निब्बत्तति -- उत्पन्‍न होता है, परिणत होता है, जन्म ग्रहण करता है [निब्बत्ति, निब्बत्त, निब्बत्तन्त, निब्बत्तित्वा]

निब्बत्तन -- उत्पत्ति

निब्बत्ति -- जन्म-ग्रहण, प्रकट होना

निब्बत्तापन -- पुनर्जन्म

निब्बत्तेति -- उत्पन्‍न करता है [निब्बत्तेसि, निब्बत्तित, निब्बत्तेन्त, निब्बत्तेतब्ब, निब्बत्तेत्वा]

निब्बन -- तृष्णा-रहित, वन-रहित

निब्बनथ -- तृष्णा-मुक्त

निब्बसन -- निर्वसन, बिना वस्त्र के

निब्बाति -- बुझ जाता है, ठण्डा पड़ जाता है, उत्तेजना-रहित हो जाता है [निब्बायि, निब्बुत, निब्बायन्त, निब्बायित्वा]

निब्बान -- निर्वाण, [अग्नि का] बुझ जाना, मोक्ष

निब्बान-गमन -- निर्वाण-गामी

निब्बान-धातु -- निर्वाण-क्षेत्र

निब्बान-पत्ति -- निर्वाण-प्राप्ति

निब्बान-सच्छिकिरिया -- निर्वाण का साक्षात करना

निब्बान-सम्पत्ति -- निर्वाण की प्राप्ति

निब्बानाभिरत -- निर्वाण-प्राप्ति में अनुरक्त

निब्बापन -- शान्त होना, बुझना

निब्बापेति -- बुझा देता है [निब्बापेसि, निब्बापित, निब्बापेन्त, निब्बापेत्वा]

निब्बायति -- निर्वाण-प्राप्त होता है

निब्बायितुं -- निर्वाण प्राप्त करने के लिए

निब्बाहन -- हटाना, बाहर किये हुए, बाह्य-कृत

निब्बिकार -- निर्विकार, अपरिवर्तनशील

निब्बिचिकिच्छ -- सन्देह-रहित

निब्बिज्‍ज -- निर्वेद-प्राप्त

निब्बिज्‍जति -- निर्वेद प्राप्त करता है [निब्बिज्‍जि, निब्बिन्‍न, निब्बिज्‍जित्वा]

निब्बिज्झति -- बींधता है [निब्बिज्झि, निब्बिद्ध]

निब्बिदा -- निर्वेद

निब्बिन्दति -- निर्वेद-प्राप्त होता है [निब्बिन्दि, निब्बिन्‍न, निब्बिन्दित्वा]

निब्बिस -- मजदूरी, निर्विष

निब्बिसेस -- समान, एक जैसा

निब्बुति -- शान्ति, सुख

निब्बुय्हति -- तैरता है

निब्बेठन -- उधेड़ना, व्याख्या

निब्बेठेति -- उधेड़ता है [निब्बेठेसि, निब्बेठित, निब्बेठेत्वा]

निब्बेध -- घुसाना, घुसेड़ना

निब्बेमतिक -- एकमत

निब्भय -- निर्भय

निब्भोग -- व्यर्थ, बेकार

निभ -- समान

निभा -- प्रकाश, चमक-दमक

निभाति -- चमकता है

निभासि -- चमका

निमन्तक -- निमंत्रण देने वाला

निमन्तन -- निमंत्रण

निमन्तेति -- निमंत्रण देता है [निमन्तेसि, निमन्तित, निमन्तेत्वा, निमन्तिय, निमन्तेन्त]

निमि जातक -- सिर का सफेद बाल दिखाई देने पर अपने अनेक पूर्वजों की तरह निमि राजा ने भी सिंहासन का त्याग कर दिया

निमित्त -- चिह्न, शकुन, कारण

निमित्तग्गाही -- ऊपरी चिह्नों से आकर्षित

निमित्त-पाठक -- शकुनों की व्याख्या करने वाला, भविष्य-वक्ता

निमिनाति -- आदान-प्रदान करता है [निम्मिनि, निमिनित, निमिनित्वा]

निमिस [निमेस भी] -- आँख का झपकना

निमिसति -- आँख झपकता है, आँख मारता है

निमीलेति -- आँख झपकता है, आँख बंद करता है [निमीलेसि, निमीलित, निमीलेत्वा]

निमीलन -- आँख झपकाना, आँख मारना

निमुज्‍ज -- डुबकी लगाई हुई

निमुज्‍जति -- डुबकी लगाता है [निमुज्‍जि, निमुज्‍जित्वा, निमुज्‍जितुं]

निमुज्‍जा -- डुबकी मारना, डुबकी

निमुज्‍जन -- डुबकी लगाना

निमेस -- देखो निमिस

निम्म -- नीम का वृक्ष

निम्मक्खिक -- मक्खी-रहित

निम्मज्‍जन -- निचोड़ना

निम्मथन -- पीसना

निम्मथति -- पीस डालता है [निम्मथि, निम्मथित, निम्मथित्वा]

निम्मथेति -- पीस डालता है, दबा देता है

निम्मद्दन -- मर्दित करना, दबा देना

निम्मल -- निर्मल

निम्मंस -- मांस-रहित

निम्मात-पितिक -- अनाथ, माता-पिता रहित

निम्मातिक -- माता-विहीन

निम्मातु -- निर्माण करने वाला, रचयिता

निम्माण -- रचना, कृति

निम्मान -- रचना, कृति, मान-रहित

निम्मित -- निर्मित

निम्मिणाति [निम्मिनाति भी] -- उत्पन्‍न करता है, निर्माण करता है, रचता है [निम्मिणि, निम्मिणन्त, निम्मिणित्वा, निम्माय]

निम्मूल -- निर्मूल

निम्मोक -- साँप की केंचुल

निय -- नियक, स्वकीय, अपना

नियत -- निश्चित, स्थिर

नियति -- भाग्य, किस्मत, आवश्यकता

नियम -- मर्यादा, निश्चित होना, स्थिर होना

नियमन -- स्थिरता, नियमाधीन होना

नियमेति -- नियमित करता है [नियमेसि, नियमित, नियमेत्वा]

नियाम -- नियम होना, तरीका

नियामता -- नियमित होना

नियामक -- जहाज का कप्तान, सेनापति, नियम में चलाने वाला

नियुज्‍जति -- नियुक्त होता है, कार्य-रत होता है

नियुज्‍जि -- कार्य-रत हुआ

नियुत्त -- नियुक्त

नियोग -- आज्ञा, हुक्म, आवश्यकता

नियोजन -- नियुक्त करना, आज्ञा देना

नियोजित -- प्रतिनिधि

नियोजेति -- नियुक्त करता है, प्रेरित करता है [नियोजेसि, नियोजेन्त, नियोजेत्वा]

निय्यति [नीयति भी] -- ले जाया जाता है

निय्यातन -- समर्पण, साैंपना

निय्याति -- बाहर जाता है [निय्यासि, निय्यात]

निय्यातु -- नेता, मार्गदर्शक, बाहर जाने वाला

निय्यातेति [निय्यादेति, नीयादेति भी] -- साैंपता है, समर्पित करता है [निय्यातेसि, निय्यातित, निय्यादित, निय्यातेत्वा, निय्यादेत्वा]

निय्यान -- बहिर्गमन, विदाई, मुक्ति

निय्यानिक -- मुक्ति की और अग्रसर करने वाला

निय्यास -- पेड़ों से निकलने वाला रस, गोंद आदि

निय्यूह -- शिखर, द्वार

निरंकरोति [निराकरोति भी] -- तिरस्कार करता है, उपेक्षा करता है [निरंकरि, निरंकत, निरंकत्वा]

निरग्गल -- बाधा-रहित, मुक्त

निरत -- लगा हुआ

निरत्थ -- निरर्थक

निरत्थक -- निरर्थक

निरन्तर -- लगातार

निरन्तरं -- लगातार

निरपराध -- निर्दोष

निरपेक्ख -- अपेक्षा-रहित, जिसको परवाह न हो

निरब्बुद -- बाधा-रहित, दुख-रहित, एक विशाल संख्या, निरय-विशेष

निरय -- नरक

निरय-गामी -- नरक-गामी

निरय-दुक्ख -- नरक का दुख

निरय-पाल -- नरक का अधिपति

निरय-भय -- नरक का भय

निरय-संवत्तनिक -- नरक की ओर ले जाने वाला

निरवसेस -- सम्पूर्ण

निरसन -- निराहार

निरस्साद -- बे-स्वाद

निराकति -- दूर करना

निराकुल -- उलझन-रहित, बाधा-रहित

निरासङ्क -- रोग-रहित, स्वस्थ

निरामय -- निरोग

निरामिस -- मांस-रहित, अभौतिक

निरारम्भ -- बिना पशुआें की हत्या किये

निरालम्ब -- निराधार

निरालय -- आसक्ति-रहित, गृह-रहित

निरास -- आशा-रहित, इच्छा-रहित

निरासङ्क -- शंका-रहित

निरासंस -- इच्छा-रहित, आशा-रहित

निरासव -- आसव-रहित, चित्त-मैल रहित

निराहार -- आहार-रहित, व्रती

निरिन्धन -- इंधन-रहित

निरुज्झति -- निरोध को प्राप्त होता है [निरुज्झि, निरुद्ध, निरुज्झित्वा]

निरुज्झन -- निरोध

निरुत्तर -- उत्तर-विहीन, सर्वोत्तम

निरुत्ति -- निरुक्त-शास्त्र, बोली, व्याकरण सम्बन्धी विश्लेषण

निरुत्ति-पटिसम्भिदा -- निरुक्त का ज्ञान

निरुदक -- जल-रहित

निरुद्ध -- निरोध को प्राप्त हुआ

निरुपद्दव -- उपद्रव-रहित

निरुपधि -- राग-रहित, आसक्ति-रहित

निरुपम -- उपमा रहित

निरुस्सास -- आश्वास-प्रश्वास-रहित

निरुस्सुक -- औत्सुक्य-रहित, उपेक्षा-युक्त

निरोग -- स्वस्थ

निरोज -- स्वाद-रहित, बे-मजा

निरोध -- पुनरुत्पत्ति का रुक जाना

निरोध-धम्म -- निरोध-स्वभाव

निरोध-समापत्ति -- विज्ञान के निरुद्ध होने की स्थिति

निरोधेति -- निरोध को प्राप्त करता है [निरोधेसि, निरोधित, निरोधेत्वा]

निलय -- घर, निवास-स्थान

निलीयति -- छिपता है [निलीयि, निलीन, निलीयित्वा]

निल्‍लज्‍ज -- निर्लज्‍ज, बेशरम

निल्‍लेहक -- चाटने वाला

निल्‍लोप -- लूटना, डाका डालना

निवत्त -- रुक जाना

निवत्तति -- रुक जाता है, लौट पड़ता है [निवत्ति, निवत्तन्त, निवत्तित्वा, निवत्तितुं]

निवत्तन -- रुकना, वापिस होना

निवत्ति -- रुकना, वापिस होना

निवत्तेति -- रोकता है, लौटाता है [निवत्तेसि, निवत्तित, निवत्तेन्त, निवत्तेत्वा]

निवत्थ -- वस्त्र पहने हुए

निवसति -- रहता है, वास करता है [निवसि, निवुत्थ, निवसन्त, निवसित्वा]

निवह -- ढेर, संग्रह

निवातक -- सुरक्षित स्थान

निवातवुत्ति -- विनम्र

निवाप -- पशुआें का आहार, श्राद्ध

निवारण -- रोकना

निवारिय -- रोकने योग्य

निवारेति -- रोकता है [निवारेसि, निवारित, निवारेत्वा]

निवारेतु -- रोकने वाला

निवास -- रहना, रहने की जगह

निवास-भूमि -- रहने की जगह

निवासन -- अन्तर्वसन, अन्दर पहनने का कपड़ा, रहने की जगह

निवासिक -- रहने वाला

निवासेति -- वस्त्र पहनता है [निवासेसि, निवासित, निवत्थ, निवासेन्त, निवासित्वा]

निविट्ठ -- स्थिर हुआ

निविसति -- घुसता है, रुकता है

निवुत -- घिरा हुआ

निवुत्थ -- रहा हुआ

निवेदक -- निवेदन करने वाला

निवेदेति -- निवेदन करता है [निवेदेसि, निवेदित, निवेदित्वा, निवेदिय]

निवेस -- निवास-स्थल, घुसना, रुकना

निवेसन -- घर, घुसना

निवेसेति -- स्थापित करता है, घुसाता है, निर्धारित करता है [निवेसेसि, निवेसित, निवेसित्वा]

निसग्ग -- देना, प्रकृति, निसर्ग

निसज्‍ज -- बैठकर

निसज्‍जा -- बैठना, बैठने का अवसर, बैठने की जगह, सीट

निसद -- चक्‍की [विशेषतः चक्‍की का निचला पाट]

निसद-पोत -- चक्‍की का ऊपर का पाट

निसभ -- वृषभ

निसम्म -- विचार करके

निसम्मकारी -- सोच-विचारकर करने वाला

निसा -- निशा, रात्रि

निसाकर -- चन्द्रमा

निसाण -- सान चढ़ाने का पत्थर, सिल्‍ली

निसाद -- सात स्वरों में से एक, एकगैर-आर्य जाति-विशेष, चोर-डाकू

निसानाथ -- चन्द्रमा

निसामक -- द्रष्टा, दर्शक, ध्यान लगाकर सुनने वाला

निसामन -- देखना तथा सुनना

निसामेति -- सुनता है [निसामेसि, निसामित, निसामेन्त, निसामेत्वा]

निसित -- तेज

निसिन्‍न -- बैठा हुआ

निसिन्‍नक -- बैठा हुआ

निसीथ -- मध्य-रात्रि

निसीदति -- बैठता है [निसीदि, निसीदितब्ब, निसीदित्वा, निसीदिय]

निसीदन -- बैठना, बैठने की चटाई वगैरह

निसीदापन -- बैठाना

निसीदापेति -- बैठाता है [निसीदापेसि, निसीदापित, निसीदापेत्वा]

निसूदन -- हत्या करना

निसेध -- रोक-थाम

निसेधक -- निषेध करने वाला

निसेधेति -- निषेध करता है [निसेधेसि, निसेधित, निसेधेन्त, निसेधेत्वा]

निसेवति -- संगति करता है [निसेवि, निसेवित, निसेवित्वा]

निसेवन -- संगति करना, उपयोग करना, अभ्यास करना

निस्सङ्ग -- परित्याग

निस्सग्गिय -- परित्याग करने योग्य

निस्सङ्ग -- संग-रहित

निस्सज्‍जति -- ढीला छोड़ता है, त्याग देता है, देता है [निस्सज्‍जि, निस्सट्ठ, निस्सज्‍ज, निस्सज्‍जित्वा]

निस्सट्ठ -- बाहर निकला हुआ, दिया हुआ, परित्यक्त

निस्सत्त -- सत्त्व[प्राणी]-विहीन

निस्सद्द -- निःशब्द, शान्त

निस्सन्द -- परिणाम, रिसना

निस्सय -- आश्रय, संरक्षण

निस्सयति -- आश्रय ग्रहण करता है, सहारा लेता है

निस्सरण -- बाहर जाना, विदाई

निस्सरति -- विदा होता है, [निस्सरि, निस्सट, निस्सरित्वा]

निस्साय -- उसके द्वारा, उससे

निस्सार -- सार-रहित

निस्सारज्‍ज -- विश्वस्त, दावे के साथ

निस्सारण -- बाहर निकालना

निस्साव -- चावल का माँड़

निस्सित -- आश्रित

निस्सितक -- आश्रय ग्रहण करने वाला, अनुयायी, शिष्य

निस्सिरीक -- अभाग्यपूर्ण, दुखी, वैभव-हीन

निस्सेणि -- सीढ़ी

निस्सेस -- सम्पूर्ण

निस्सेसं -- सम्पूर्ण रूप से

निस्सोक -- शोक-रहित

निहत -- निरहकारी, जिसकी मान-मर्यादा कुचल दी गई हो

निहतमान -- विनम्र

निहनति -- जान से मार डालता है [निहनि, निहंत्वा]

निहीन -- नीच, तुच्छ, थोड़ा, महत्त्वहीन

निहीन-कम्म -- नीच-कर्म, पाप-कर्म

निहीन-पञ्‍ञ -- दुर्बुद्धि

निहीन-सेवी -- कुसंगति में रहने वाला

निहीयति -- नाश को प्राप्त होता है [निहीयि, निहीन, निहीयमान]

नीघ -- दुख, अव्यवस्था

नीच -- निकृष्ट

नीचकुल -- नीच जाति

नीचकुलीनता -- नीच कुल में जन्म ग्रहण करने का भाव

नीचासन -- नीचा आसन

नीत -- ले जाया गया

नीतत्थ -- अनुमानित अर्थ

नीति -- कानून, मार्ग दर्शन

नीति-सत्थ -- नीति-शास्त्र

नीप -- कदम्ब-वृक्ष

नीयति -- ले जाया जाता है

नीयाति -- देखो निय्याति

नीर -- जल

नील -- नीला

नील-कसिण -- ध्यान लगाने के लिए नील-वर्ण गोलाकार

नील-गीव -- नील-ग्रीवा, मोर

नील-मणि -- नीलम

नील-वण्ण -- नील-वर्ण, नीले रंग का

नील-वल्‍ली -- नील-वर्ण लता

नील-सप्प -- नीला साँप

नीलिनी -- नील का पौधा

नीली -- नील का पौधा

नीलुप्पल -- नील कमल

नीवरण -- बाधा

नीवार -- धान्य-विशेष

नीहट -- बाहर निकला हुआ

नीहरण -- बाहर निकालना

नीहरति -- बाहर ले जाता है [नीहरि, नीहरन्त, नीहरित्वा]

नीहार -- बाहर निकालना, पथ, ढंग

नीहित -- रखा हुआ, व्यवस्थित

नीळ -- नीड़, घोंसला

नीलज -- पक्षी

नुद -- निकाल बाहर करने वाला, दूर करने वाला

नुदक -- देखो नुद

नुदति -- दूर हाँक देता है, भगा देता है [नुदि, नुदित्वा]

नुन्‍न -- हाँका गया, भगाया गया

नूतन -- नया

नून -- निश्चय से

नूपुर -- पैंजनी, पैर में पहनने का स्त्रियों का गहना

नूही -- समन्तदुग्धा, सेंहुड़

नेक -- अनेक

नेकाकार -- अनेक प्रकार का

नेकतिक -- ठग, ठग [आदमी]

नेकायिक -- सुत्तपिटक के पाँचों निकायों का जानकार, स्मृतिकार

नेक्ख -- निकष, स्वर्ण-मुद्रा

नेक्खम्म -- संसार-त्याग

नेक्खम्म-वितक्‍क -- अभिनिष्क्रमण सम्बन्धी विचार

नेक्खम्म-सङ्कप्प -- अभिनिष्क्रमण सम्बन्धी संकल्प

नेक्खम्म-सुख -- अभिनिष्क्रमण का सुख

नेगम -- निगम सम्बन्धी, निगम का बाशिंदा, निगम-सभा

नेति -- ले जाता है [नेसि, नीत, नेन्त, नेतब्ब, नेत्वा]

नेतु -- नेता

नेत्त -- पथ-दर्शक, नेत्र, आँख

नेत्त-तारा -- आँख का तारा

नेत्ति -- तृष्णा

नेत्तिक -- खेत सींचने के लिए नाली बनाने वाला

नेत्तिंस -- तलवार

नेपक्‍क -- बुद्धिमानी, सूझ-बूझ

नेपच्छ -- पहनावा

नेपुञ्‍ञ -- निपुणता, दक्षता

नेमि -- पहिये की हाल

नेमित्तिक -- ज्योतिषी

नेमिंधर -- पर्वत-विशेष का नाम

नेय्य -- ले जाया गया

नेरञ्‍जरा -- बुद्धत्व-प्राप्ति के बाद भगवान बुद्ध इसी नदी के तट पर थे

नेरयिक -- निरय में उत्पन्‍न

नेरु -- ऊँचे से ऊँचे पर्वत का नाम, देखो मेरु

नेरु जातक -- स्वर्ण-वर्ण, नेरु [मेरु] पर्वत की चमक-दमक के कारण किसी ने भी स्वर्ण-वर्ण राजहंस की ओर ध्यान नहीं दिया

नेवासिक -- रहने वाला

नेसज्‍जिक -- बैठा रहने वाला

नेसाद -- निषाद, शिकारी, देखो निसाद

नो -- नहीं

नोनीत -- मक्खन

न्यास -- धरोहर

न्हात -- देखो नहात

न्हान -- देखो नहान

न्हारु -- देखो नहारु

पंसु -- धूलि

पकट्ठ -- अति श्रेष्ठ

पकत -- कृत, निर्मित

पकतत्त -- सदाचारी

पकति -- प्राकृतिक या मूल रूप, स्वाभाविक या मूल स्थिति

पकति-गमन -- स्वाभाविक चाल

पकति-चित्त -- स्वाभाविक चित्त, स्वाभाविक चित्त वाला

पकति-सील -- स्वाभाविक शील

पकतिक -- प्राकृतिक

पकतिज -- प्रकृति से उत्पन्‍न

पकप्पना -- तर्क, योजना, व्यवस्था

पकप्पेति -- विचार करता है, योजना बनाता है, व्यवस्था करता है [पकप्पेसि, पकप्पित, पकप्पेत्वा]

पकम्पति -- काँपता है [पकम्पि, पकम्पित, पकम्पन]

पकरण -- अवसर, साहित्यिक कृति या व्याख्या

पकार -- ढंग, पद्धति

पकास -- चमक, कथन, व्याख्या

पकासक -- प्रकाशक, घोषणा करने वाला, व्याख्या करने वाला

पकासति -- प्रकट होता है, प्रकाशित होता है [पकासि, पकासित]

पकासन -- प्रकाशन, घोषणा

पकासेति -- प्रकट करता है, प्रकाशित करता है [पकासेसि, पकासित, पकासेन्त, पकासेत्वा]

पकिण्णक -- प्रकीर्ण, बिखरा हुआ

पकित्तेति -- प्रशंसा करता है, व्याख्या करता है [पकित्तेसि, पकित्तित, पकित्तेन्त, पकित्तेत्वा]

पकिरति -- बिखेरता है, गिरने देता है [पकिरि, पकिण्ण]

पकुध-कच्‍चायन -- बुद्ध के समकालीन छह तैर्थिक सम्प्रदायों में से एक का मुखिया

पकुप्पति -- क्रोधित होता है

पकुब्बति -- करता है

पकुब्बमान -- करता हुआ

पकोटि -- संख्या-विशेष

पकोट्ठन्त -- कलाई

पकोप -- क्रोध, विद्वेष

पकोपन -- क्रोधित करना

पक्‍क -- पका हुआ, उबाला हुआ [भात], पका [फल]

पक्‍कट्ठित -- बहुत उबला हुआ

पक्‍कम -- चले जाना, प्रारम्भ करना

पक्‍कमन -- विदाई

पक्‍कमति -- विदा होता है [पक्‍कमि, पक्‍कन्त, पक्‍कमन्त, पक्‍कमित्वा]

पक्‍कामि -- चला गया

पक्‍कोसति -- बुलाता है [पक्‍कोसि, पक्‍कोसित, पक्‍कोसित्वा]

पक्‍कोसन -- बुलावट

पक्‍कोसना -- बुलावट

पक्ख -- पक्ष, पहलू, पखवारा, [शुक्‍ल या कृष्ण], जो साफ दिखाई दे, सम्बन्धित, लँगड़ा आदमी

पक्खन्दति -- कूदता है, छलाँग लगाता है [पक्खन्दि, पक्खन्त, पक्खन्दित्वा]

पक्खन्दन -- कूदना, छलाँग मारना, पीछा करना

पक्खन्दिका -- अतिसार, दस्त लग जाना, आँव पड़ना

पक्खन्दी -- कूदने वाला, छलाँग मारने वाला

पक्ख-बिलाल -- चिमगादड़

पक्खलति -- लड़खड़ाता है, साफ करता है, धोता है [पक्खलि, पक्खलित, पक्खलित्वा]

पक्खलन -- लड़खड़ाहट, धोना, साफ करना

पक्खालेति -- धोता है, साफ करता है [पक्खालेसि, पक्खालित, पक्खालेत्वा]

पक्खिक -- पाक्षिक

पक्खिक-भत्त -- एक पखवारे में एक बार दिया जाने वाला भोजन

पक्खित्त -- प्रक्षिप्त, फेंका गया

पक्खिपति -- फेंकता है [पक्खिपि, पक्खिपन्त, पक्खिपित्वा]

पक्खिपन -- फेंकना

पक्खि-भेद -- पक्षियों का प्रकार

पक्खिय -- देखो पक्खिक

पक्खी -- पक्षी, पक्ष वाला

पक्खेप -- देखो पक्खिपन

पखुम -- बरौनी

पगब्भ -- प्रगल्भ, साहसी, दुस्साहसी

पगाळ्ह -- डूबा हुआ

पगाहति -- डुबकी मारता है [पगाहि, पगाहन्त, पगाहित्वा]

पगिद्ध -- अत्यन्त लोभी

पगुण -- अभ्यस्त, ज्ञान से परिपूर्ण

पगुणता -- दक्षता

पगुम्ब -- झाड़ी

पगेव -- समय से अति पूर्व, कहना ही क्या

पग्गण्हाति -- ग्रहण करता है, धारण करता है, अनुबल देता है [पग्गण्हि, पग्गण्हन्त, पग्गहेत्वा, पग्गय्ह, पग्गहेतब्ब]

पग्गह -- प्रयत्न, सामर्थ्य, उठाना, पकड़ना, अनुबल देना

पग्गहण -- ग्रहण करना, अनुबल देना

पग्गहित -- गृहीत, धरा हुआ, पकड़ा हुआ

पग्गाह -- पराक्रम, उत्साह

पग्घरण -- चूना, रिसना

पग्घरणक -- चूता हुआ, रिसता हुआ

पग्घरति -- चूता है, बूँद-बूँद गिरता है, रिसता है

पघण -- घर के सामने का छज्‍जा

पघाण -- अलिन्द, बरामदा

पङ्क -- कीचड़, गारा, मैला

पङ्कज -- कमल

पङ्केरुह -- देखो पंकज

पङ्गु -- लँगड़ा

पङ्गुल -- देखो पंङ्गु

पचति -- पकाता है [पचि, पचित, पक्‍क, पचन्त, पचितब्ब, पचित्वा]

पचन -- पकाना

पचरति -- अभ्यास करता है, देखता है, चलता है

पचरि -- चला

पचलायति -- ऊँघता है

पचलायिका -- ऊँघना

पचा -- पकाना

पचापेति -- पकवाता है [पचापेसि, पचापेत्वा]

पचारक -- प्रचारक, विज्ञापक

पचारेति -- प्रचार करता है, जाता है

पचालक -- झूलता, हिलता

पचालक -- झूलते हुए के रूप में

पचिनति -- चुगता है, [फूल] तोड़ता है, संग्रह करता है

पचिनाति -- देखो पचिनति

पचुर -- बहुत, नाना प्रकार का

पच्‍चक्ख -- प्रत्यक्ष

पच्‍चक्ख-कम्म -- प्रत्यक्ष करना

पच्‍चक्खाति -- प्रत्याख्यान करता है, निषेध करता है [पच्‍चक्खासि, पच्‍चक्खात, पच्‍चक्खाय]

पच्‍चक्खान -- प्रत्याख्यान, निषेध, इनकार

पच्‍चग्घ -- नया, सुन्दर, मूल्यवान, महँगा

पच्‍चङ्ग -- प्रत्यंग

पच्‍चति -- पकाया जाता है, कष्ट पाता है [पच्‍चि, पच्‍चित्वा, पच्‍चमान]

पच्‍चत्त -- पृथक, व्यक्तिगत

पच्‍चत्तं -- पृथक-पृथक, व्यक्तिगत तौर पर

पच्‍चत्थरण -- आस्तरण, बिछाने की चादर

पच्‍चत्थिक -- शत्रु, विरोधी

पच्‍चन -- उबलना, कष्ट पाना

पच्‍चनिक -- उल्टा, निषेधात्मक, विरोधी, शत्रु

पच्‍चनुभवति -- अनुभव करता है [पच्‍चनुभवि, पच्‍चनुभवित्वा]

पच्‍चन्त -- प्रत्यन्त-देश, सीमा-प्रदेश

पच्‍चन्त-जनपद -- मज्झिम-देश की सीमा से बाहर का प्रदेश

पच्‍चन्त-वासी -- प्रत्यन्त-देश का वासी, देहाती

पच्‍चन्त-विसय -- प्रत्यन्त-देश

पच्‍चन्तिम -- बहुत दूर स्थित

पच्‍चय -- हेतु, कारण, उद्देश्य, आवश्यकता, साधन, आश्रय

पच्‍चयता -- हेतुत्व

पच्‍चयाकार -- कारणों का प्रकार

पच्‍चयुप्पन्‍न -- कारण से उत्पन्‍न

पच्‍चयिक -- विश्वसनीय

पच्‍चरी -- देखो महापच्‍चरी [अविद्यमान अट्ठकथा]

पच्‍चवेक्खति -- विचार करता है, विवेचन करता है [पच्‍चवेक्खि, पच्‍चवेक्खित, पच्‍चवेक्खित्वा, पच्‍चवेक्खिय]

पच्‍चवेक्खना -- विचार, विवेचन

पच्‍चस्सोसि -- प्रतिश्रुति दी, वचन दिया

पच्‍चाकत -- परित्यक्त, पराजित

पच्‍चाकोटित -- चिकना किया हुआ, स्त्री किया हुआ

पच्‍चागच्छति -- वापिस आता है, पीछे हटता है [पच्‍चागच्छि, पच्‍चागत, पच्‍चागन्त्वा]

पच्‍चागमन -- वापसी, लौटना

पच्‍चाजायति -- पुनर्जन्म ग्रहण करता है [पच्‍चाजायि, पच्‍चाजात, पच्‍चाजायित्वा]

पच्‍चादेस -- प्रतिक्षेप करना, अस्वीकृति

पच्‍चामित्त -- शत्रु, विरोधी

पच्‍चासिंसति -- आशा करता है, इच्छा करता है, इन्तजार करता है

पच्‍चाहरति -- वापिस लाता है [पच्‍चाहरि, पच्‍चाहट, पच्‍चाहरित्वा]

पच्‍चाहार -- बहाना, क्षमा-याचना

पच्‍चुग्गच्छति -- स्वागत करने जाता है [पच्‍चुग्गन्त्वा]

पच्‍चुग्गमन -- स्वागत करना

पच्‍चुट्ठाति -- सम्मान प्रदर्शित करने के लिए खड़ा होता है [पच्‍चुट्ठासि, पच्‍चुट्ठित, पच्‍चुट्ठाय]

पच्‍चुट्ठान -- आदर

पच्‍चुपकार -- प्रत्युपकार, उपकार का बदला

पच्‍चुपट्ठाति -- उपस्थित रहता है, सेवा में रहता है [पच्‍चुपट्ठासि, पच्‍चुपट्ठित, पच्‍चुपट्ठित्वा]

पच्‍चुपट्ठान -- सेवा में उपस्थित रहना

पच्‍चुपट्ठापेति -- सम्मुख उपस्थित करता है

पच्‍चुप्पन्‍न -- वर्तमान, मौजूदा

पच्‍चूस -- प्रत्यूष, बहुत सुबह

पच्‍चूस-काल -- प्रातःकाल

पच्‍चूह -- बाधा, रुकावट

पच्‍चेक -- प्रत्येक, पृथक-पृथक

पच्‍चेक-बुद्ध -- जिसने बोधि तो प्राप्त की हो लेकिन दूसरों को उस बोधि का उपदेश न दे

पच्‍चेति -- परिणाम पर पहुँचता है

पच्‍चोरोहति -- नीचे उतरता है [पच्‍चोरोहि, पच्‍चोरूळ्ह, पच्‍चोरोहित्वा, पच्‍चोरुय्ह]

पच्‍चोसक्‍कति -- वापिस लौटता है [पच्‍चोसक्‍कि, पच्‍चोसक्‍कित, पच्‍चोसक्‍कित्वा]

पच्‍चोसक्‍कना -- वापिस लौटना

पच्छतो -- पीछे से

पच्छन्‍ना -- ढका हुआ

पच्छा -- बाद में, पीछे

पच्छा-जात -- बाद में पैदा हुआ

पच्छाताप -- पश्चाताप

पच्छा-निपाती -- बाद में सोने वाला

पच्छानुताप -- पश्चाताप

पच्छाबन्ध -- नाव का डाँडा

पच्छा-बाहं -- पीछे हाथ बँधा

पच्छा-भत्तं -- अपराह्न, अपराह्न-भोजन

पच्छा-भाग -- पिछला भाग

पच्छाभाव -- पश्चात-भाव

पच्छा-समण -- अनुगामी श्रमण

पच्छाद -- रथ का झोल

पच्छानुतप्पति -- पश्चाताप करता है

पच्छाया -- सायादार हिस्सा

पच्छि -- हाथ की टोकरी

पच्छिज्‍जति -- छीजता है, बाधित होता है [पच्छिज्‍जि, पच्छिन्‍न, पच्छिज्‍जित्वा]

पच्छिज्‍जन -- बाधा, रुकावट

पच्छिन्दति -- छाँटता है, काट डालता है [पच्छिन्दि, पच्छिन्‍न, पच्छिन्दित्वा]

पच्छिम -- अंतिम, सबसे पीछे का

पच्छिमक -- अंतिम, सबसे निम्न स्तर का

पच्छेदन -- काटना, तोड़ना

पजग्घति -- जोर से हँसता है

पजप्पति -- बक-बक करता है, उत्कट इच्छा करता है [पजप्पि]

पजहति -- छोड़ देता है, त्याग देता है [पजहि, पजहित, पजहित्वा, पहाय, पजहन्त]

पजा -- सन्तान, प्राणी, मनुष्य

पजानना -- ज्ञान, समझ

पजानाति -- स्पष्ट रूप से जानता है

पजापति -- 1. सृष्टि का मालिक, 2. जिसके सन्तान हो

पजायति -- उत्पन्‍न होता है

पजायन -- जन्म, उत्पन्‍न होना

पज्‍ज -- पद्य

पज्‍ज-बद्ध -- काव्य

पज्‍जलति -- जलता है [पज्‍जलि, पज्‍जलित, पज्‍जलन्त, पज्‍जलित्वा]

पज्‍जलन -- जलना

पज्‍जुन्‍न -- वर्षा के बादल, इन्द्र

पज्‍जोत -- प्रदीप, प्रकाश, चमक-दमक

पज्झायति -- जलता है, क्षीण होता है, शोकाकुल होता है [पज्झायि, पज्झायन्त]

पञ्‍च -- पाँच

पञ्‍चक -- पाँच का समूह

पञ्‍च-कल्याण -- सौन्दर्य के पाँच चिह्न

पञ्‍च-कामगुण -- पाँच इन्द्रियों के भोग

पञ्‍चक्खत्तुं -- पाँच बार

पञ्‍चक्खन्ध -- पाँच स्कन्ध

पञ्‍च गरु जातक -- प्रत्येक बुद्ध का उपदेश माननेवाला राजकुमार राजा बना

पञ्‍च-गोरस -- दूध, दही आदि पाँच गोरस पदार्थ

पञ्‍चङ्ग -- पाँच अंगों [हिस्सों] से युक्त

पञ्‍चङ्गिक -- देखो पञ्‍चङ्ग

पञ्‍चङ्गलिक -- पाँच अँगुलियों का निशान

पञ्‍च-चक्खु -- पाँच चक्षुआें वाला

पञ्‍चचत्तालीसति -- पैंतालीस

पञ्‍च-चूळक -- सिर में बालों के पाँच जूड़ों वाला

पञ्‍चतिंसति -- पैंतीस

पञ्‍चदस -- पन्द्रह

पञ्‍चदसी -- पूर्णिमा

पञ्‍च-धरण -- तोल-विशेष

पञ्‍चधा -- पाँच तरह से

पञ्‍चनवुति -- पंचानबे

पञ्‍च-नीवरण -- पाँच बंधन

पञ्‍चपञ्‍ञासति -- पचपन

पञ्‍च पण्डित जातक -- यह जातक महाउम्मग्ग जातक के एक अंश के रूप में दिया गया है

पञ्‍च-पतिट्ठित -- पाँच अंङ्गों से प्रणाम

पञ्‍चप्पकरण -- धम्मसङ्गणि व विभङ्ग को छोड़कर अभिधम्मपिटक की शेष पाँच पुस्तकों का सामूहिक नाम

पञ्‍च-बन्धन -- पाँच प्रकार का बन्धन

पञ्‍च-बल -- पाँच बल

पञ्‍च-महापरिच्‍चाग -- पाँच प्रकार के त्याग

पञ्‍च-महानदी -- गंगा, अचिरवती, यमुना आदि पाँच महानदियाँ

पञ्‍च-महाविलोक -- पाँच प्रकार का अन्वेषण

पञ्‍च-वग्गिय -- बुद्ध के प्रथम पाँच शिष्यों का सामूहिक नाम।वे पाँच शिष्य थे–कोण्डञ्‍ञ, भद्दिय, वप्प, महानाम, अस्सजि

पञ्‍च-वण्ण -- पाँच वर्ण

पञ्‍चविध -- पाँच गुना

पञ्‍चवीसति -- पच्‍चीस

पञ्‍चसट्ठि -- पैंसठ

पञ्‍चसत -- पाँच सौ

पञ्‍चसिख -- देव-गन्धर्व

पञ्‍च-सील -- पाँच शील

पञ्‍च-सुवण्य -- पाँच सुवर्ण भर [एक तौल]

पञ्‍चसो -- पाँच तरह से

पञ्‍च-हत्थ -- पाँच हाथ लम्बा

पञ्‍चानन्तरिय -- जो पाँच दुष्कर्म तुरन्त फल देते हैं 1. मातृ-हत्या, 2. पितृ-हत्या, 3. अर्हत-हत्या, 4. बुद्ध के शरीर को जख्मी करना तथा5. संघ की एकता नष्ट करना

पञ्‍चाभिञ्‍ञा -- पाँच दिव्य शक्तियाँ 1. प्रातिहार्य या करिश्मे रखने की शक्ति, 2. दिव्य चक्षु, 3. दिव्य श्रोत्र, 4. दूसरों के विचार जान लेने की शक्ति तथा 5. पूर्व जन्म की अनुस्मृति

पञ्‍चाल -- सोलह महाजनपदों में से एक, उत्तर-पंचाल तथा दक्षिण-पंचाल नामक दो हिस्सों में विभक्त था

पञ्‍चालिका -- गुड़िया, पुतली

पञ्‍चावुध -- तलवार, बर्छी, कुल्हाड़ा आदि पाँच शस्त्र

पञ्‍चावुध जातक -- पाँच हथियारों से युक्त राजकुमार का सिलेसलोम यक्ष से भयानक संघर्ष हुआ। अन्त में यक्ष ने कुमार को विजयी स्वीकार किया

पञ्‍चासीति -- पचासी

पञ्‍चाह -- पाँच दिन

पञ्‍चुपोसथ जातक -- कबूतर, साँप, गीदड़ और भालू के परस्पर मैत्रीपूर्ण ढंग से रहने की कथा

पञ्‍जर -- पिंजरा

पञ्‍जलिक -- नमस्कार करने के लिए हाथ जोड़े हुए

पञ्‍ञ -- [समास में] प्रज्ञावान

पञ्‍ञता -- [समास में] प्रज्ञावान होना

पञ्‍ञत्त -- बनाया गया नियम, की गई घोषणा, बुद्धिमानी

पञ्‍ञत्ति -- संज्ञा, नियम, घोषणा

पञ्‍ञवन्तु -- बुद्धिमान आदमी

पञ्‍ञा -- प्रज्ञा, ज्ञान, अन्तर्दृष्टि

पञ्‍ञाक्खन्ध -- प्रज्ञा-स्कन्ध

पञ्‍ञा-चक्खु -- प्रज्ञा-चक्षु

पञ्‍ञा-धन -- प्रज्ञा-धन

पञ्‍ञा-बल -- प्रज्ञा-बल

पञ्‍ञा-भेद -- प्रज्ञा के प्रकार

पञ्‍ञा-विमुत्ति -- प्रज्ञा-विमुक्ति

पञ्‍ञा-सम्पदा -- प्रज्ञा-सम्पत्ति

पञ्‍ञाण -- चिह्न, निशान

पञ्‍ञात -- प्रकट हुआ

पञ्‍ञापक -- नियुक्त करने वाला

पञ्‍ञापन -- घोषणा, [बैठने के लिए आसनों की] व्यवस्था

पञ्‍ञापेति -- नियम बनाता है, व्यवस्था करता है, घोषणा करता है [पञ्‍ञापेसि, पञ्‍ञापित, पञ्‍ञत्त, पञ्‍ञापेन्त, पञ्‍ञापेत्वा]

पञ्‍ञापेतु -- नियम-बद्ध करने वाला, घोषणा करने वाला

पञ्‍ञायति -- प्रकट होता है, स्पष्ट होता है [पञ्‍ञायि, पञ्‍ञात, पञ्‍ञायमान, पञ्‍ञायित्वा]

पञ्ह -- त्रिलिङ्गी, प्रश्न, जिज्ञासा

पञ्ह-विस्सज्‍जन -- प्रश्नों का उत्तर देना

पञ्ह-व्याकरण -- प्रश्नों का समाधान करना

पट -- वस्त्र, पहनावा

पटग्गि -- प्रति-अग्नि, आग के जवाब में आग

पटङ्ग -- झींगुर

पटल -- आवरण

पटलिका -- ऊनी कढ़ी हुई चादर, दुशाला

पटह -- नगाड़ा

पटाका -- पताका, झंडा

पटि [पति भी] -- एक उपसर्ग [विरुद्ध, अनुकूल]

पटिकङ्खति -- इच्छा करता है [पटिकङ्खि, पटिकङ्खित]

पटिकण्टक -- विरोधी, शत्रु

पटिकम्म -- प्रति-कर्म, प्रायश्चित

पटिकत -- प्रायश्चित किया गया

पटिकर -- प्रतिकार

पटिकरोति -- प्रतिकार करता है, मार्जन करता है [पटिकरि, पटिकरोन्त]

पटिकस्सति -- पीछे हटता है, पीछे खिंचता है [पटिकस्सि, पटिकास्सित]

पटिकार -- प्रतिकार, इलाज

पटिकुज्‍जति -- झुकता है [पटिकुज्‍जेसि, पटिकुज्‍जित, पटिकुज्‍जेत्वा, पटिकुज्‍जित्वा, पटिकुज्‍जिय]

पटिकुज्‍जन -- झुकना, उलट देना

पटिकुज्झति -- बदले में क्रोधित होता है

पटिकुट्ठ -- घृणित, बदनाम, सदोष, डाँट खाया हुआ

पटिक्‍कन्त -- वापिस लौटा हुआ

पटिक्‍कम -- एक ओर हट जाना, पीछे लौटना

पटिक्‍कमति -- पीछे हटता है [पटिक्‍कमि, पटिक्‍कमन्त, पटिक्‍कमित्वा]

पटिक्‍कमन -- प्रतिक्रमण, पीछे हटना

पटिक्‍कमन-साला -- विश्रामशाला

पटिक्‍कूल -- प्रतिकूल

पटिक्‍कूलता -- प्रतिकूलता

पटिक्‍कूल-सञ्‍ञा -- शरीर की गंदगी से सम्बन्धित चेतना

पटिक्‍कोसना -- विरोध-प्रदर्शन

पटिक्‍कोसति -- बुरा-भला कहता है, दोषारोपण करता है [पटिक्‍कोसि, पटिक्‍कुट्ठ, पटिकोसित्वा]

पटिक्खिपति -- प्रतिक्षेप करता है [पटिक्खिपि, पटिक्खित्त, पटिक्खिपित्वा, पटिक्खित्वा]

पटिक्खेप -- प्रतिक्षेप, निषेध

पटिगच्‍च -- पहले से, देखो पटिकच्‍च

पटिगिज्झति -- इच्छा करता है, लोभ करता है [पटिगिज्झि, पटिगिद्ध, पटिगिज्झित्वा]

पटिगूहति -- छिपाता है, पीछे रहता है [पटिग्गूहि, पटिग्गूहित, पटिग्गूहित्वा]

पटिग्गण्हन -- प्रतिग्रहण, स्वागत

पटिग्गण्हक -- स्वागत करने वाला, प्रतिग्रहण करने में समर्थ

पटिग्गण्हाति -- लेता है, प्राप्त करता है, स्वीकार करता है[पटिगण्हि, पटिग्गहित, पटिग्गण्हन्त, पटिगहेत्वा, पटिगण्हिय, पटिग्गय्ह]

पटिग्गह -- जो ग्रहण करे, पात्र [पानी वगैरह का] पीकदान

पटिग्गहण -- देखो पटिगण्हन

पटिग्गहेतु -- स्वीकार करने वाला, स्वागत करने वाला

पटिघ -- क्रोध, विरोध, द्वेष

पटिघात -- प्रतिघात, टक्‍कर

पटिघोस -- गूँज

पटिचरति -- प्रश्नों का जवाब देने से कतराना, घूमना

पटिचोदेति -- बदले में इलजाम लगाना [पटिचोदेसि, पटिचोदित, पटिचोदेत्वा]

पटिच्‍च -- हेतु से

पटिच्‍च-समुप्पन्‍न -- हेतु से उत्पन्‍न

पटिच्‍च-समुप्पाद -- हेतु से उत्पत्ति का नियम

पटिच्छति -- स्वीकार करता है, ग्रहण करता है

पटिच्छन्‍न -- ढका हुआ

पटिच्छादक -- छिपाने वाला

पटिच्छादनिय -- मांस का सूप, टखनी

पटिच्छादेति -- ढकता है, छिपाता है [पटिच्छादित, पटिच्छन्‍न, पटिच्छादेन्त, पटिच्छादेत्वा, पटिच्छादिय]

पटिजग्गक -- पालन-पोषण करने वाला

पटिजग्गति -- पालन-पोषण करता है [पटिजग्गि, पटिजग्गित, पटिजग्गित्वा, पटिजग्गिय]

पटिजग्गन -- पालन-पोषण करना

पटिजग्गनक -- देख-भाल रखने वाला, पालन-पोषण करने वाला

पटिजग्गिय -- पालन-पोषण करने योग्य, मरम्मत करने योग्य

पटिजानाति -- स्वीकार करता है, वचन देता है, सहमत होता है [पटिजानि, पटिञ्‍ञात, पटिजानन्त, पटिजानित्वा]

पटिञ्‍ञा -- विश्वास दिलाने वाला, [जैसे समण-पटिञ्‍ञ=झूठ-मूठ श्रमण होने की बात करने वाला]

पटिञ्‍ञ -- प्रतिज्ञा, सहमति, अनुमति

पटिञ्‍ञात -- प्रतिज्ञात, सहमत हुआ

पटिददाति -- वापिस देता है [पटिददि, पटिदिन्‍न, पटिदत्वा]

पटिदण्ड -- प्रतिकार

पटिदस्सेति -- अपने आपको प्रकट करता है [पटिदस्सेसि, पटिदस्सित, पटिदस्सेत्वा]

पटि-दान -- पुरस्कार

पटिदिस्सति -- दिखाई देता है

पटिदिस्सि -- दिखाई दिया

पटिदेसेति -- स्वीकार करता है, मान लेता है, कबूल कर लेता है [पटिदेसेसि, पटिदेसित, पटिदेसेत्वा]

पटिधावति -- पीछे की ओर दौड़ता है, समीप दौड़ता है [पटिधावि, पटिधावित्वा]

पटिनन्दति -- प्रसन्‍न होता है [पटिनन्दि, पटिनन्दित, पटिनन्दित्वा]

पटिनन्दना -- आनन्दित होना

पटिनासिका -- बनावटी नाक

पटिनिधि -- प्रतिमूर्ति

पटिनिवत्त -- लौटा हुआ, वापिस आया हुआ

पतिनिवत्तति -- वापिस लौटता है [पटिनिवत्ति, पटिनिवत्तित्वा]

पटिनिस्सग्ग -- परित्याग

पटिनिस्सज्‍जति -- त्याग देता है, छोड़ देता है [पटिनिस्सज्‍जि, पटिनिस्सट्ठ, पटिनिस्सजित्वा, पटिनिस्सज्‍जिय]

पटिनेति -- वापिस ले जाता है [पटिनेसि, पटिनीत, पटिनेत्वा]

पतिपक्ख -- विरोधी, शत्रु

पटिपक्खिक -- विरोधी पक्ष का

पटिपज्‍जति -- मार्ग रूढ़ होता है [पटिपज्‍जि, पटिपन्‍न, पटिपज्‍जमान, पटिपज्‍जित्वा]

पटिपज्‍जन -- पद्धति, अभ्यास, आचरण

पटिपण्ण -- पत्र का उत्तर

पटिपत्ति -- आचरण, धार्मिक क्रिया-कलाप

पटिपथ -- उल्टा रास्ता, सामने का रास्ता

पटिपदा -- आचरण, जीवन-मार्ग

पटिपन्‍न -- मार्गारूढ़

पटिपहरति -- उल्टा प्रहार करता है [पटिपहरि, पटिपहट, पटिहरित्वा]

पटिपहिणाति -- वापिस भेजता है [पटिपहिणि, पटिपहित, पटिपहिणित्वा]

पटिपाटि -- क्रम

पटिपाटिया -- क्रमशः

पटिपाद -- पलंग या चारपाई का सहारा

पटिपादक -- व्यवस्थापक

पटिपादन -- प्रतिपादन, शिक्षण देना

पटिपादेति -- व्यवस्था करता है, सामग्री पहुँचाता है [पटिपादेसि, पटिपादित, पटिपादेत्वा]

पटिपीळन -- त्रास देना, पीड़ा देना

पटिपीळेति -- त्रास देता है, पीड़ा देता है, दमन करता है [पटिपीळेसि, पटिपीळित, पटिपीळेत्वा]

पटिपुग्गल -- प्रतिस्पर्धी

पटिपुच्छति -- बदले में प्रश्न पूछता है [पटिपुच्छि, पटिपुच्छित]

पटिपुच्छा -- बदले में पूछा गया प्रश्न, प्रश्न के उत्तर में पूछा गया प्रश्न

पटिपूजना -- आदर प्रदर्शित करना, गौरव करना

पटिपूजेति -- आदर करता है, गौरव करता है [पटिपूजेसि, पटिपूजित, पटिपूजेत्वा]

पटिपेसेति -- वापिस भेजता है

पटिपस्सद्ध -- शान्त हुआ

पटिपस्सद्धि -- शान्ति

पटिपस्सम्भति -- शान्त होता है

पटिपस्सम्भना -- देखो पटिपस्सद्धि

पटिबद्ध -- बँधा हुआ, आकर्षित

पटिबद्ध-चित्त -- अनुरक्त

पटिबल -- योग्य, सामर्थ्यवान

पटिबाहक -- विरोध करने वाला, रुकावट डालने वाला, हटाने वाला

पटिबाहति -- दूर करता है, हटाता है, बचाता है [पटिबाहि, पटिबाहित, पटिबाहन्त, पटिबाहित्वा, पटिबाहिय]

पटिबिम्ब -- प्रतिबिम्ब, छाया

पटिबिम्बित -- जिसकी छाया पड़ी हो

पटिबुज्झति -- समझता है, जागता है [पटिबुज्झि, पटिबुज्झित्वा]

पटिबुद्ध -- ज्ञानी, जागा हुआ

पटिभय -- डर, भय

पटिभाग -- समान, एक जैसा

पटिभाग -- समानता, एकरूपता, मुकाबले का भाग

पटिभाति -- सूझता है, स्पष्ट होता है

पटिभासि -- सूझा

पटिभाण -- प्रत्युत्पन्‍न-मति, हाजिरजवाबी

पटिभाणवन्तु -- प्रत्युत्पन्‍न-मति [वाला], क्षिप्र-प्रज्ञ

पटिभासति -- उत्तर देता है

पटिभासि -- उत्तर दिया

पटिभू -- जामिन

पटिमग्ग -- विरुद्ध मार्ग

पटिमण्डित -- सजा हुआ

पटिमल्‍ल -- मुकाबले का पहलवान

पटिमा -- प्रतिमा, मूर्ति

पटिमानेति -- गौरव करता है, प्रतीक्षा करता है [पटिमानेसि, पटिमानित, पटिमानेत्वा]

पटिमुक्‍क -- वस्त्र पहने, बँधा हुआ

पटिमुञ्‍चति -- वस्त्र धारण करता है, बाँधता है [पटिमुञ्‍चि, पटिमुञ्‍चित्वा]

पटियादेति -- तैयार करता है, व्यवस्था करता है, सामग्री पहुँचाता है [पटियादेसि, पटियादित, पटियत्त, पटियादेत्वा]

पटियोध -- मुकाबले का योधा

पटिरव -- प्रतिरव, गूँज

पटिराज -- मुकाबले का राजा

पटिरूप -- [पतिरूप भी], योग्य, ठीक, अनुकूल

पटिरूपक -- [पतिरूपक भी], मिलती-जुलती शकल का

पटिरूपता -- [पतिरूपता भी], स्वरूप की साम्यता

पटिलद्ध -- प्राप्त

पटिलभति -- प्राप्त करता है [पटिलभि, पटिलभन्त, पटिलभित्वा, पटिलद्धा]

पटिलाभ -- प्राप्ति

पटिलीयति -- पीछे हटता है, दूर रहता है [पटिलीयि, पटिलीन, पटिलीयित्वा]

पटिलीयन -- दूर रहना, पीछे हटना

पटिलोम -- विरुद्ध

पटिलोम-पक्ख -- विरोधी पक्ष

पटिवचन -- उत्तर, जवाब

पटिवत्तन -- पीछे की ओर मुड़ना

पटिवत्तिय -- पीछे लौटाने योग्य, लपेटने योग्य

पटिवत्तु -- विरुद्ध भाषण करने वाला, खण्डन करने वाला

पटिवत्तेति -- लपेटता है, पीछे हटता है [पटिवत्तेसि, पटिवत्तित, पटिवत्तेत्वा, पटिवत्तिय]

पटिवदति -- उत्तर देता है, विरुद्ध, बोलता है [पटिवदि, पटिवुत्त, पटिवत्वा, पटिवदित्वा]

पटिवसति -- रहता है, निवास करता है [पटिवसि, पटिवुत्थ, पटिवसित्वा]

पटिवाक्य -- उत्तर

पटिवातं -- हवा के विरुद्ध

पटिवाद -- प्रतिवाद, आरोपित दोष का खण्डन

पटिविंस -- हिस्सा

पटिविजानाति -- पहचानता है, जानता है [पटिविजानि, पटिविजानेत्वा]

पटिविज्झति -- प्रवेश करता है, समझता है [पटिविज्झि, पटिविज्झ, पटिविज्झित्वा]

पटिविदित -- ज्ञात, सुनिश्चित

पटिविद्ध -- प्रविष्ट हुआ, समझ लिया गया

पटिविनोदन -- हटाना, निकाल बाहर करना

पटिविनोदेति -- हटाता है, निकाल बाहर करता है [पटिविनोदेसि, पटिविनोदित, पटिविनोदेत्वा, पटिविनोदय]

पटिविभजति -- बाँटता है [पटिविभजि, पटिविभत्त, पटिविभजित्वा]

पटिविरत -- रुका हुआ

पटिविरमति -- रुकता है, विरत रहता है [पटिविरमि, पटिविरमन्त, पटिविरमित्वा]

पटिविरुज्झति -- विरुद्ध होता है, झगड़ा करता है [पटिविरुज्झि, पटिविरुज्झित्वा]

पटिविरुद्ध -- विरुद्ध

पटिविरूहति -- फिर से उगता है [पटिविरूहि, पटिविरूळ्ह, पटिविरूहित्वा]

पटिविरोध -- विरोध-भाव, दुश्मनी, शत्रुता

पटिविस्सक -- पड़ोसी

पटिवेदेति -- जनाता है, ज्ञात कराता है [पटिवेदेसि, पटिवेदित, पटिवेदेत्वा]

पटिवेध -- भीतर घुसना

पटिसङ्कत -- चुकता कर दिया गया

पटिसंयुत्त -- सम्बन्धित

पटिसंवेदेति -- सहन करता है, अनुभव करता है [पटिसंवेदेसि, पटिसंविदित, पटिसंवेदित, पटिसंवेदेत्वा]

पटिसंहरण -- सिकोड़ना, त्याग देना, हटा लेना

पटिसंहार -- सिकोड़ना, त्याग देना, हटा लेना

पटिसंहरति -- सिकोड़ता है, त्याग देता है, हटा लेता है [पटिसंहरि, पटिसंहरित, पटिसंहत, पटिसंहरित्वा]

पटिसंकरण -- प्रतिसंस्करण, मरम्मत

पटिसंकरोति -- प्रतिसंस्कार करता है, मरम्मत करता है

पटिसंखरण -- देखो पटिसंकरण

पटिसंखरोति -- देखो पटिसंकरोति

पटिसंखा -- विचार, फैसला

पटिसंखान -- विचार करना, मीमांसा करना

पटिसंखाय -- विचार कर

पटिसंखार -- देखो पटिसंखरण

पटिसंचिक्खति -- विचार करता है, मीमांसा करता है [पटिसंचिक्खि, पटिसंचिक्खित, पटिसंचिक्खित्वा]

पटिसंथार -- मैत्रीपूर्ण स्वागत

पटिसंदहति -- पुनर्मिलन होता है [पटिसंदहि, पटिसंदहित(पटिसंधित)]

पटिसंधातु -- मेल कराने वाला, शान्ति-संस्थापक

पटिसंधान -- पुनर्मिलन

पटिसंधि -- पुनर्जन्म ग्रहण करना

पटिसम्भिदा -- मीमांसापूर्ण ज्ञान

पटिसम्भिदामग्ग -- खुद्दक निकाय का बारहवाँ ग्रन्थ। वास्तव में इसकी गणना अभिधम्म ग्रन्थों में की जानी चाहिए

पटिसम्मोदति -- मैत्रीपूर्ण बात-चीत करता है [पटिसम्मोदि, पटिसम्मोदित, पटिसम्मोदित्वा]

पटिसरण -- शरण-स्थान, सहायता, संरक्षण

पटिसल्‍लान -- एकान्त जीवन

पटिसल्‍लान-सारूप्प -- एकान्त जीवन या योगाभ्यास के लिए अनुकूल

पटिसल्‍लीयति -- एकान्त जीवन व्यतीत करता है, योगाभ्यास करता है [पटिसल्‍लि, पटिसल्‍लीन, पटिसल्‍लीयित्वा]

पटिसमेति -- व्यवस्थित करता है, दूर रहता है [पटिसमेसि, पटिसमित, पटिसमित्वा]

पटिसासन -- प्रत्युत्तर

पटिसेध -- प्रतिषेध%इनकार

पटिसेधन -- प्रतिषेध करना, इनकार करना

पटिसेधक -- प्रतिषेध करने वाला

पटिसेधेति -- दूर रखता है, दूर हटाता है, मना करता है [पटिसेसेसि, पटिसेधित, पटिसेधित्वा, पटिसेधिय]

पटिसेवति -- अनुकरण करता है, सेवन करता है, उपयोग में लाता है [पटिसेवि, पटिसेवित, पटिसेवन्त, पटिसेवित्वा, पटिसेविय]

पटिसेवन -- अभ्यास करना, अनुकरण करना, उपयोग में लाना

पटिसोत -- स्रोत [=बहाव] के विरुद्ध

पटिस्सत -- विचारवान

पटिस्सव -- वचन, स्वीकृति

पटिसुणाति -- वचन देता है, सहमत होता है [पटिसुणि, पटिसुत, पटिसुणित्वा]

पटिहञ्‍ञति -- चोट खाता है [पटिहञ्‍ञि, पटिहञ्‍ञित्वा]

पटिहत -- चोट खाया हुआ

पटिहनन -- विरोध, संघर्ष

पटिहनति -- रगड़ खाता है [पटिहनि, पटिहत, पटिहन्त्वा]

पटिहार -- द्वार

पटु -- होशियार, कुशल [आदमी]

पटुता -- दक्षता

पटोल -- पटोल

पट्ट -- तख्ता, वस्त्र, रेशमी वस्त्र, पट्टी

पट्टक -- देखो पट्ट

पट्टन -- नदी तट के पास का नगर

पट्टिका -- पट्टी

पट्ठपेति -- स्थापित करता है [पट्ठपेसि, पट्ठपित, पट्ठपेत्वा]

पट्ठान -- प्रस्थान

पट्ठानप्पकरण -- अभिधम्म पिटक का अन्तिम ग्रन्थ। इसमें भौतिक तथा अभौतिक चीजों के 24 प्रकार के पच्‍चयों अथवा हेतुआें का विस्तृत विवेचन है

पट्ठाय -- आरम्भ करके, तब से, उस समय से

पठति -- पढ़ता है [पठि, पठित, पठित्वा]

पठन -- पढ़ना

पठम -- पहला

पठमं -- पहली बार

पठमज्झान -- प्रथम ध्यान

पठमतरं -- सबसे पहले, यथासम्भव जल्दी

पठवी -- भूमि, पृथ्वी

पठवी-ओज -- [पठवोज भी], पृथ्वी का तेज

पठवी-कम्पन -- भूकम्प

पठवी-कसिण -- योगाभ्यास करने के लिए मिट्टी का बना केन्द्र-बिन्दु

पठवी-चलन -- भूकम्प

पठवी-चाल -- भूकम्प

पठवी-धातु -- पृथ्वी-धातु

पठवी-सम -- पृथ्वी-समान

पण -- शर्त, दुकान

पणक -- शैवाल-विशेष, सिवाल

पणमति -- प्रणाम करता है, झुकता है, पूजा करता है [पणमि, पणमित, पणत, पणमित्वा]

पणय -- विश्वास, याचना, प्रणय

पणव -- ढोल

पणाम -- प्रणाम, नमस्कार

पणामेति -- चलता करता है, भगा देता है, फैला देता है, झुकाता है [पणामेसि, पणामित, पणामेन्त, पणामेत्वा]

पणालि -- नाली

पणिदहति -- इच्छा करता है, आकांक्षा करता है [पणिदहि, पणिहित, पणिदहित, पणिदहित्वा]

पणिधान -- आकांक्षा, दृढ़ संकल्प

पणिधि -- आकांक्षा, निश्चय

पणिधाय -- संकल्प करके

पणिपात -- दण्डवत लेट जाना, पूजा

पणिय -- पण्य, बेचने की चीज, व्यापारी

पणिहित -- संकल्प-युक्त

पणीत -- श्रेष्ठ, बढ़िया

पणीततर -- श्रेष्ठतर, और भी बढ़िया

पणेति -- दण्डित करता है, निकालता है, रास्ते पर ले जाता है [पणेसि, पणेत्वा]

पण्डक -- हिजड़ा

पण्डर -- श्वेत, सफेद, फीका, हल्का पीला

पण्डर जातक -- साँपों की, गरुड़ों से अपने-आपको बचाये रखने की युक्ति

पण्डव -- पर्वत-विशेष

पण्डिच्‍च -- पाण्डित्य

पण्डित -- विद्वान

पण्डितक -- बनावटी पण्डित, पाण्डित्य-दम्भ वाला

पण्डु -- पीला, पीलापन लिये हुए

पण्डुकम्बल -- पाण्डु रंग का कम्बल

पण्डु-पलास -- सूखा पत्ता

पण्डु-रोग -- पाण्डु-रोग

पण्डु-रोगी -- पाण्डु-रोग वाला

पण्डुकम्बल सिलासन -- देवेन्द्र शक्र के बैठने का आसन

पण्डू -- दक्षिण भारत की एक जाति–पाण्डय

पण्ण -- पत्ता, पत्र, चिट्ठी

पण्णक -- देखो, पण्ण

पण्ण-कुटि -- पर्ण-कुटी

पण्ण-छत्त -- पत्तों का छाता, पत्तों का पंखा, पत्तों की छत

पण्ण-सन्थर -- पत्तों का बिछौना

पण्ण-साला -- आश्रम, कुटिया

पण्णत्ति -- देखो, पञ्‍ञत्ति [प्रज्ञप्ति]

पण्णरस -- पन्द्रह

पण्णाकार -- भेंट

पण्णास -- पचास

पण्णिक -- पत्ते बेचने वाला

पण्णिक जातक -- पिता ने लड़की के सतीत्व की परीक्षा ली

पण्य -- देखो, पणिय

पण्हि -- एड़ी

पतङ्ग -- पक्षी

पतति -- गिरता है, फिसलता है [पति, पतित, पतन्त, पतित्वा]

पतन -- गिरावट

पतनु -- अत्यन्त दुबला-पतला

पताका -- झण्डा

पताप -- प्रताप, तेजस्विता

पतापवन्तु -- प्रतापी, तेजस्वी

पतापेति -- तपाता है [पतापेसि, पतापित]

पति -- स्वामी, खाविन्द

पतिकिट्ठ -- निकृष्ट

पति-कुल -- पति का खानदान

पतिट्ठहति -- प्रतिष्ठित होता है, स्थापित होता है [पतिट्ठहि, पतिट्ठहन्त, पतिट्ठहित्वा]

पतिट्ठा -- प्रतिष्ठा, सहायता, आश्रय-स्थान

पतिट्ठातब्ब -- प्रतिष्ठा के योग्य, स्थापित करने योग्य

पतिट्ठितब्ब -- प्रतिष्ठा के योग्य, स्थापित करने योग्य

पतिट्ठाति -- देखो पतिट्ठहति [पतिट्ठासि, पतिट्ठित, पतिट्ठाय, पतिट्ठातुं]

पतिट्ठान -- प्रतिष्ठान, स्थापना

पतिट्ठापित -- प्रतिष्ठापित, स्थापित किया हुआ

पतिट्ठापेति -- प्रतिष्ठित कराता है [पतिट्ठापेसि, पतिट्ठापेन्त, पतिट्ठापेत्वा, पतिट्ठापिय]

पतिट्ठापेतु -- स्थापित करने वाला

पतित -- गिरा हुआ

पतितिट्ठति -- खड़ा होता है, दुबारा खड़ा होता है

पतिदान -- प्रतिदान, दान का बदला दान

पतिबोध -- जागरण, ज्ञान

पतिब्बता -- प्रतिव्रता

पतिरूप -- देखो, पटिरूप

पतिस्सत -- देखो, पटिस्सत

पतीचि -- पश्चिम दिशा

पतीत -- प्रसन्‍न-चित्त

पतीर -- किनारा

पतोद -- बैलों को हाँकने की लकड़ी, पैणी

पतोदक -- प्रेरणा, प्रेरक

पतोदक-लट्ठि -- बैलों को हाँकने की लाठी

पत्त -- प्राप्त, प्राप्त हुआ, पात्र, भिक्षा-पात्र, पत्ता, पंख

पत्तक्खन्ध -- गिरे हुए कन्धों वाला, निराश, बुझा-बुझा-सा

पत्तगत -- पात्र-गत, पात्र में पड़ा हुआ

पत्त-गन्ध -- पत्तों की गन्ध

पत्त-गाहक -- [दूसरे का] भिक्षापात्र लेकर चलने वाला

पत्त-थविका -- भिक्षा-पात्र लटकाने की झोली

पत्त-पाणि -- जिसके हाथ में भिक्षा-पात्र हो

पत्त-पिण्डिक -- एक ही पात्र में से खाने वाला

पत्त-दान -- पक्षी-विशेष

पत्तन -- देखो पट्टन

पत्तब्ब -- प्राप्त करणीय

पत्ताधारक -- पात्र का आधार

पत्तानीक -- चार-चार जनों की पैदल सेना

पत्तानुमोदना -- प्राप्त पुण्य का अनुमोदन [=देवताआें तथा स्वर्गस्थ सम्बन्धियों को दान]

पत्ति -- पैदल सैनिक, पत्ती, पेड़ का पत्तों वाला भाग

पत्तिक -- हिस्सेदार, पैदल चलने वाला, पैदल सैनिक, पात्रवाला

पत्ति-दान -- पुण्य अथवा हिस्से का प्रदान

पत्ती -- तीर, धनुष का तीर

पत्तुन्‍न -- वस्त्र-विशेष

पत्तुं -- प्राप्त करने के लिए

पत्थ -- प्रस्थ, धान्य अथवा किसी तरल पदार्थ का माप, एकान्त स्थान

पत्थट -- ज्ञात, विख्यात, फैलाया हुआ

पत्थद्ध -- कठोर, चट्टान की तरह सीधा

पत्थना -- प्रार्थना, कामना, इच्छा

पत्थयति -- इच्छा करता है, कामना करता है, प्रार्थना करता है [पत्थयि, पत्थयन्त, पत्थित, पत्थयित्वा]

पत्थयान -- इच्छा करते हुए, कामना करते हुए

पत्थर -- पत्थर, शिला, पत्थर का सामान

पत्थरति -- फैलाता है [पत्थरि, पत्थट, पत्थरन्त, पत्थरित्वा]

पत्थिव -- पार्थिव, राजा

पत्थेति -- देखो पत्थयति [पत्थेसि, पत्थित, पत्थेन्त, पत्थेत्वा]

पत्वा -- प्राप्त करके

पथ -- मार्ग, रास्ता [गणन-पथ, गिनती]

पथवी -- देखो पठवी

पथावी -- पथिक, पैदल यात्री

पथिक -- राही, यात्री

पथित -- प्रसिद्ध

पद -- कदम, वचन, पदवी, स्थान, हेतु, कविता का अनुच्छेद

पद-चेतिय -- पवित्र पद-चिह्न

पद-जात -- नाना प्रकार के पदचिह्न

पदट्ठान -- निकट कारण, नजदीकी वजह

पद-पूरण -- जिससे पद-पूर्ति हो

पद-भाजन -- शब्दों का विभाग

पद-भाणक -- धर्म-ग्रन्थ के पदों का पाठ करने वाला

पद-वण्णना -- पदों की व्याख्या

पद-वलञ्‍ज -- पद-चिह्न, पद-चिह्नों वाला रास्ता

पद-विभाग -- शब्दों का विभाग

पद-वीतिहार -- कदमों का परिवर्तन

पद-सद्द -- पैरों की आहट

पदकुसल माणव जातक -- बारह साल के गुजर जाने के बाद भी पद-चिह्नों का पता लगा सकने की कथा

पदक्खिणा -- प्रदक्षिणा

पदग -- पैदल सैनिक

पदत्त -- दिया गया, बाँटा गया

पदर -- दरार, फटाव, छेद

पदवि -- मार्ग

पदहति -- प्रयत्न करता है, किसी के खिलाफ लड़ता है [पदहि, पदहित, पदहित्वा]

पदहन -- देखो पधान

पदातवे -- देने के लिए

पदाति -- पैदल सैनिक, देना, लेना, पाना

पदातु -- दाता, देने वाला

पदान -- प्रदान, देना

पदाळन -- चीरना, फाड़ना, चिपटना

पदाळेति -- चिपटता है, चीरता है, फाड़ता है [पदाळेसि, पदाळित, पदाळेन्त, पदाळेत्वा]

पदाळेतु -- चीरने वाला, तोड़ने वाला

पदिक -- काव्य-पंक्तियों से युक्त, पैदल यात्री

पदिप्पति -- जलता है [पदिप्पि, पदिप्पमान, पदित्त]

पदिस्सति -- दिखाई देता है

पदिट्ठ -- देखा गया

पदिस्समान -- देखा जाता हुआ

पदीप -- प्रदीप, दिया, चिराग, प्रकाश

पदीप-काल -- लैम्प जलाने का समय

पदीपिय -- प्रदीप-सामग्री

पदीपेति -- प्रदीप जलाता है, समझाता है, तेज करता है [पदीपेसि, पदीपित, पदीपेन्त, पदीपेत्वा]

पदीपेय्य -- देखो पदीपिय

पदीयति -- दिया जाता है, प्रदान किया जाता है [पदीयि, पदिन्‍न]

पदुट्ठ -- प्रदुष्ट, विकृत, खराब

पदुब्भति -- षडयन्त्र करता है, साजिश करता है, गलत करता है [पदुब्भि, पदुब्भित, पदुब्भित्वा]

पदुम -- कमल, नरक-विशेष, एक बहुत बड़ी संख्या

पदुम-कण्णिका -- कमल का बीज-कोष

पदुम-कलाप -- कमल-समूह

पदुम-गब्भ -- कमल का भीतरी भाग

पदुम-पत्त -- कमल का पत्ता

पदुम-राग -- लाल रंग की मणि

पदुम-सर -- कमल का तालाब

पदुम जातक -- बोधिसत्व को तालाब से कमल-गुच्छ लाने में सफलता मिली

पदुमिनी -- कमल का पौधा, कमल का तालाब

पदुमिनी-पत्त -- कमल के पौधे का पत्ता

पदुमी -- कमल वाला, पदुमी [हाथी]

पदुस्सति -- दुष्कृत करता है, क्रोधित होता है, भ्रष्ट करता है [पदुस्सि, पदुट्ठ, पदुस्सित्वा]

पदुस्सन -- विरोधी कार्य, षडयन्त्र, साजिश

पदूसेति -- भ्रष्ट करता है, दुष्कृत करता है [पदूसेसि, पदूसित, पदूसेत्वा]

पदेस -- प्रदेश, स्थान

पदेस-ञाण -- सीमित ज्ञान

पदेस-रज्‍ज -- प्रदेश राज्य

पदेस-राजा -- अनु-राजा

पदेसन -- भेंट या परित्याग

पदोस -- 1. प्रदोष [रात्रि], 2. क्रोध, 3. दोष

पदोसेति -- देखो पदूसेति

पद्म -- देखो पदुम

पधंस -- प्रध्वंस, विनाश

पधंसन -- लूट-मार

पधंसित -- लूट-पाट किया गया

पधंसिय -- लूट-पाट किये जाने की सम्भावना वाला

पधंसेति -- लूट-पाट करता है, आक्रमण करता है [पधंसेसि, पधंसित, पधंसेत्वा, पधंसेन्त]

पधान -- प्रधान, मुख्य, प्रयास, प्रयत्न

पधान-घर -- योगाभ्यास करने का स्थान

पधानिक -- योगाभ्यास के लिए प्रयत्न करने वाला

पधावति -- दौड़ता है [पधावि, पधावित, पधावित्वा]

पधावन -- दौड़

पधूपेति -- धुआँ देता है, धुआँ फेंकता है, देखो, धूपेति [पधूपेसि, पधूपित, पधूपेन्त]

पधोत -- अच्छी तरह धोया गया या तेज किया गया

पन -- और, अभी, लेकिन, इसके विरुद्ध, अब, इसके अतिरिक्त

पनस -- कटहल का पेड़, कटहल का फल

पनस्सति -- विनाश को प्राप्त होता है, गायब हो जाता है [पनस्सि, पनट्ठ, पनस्सित्वा]

पनाळिका -- नाली, पाइप, नली

पनुदति -- दूर करता है, हटा देता है, धकेल देता है [पनुदि, पनुदित, पनुदित्वा, पनुदिय, पनुदमान]

पनुदन -- हटाना, दूर करना, अस्वीकृत कर देना

पनूदन -- हटाना, दूर करना, अस्वीकृत कर देना

पन्त -- दूर, एकान्त

पन्त-सेनासनं -- एकान्त स्थान

पन्ति -- पंक्ति, कतार

पन्थ -- मार्ग, सड़क

पन्थक -- यात्री, राही

पन्थ-घात -- बटमारी

पन्थ-घातक -- रास्ता चलते डाका डालने वाला

पन्थ-दूहन -- रास्ता चलते डाका डालना

पन्थिक -- देखो, पन्थक

पन्‍न -- गिरा हुआ, पतित

पन्‍नक्खन्ध -- देखो पत्तक्खन्ध

पन्‍न-भार -- जिसने अपना भार नीचे उतारकर रख दिया

पन्‍न-लोम -- जिसके बाल गिर पड़े, पराजित

पन्‍नग -- साँप

पप -- जल, पानी

पपञ्‍च -- प्रपंच, रुकावट, झगड़ा, झंझट, विलम्ब, भ्रम, वहम

पपञ्‍चेति -- व्याख्या करता है, विलम्ब करता है [पपञ्‍चेसि, पपञ्‍चित, पपञ्‍चेत्वा]

पपटिका -- पेड़ की छाल, पपड़ी

पपतति -- गिर जाता है [पपति, पपतित, पपतित्वा]

पपतन -- गिरना, गिरावट

पपद -- पाँव का पंजा

पपा -- प्याऊ, कुआँ

पपात -- गिरना, प्रपात, झरना

पपितामह -- दादा के पिता

पपुत्त -- पौत्र, पोता

पपुन्‍नाट -- फल्गु फल

पप्पटक -- कुकुरमुत्ता, पत्थर का टुकड़ा

पप्पोठेति -- पीटता है [पप्पोठेसि, पप्पोठित, पप्पोठेत्वा]

पप्पोति -- प्राप्त होता है, पहुँचता है [पप्पुय्य]

पप्फास -- फेफड़े

पबन्ध -- साहित्यिक रचना, सिलसिलेवार

पबल -- प्रबल

पबुज्झति -- जागता है, समझता है

पबुज्झि -- जागा, समझा

पबुद्ध -- प्रबुद्ध, जाग्रत

पबोधन -- जागरण

पबोधेति -- जगाता है, प्रबुद्ध करता है [पबोधेसि, पबोधित, पबोधेत्वा, पबोधेन्त]

पब्ब -- गाँठ, उँगली का पोर, विभाग, हिस्सा

पब्बजति -- प्रव्रजित होता है, निकल पड़ता है, संन्यास के लिए घर छोड़ता है [पब्बजि, पब्बजित, पब्बजित्वा, पब्बजन्त]

पब्बजन -- प्रव्रज्या, गृहस्थ-जीवन का त्याग

पब्बज्‍जा -- प्रव्रज्या

पब्बजित -- प्रव्रजित हुआ, प्रव्रजित, साधु

पब्बत -- पहाड़

पब्बत-कूट -- पर्वत-शिखर, पहाड़ की चोटी

पब्बत-गहन -- पर्वत-भरा प्रदेश

पब्बतट्ठ -- पर्वत-स्थित

पब्बत-पाद -- पर्वत की तराई

पब्बत-शिखर -- पर्वत की चोटी

पब्बतुपत्थर जातक -- एक राजदरबारी ने राजा के रनिवास को दूषित किया। राजा ने उसकी उपेक्षा की

पब्बतेय्य -- पर्वत पर रहने वाला

पब्बाजन -- प्रव्रजित करना, देश निकाला देना

पब्बाजनिय -- निकाल बाहर करने योग्य

पब्बाजेति -- निकाल बाहर करता है, प्रव्रजित करता है [पब्बाजेसि, पब्बाजित, पब्बाजेत्वा]

पब्भार -- पर्वत की ढलान

पभग्ग -- नष्ट हुआ, टूटा हुआ

पभङ्कर -- प्रभाकर, सूर्य

पभङ्गु -- अनित्य, नाशवान

पभङ्गुर -- देखो पभङ्गु

पभव -- उत्पत्ति, मूल स्रोत

पभवति -- उत्पन्‍न होता है, देखो, पहोति [पभवि, पभवित, पभवित्वा]

पभस्सर -- प्रभास्वर, अत्यन्त चमकदार

पभा -- प्रभा, प्रकाश

पभात -- स्पष्ट हुआ, चमकता हुआ, प्रभात, सवेरा

पभाव -- प्रभाव, सामर्थ्य, तेजस्विता

पभावित -- प्रभावित

पभावेति -- प्रभावित करता है

पभास -- चमक, प्रकाश

पभासति -- चमकता है [पभासि, पभासित्वा, पभासन्त]

पभासेति -- प्रकाशित कराता है [पभासेसि, पभासित, पभासेन्त, पभासेत्वा]

पभिज्‍जति -- टूटता है, टुकड़े-टुकड़े हो जाता है [पभिज्‍जि, पभिज्‍जमान, पभिज्‍जित्वा]

पभिज्‍जन -- पृथक-पृथक होना, टूटना

पभिन्‍न -- टूटा हुआ, भिन्‍न हुआ, टुकड़े-टुकड़े हुआ

पभु, [पभू भी] -- स्वामी, प्रभु

पभुति -- प्रभृति, इत्यादि [ततो-पभुति=तब से]

पभुत्त -- प्रभुत्व

पभेद -- प्रभेद, प्रकार

पभेदन -- बँटवारा, विनाश करने वाला

पमज्‍जति -- लापरवाही करता है, प्रमाद करता है, नशे में होता है, साफ कर देता है [पमज्‍जि, पमत्त, पमज्‍जित्वा, पमज्‍ज, पमज्‍जिय, पमज्‍जितुं]

पमज्‍जना -- प्रमाद, विलम्ब

पमत्त -- प्रमादी, आलसी

पमत्त-बन्धु -- प्रमादियों का मित्र, अर्थात मार

पमथति -- अधीन करता है [पमत्थि, पमत्थित, पमत्थित्वा]

पमदा -- औरत

पमदा-वन -- महल के समीप का उद्यान

पमद्दति -- मर्दन करता है, नष्ट करता है, पराजित करता है [पमद्दि, पमद्दित, पमद्दित्वा]

पमद्दन -- मर्दन, जीत लेना

पमद्दी -- मर्दन करने वाला, विजयी होने वाला

पमा -- माप

पमाण -- माप

पमाणक -- मापने वाला

पमाणिक -- माप के अनुसार

पमाद -- प्रमाद, लापरवाही

पमाद-पाठ -- पुस्तक का सदोष पाठ

पमिणाति -- मापता है, अन्दाजा लगाता है [पमिणि, पमित, पमिणित्वा, पमित्वा]

पमुख -- प्रमुख, [घर के] आगे का भाग

पमुच्‍चति -- मुक्त करता है [पमुच्‍चि, पमुत्त, पमुच्‍चित्वा]

पमुच्छति -- मूर्छित होता है [पमुच्छि, पमुच्छित, पमुच्छित्वा]

पमुञ्‍चति -- छोड़ता है, मुक्त करता है [पमुञ्‍चि, पमुञ्‍चित, पमुत्त, पमुञ्‍चिय, पमुञ्‍चित्वा]

पमुट्ठ -- भूला हुआ

पमुत्त -- देखो, पमुञ्‍चति

पमुत्ति -- मोक्ष, मुक्ति

पमुदित -- प्रमुदित, अति प्रसन्‍न

पमुय्हति -- मोह को प्राप्त होता है, चकित होता है [पमुय्हि, पमूळ्ह, पमुय्हित्वा, पमुय्ह]

पमुस्सति -- भूल जाता है [पमुस्सि, पमुट्ठ, पमुस्सित्वा]

पमूळ्ह -- मोह को प्राप्त हुआ

पमेय्य -- मापा जा सके, सीमित किया जा सके

पमोक्ख -- मोक्ष, मुक्ति

पमोचन -- मुक्त करना

पमोचेति -- मुक्त करता है [पमोचेसि, पमोचित, पमोचेत्वा]

पमोद -- आनन्द, प्रीति, खुशी

पमोदति -- आनन्दित होता है, खुश होता है [पमोदि, पमोदित, पमोदमान, पमोदित्वा]

पमोदना -- देखो पमोद

पमोहन -- धोखा

पमोहेति -- धोखा देता है [पमोहेसि, पमोहित, पमोहेत्वा]

पम्पक -- छिपकली जैसा प्राणी

पम्पटक -- एक प्रकार की छिपकली

पम्ह -- बरौनी

पय -- दूध, पानी

पयत -- संयत

पयतन -- प्रयत्न, कोशिश

पयाग -- गङ्गा-जमुना के संगम पर आधुनिक इलाहाबाद

पयाग-तित्थ -- देखो पयाग

पयाग-पतिट्ठान -- देखो पयाग

पयाति -- आगे बढ़ता है [पयासि, पयात]

पयिरुपासति -- संगति करता है, सेवा में रहता है [पयिरुपासि, पयिरुपासित, पयिरुपासित्वा]

पयिरुपासना -- सेवा में रहना, संगति करना

पयुञ्‍जति -- नियुक्त करता है, लगाता है [पयुञ्‍जि, पयुत्त, पयुञ्‍जमान, पयुञ्‍जित्वा]

पयुत्तक -- चर-पुरुष

पयोग -- प्रयोग, साधन, क्रिया

पयोग-करण -- प्रयास, प्रयत्न

पयोग-विपत्ति -- असफलता

पयोग-सम्पत्ति -- सफलता

पयोजक -- व्यवस्थापक, निर्देशक

पयोजन -- प्रयोजन, कार्य

पयोजेति -- कार्य में लगाता है [पयोजेसि, पयोजित, पयोजेन्त, पयोजेत्वा, पयोजिय]

पयोजेतु -- देखो पयोजक

पयोधर -- बादल, स्तन

पय्यक -- प्रपितामह

पर -- दूसरा

पर-कत -- परकृत, दूसरे का किया हुआ

पर-कार -- [परङ्कार भी], दूसरापन, [अहंकार का उलटा]

पर-जन -- अपरिचित जन, बाहर का आदमी

परत्थ -- परोपकार, अन्यत्र, मरणान्तर

परदत्तूपजीवी -- दूसरों के दान पर जीने वाला

पर-दार -- किसी दूसरे की स्त्री

पर-दार-कम्म -- पर-स्त्री-गमन

पर-दारिक -- पर-स्त्री-गमन करने वाला

परनेय्य -- दूसरे द्वारा ले जाया जाने वाला

पर-जातक -- रानी ने राजा तथा पुरोहित की अनुपस्थिति में परन्तप नाम के नौकर से सहवास किया

पर-पच्‍चय -- दूसरे पर निर्भर

पर-पटिय -- दूसरे पर आश्रित

पर-पुट्ठ -- दूसरे द्वारा पोषित

पर-पेस्स -- दूसरों की सेवा करने वाला

पर-भाग -- पीछे का हिस्सा, बाहर का हिस्सा

पर-लोक -- मरणान्तर लोक

पर-वम्भन -- दूसरों को नीची नजर से देखना

पर-वाद -- विरोधी मत

परवादी -- विरोधी मत रखने वाला

पर-विसय -- विदेश, दूसरे का राज्य

पर-सेना -- विरोधी सेना

पर-हत्थगत -- शत्रु-गृहीत

पर-हित -- दूसरों का उपकार

पर-हेतु -- दूसरों के लिए

परक्‍कम -- पराक्रम, प्रयत्न

परक्‍कमन -- प्रयास

परक्‍कमति -- पराक्रम करता है, साहस दिखाता है [परक्‍कमि, परक्‍कन्त, परक्‍कमन्त, परक्‍कमित्वा, परक्‍कम्म]

परम -- श्रेष्ठतम

परमता -- श्रेष्ठत्व, पराकाष्ठा का भाव

परमत्थ -- परमार्थ, उच्‍चतम आदर्श

परमत्थ-जोतिका -- खुद्दक-पाठ धम्मपद, सुत्तनिपात तथा जातक पर बुद्धघोष की अट्ठकथा

परमत्थ-दीपनी -- उदान, इतिवुत्तक, विमानवत्थु, पेतवत्थु, थेरगाथा तथा थेरीगाथा पर धम्मपाल की अट्ठकथा

परमाणु -- अणु [कण] का छत्तीसवाँ हिस्सा

परमायु -- आयु की सीमा

परम्परा -- [वंश-]परम्परा, सिलसिला

परम्मुख -- मुँह दूसरी ओर

परम्मुखा -- अनुपस्थिति में

परसुवे -- परसों

परं -- बाद में, मरणान्तर

परंमरणा -- मरने के बाद

परा -- परिहानि व पराजय आदि अर्थों में

पराग -- पुष्प-रेणु

पराजय -- हार

पराजियति -- पराजित होता है [पराजियि, पराजियित्वा]

पराजेति -- हराता है [पराजेसि, पराजित, पराजेन्त, पराजित्वा]

पराधीन -- दूसरे के अधीन

पराभव -- अवनति, अपमान

पराभवति -- अवनत होता है, पतित होता है [पराभवि, पराभूत, पराभवन्त]

परामट्ठ -- छुआ हुआ

परामसति -- स्पर्श करता है, पकड़े रहता है [परामसि, परामसित, परामट्ठ, परामसन्त, परामसित्वा]

परामास -- स्पर्श

परामसन -- स्पर्श करना, हाथ में लेना

परायण -- आधार, सहारा, परायण

परायन -- आधार, सहारा, परायण

परायत्त -- दूसरों का [माल]

परि -- चारों ओर से सम्पूर्ण रूप से

परिकड्ढति -- खींचता है [परिकड्ढि, परिकड्ढित, परिकड्ढित्वा]

परिकड्ढन -- खींचना

परिकथा -- व्याख्या, भूमिका

परिकन्तति -- काट डालता है [परिकन्ति, परिकन्तित, परिकन्तित्वा]

परिकप्प -- इरादा

परिकप्पेति -- इरादा करता है, सार निकालता है, कल्पना करता है [परिकप्पेसि, परिकप्पित, परिकप्पेत्वा

परिकम्म -- व्यवस्था, तैयारी

परिकम्म-कत -- लेप किया गया

परिकम्म-कारक -- मरम्मत करने वाला, तैयारी करने वाला

परिकस्सति -- खींचता है [परिकस्सि, परिकस्सित, परिकस्सित्वा]

परिकिण्ण -- बिखरा हुआ

परिकित्तेति -- व्याख्या करता है [परिकित्तेसि, परिकित्तित, परिकित्तेत्वा]

परिकिरति -- बिखेरता है, घेरता है [परिकिरि, परिकिण्ण, परिकिरिय, परिकिरित्वा]

परिकिलन्त -- थका हुआ

परिकिलमति -- थकता है [परिकिलमि, परिकिलमित्वा]

परिकिलिट्ठ -- धब्बा लगा हुआ, दाग लगा हुआ

परिक्‍किलिट्ठ -- धब्बा लगा हुआ, दाग लगा हुआ

परिकिलिन्‍न -- दागदार, मैला

परिकिलिस्सति -- धब्बा लगता है, मैला हो जाता है [परिकिलिस्सित्वा, परिकिलिस्सि]

परिकिलिस्सन -- गन्दगी

परिकुप्पति -- उत्तेजित होता है [परिकुप्पि, परिकुपित, परिकुप्पित्वा]

परिकोपेति -- कुपित करता है [परिकोपेसि, परिकोपित, परिकोपेत्वा]

परिक्‍कमन -- परिक्रमा

परिक्खक -- परीक्षक, परीक्षा लेने वाला, खोज करने वाला

परिक्खण -- परीक्षण

परिक्खत -- खोदा हुआ, जख्मी, तैयार किया हुआ

परिक्खति -- परीक्षा लेता है, देख भाल करता है [परिक्खि, परिक्खित, परिक्खित्वा]

परिक्खय -- क्षय, हानि, ह्रास

परिक्खा -- देखो, परिक्खण

परिक्खार -- परिष्कार, आवश्यकताएँ, वस्तुएँ

परिक्खित्त -- घेरा हुआ

परिक्खिपति -- घेरता है [परिक्खिपि, परिक्खिपन्त, परिक्खित्त, परिक्खिपित्वा, परिक्खिपितब्ब]

परिक्खिपापेति -- घिरवाता है

परिक्खीण -- क्षीण हुआ, नष्ट हुआ, समाप्त हुआ

परिक्खेप -- घेरा, परिधि

परिक्‍किलेस -- कठिनाई, बाधा, अपवित्रता

परिखणति -- [पळिखणति भी], चारों ओर खोदता है[परिखणित्वा, परिखत, परिखणि]

परिखा -- खाई

परिगण्हन -- खोजबीन करना, ग्रहण करना

परिगण्हाति -- खोजबीन करता है, परीक्षा करता है, ग्रहण करता है [परिगण्हि, परिग्गहित, परिगण्हन्त, परिगण्हित्वा, परिगहेत्वा, परिग्गय्ह]

परिगिलति -- निगलता है [परिगिलि, परिगिलित, परिगिलित्वा]

परिगूहति -- छिपाता है [परिगूहि, परिगूहित, परिगूळ्हं, परिगूहित्वा, परिगूहिय]

परिगूहना -- छिपाना

परिग्गह -- परिग्रह, हड़पना, सम्पत्ति

परिग्गहित -- परिगृहीत

परिचय -- अभ्यास, पहचान

परिचरण -- देख-भाल करना, भोग भोगना

परिचरति -- घूमता-फिरता है, देख-भाल करता है, भोग भोगता है [परिचरि, परिचिण्ण, परिचारित्वा]

परिचारक -- परिचर्या करने वाला, सेवा करने वाला, नौकर, सेवक

परिचारणा -- देख-भाल करना, खाना-पीना

परिचारिका -- सेविका, पत्नी

परिचारेति -- सेवा कराता है [परिचारेसि, परिचारित, परिचारेत्वा]

परिचिण्ण -- अभ्यस्त, संगृहीत, पहचाना हुआ

परिचित -- देखो परिचिण्ण

परिचुम्बति -- चूमता है, चुम्बन लेता है [परिचुम्बि, परिचुम्बित, परिचुम्बित्वा]

परिच्‍च -- समझकर

परिच्‍चजति -- परित्याग करता है [परिच्‍चजि, परिच्‍चत्त, परिच्‍चजन्त, परिच्‍चजित्वा, परिच्‍चजितुं]

परिच्‍चजन -- परित्याग

परिच्‍चाग -- परित्याग

परिच्छन्‍न -- छिपा हुआ

परिच्छादना -- ओढ़ना

परिच्छिन्दति -- सीमित करता है, [परिच्छेदों में] विभक्त करता है [परिच्छिन्दि, परिच्छिन्‍न, परिच्छिन्दिय, परिच्छिञ्‍ज]

परिच्छिन्दन -- सीमा, निशान, विश्लेषण

परिच्छेद -- माप, सीमा, सर्ग

परिजन -- अनुयायी-गण

परिजानन -- ज्ञान, परिचय

परिजानना -- ज्ञान, परिचय

परिजानाति -- निश्चयात्मक रूप से जानता है [परिजानि, परिञ्‍ञात, परिजानान्त, परिजानित्वा, परिञ्‍ञाय]

परिजिण्ण -- ह्रास को प्राप्त हुआ, जीर्ण हो गया

परिञ्‍ञा -- स्थिर ज्ञान

परिञ्‍ञात -- देखो परिजानाति

परिञ्‍ञाय -- पूर्ण रूप से जानकर

परिञ्‍ञेय -- ठीक से जानने योग्य

परिडय्हति -- जलता है [परिडय्हि, परिडड्ढ, परिडय्हित्वा]

परिडय्हन -- जलना

परिणमति -- पकता है, परिवर्तित होता है [परिणन, परिणमि, परिणमित्वा]

परिणय -- शादी, विवाह

परिणाम -- पकना, परिवर्तन, विकास

परिणामन -- किसी के उपयोग में आना

परिणामेति -- परिवर्तित करता है [परिणामेसि, परिणामित, परिणामेत्वा]

परिणायक -- मार्ग-दर्शक, परामर्शदाता

परिणायक-रतन -- चक्रवर्ती नरेश का सेनापति

परिणायिका -- अन्तर्दृष्टि

परिणाह -- परिधि, लम्बाई-चौड़ाई

परितप्पति -- अनुतप्त, होता है, चिन्ता करता है [परितप्पि, परितत्त, परितप्पित्वा]

परितस्सति -- उत्तेजित होता है, चिन्तित होता है, कामना करता है [परितस्सि, परितस्सित, परितस्सित्वा]

परितस्सना -- चिन्तित होना, उत्तेजना

परिताप -- अनुताप, पश्चाताप

परितापन -- अनुताप, पश्चाताप

परितापेति -- त्रास देता है [परितापेसि, परितापित, परितापेत्वा]

परितुलेति -- तोलता है, विचार करता है [परितुलेसि, परितुलित, परितुलेत्वा]

परितो -- चारों ओर से

परितोसेति -- प्रसन्‍न करता है, संतोष देता है [परितोसेसि, परितोसित, परितोसेत्वा]

परित्त -- खुद्दक पाठ, अंगुत्तर निकाय, मज्झिम निकाय, सुत्तनिपात के कुछ सूत्रों का संग्रह, ‘परित्त’ शब्द का अर्थ है संरक्षण, इसके पाठ का उद्देश्य रोग आदि से संरक्षण माना जाता है, थोड़ा, अल्पमात्र, तुच्छ, तावीज

परित्तक -- थोड़ा, अल्पमात्र, तुच्छ

परित्त-सुत्त -- अभिमंत्रित धागा

परित्ताण -- संरक्षण, शरण, सुरक्षा

परित्तायक -- संरक्षक

परिदहति -- परिधान धारण करता है, वस्त्र पहनता है [परिदहि, परिदहित, परिदहित्वा]

परिदहन -- वस्त्र धारण करना

परिदीपक -- व्याख्यात्मक, प्रकाश डालने वाला

परिदीपन -- व्याख्या, उदाहरण

परिदीपेति -- स्पष्ट करता है, व्याख्या करता है, प्रकाशित करता है [परिदीपेसि, परिदीपित, परिदीपेन्त, परिदीपेत्वा]

परिदूसेति -- दूषित करता है [परिदूसेसि, परिदूसित, परिदूसेत्वा]

परिदेव -- रोना-पीटना

परिदेवना -- देखो परिदेव

परिदेवति -- रोता-पीटता है [परिदेवि, परिदेवित, परिदेवित्वा, परिदेवन्त, परिदेवमान]

परिदेवित -- रोना-पीटना

परिधंसक -- ध्वंसक, नष्ट करने वाला

परिधावति -- इधर-उधर दौड़ता है [परिधावि, परिधावित, परिधावित्वा]

परिधि -- सूर्य-मंडल

परिधोत -- धोया हुआ

परिधोवति -- सम्पूर्ण रूप से धोता है, अच्छी तरह साफ करता है [परिधोवि, परिधोवित्वा]

परिनिट्ठान -- अन्तिम सिरा, परिसमाप्ति

परिनिट्ठापेति -- समाप्त करता है [परिनिट्ठापेसि, परिनिट्ठापित, परिनिट्ठापेत्वा]

परिनिब्बान -- जन्म-मरण के बन्धन से मुक्ति, अर्हत की अन्तिम मृत्यु

परिनिब्बापन -- राग-द्वेषाग्नि का सम्पूर्ण रूप से बुझ जाना

परिनिब्बाति -- परिनिर्वाण को प्राप्त होता है [परिनिब्बायि, परिनिब्बुत, परिनिब्बायित्वा]

परिनिब्बायी -- परिनिर्वाण-प्राप्त

परिपक्‍क -- अच्छी तरह पका हुआ, प्रौढ़

परिपतति -- गिर पड़ता है, विनाश को प्राप्त होता है [परिपति, परिपतित, परिपतित्वा]

परिपन्थ -- खतरा, बाधा, किनारा

परिपन्थिक -- बाधक

परिपाक -- पका होना, प्रौढ़ होना, हाजमा

परिपाचन -- पकना, प्रौढ़ होना, विकसित होना, हजम होना

परिपाचेति -- पकाता है, प्रौढ़ होता है, विकसित होता है [परिपाचेसि, परिपाचित, परिपाचेत्वा]

परिपातेति -- आक्रमण करता है, गिराता है, मार डालता है, नाश कर डालता है [परिपातेसि, परिपातित, परिपातेत्वा]

परिपालेति -- पालन करता है, पहरा देता है, संरक्षण करता है [परिपालेसि, परिपालित, परिपालेत्वा]

परिपीळेति -- पीड़ित करता है [परिपीळेसि, परिपीळित, परिपीळेत्वा]

परिपुच्छक -- प्रश्न पूछने वाला

परिपुच्छति -- पूछताछ करता है [परिपुच्छि, परिपुच्छित, परिपुट्ठ, परिपुच्छित्वा]

परिपुच्छा -- पूछताछ, प्रश्न

परिपुण्ण -- सम्पूर्ण

परिपुण्णता -- सम्पूर्णता

परिपूर -- सम्पूर्ण

परिपूरक -- पूर्ति करने वाला

परिपूरकारिता -- पूर्ति का भाव

परिपूरकारी -- पूरा करने वाला

परिपूरण -- पूर्ति

परिपूरति -- पूरा करता है [परिपूरि, परिपुण्ण, परिपूरित्वा]

परिपूरेति -- पूरा कराता है [परिपूरेसि, परिपूरित, परिपूरेन्त, परिपूरेत्वा, परिपूरिय, परिपूरेतब्ब]

परिप्फुट -- भरा हुआ, व्याप्त

परिप्‍लव -- चंचल, अस्थिर

परिप्‍लवति -- काँपता है, इधर-उधर घूमता है

परिफन्दति -- काँपता है, धड़कता है [परिफन्दि, परिफन्दित, परिफन्दित्वा

परिबाहिर -- बाह्य, बाहरी

परिब्बजति -- घूमता है [परिब्बजि, परिब्बजित, परिब्बजित्वा]

परिब्बयं -- खर्च

परिब्बाजक -- परिव्राजक, घूमने-फिरने वाला साधु

परिब्बाजिका -- परिब्राजिका, घूमने-फिरने वाली साध्वी

परिब्बूळ्ह -- घिरा हुआ

परिब्भमति -- इधर-उधर भटकता है, भ्रमण करता है [परिब्भमि, परिब्भन्त, परिभमन्त, परिभमित्वा]

परिब्भमन -- परिभ्रमण

परिब्भमेति -- परिभ्रमण कराता है [परिब्भमेसि, परिब्भमित, परिब्भमेत्वा]

परिभट्ठ -- परिभ्रष्ट, पतित

परिभण्ड -- लीपना, घेरना, कमरबन्द, घेरते हुए

परिभण्ड-कत -- लीपा हुआ

परिभव -- घृणा, अपशब्द

परिभवन -- घृणा करना, निन्दा करना

परिभवति -- घृणा करता है, अपशब्द कहता है, निन्दा करता है [परिभवि, परिभूत, परिभवन्त, परिभवमान, परिभवित्वा]

परभावित -- शिक्षित, प्रभावित

परिभास -- दोषारोपण

परिभासक -- निन्दा करने वाला, अपशब्द कहने वाला

परिभासति -- अपशब्द कहता है, बुरा-भला कहता है [परिभासि, परिभासित, परिभासमान, परिभासित्वा]

परिभासन -- निन्दा, उपहास

परिभिन्‍न -- टूटा हुआ, गिरा हुआ, विरुद्ध हुआ

परिभुञ्‍जति -- खाता है, उपयोग में लाता है, भोग भोगता है [परिभुञ्‍जि, परिभुत्त, परिभुञ्‍जन्त, परिभुञ्‍जमान, परिभुञ्‍जित्वा, परिभुत्वा, परिभुञ्‍जि, परिभुञ्‍जियतब्ब]

परिभुत्त -- खाया हुआ, भोगा हुआ

परिभूत -- निन्दा-कृत

परिभोग -- उपयोग, भोग, भोगसामग्री

परिभोग-चेतिय -- तथागत द्वारा उपयुक्त वस्तु होने से पवित्र वस्तु

परिभोजनीय -- उपयोग में लाने योग्य

परिमञ्‍जक -- रगड़ने वाला या थपथपाने वाला

परिमञ्‍जति -- रगड़ता है, थपथपाता है, पोंछता है [परिमञ्‍जि, परिमञ्‍जित, परिमट्ठ, परिमञ्‍जित्वा]

परिमञ्‍जन -- रगड़ना, पोंछना, मालिश करना

परिमण्डल -- गोलाकार

परिमण्डलं -- चारों ओर से [ढक कर]

परिमद्दति -- रगड़ता है, मर्दन करता है, मालिश करता है [परिमद्दि, परिमद्दित, परिमद्दित्वा]

परिमाण -- माप, सीमा

परिमित -- मापा गया, सीमा किया गया

परिमुखं -- सामने

परिमुच्‍चति -- मुक्त होता है, बच निकलता है [परिमुच्‍चि, परिमुत्त, परिमुच्‍चित्वा]

परिमुच्‍चन -- मुक्ति, बच निकलना

परिमुत्त -- मुक्त, बच निकला हुआ

परिमुत्ति -- मुक्ति, बचाव

परिमोचेति -- मुक्त करता है [परिमोचेसि, परिमोचित, परिमोचेत्वा]

परियत्ति -- धार्मिक ग्रन्थों को याद करना, धर्म-ग्रन्थों के अध्ययन में उपलब्धि

परियत्ति-धर -- तिपिटक को कण्टस्थ करने वाला

परियत्ति-धम्म -- तिपिटक-धर्म

परियत्ति-सासन -- तिपिटक [और उसकी अट्ठकथाएँ]

परियन्त -- आखरी सिरा, सीमा

परियन्त-कत -- सीमित, बाधित

परियन्तिक -- समाप्त, सीमाबद्ध

परियाति -- चारों ओर घूमता है

परियादाति -- अधिक मात्रा में ग्रहण करता है, खाली कर देता है [परियादिन्‍न, परियादाय]

परियादियति -- काबू कराता है, खाली करा देता है [परियादियि, परियादिन्‍न, परियादियित्वा]

परियापन्‍न -- सम्मिलित, सम्बन्धित

परियापुणन -- अध्ययन करना

परियापुणाति -- भली भाँति अध्ययन करता है [परियापुणि, परियापुत, परियापुणित्वा]

परियापुत -- कण्ठस्थ किया हुआ, जाना हुआ

परियाय -- क्रम, गुण, आदत, कारण

परियाय-कथा -- गोल-मोल बात-चीत

परियाहत -- चोट खाया हुआ

परियाहनति -- चोट करता है, खटखटाता है [परियाहनि, परियाहत]

परियुट्ठाति -- उठता है, सब जगह फैल जाता है [परियुट्ठासि, परियुट्ठित]

परियुट्ठान -- उदान, पूर्व संकल्प

परियेट्ठि -- खोज

परियेसति -- खोजता है [परियेसि, परियेसित, परियेसन्त, परियेसमान, परियेसित्वा]

परियेसना -- खोज

परियोग -- भाजन, देग, हण्डा

परियोगाळ्ह -- कसा हुआ, गहरे गया हुआ

परियोगाहति -- डुबकी मारता है, पानी की गहराई तक जाता है [परियोगाहि, परियोगाहित्वा]

परियोगाहन -- डुबकी मारना, भीतर जाना

परियोदपना -- [परियोदपन भी], शुद्धि, साफ करना

परियोदपेति -- शुद्ध करता है, साफ करता है [परियोदपेसि, परियोदपित, परियोदपेत्वा]

परियोदात -- शुद्ध, परिशुद्ध

परियोनद्ध -- बँधा हुआ, ढका हुआ

परियोनन्धति -- बाँधता है, ढकता है [परियोनन्धि, परियोनद्ध, परियोनन्धित्वा]

परियोनन्धन -- ढकना

परियोनाह -- ढकना

परियोसान -- समाप्ति, सारांश

परियोसापेति -- समाप्त करता है [परियोसापेसि, परियोसापित, परियोसापेत्वा]

परियोसित -- समाप्त, सन्तुष्ट

परिरक्खति -- रक्षा करता है, संरक्षण करता है

परिरक्खण -- रक्षा करना, संरक्षण

परिवच्छ -- तैयारी

परिवज्‍जन -- बचाव, टरकाना

परिवज्‍जेति -- दूर-दूर रखता है, टरकाता है [परिवज्‍जेसि, परिवज्‍जित, परिवज्‍जेन्त, परिवज्‍जेत्वा]

परिवट्ट -- घेरा

परिवत्त -- लोटता-पोटता हुआ

परिवत्तक -- लोटता-पोटता हुआ, गोला

परिवत्तति -- लोटता-पोटता है [परिवत्ति, परिवत्तित्वा, परिवत्तमान]

परिवत्तन -- परिवर्तन, उलटना-पलटना, अनुवाद

परिवत्तेति -- उलटता है [परिवत्तेसि, परिवत्तित, परिवत्तेत्वा, परिवत्तिय, परिवत्तेन्त]

परिवसति -- शागिर्द बनकर रहता है [परिवसि, परिवुत्थ, परिवसित्वा]

परिवार -- अनुयायी, अनुगामी, नौकर-चाकर

परिवारक -- अनुचर, साथी

परिवारण -- घेर लेना

परिवार-पालि -- विनय पिटक का एक ग्रन्थ

परिवारेति -- घेर लेता है [परिवारेसि, परिवारित, परिवारेत्वा]

परिवासित -- सुगन्धित

परिवितक्‍क -- विचार-विमर्श

परिवितक्‍केति -- विचार करता है, मनन करता है [परिविक्‍केसि, परिवितक्‍कित, परिवितक्‍केत्वा]

परिविसति -- भोजन कराता है, सेवा में रहता है [परिविसि, परिविसित्वा]

परिवीमंसति -- विचार करता है, मनन करता है [परिवीमंसि, परिवीमंसमान, परिवीमंसित्वा]

परिवुत -- धिरा हुआ

परिवेण -- भिक्षुआें का निवासस्थान, भिक्षुआें का विद्यालय

परिवेसक -- भोजन परोसने वाला

परिवेसना -- भोजन परोसना

परिसक्‍कति -- सहन करता है, कोशिश करता है, प्रयत्न करता है [परिसक्‍कि, परिसक्‍कित, परिसक्‍कित्वा]

परिस-गत -- परिषद् में सम्मिलित, मण्डली के अन्तर्गत

परिसङ्कति -- सन्देह करता है [परिसङ्कि, परिसङ्कित, परिसङ्कित्वा]

परिसङ्का -- सन्देह

परिस-दूसक -- परिषद् को दूषित करने वाला

परिस-पति -- रेंगता है [परिसप्पि, परिसप्पित, परिसप्पित्वा]

परिसप्पना -- रेंगना, काँपना, सन्देह, हिचकिचाहट

परिसमन्ततो -- चारों ओर से

परिसहति -- जीत लेता है [परिसहि, परिसहित्वा]

परिसा -- परिषद्

परिसावचर -- सभा-समिति में विचरने वाला

परिसिञ्‍चति -- सर्वत्र छिड़कता है [परिसिञ्‍चि, परिसित्त, परिसिञ्‍चित्वा]

परिसुज्झति -- परिशुद्ध होता है [परिसुज्झि, परिसुज्झन्त, परिसुञ्‍चित्वा]

परिसुद्ध -- साफ, पवित्र

परिसुद्धि -- सफाई, पवित्रता

परिसुस्सत -- सूख जाता है, व्यर्थ जाता है [परिसुस्सि, परिसुक्ख, परिसुस्सित्वा]

परिसुस्सन -- पूर्ण रूप से सूख जाना

परिसेदित -- वाष्प से उबाला गया

परिसेदेति -- वाष्प-स्नान करता है, सेंकता है [अण्डे] सेता है

परिसोधन -- शुद्धि

परिसोधेति -- शुद्ध करता है, साफ करता है [परिसोधेसि, परिसोधित, परिसोधित्वा, परिसोधिय]

परिसोसेति -- सुखाता है [परिसोसेसि, परिसोसित]

परिस्सजति -- गले मिलता है [परिस्सजि, परिस्सजित, परिस्सजन्त, परिस्सजित्वा]

परिस्सजन -- गले मिलना

परिस्सन्त -- परिश्रान्त, थका हुआ

परिस्सम -- परिश्रम, मेहनत

परिस्सय -- खतरा, परेशानी

परिस्सावन -- पानी छानने का साधन

परिस्सावेति -- पानी छानता है [परिस्सावेसि, परिस्सावित, परिस्सावेत्वा]

परिहरण -- ले जाना, संरक्षण

परिहरणा -- रखना, ले जाना, संरक्षण

परिहरति -- सँभालता है, रक्षा करता है, ले जाता है [परिहरि, परिहरित, परिहत परिहरित्वा]

परिहसति -- हँसता है [परिहसि, परिहसित, परिहसित्वा]

परिहानि -- हानि

परिहानिय -- हानिकर

परिहापेति -- अवनत होता है, लापरवाही करता है [परिहापेसि, परिहापित, परिहापेत्वा]

परिहायति -- अवनत होता है, नुकसान उठाता है [परिहायि, परिहीन, परिहायमान, परिहायित्वा]

परिहार -- संरक्षण, बचाव

परिहारक -- संरक्षक, पहरेदार

परिहार-पथ -- चक्‍करदार रास्ता

परिहारिक -- [जीवित] रखने वाला

परिहास -- हँसी-मजाक

परिहीन -- हानिग्रस्त, अनाथ

परूपक्‍कम -- शत्रु का आक्रमण

परूपघात -- दूसरों का घात

परूपवाद -- दूसरों द्वारा किया गया दोषारोपण

परूळ्ह -- उगा हुआ

परूळ्ह-केस -- लम्बे बालों वाला

परेत -- युक्त, संयुक्त

परो -- मरणान्तर, आगे, ऊपर

परोक्ख -- परीक्ष, आँख से ओझल

परोक्खे -- परोक्ष में, अनुपस्थिति में

परोदति -- रोता है [परोदि, परोदित्वा]

परोवर -- ऊँच-नीच

परोवरिय -- ऊँचे-नीचे

परोसत -- सौ से अधिक

परोसहस्स -- हजार से अधिक

परोसहस्स जातक -- तपस्वी के हजार शिष्य, ‘आकिञ्‍चञ्‍ञायतन’ का यथार्थ भावार्थ नहीं समझ सके

पल -- तोल का माप-विशेष

पल-गण्ड -- राज [मकान बनाने वाला]

पलण्डु -- प्याज

पलण्डुक -- देखो पलण्डु

पलपति -- बकवास करता है [पलपि, पलपित, पलपित्वा]

पलपन -- व्यर्थ की बातचीत

पलपित -- देखो, पलपन

पलय -- प्रलय, कल्प-विनाश

पलवङ्ग -- काला मुँह व लम्बी पूँछ वाला लंगूर

पलात -- भागा हुआ

पलाप -- [धान की] भूसी, व्यर्थ का बकवास

पलापी -- बकवास करने वाला

पलापेति -- भगा देता है, बकवास करता है [पलापेसि, पलापित, पलापेत्वा]

पलायति -- भागता है, बच निकलता है [पलायि, पलात, पलायन्त, पलायित्वा]

पलायन -- भाग जाना

पलायनक -- भागता हुआ

पलायी -- भागा हुआ

पलायो जातक -- बनारस-नरेश तक्षशिला पर आक्रमण करने गया, किन्तु नगर की अँटारियों के शिखरोंको देखकर ही वापिस भाग आया

पलाल -- पुआल [धान का], भूसा, पौधों का डंठल

पलाल-पुञ्‍ज -- पुआल का ढेर

पलास -- पत्ता, ईर्षा, द्वेष, तिरस्कार

पलास-साद -- पत्तों का भोजन

पलास जातक -- ब्राह्मण को पलास-वृक्ष के नीचे गड़ा धन मिला

पलास जातक -- पलास-वृक्ष में वट-वृक्ष उग आया, जिसने धीरे-धीरे पलासवृक्ष को ही नष्ट कर दिया

पलासाद -- गेंडा

पलासी -- ईर्षालु

पलिघ -- अर्गला, बाधा, रुकावट

पलित -- प्रौढ़, सफेद [बाल] सफेद बाल

पलिप -- दलदल

पलिपथ -- खतरनाक रास्ता, खतरा, बाधा

पलिपन्‍न -- गिरा या डूबा हुआ

पलुग्ग -- नीचे गिरा हुआ, टूटा हुआ

पलुज्‍जति -- नीचे गिरता है, टूट जाता है [पलुज्‍जि, पलुज्‍जमान, पलुज्‍जित्वा]

पलुज्‍जन -- लड़खड़ाना

पलुद्ध -- अत्यन्त आसक्त

पलेति -- चला जाता है

पलोभन -- प्रलोभन, लालच

पलोभेति -- लालच देता है [पलोभेसि, पलोभित, पलोभेत्वा]

पल्‍लङ्ग -- पलंग, दीवान, पालथी मार कर बैठा हुआ

पल्‍लत्थिका -- पालकी

पल्‍लल -- छोटा तालाब या झील, दलदल जमीन

पल्‍लव -- कोंपल

पवक्खति -- कहेगा, बता देगा

पवड्ढ -- [पवद्ध भी] वर्धित, शक्तिशाली

पवड्ढति -- बढ़ता है [पवड्ढि, पवड्ढित, पवड्ढित्वा]

पवड्ढन -- वृद्धि

पवत्त -- चालू रहा, नीचे गिरा, वह जो चालू रहे, यानी भवचक्र, जन्म-मरण का चक्‍कर

पवत्तति -- चालू रहता है, विद्यमान रहता है [पवत्ति, पवत्तित, पवत्तित्वा]

पवत्तन -- अस्तित्व, चालू रखना

पवत्तापन -- लगातार चालू रखना

पवत्ति -- प्रवृत्ति, घटना

पवत्तेति -- चालू करता है [पवत्तेसि, पवत्तित, पवत्तेन्त, पवत्तेत्वा, पवत्तेतुं]

पवत्तेतु -- चालू करने वाला

पवद्ध -- देखो, पवड्ढ

पवन -- अनाज पछोरना, पहाड़ का किनारा, हवा

पवर -- श्रेष्ठ

पवसति -- रहता है, वास करता है [पवसि, पवुत्थ, पवसित्वा]

पवस्सति -- बरसता है [पवस्सि, पवुट्ठ, पवस्सित्वा]

पवस्सन -- वर्षा

पवात -- ऐसी जगह, जहाँ हवा चलती हो, ठंडी हवा

पवाति -- सुगन्धि फैलती है, हवा चलती है

पवायति -- [हवा] चलती है, बहती है, सुगन्धि फैलाता है [पवायि, पवायित, पवायित्वा]

पवारणा -- निमंत्रण, वर्षावास के बाद किया जाने वाला एक धार्मिक संस्कार, सन्तोष

पवारित -- निमंत्रित, पवारणा मनाई गई

पवारेति -- निमंत्रण देता है, सपता है, ‘पवारणा’ करता है [पवारेसि, पवारेत्वा]

पवाल -- प्रवाल, मूँगा, कोंपल

पवास -- प्रवास, घर से दूर रहना

पवासी -- प्रवासी

पवाह -- प्रवाह, बहाव

पवाहक -- ले जाने वाला

पवाहेति -- प्रवाहित करता है, बहा देता है [पवाहेसि, पवाहित, पवाहेत्वा]

पवाळ -- देखो पवाल

पवाळ्ह -- रद्द कर दिया गया

पविज्झति -- बींधता है [पविज्झि, पविद्ध, पविज्झित्वा]

पविट्ठ -- प्रविष्ट

पविवित्त -- पृथक् कृत, एकान्त [स्थान]

पविवेक -- एकान्त

पविसति -- प्रवेश करता है [पविसि, पविसन्त, पविसित्वा, पविसितुं]

पवीण -- प्रवीण, होशियार

पवुच्‍चति -- कहलाता है, कहा जाता है

प्रवुत्त -- कहलाया गया

पवुत्थ -- रहा

पवेणि -- परम्परा, उत्तराधिकार, [सिर के बालों की] वेणी

पवेदन -- घोषणा

पवेदियमान -- घोषित किया जाता हुआ

पवेदेति -- विज्ञापित करता है, प्रगट करता है [पवेदेसि, पवेदित, पवेदेत्वा, पवेदेन्त]

पवेधति -- काँपता है, डरा हुआ होना [पवेधि, पवेधित, पवेधित्वा, पवेधमान]

पवेस -- प्रवेश

पवेसन -- दाखला, घुसना

पवेसक -- प्रवेश करने वाला या कराने वाला

पवेसेति -- प्रवेश कराता है, परिचय कराता है [पवेसेसि, पवेसित, पवेसेत्वा, पवेसेन्त, पवेसेतुं]

पवेसेतु -- प्रवेश कराने वाला

पसंसक -- प्रशंसा करने वाला या खुशामद करने वाला

पसंसति -- प्रशंसा करता है [पसंसि, पसंसित, पसत्थ, पसंसन्त, पसंसितब्ब, पसंसिय, पसंसितुं]

पसंसन -- प्रशंसा

पसंसा -- स्तुति

पसङ्ग -- प्रसङ्ग, अवस्था, आसक्ति

पसटं -- प्रशस्त, फैला हुआ

पसत -- प्रंसर, गहरी की हुई अंजली

पसत्थ -- [पसट्ठ भी] प्रशस्त

पसद -- मृग-विशेष

पसन्‍न -- प्रसन्‍न, स्पष्ट, तेजयुक्त

पसन्‍न-चित्त -- प्रसन्‍न-चित्त

पसन्‍न-मानस -- प्रसन्‍न-मन

पसय्ह -- जबर्दस्ती करके

पसव -- सन्तान, [बच्‍चा] पैदा करना

पसवति -- उत्पन्‍न करता है [पसवि, पसवित, पसवन्त, पसवित्वा]

पसहति -- दबाता है, जीत लेता है, मर्दन करता है [पसहि, पसहित्वा, पसरय्ह]

पसहन -- अधिकार करना, अधीन करना

पसारव -- शाखाएँ फूट निकलने का स्थान

पसारवा -- छोटी-छोटी शाखाएँ

पसाद -- प्रसन्‍नता, श्रद्धा, स्पष्टता [इन्द्रिय-]पसाद, इन्द्रियों का कार्य

पसादनिय -- विश्वासोत्पादक

पसादेति -- प्रसन्‍न करता है, पवित्र करता है, श्रद्धावान् बना लेता है [पसादेसि, पसादित, पसादेन्त, पसादेत्वा, पसादेतब्ब]

पसाधन -- गहना, सजावट

पसाधेति -- गहना पहनता है, सजता है [पसाधेसि, पसाधित, पसाधेत्वा, पसाधिय]

पसारण -- प्रसारण

पसारित -- प्रसारित, फैलाया गया

पसारेति -- फैलाता है [पसारेसि, पसारित, पसारेत्वा]

पसासति -- अनुशासन करता है, शिक्षा देता है, राज्य करता है [पसासि, पसासित, पसासित्वा]

पसिति -- बन्धन

पसिद्ध -- प्रसिद्ध

पसिब्बक -- रुपयों की बाँसनी, थैली

पसीदति -- प्रसन्‍न होता है, श्रद्धावान होता है [पसीदि, पसन्‍न, पसीदित्वा, पसीदितब्ब]

पसीदन -- श्रद्धा, प्रसन्‍नता

पसीदना -- श्रद्धा, संतोष

पसु -- पशु, चौपाया

पसुत -- लगा हुआ, आसक्त

पसूत -- प्रसूत, उत्पन्‍न हुआ, बच्‍चा दिया

पसूति -- प्रसूति, जन्म

पसूतिका -- प्रसूतिका, वह स्त्री जिसने किसी बच्‍चे को जन्म दिया हो

पसूतिका-घर -- प्रसूतिका-गृह

पसेनदि -- बुद्ध का समकालीन, कोसलनरेश

पस्स -- पार्श्व, पासा, एक तरफ

पस्सति -- देखता है, पता लगता है, समझता है [पस्सि, दिट्ठ, पस्सन्त, पस्समान, पस्सित्वा, दिस्वा, पस्सिय, पस्सितुं, पस्सितब्ब]

पस्सद्ध -- शान्त

पस्सद्धि -- शान्ति, गाम्भीर्य

पस्सम्भति -- शान्त होता है [पस्सम्भि, पस्सम्भित्वा]

पस्सम्भना -- शान्ति

पस्सम्भेति -- शान्त करता है [पस्सम्भेसि, पस्सम्भित, पस्सम्भेत्वा, पस्सम्भेन्त]

पस्ससति -- प्रश्वास लेता है [पस्ससि, पस्ससित, पस्ससित्वा, पस्ससन्त]

पस्साव -- पेशाब

पस्साव-मग्ग -- योनि, पेशाब का मार्ग

पस्सास -- साँस निकालना

पस्सासी -- साँस निकालने वाला

पहट -- प्रहार-प्राप्त, चोट खाया हुआ

पहट्ठ -- अत्यन्त प्रसन्‍न-चित्त

पहरण -- पीटना, प्रहार करना, प्रहार करने के लिए शस्त्र

पहरणक -- पिटाई करनेवाला

पहरति -- पीटता है [पहरि, पहरन्त, पहरित्वा, पहरितुं]

पहाण -- [पहान भी], हटाना, छोड़ना, त्यागना

पहाय -- छोड़कर

पहायी -- छोड़ने वाला

पहार -- प्रहार, चोट, [एकप्पहारेन, एक ही प्रहार से, एक ही बार]

पहार-दान -- चोट पहुँचाना

पहास -- अत्यन्त प्रीति

पहासेति -- हँसाता है, आनन्दित करता है

पहासेसि -- प्रहर्षित किया

पहासित -- प्रहर्षित

पहिणन -- भेजना

पहिण-गमन -- दूत की तरह जाना

पहिणति -- भेजता है [पहिणि, पहिणन्त, पहिणित्वा]

पहित -- प्रेषित, भेजा गया

पहीन -- प्रहीण, रहित, त्यक्त, नष्ट

पहीयति -- प्रहीण होता है, नहीं रहता है, त्यागा जाता है [पहीयि, पहीन, पहीयमान, पहीयित्वा]

पहू -- योग्य

पहूत -- बहुत अधिक

पहूत-जिव्ह -- बड़ी जीभ वाला

पहूत-भक्ख -- प्रचुर खाद्य-पदार्थ वाला या प्रचुर खाने वाला

पहेणक -- किसी को भेजने योग्य भेंट

पहोति -- समर्थ होता है, देखो पभवति

पहीनक -- पर्याप्त

पळिगुण्ठेति -- उलझाता है, ढकता है [पळिगुण्ठेसि, पळिगुण्ठित]

पळिघ -- [पलिघ भी], अरगल, बाधा

पळिबुज्झति -- प्रमाद करता है, मैला होता है, बाधित होता है [पळिबुज्झि, पळिबुद्ध, पळिबुज्झित्वा]

पळिबुज्झन -- मैला होना

पळिबोध -- बाधा

पळिवेठन -- लपेटना, घेर लेना

पळिवेठेति -- लपेटता है, घेर लेता है [पळिवेठेसि, पळिवेठित]

पंसु -- धूल

पंसु-कूल -- धूल का ढेर

पंसुकूल-चीवर -- कूड़े-करकट के ढेर पर से इकट्ठे किये हुए चीथड़ों का चीवर

पंसुकूलिक -- चीथड़ों का चीवर पहनने वाला

पाक -- पकाना, पकाया हुआ

पाक-वट्ट -- भोजन-सामग्री की लगातार प्राप्ति

पाकट -- प्रकट, प्रसिद्ध, विख्यात

पाकट्ठान -- रसोईघर

पाकतिक -- प्राकृतिक, कुदरती

पाकार -- प्राकार, चारदीवारी

पाकार-परिक्खित्त -- दीवार से धिरा

पागब्भिय -- प्रगल्भता, वाचालता

पागुञ्‍ञता -- प्रगुणता

पाचक -- पकाने वाला

पाचन -- पकाना, पशु हाँकने की छड़ी

पाचरिय -- प्राचार्य

पाचापेति -- पकवाता है [पाचापेसि, पाचापित, पाचापेत्वा]

पाचिका -- पकाने वाली

पाचित्तिय -- विनयपिटक का एक ग्रन्थ

पाचीन -- पूर्वीय

पाचीन-दिसा -- पूर्व दिशा

पाचीन-मुखा -- पूर्व दिशाभिमुख

पाचेति -- पकवाता है

पाजन -- हाँकना

पाजेति -- हाँकता है [पाजेसि, पाजित, पाजेन्त, पाजेत्वा, पाजापेति]

पाटल -- गुलाब, गुलाबी

पाटलिपुत्त -- मगध की प्राचीन राजधानी [पटना]

पाटली -- वृक्ष-विशेष

पाटव -- पटु-भाव, दक्षता

पाटिकङ्ख -- आशान्वित

पाटिकङ्खी -- आशा करनेवाला

पाटिकम्म -- [फाटिकम्म भी], प्रतिकर्म, मरम्मत

पाटिका -- अर्धगोलाकार चान्द्रप्रस्तर

पाटिकूल्य -- प्रतिकूलता

पाटिपद -- प्रतिपद, चान्द्र मास के शुक्‍ल-पक्ष का प्रथम दिन

पाटिभोग -- जिम्मेदार

पाटिमोक्ख[पातिमोक्ख भी] -- भिक्षु-विनय के दो सौ सत्ताईस नियमों का संग्रह

पाटियेक्‍क -- प्रत्येक, पृथक्-पृथ

पाटिहार -- करिश्मा [पाटिहीर, पाटिहेर, पाटिहारिय भी]

पाटिहारिय-पक्ख -- अतिरिक्त छुट्टी

पाटेक्‍क -- देखो पाटियेक्‍क

पाठ -- ग्रन्थ-विशेष का अनुच्छेद, पाठ

पाठक -- पाठ करने वाला

पाठीन -- मछली का एक प्रकार

पाण -- जीवन, साँस, प्राणी

पाण-घात -- प्राणि-हत्या

पाण-घाती -- जीव हत्या करने वाला

पाणद -- प्राण-रक्षक

पाण-भूत -- जीवित प्राणी

पाण-वध -- जीव-हत्या

पाण-सम -- प्राण के समान [प्रिय]

पाण-हर -- प्राण हरण करने वाला

पाणक -- कीड़ा

पाणि -- हाथ, हथेली

पाणि-तल -- हाथ की हथेली

पाणिग्गह -- पाणि-ग्रहण, विवाह

पाणिका -- हाथ जैसी वस्तु तौलिया

पाणी -- प्राणी

पातु -- गिरना, फेंकना

पातन -- गिराना, फेंकना

पातब्ब -- पीने योग्य

पातरास -- कलेवा, सुबह का नाश्ता, ब्रेकफास्ट

पाताल -- पाताल[-लोक], पृथ्वी के नीचे का भाग

पाति -- पात्र, थाली, रक्षा करता है

पातिक -- तश्तरी

पातिमोक्ख -- देखो पाटिमोक्ख

पाती -- फेंकने वाला, छोड़ने वाला

पातु -- सामने, दिखाई देने वाला, प्रकट

पातुकम्म -- प्रकट करना

पातुकरण -- प्रकट करना

पातुभाव -- प्रादुभर्वि, प्रकट होना

पातुभूत -- प्रकट हुआ

पातुकम्यता -- पीने की इच्छा

पातुकरोति -- प्रकट करता है

पातुकरि -- प्रकट किया

पातुकत -- प्रकट हुआ

पातुकरित्वा -- प्रकट करके

पातुकत्वा -- प्रकट करके

पातुकाम -- पीने की इच्छा वाला

पातुभवति -- प्रादुर्भूत होता है, प्रकट होता है [पातुभवि, पातुभूत, पातुभवित्वा]

पातुरहोसि -- प्रादुर्भूत हुआ

पातुं -- पीने के लिए

पातेति -- गिराता है, फेंकता है, हत्या करता है [पातेसि, पातित, पातेत्वा]

पातो -- प्रात, काल

पातोव -- सुबह, सवेरे, तड़के

पाथेय्य -- रास्ते के लिए खुराकी

पाद -- पाँव, टाँग, किसी लम्बाई का चौथा हिस्सा, किसी छन्द की चार पंक्तियों में से एक

पादक -- आधार-सहित, नींव वाला

पादकज्झान -- साधार ध्यानभावना

पाद-कठलिका -- पाँव रगड़ने के लिए लकड़ी का टुकड़ा

पादङ्गुंट्ठ -- अँगूठा

पादङ्गुलि -- पंजा

पादट्ठिक -- टाँग की हड्डी

पाद-तल -- पाँव का तल्‍ला

पाद-परिचारिका -- पत्नी

पाद-पीठ -- पाँव रखने की चौकी

पाद-पुंछन -- पाँव पोंछने का कपड़ा

पाद-मूले -- चरणों में

पाद-मूलिक -- नौकर

पाद-लोल -- घूमने-फिरने का इच्छुक

पाद-सम्बाहन -- पैरों का दबाना, पैरों की मालिश

पादञ्‍जलि-जातक -- राजा का पादञ्‍जलि नामक आवारागर्द पुत्र नरेश नहीं बन सका

पादप -- वृक्ष

पादासि -- [उसने] दिया

पादुका -- खड़ाऊँ

पादूदर -- साँप

पादोदक -- पाँव धोने का जल

पान -- पीना, पेय पदार्थ

पानक -- पेय पदार्थ

पान-मण्डल -- सुरापान करने का स्थान

पानागार -- शराबखाना

पानीय -- पानी, पेय पदार्थ

पानीय-घट -- पानी का घड़ा

पानीय-चाटी -- पानी की चाटी

पानीय-थालिका -- पीने का प्याला

पानीय-भाजन -- पीने का बर्तन

पानीय-मालक -- प्याऊ

पानीय-साला -- प्याऊ

पानीय-जातक -- अपना पानी बचाकर दूसरे का पानी पीने की कथा

पाप -- अकुशल-कर्म, बुरा

पाप-कम्म -- अपराध, पाप-कर्म

पाप-कम्मन्त -- पापी

पापकर -- [पापकारी भी], पापी

पाप-करण -- दुष्कर्म करना

पाप-धम्म -- पापी

पाप-मित्त -- बुरा दोस्त

पाप-मित्तता -- कुसंगति

पाप-सङ्कप्प -- बुरे विचार

पाप-सुपिन -- बुरा सपना

पापक -- पापी

पापणिक -- दुकानदार

पापिका -- पापिन

पापित -- जिसने बुरा किया हो, पहुँचा हुआ

पापिमन्तु -- पाप करने वाला

पापियो -- [तुलनात्मक] उससे बड़ा पापी

पापुणन -- प्राप्ति, पहुँच

पापुणाति -- पहुँचता है [पापुणि, पापुणन्त, पापुणित्वा, [पत्वा], पापुणितुं, पत्तुं]

पापुरण -- ओढ़ना, कम्बल

पापुरति -- लपेटता है, ओढ़ता है

पापेति -- पहुँचाता है, प्राप्त कराता है [पापेसि, पापित, पापेन्त, पापेत्वा]

पाभत -- भेंट

पाम -- खाज, खुजली

पामङ्ग -- छाती पर बाँधने की पट्टी

पामुज्‍ज -- प्रसन्‍नता, आनन्द

पामेति -- तुलना करता है

पामोक्ख -- प्रमुख, नेता, नायक

पामोज्‍ज -- देखो पामुज्‍ज

पाय -- [समास में] भरा हुआ, प्रायः

पायक -- चूसने वाला या पीने वाला

पायाति -- चल देता है [पायासि]

पायास -- दूध की खीर

पायित -- पिया गया

पायी -- पीने वाला

पायु -- गुदा

पायेति -- चुसवाता है, पिलाता है [पायेसि, पायित, पायेन्त, पायमान, पायेत्वा]

पायेन -- प्राय

पार -- [नदी के] पार, दूसरा तट

पार-गत -- पार पहुँचा हुआ

पार-गवेसी -- उस पार जाने का इच्छुक

पार-गामी -- उस पार जाने वाला

पारगू -- उस पार पहुँचा हुआ [पारङ्गत, पारपत्त]

पारलोकिक -- परलोक सम्बन्धी

पारद -- पारा

पारदारिक -- पराई स्त्री के पास जाने वाला

पारमिता -- सम्पूर्णता, गुणों की पराकाष्ठा [पारमी]

पारम्परिय -- परम्परा

पारं -- पार, उस पार, आगे

पाराजिक -- भिक्षुआें द्वारा किये जा सकने वाले चार प्रधान दोषों में से किसी एक का दोषी; [नाम] विनय-पिटक के सुत्तविभंग के दो भागों में से पहला भाग

पारापत -- कबूतर [पारावत भी]

पारायण -- अन्तिम उद्देश्य, प्रधान उद्देश्य [पारायन]

पारिचरिया -- सेवा-सुश्रूषा

पारिच्छत्तक -- त्रयोत्रिंश देव-लोक के नन्दन वन में उगा हुआ वृक्ष, मूँगे का पेड़

पारिजातक -- पारिच्छत्तक

पारिपन्थिक -- खतरनाक, बटमार

पारिपूरि -- पूर्ति, सम्पूर्णता

पारिम -- उधर, आगे, और आगे

पारिभोगिक -- उपयोग में लाने योग्य, उपयोग में लाया हुआ

पारिलेय्य -- कोसम्बी के समीप का वन या कोई छोटा नगर [पारिलेय्यक]

पारिवट्टक -- अदला-बदली किया गया

पारिसज्‍ज -- परिषद् का सदस्य

पारिसुद्धि -- पवित्रता

पारिसुद्धि-सील -- जीविका के साधनों की शुद्धि

पारुत -- ओढ़ा हुआ

पारुपति -- ओढ़ता है, पहनता है [पारुपि, पारुपित्वा, पारुपन्त]

पारुपन -- वस्त्र, चीवर

पारेवत -- देखो पारापत, पारावत

पारोह -- वट-वृक्ष की भाँति किसी पेड़ की शाखा से लटकने वाली दाढ़ी

पाल -- पालक, संरक्षक

पालक -- पालने वाला, संरक्षक

पालन -- संरक्षण

पालना -- आरक्षा, सुरक्षा

पालि -- पंक्ति, बौद्ध तिपिटक अथवा तिपिटक की भाषा [पाली, पाळि, पाळी]

पालिच्‍च -- सिर के बालों की सफेदी

पालेति -- पालन करता है [पालेसि, पालेन्त, पालित, पालेतब्ब, पालेत्वा, पालेतुं]

पालेतु -- पालने वाला, संरक्षक

पावक -- अग्नि

पावचन -- प्रवचन, बुद्धोपदेश

पावळ -- नितम्ब, चूतड़

पावस्सि -- बरसा

पावा -- मल्‍लों का एक नगर, जहाँ भगवान बुद्ध अपने जीवन के अन्तिम दिनों में गये थे

पावार -- चोगा

पावारिक -- चोगा बेचने वाला

पावुस -- वर्षा ऋतु, मछली-विशेष

पावुस्सक -- वर्षा-ऋतु सम्बन्धी

पास -- पाश, ढेलवाँस, जाल, बटन का छेद

पासक -- पासा

पासण्ड -- मिथ्या-द्दष्टि

पासण्डिक -- मिथ्या-द्दष्टि वाला, पाखण्डी

पासाण -- पत्थर, चट्टान

पासाण-गुळ -- पत्थर की गोली

पासाण-चेतिय -- पत्थर का देवालय या चैत्य

पासाण-पिट्ठि -- चट्टान का ऊपरी तल

पासाण-फलक -- पाषाण-फलक

पासाण-लेखा -- चट्टान पर उत्कीर्ण लेख

पासाद -- प्रासाद, महल

पासाद-तल -- महल का ऊपरी तल्‍ला

पासादिक -- प्रियकर, अच्छा लगने वाला

पाहुण -- अतिथि, अतिथि-भोजन, भेंट

पाहुणेय्य -- आतिथ्य करने के योग्य

पाहेति -- भिजवाता है [पाहेसि]

पि -- अपि, भी

पिक -- कोयल

पिङ्गल -- ताम्र-वर्ण

पिङ्गल-नेत्त -- पिंगल-वर्ण नेत्रों वाला

पिङ्गल-पक्खिका -- गोमक्खी

पिचु -- कपास

पिचु-पटल -- कपास की तह

पिच्छ -- मोर का पिछला पंख

पिच्छिल -- फिसलने वाला

पिञ्‍ज -- पक्षियों का पिछला भाग

पिञ्‍जर -- रक्त वर्ण

पिञ्‍ञाक -- खली

पिटक -- पिटारी, पालि तिपिटक में से कोई एक पिटक, तीन पिटक हैं– [1] सुत्तपिटक, [2] विनयपिटक, [3] अभिधम्मपिटक

पिटक-धर -- जिसे समस्त पिटक कण्ठस्थ हो

पिट्ठ -- पीठ, पीछे का हिस्सा, आटा

पिट्ठ-खादनिय -- आटे की मिठाई

पिट्ठ-धीतलिका -- आटे की गुड़िया

पिट्ठ-पिण्डी -- आटे की पिण्डी

पिट्ठि -- पीठ

पिट्ठि-कण्टक -- रीढ़ की हड्डी

पिट्ठि-गत -- किसी पशु या अन्य किसी की पीठ पर चढ़ना

पिट्ठि-पस्स -- पिछला हिस्सा

पिट्ठि-पासाण -- चौड़ी चट्टान

पिट्ठि-मंसिक -- चुगली खाने वाला

पिट्ठि-वंस -- पीठ की हड्डी, इमारत की कोई शहतीर

पिठर -- मिट्टी का बड़ा मटका

पिण्ड -- आहार-पिण्ड

पिण्ड-चारिका -- भिक्षाटन करने वाला

पिण्ड-दायक -- भिक्षा देने वाला

पिण्ड-पात -- भिक्षाटन, भिक्षादान

पिण्ड-पातिक -- भिक्षाटन करनेवाला या मात्र भिक्षाटन से प्राप्त भोजन ग्रहण करने वाला

पिण्डाचार -- भिक्षाटन

पिण्डक -- भिक्षा में मिला आहार

पिण्डाय -- [चतुर्थी विभक्ति], भिक्षाटन के लिए

पिण्डि -- गुच्छा

पिण्डिक-मंस -- नितम्ब, चूतड़

पिण्डित -- पिण्डी-कृत

पिण्डियालोप-भोजन -- भिक्षाटन से प्राप्त भोजन

पिण्डेति -- पिण्ड बनाता है [पिण्डेसि, पिण्डेत्वा]

पिण्डोल-भारद्वाज -- कोसम्बी के राजा उदेन के पुरोहित का पुत्र। वह भारद्वाज-गोत्रीय था

पिण्डोल्य -- भिक्षाटन

पितामह -- पितामह, दादा

पितिक -- जिसका पिता हो

पिति-पक्ख -- पिता की ओर से

पितु -- पिता

पितु-किच्‍च -- पिता का कर्तव्य

पितु-घात -- पितृ-हत्या

पितु-सन्तक -- पिता की सम्पत्ति

पितुच्छा -- पिता की बहन, बुआ, फूफी

पितुच्छा-पुत्त -- फूफी का लड़का

पित्त -- पित्त [वात, पित्त, कफ में से]

पित्ताधिक -- जिसमें पित्त का आधिक्य हो

पिथीयति -- बन्द किया जाता है, छिपा दिया जाता है [पिथीयि, पिथीयित्वा]

पिदहति -- बन्द करता है, ढकता है [पिदहि, पिदहित, पिहित, पिदहित्वा, पिधाय]

पिदहन -- बन्द करना, ढकना

पिधान -- ढक्‍कन

पिनास -- जुकाम

पिपासा -- प्यास

पिपासित -- प्यासा

पिपिल्‍लिका -- [पिपीलिका भी], चींटी

पिप्फलक -- कैंची

पिप्फली -- पिप्पली

पिबति -- पीता है [पिबि, पीत, पिबन्त, पिबमान, पिबित्वा, पातुं, पिबितुं]

पिय -- प्रिय, प्यारा, पति, प्यारी वस्तु

पियकम्यता -- प्रिय वस्तुआें की या स्वयं प्रिय बनने की इच्छा

पियतर -- प्रियतर

पियतम -- प्रियतम, सर्वाधिक प्रिय

पिय-दस्सन -- प्रिय-दर्शन, देखने में प्यारा

पिय-रूप -- प्रिय रूप, आकर्षक रूप

पिय-वचन -- प्रिय वचन, मीठी बोली, मीठी बोली बोलने वाला

पिय-भाणी -- मधुर वचन भाषी

पियवादी -- मीठा बोलने वाला

पियविप्पयोग -- प्रिय से विप्रयोग या विछोह

पियङ्गु -- दवाई में काम आने वाला पौधा-विशेष

पियता -- प्रिय भाव

पिया -- पत्नी

पियापाय -- प्रिय-विप्रयोग, प्रिय से बिछुड़ना

पियायति -- प्रेम करता है [पियायि, पियायित, पियायन्त, पियायमान, पियायित्वा]

पियायना -- प्रेम करना

पिलक्ख -- अंजीर का पेड़

पिलन्धति -- सजता है, सजाता है [पिलन्धि, पिलन्धित, पिलन्धिय, पिलन्धित्वा]

पिलन्धन -- गहना

पिलवति -- [प्‍लवति भी], तैरता है [प्‍लवि, प्‍लवित, प्‍लवित्वा]

पिलोतिका -- चीथड़ा, फटा-पुराना कपड़ा

पिल्‍लक -- [कुत्ते का] पिल्‍ला

पिवति -- देखो पिबति

पिवन -- पीना

पिसति -- पीसता है [पिसि, पिसित, पिसित्वा]

पिसन -- [पिंसन भी], पीसना

पिसाच -- पिसाचक, [भूत-]पिशाच

पिसित -- मांस

पिसुण -- चुगली, चुगली खाने वाला

पिसुणावाचा -- चुगल-खोरी

पिहक -- प्‍लीहा

पिहयति -- स्पृहा करता है, इच्छा करता है, प्रयत्न करता है [पिहयि, पिहायित]

पिहायना -- प्रिय करना

पिहालु -- ईर्षालु

पिहित -- ढका हुआ

पिंसति -- देखो पिसति

पीठ -- आसन

पीठक -- बैठने का पीढ़ा या आसन

पीठ जातक -- एक तपस्वी एक दानी व्यापारी के घर भिक्षार्थ गया। कोई घर पर नहीं था। उसे खाली हाथ लौट आना पड़ा

पीठसप्पी -- लूला-लंगड़ा

पीठिका -- बैठने का पीढ़ा या आसन

पीणन -- संतोष

पीणेति -- प्रसन्‍न करता है, संतुष्ट करता है [पीणेसि, पीणित, पीणेत्वा, पीणेन्त]

पीत -- पिया हुआ, पीत-वर्ण, पीला रंग

पीतक -- पीत-वर्ण

पीतन -- पीला रंग

पीति -- प्रसन्‍नता, आनन्द

पीति-पामोज्‍ज -- प्रसन्‍नता तथा आनन्द

पीति-भक्ख -- प्रीति ही आहार हो जिसका

पीति-मन -- प्रसन्‍न-चित्त

पीति-रस -- प्रीति-रस

पीति-सम्बोज्झङ्ग -- सम्बोधि का ‘प्रीति’ अङ्ग

पीति-सहगत -- प्रीति-सहित

पीण -- मोटा, फूला हुआ

पीळक -- पीड़ा देने वाला, फोड़ा-फुंसी, फफोला

पीळन -- पीड़ित करना

पीळा -- पीड़ा

पीळेति -- पीड़ित करता है [पीळेसि, पीळित, पीळेत्वा]

पुक्‍कस [पुक्‍कुस भी] -- एक निम्न जाति जिसके बारे में कहा गया है कि वे कूड़ा या मैला साफ करते थे

पुग्गल -- पुदगल, व्यक्ति

पुग्गल-पञ्‍ञत्ति -- पुदगलों का वर्गीकरण, [नाम] अभिधम्मपिटक के सात प्रकरणों में से चौथा प्रकरण

पुग्गलिक -- व्यक्तिगत

पुङ्ख -- तीर का पंख वाला हिस्सा

पुङ्गव -- वृषभ, श्रेष्ठ पुरुष

पुचिमन्द -- नीम का वृक्ष

पुचिमन्द-जातक -- नीम के वृक्ष पर रहने वाले वृक्ष देवता ने लूट का माल लाये चोरों को भगा दिया

पुच्‍चण्ड -- सड़ा हुआ अण्डा

पुच्छ -- पूँछ

पुच्छक -- प्रश्न पूछने वाला

पुच्छति -- प्रश्न पूछता है [पुच्छि, पुट्ठ, पुच्छित, पुच्छन्त, पुच्छित्वा, पुच्छितब्ब, पुच्छित]

पुच्छन -- पूछना

पुच्छा -- प्रश्न

पुज्‍ज -- पूज्य, गौरवार्ह

पुञ्छति -- पोंछता है, साफ कर देता है [पुञ्छि, पुञ्छित, पुञ्छित्वा, पुञ्छन्त, पुञ्छमान]

पुञ्छन -- पोंछने का वस्त्र, तौलिया

पुञ्छनी -- पोंछने का वस्त्र, तौलिया

पुञ्‍ज -- ढेर

पुञ्‍जकत -- ढेर लगा हुआ

पुञ्‍ञ -- पुण्य

पुञ्‍ञ-कम्म -- पुण्य-कर्म

पुञ्‍ञ-काम -- पुण्य चाहने वाला

पुञ्‍ञ-किरिया -- पुण्य क्रिया

पुञ्‍ञक्खन्ध -- पुण्य-स्कन्ध, पुण्य का ढेर

पुञ्‍ञक्खय -- पुण्य का क्षय, पुण्य की हानि

पुञ्‍ञपेक्ख -- पुण्य की अपेक्षा रखने वाला

पुञ्‍ञ-फल -- पुण्य का फल

पुञ्‍ञ-भाग -- पुण्य का हिस्सा

पुञ्‍ञ-भागी -- पुण्य का हिस्सेदार

पुञ्‍ञवन्तु -- पुण्यवान

पुञ्‍ञानुभाव -- पुण्य का प्रताप

पुञ्‍ञाभिसन्द -- पुण्यों का राशीकरण

पुट -- [पत्तों का] दोना

पुट-बद्ध -- दोने में बँधा हुआ

पुट-भत्त -- भात का दोना, रास्ते के लिए खाने का पैकेट

पुट-भेदन -- दोनों का खोलना

पुटक -- पत्तों का दोना

पुट दूसक जातक -- पत्तों के दोनों को नष्ट करने वाले बन्दर की कथा

पुट-भत्त जातक -- राजकुमार ने भात के दोने में से अपनी भार्या को भात नहीं दिया

पुट्ठ -- पूछा गया

पुणाति -- शुद्ध करता है, साफ करता है [पुणि, पुणित्वा]

पुण्डरीक -- श्वेत कमल

पुण्ण -- सम्पूर्ण

पुण्ण-घट -- पूर्ण-घट

पुण्ण-चन्द -- पूर्ण चन्द

पुण्ण-पत्त -- पूर्ण-पात्र [भेंट]

पुण्णमासी -- पूर्णिमा

पुण्ण नदी जातक -- राजा ने पुरोहित को पत्ते पर पत्र लिखकर वापिस बुला भेजा

पुण्ण पाति जातक -- शराब के घड़ों के भरे रहने की कथा

पुण्णता -- पूर्णता

पुण्णमी -- पूर्णिमा

पुत्त -- पुत्र, बेटा

पुत्तक -- छोटा बेटा

पुत्त-दार -- पुत्र तथा पत्नी

पुत्त-धीतु -- बेटा-बेटी

पुत्तिम -- पुत्रवाला

पुत्तिय -- पुत्रवाला

पुथु -- पृथक-पृथक, व्यक्तिगत, दूर-दूर

पुथुज्‍जन -- सामान्य अशिक्षित आदमी

पुथु-भूत -- सर्वत्र फैला हुआ

पुथु-लोम -- मछली-विशेष

पुथुक -- चिड्डा, 2. जानवर का बच्‍चा

पुथुल -- पृथुल, चौड़ा, विशाल

पुथुवी -- पृथ्वी

पुथुसो -- उल्टी तरह से, अलगअलग

पुन -- फिर

पुन-दिवस -- अगले दिन

पुनप्पुनं -- फिर-फिर

पुनब्भव -- पुनर्जन्म

पुनवचन -- दोहराना

पुनरुत्ति -- पुनरुक्ति

पुनागमन -- फिर आना

पुनाति -- देखो पुणाति

पुनेति -- पुन, आता है

पुन्‍नाग -- जायफल का पेड़

पुप्फ -- पुष्प, मासिक धर्म

पुप्फ-गच्छ -- फूलने वाला पौधा

पुप्फ-गन्ध -- फूलों की सुगन्धि

पुप्फ-चुम्बटक -- फूलों का गुच्छा

पुप्फ-छड्डक -- कुम्हलाये फूलों को फेंकने वाला, पाखाना साफ करने वाला

पुप्फ-दाम -- फूलों की माला

पुप्फ-धर -- फूलदार

पुप्फ-पट -- बेल-बूटेदार कपड़ा

पुप्फ-मुट्ठि -- फूलों की मूठी

पुप्फ-रासि -- फूलों का ढेर

पुप्फवती -- पुष्पवती, मासिक धर्म वाली स्त्री

पुप्फरत्त जातक -- स्वामी ने स्त्री की इच्छा पूरी करने के लिए राजा के केसर-बाग में से केसर चुराने का प्रयत्न किया। वह पकड़ा गया

पुप्फति -- पुष्पित होता है, फूलता है [पुप्फि, पुप्फित्वा, पुप्फित]

पुब्ब -- पीप [जख्म में पड़ने वाली], पहला, पूर्व दिशा का [गत-पुब्ब, गुजर गया]

पुब्बन्त -- अतीत-काल, पूर्व का सिरा

पुब्ब-कम्म -- पूर्व-जन्म का कर्म

पुब्ब-किच्‍च -- पूर्व-कृत्य

पुब्बङ्गम -- पूर्व गामी

पुब्ब-चरित -- पूर्व-चरित-[जीवन]

पुब्ब-देव -- प्राचीन देवता-गण

पुब्ब-निमित्त -- पूर्व लक्षण

पुब्ब-पुरिस -- पूर्व-पुरुष

पुब्ब-पेत -- पूर्व-प्रेत

पुब्बङ्ग -- पहला हिस्सा

पुब्ब-योग -- पूर्व-सम्बन्ध

पुब्ब-विदेह -- पूर्वीय महाद्वीप का नाम

पुब्बण्ह -- पूर्वाह्न, दोपहर से पहले

पुब्बन्‍न -- चावल%गेहूँ आदि सात प्रकार के धान

पुब्बा -- पूर्व

पुब्बाचरिय -- पूर्वाचार्य

पुब्बापर -- पहले का और बाद का

पुब्बाराम -- श्रावस्ती के पूर्व की ओर स्थित उद्यान, अनाथपिण्डिक के घर पर भोजन कर चुकने के अनन्तर भगवान् बुद्ध इसी उद्यान में विश्राम करते थे

पुब्बुट्ठायी -- किसी दूसरे से पहले उठने वाला

पुब्बे -- पहले, पूर्व-काल में

पुब्बेकत -- पूर्व-कृत, पिछले जन्म में किये कर्म

पुब्बे-निवास -- पूर्व-जन्म

पुब्बेनिवास-ञाण -- पूर्वजन्म का ज्ञान

पुब्बेनिवासानुस्सति -- पूर्व-जन्म की स्मृति

पुम -- पुरुष

पुर -- नगर या शहर

पुरक्खत -- पुरस्कृत, सम्मानित

पुरक्खरोति -- पुरस्कृत करता है, सम्मानित करता है [पुरक्खरि, पुरक्खत, पुरक्खत्वा]

पुरतो -- सामने

पुरत्था -- पूर्व-दिशा

पुरत्थाभिमुख -- पूर्वाभिमुख

पुरत्थिम -- पूर्व की [दिशा]

पुरा -- पूर्व का

पुराण -- प्राचीन

पुराण-दुतियिका -- जो पहले पत्नी रही हो [खास कर किसी भिक्षु की]

पुराण-सालोहित -- पूर्व का रक्तसम्बन्धी

पुरातन -- प्राचीन

पुरिन्दद -- इन्द्र

पुरिम -- पूर्व का, पहला

पुरिम जाति -- पूर्व-जन्म

पुरिमत्तभाव -- पूर्व-जन्म

पुरिमतर -- पूर्वतर

पुरिस -- पुरुष, आदमी

पुरिसकार -- पुरुषत्व

पुरिस-थाम -- पुरुष सामर्थ्य

पुरिस-दम्म -- शैक्ष मनुष्य

पुरिस-दम्म-सारथी -- शैक्ष मनुष्यों का सारथी, बुद्ध

पुरिस-परक्‍कम -- पुरुष-पराक्रम

पुरिस-मेध -- मनुष्य-बलि

पुरिस-लिङ्ग -- पुरिस व्यञ्‍जन

पुरिस-व्यञ्‍जन -- पुरुष-लिंग

पुरिसाजञ्‍ञ -- श्रेष्ठ आदमी

पुरिसादक -- आदम-खोर

पुरिसाधम -- अधम पुरुष, नीच आदमी

पुरिसिन्द्रिय -- पुरुष-भाव

पुरिसुत्तम -- श्रेष्ठतम मनुष्य

पुरे -- पूर्व, पूर्वतर

पुरेचारिक -- आगे-आगे चलने वाला

पुरेजव -- आगे-आगे दौड़ने वाला

पुरेतरं -- अन्य सबसे आगे या पहले

पुरेभत्त -- सवेरे का नाश्ता, कलेवा

पुरेक्खार -- पुरस्कार [आगे बढ़ाना], आदर करना, भक्ति करना

पुरेजात -- पूर्वोत्पन्‍न

पुरोगामी -- आगे चलनेवाला

पुरोहित -- पुरोहित

पुलवक -- कीड़ा

पुलिन -- बालू, बालू-सहित किनारा

पूग -- [पेशों की] परिषद्, ढेर

पूग-रुक्ख -- सुपारी का पेड़

पूजना -- पूजा, भक्ति-पूर्ण भेंट

पूजनेय्य -- पूजा के योग्य

पूजिय -- पूज्य

पूजियमान -- पूजा किया जाता हुआ

पूजित -- गौरवान्वित

पूजेति -- पूजा करता है [पूजेसि, पूजेन्त, पूजियमान, पूजेत्वा, पूजेतुं]

पूति -- सड़ा हुआ, दुर्गन्ध-युक्त

पूति-काय -- गन्दा शरीर

पूति-गन्ध -- गन्दगी

पूति-मच्छ -- सड़ी मछली

पूति-मुख -- दुर्गन्धयुक्त मुँह वाला

पूति-मुत्त -- गो-मूत्र

पूति-लता -- लता-विशेष

पूतिक -- सड़ा हुआ

पूतिमंस जातक -- पूतिमंस श्रृगाल ने बकरियों को मार खाने की साजिश की

पूप -- पूआ

पूपिय -- पूए बेचने वाला

पूय -- पीप

पूर -- पूर्ण

पूरक -- पूर्ति करनेवाला

पूरापेति -- पूर्ण करता है [पूरापेसि, पूरापित, पूरापेत्वा]

पूरेति -- पूर्ति करता है [पूरेसि, पूरित, पूरेन्त, पूरेत्वा, पूरेतुं]

पूव -- पुआ

पूविक -- पूए बेचने वाला

पेक्खक -- देखने वाला

पेक्खण -- दृश्य देखना

पेक्खति -- देखता है [पेक्खि, पेक्खित, पेक्खित्वा, पेक्खमान]

पेखुण -- मोर का पिछला पंख

पेच्‍च -- मरणान्तर

पेटक -- टोकरी, पिटारी, पिटक सम्बन्धी

पेत -- मृत, भूत-प्रेत

पेत-किच्‍च -- अन्त्येष्टि

पेत-योनि -- प्रेत-योनि

पेत-लोक -- प्रेत-लोक

पेत-वत्थु -- प्रेत-कथा, खुद्दक निकाय का सातवाँ ग्रन्थ जो प्रेत-लोक की कथाआें से समन्धित है

पेत्तिक -- पैतृक

पेत्तणिक -- पिता की सम्पत्ति पर जीने वाला

पेत्ति-विसय -- पितर-लोक

पेत्तेय्य -- पिता का सम्मान करने वाला

पेत्तेय्यता -- पितृ-भक्ति

पेम -- प्रेम

पेमनीय -- प्रेम-पात्र

पेय्य -- पीने योग्य, पेय पदार्थ

पेय्यवज्‍ज -- प्रिय वाणी

पेय्याल -- बीच में से वाक्यांश छोड़ दिये रहने का संकेत

पेलक -- खरगोश

पेलव -- कोमल, बारीक

पेसक -- प्रेषक, भेजने वाला

पेसकार -- बुनने वाला, बुनकर, जुलाहा

पेसन -- भेजना

पेसन-कारक -- नौकर

पेसन-कारिका -- नौकरानी

पेसल -- सदाचरण-युक्त

पेसि -- मांसपेशी [पेसिका भी]

पेसित -- प्रेषित, भेजा गया

पेसीयति -- भेजा जाता है [पेसियमान]

पेसुण -- चुगली खाना

पेसुण-कारक -- चुगलखोर

पेसुणिक -- चुगल-खोर, निन्दक

पेसुञ्‍ञ -- चुगली, निन्दा

पेसेति -- भेजता है [पेसेसि, पेसित, पेसेन्त, पेसेत्वा, पेसेतम्ब]

पेस्स -- नौकर अथवा दूत [पेस्सिय, पेस्सिक भी]

पेळा -- पेटी

पोक्खर -- कमल

पोक्खरता -- सौन्दर्य

पोक्खर-पत्त -- कमल-पत्र

पोक्खर-मधु -- कमल-मधु

पोक्खर-वस्स -- ओलों की वर्षा, पुष्प-वर्षा

पोक्खरणी -- तालाब

पोङ्ख -- देखो पुङ्ख

पोटगल -- काश तृण

पोट्ठपाद -- आश्विन मास; [नाम], भगवान बुद्ध के साथ ‘आत्मा’ को लेकर प्रश्न पूछने वाला परिब्राजक

पोठन -- पीटता है, चोट पहुँचाता है

पोठेति -- पीटता है, चोट पहुँचाता है, उँगलियाँ चटखाता है, [पोठेसि, पोठित, पोठेत्वा]

पोण -- झुका हुआ

पोत -- 1. जानवर का बच्‍चा, 2. कोंपल, 3. नौका

पोतक -- जानवर का बच्‍चा

पोतिका -- जानवर की बच्‍ची

पोतवाह -- नाविक

पोत्थक -- पुस्तक, चित्र का फलक

पोत्थनिका -- बर्छी

पोत्थलिका -- गुड़िया

पोत्थुज्‍जनिक -- सामान्य आदमी से सम्बन्धित

पोथियमान -- पिटता हुआ

पोथेति -- देखो पोठेति

पोनोभविक -- पुनर्भव का कारण

पोराण -- पुराना

पोराणक -- प्राचीन

पोरिस -- पुरुषत्व, पुरुष के लायक, पुरुष से सम्बन्धित

पोरिसाद -- आदम खोर

पोरी -- नागरिक, शहरी, शिष्ट

पोरोहिच्‍च -- पुरोहित-कर्म

पोस -- जिसका पोषण किया जाय

पोसक -- पोषण करनेवाला

पोसिका -- पोषण करनेवाली, दायी

पोसथ -- देखो उपोसथ

पोसथिक -- उपोसथ व्रत करने वाला

पोसन -- पोषण

पोसावनिक -- पालने-पोसने का खर्चा

पोसित -- पोषण किया गया, पाला गया

पोसेति -- पोसता है, पोषण करता है [पोसेसि, पोसेन्त, पोसेतब्ब, पोसेत्वा, पोसेतुं]

प्‍लव -- तैरना, डोंगी

प्‍लवन -- कूदना, तैरना

प्‍लवङ्गम -- बन्दर

फग्गव -- शाक का एक प्रकार

फग्गु -- निराहार रहने का समय

फग्गुण -- महीने का नाम, फाल्गुण, फागुन

फग्गुणी -- फाल्गुणी नक्षत्र

फण -- साँप का फन

फणक -- साँप के फन जैसा [फनक भी]

फणिज्‍जक -- जम्बीर विशेष

फणी -- सर्प [फनी भी]

फन्दति -- काँपता है, धड़कता है [फन्दि, फन्दित, फन्दमान, फन्दित्वा]

फन्दन -- स्पन्दन, हिलना-डुलना

फन्दना -- स्पन्दन

फन्दन जातक -- स्पन्दन वृक्ष के नीचे पड़े शेर पर स्पन्दन वृक्ष की शाखा टूट पड़ी, वह चोट खा गया

फन्दित -- स्पन्दित

फरण -- व्याप्ति

फरणक -- व्याप्त

फरति -- व्याप्त होता है, पूरा करता है [फरि, फरित, फरित्वा, फरन्त]

फरसु -- कुल्हाड़ी, फरसा

फरुस -- परुष, कठोर

फरुस-वचन -- कठोर वचन

फरुसा-वाचा -- कठोर वाणी

फल -- फल, परिणाम, चाकू आदि का फलक

फल-चित्त -- [स्रोतापत्ति-] मार्ग आदि का [स्रोतापत्ति-] फल

फलट्ठ -- फल-स्थित

फलत्थिक -- फलार्थी

फलदायी -- फल देनेवाला, लाभप्रद

फलरुह -- फलोत्पन्‍न

फलवन्तु -- फलदार

फलाफल -- नाना प्रकार के फल

फलासव -- फलों का आसव

फल-जातक -- जंगल में से गुजरते हुए सार्थवाह ने अपने कारवाँ को कहा कि बिना उसकी अनुमति के कोई भी किसी फल-फूल को न खाये

फलक -- तख्ता, ढाल

फलति -- फल देता है, फाड़ता है [फलि, फलित, फलित्वा, फलन्त]

फली -- फलदार वृक्ष

फलु -- सरकण्डे की गाँठ

फलु-बीज -- गाँठ

फस्स -- स्पर्श

फस्सेति -- स्पर्श करता है, प्राप्त करता है [फस्सेति, फस्सित, फस्सित्वा]

फळु -- बाँस आदि की गाँठ

फाटिकम्म -- देखो पाटिकम्म

फाणित -- सीरा

फाणित-पुट -- सीरे का दोना

फाति -- बढ़ना, समृद्धि, बढ़ोतरी

फारुसक -- फालसा [?]

फाल -- हल की फाल

फालक -- फाड़ने वाला या तोड़ने वाला

फालन -- फाड़ना

फालेति -- फाड़ता है, तोड़ता है [फालेसि, फालित, फालेन्त, फालित्वा, फालेतुं]

फासु -- आसानी, आराम, आरामदेह

फासुक -- सुखद, आसान

फासुका -- [फासुलिका भी], पसली

फिय -- चप्पु

फीत -- स्फीत, समृद्ध

फुट -- स्पृष्ट, व्याप्त

फुटन -- [पुटन भी], चीरना, फाड़ना

फुट्ठ -- स्पृष्ट

फुल्‍ल -- [फुल्‍लित], पूर्ण रूप से खिला हुआ

फुसति -- स्पर्श करता है, पहुँचता है, प्राप्त करता है[फुसि, फुसन्त, फुसमान, फुसित, फुट्ठ, फुसित्वा]

फुसन -- स्पर्श करना

फुसना -- स्पर्श करना

फुसित [फुसितक] -- बूँद, स्पर्श

फुसीयति -- स्पर्श किया जाता है

फुस्स -- पौष मास, नक्षत्र-विशेष, वर्णयुक्त, शकुन, शुभ मुहूर्त

फुस्स-रथ -- राज्य-रथ, राज्य का उत्तराधिकारी खोज निकालने के लिए छोड़ा गया रथ

फुस्स-राग -- पुष्प-राग, पुखराज

फेग्गु -- छाल

फेण -- झाग

फेण-पिण्ड -- झाग-पिण्ड

फेणुद्देहक -- झाग उठाता हुआ

फेणिल -- झाग देने वाला पौदा

फोट -- फफोला

फोटक -- फफोला

फोट्टब्ब -- स्पर्श का विषय

फोसित -- छिड़का हुआ

बक -- बगुला

बक जातक -- बगुले ने मछलियों को ठगा। अन्त में एक केकड़े ने उसकी जान ली

बक जातक -- बगुले की बगुला-भक्ति

बक-ब्रह्म जातक -- भगवान बुद्ध की बकब्रह्मा से भेंट

बज्झति -- बँधवाता है, पकड़वाता है

बत्तिंसति -- बत्तीस

बदर -- बेर

बदरमिस्स -- बेर-मिश्रित

बदरा -- कपास

बदरी -- बेर का पेड़

बदालता -- लता-विशेष

बद्ध -- बँधा हुआ, फँसा हुआ, दृढ़

बद्धञ्‍जलिक -- हाथ जोड़े हुए

बद्ध-राव -- पकड़े गये, या फँसे जानवर की चिल्‍लाहट

बद्ध-वेर -- दृढ़ वैर

बधिर -- बहरा

बन्ध -- बंधन, आसक्ति

बन्धति -- बाँधता है [बन्धि, बद्ध, बन्द्धन्त, बन्धित्वा, बन्धिय, बन्धितुं, बन्धितब्ब, बन्धनीय]

बन्धन -- बन्धन

बन्धन मोक्ख जातक -- राजा ने रानी का कुशल-समाचार जानने के लिए युद्ध-भूमि से दूत भेजे। रानी ने सभी दूतों के साथ सहवास किया

बन्धनागार -- जेलखाना

बन्धनागार जातक -- दो बच्‍चों की माता को छोड़ पति तपस्या करने चला गया

बन्धनागारिक -- कैदी

बन्धव -- सगा-सम्बन्धी, भाई-बन्द

बन्धापेति -- बँधवाता है [बन्धापेसि, बन्धापित]

बन्धु -- देखो बन्धव

बन्धु-जीवक -- पौधा विशेष

बन्धुमन्तु -- रिश्तेदारों वाला

बन्धुल -- कुसी नगर के मल्‍लों के सेनापति का पुत्र

बप्प -- आँसू

बब्बज -- बब्बढ़ तृण

बब्बु, बब्बुक -- बिलार, बिल्‍ली

बब्बु जातक -- धन की लोभी पत्नी मर कर चुहिया बनी

बरिह -- मोर का पिछला पंख

बरिहिस -- कुश घास

बल -- शक्ति, सैनिक शक्ति

बलक्‍कार -- जबर्दस्ती

बलट्ठ -- सैनिक [बलत्थ भी]

बल-न्यास -- सेना की कतार

बलाका -- सारस

बलि -- बलि, भूमि-कर

बलिकम्म -- बलि, आहुति

बलि-पटिग्गाहक -- आहुति ग्रहण करने वाला

बलि-पुट्ठ -- कौवा

बलिवद्द -- वृषभ, बैल

बलि-हरण -- कर [टैक्स] उगाहना

बली -- शक्तिशाली

बळिस -- मछली पकड़ने का काँटा

बव्हाबाध -- रोग-बहुल

बहल -- मोटा, गहरा

बहलत्त -- मोटापन, गहराई

बहि -- बाह्य, बाहर

बहिगत -- बाहर गया

बहि-नगर -- नगर के बाहर या बाहर का नगर

बहि-निक्खमन -- अभिनिष्क्रमण, बाहर जाना

बहिद्धा -- बाहर

बहु -- बहुत, अनेक

बहुक -- अनेक

बहुकरणीय -- बहुकृत्य

बहुकार -- बहुत उपयोगी

बहुक्खत्तुं -- अनेक बार

बहु-जन -- अनेक जन

बहु-जागर -- बहुत जागृत

बहु-धन -- धनी

बहु-पद -- अनेक पैरों वाला

बहु-बीहि -- बहुब्रीहि समास

बहु-भण्ड -- बहुत सामान वाला

बहु-भाणी -- बहुत बोलने वाला

बहु-भाव -- विपुलता

बहु-मत -- बहु-मान्य

बहु-मान -- सम्मान

बहुमानन -- सम्मान, गौरव

बहुमानित -- सम्मानित

बहु-वचन -- अनेक वचन

बहु-विध -- अनेक प्रकार का

बहुस्सुत -- बहु-श्रुत, पण्डित

बहुत्त -- बहुत्व

बहुधा -- नाना प्रकार से

बहुल -- विपुल

बहुलता -- विपुलता

बहुलत्व -- बहुत्व

बहुलीकत -- अभ्यस्त, प्रायः करके

बहुलीकरण -- लगातार अभ्यास

बहुलीकम्म -- सतत अभ्यास

बहुलीकार -- निरन्तर अभ्यास

बहुलीकरोति -- बढ़ाता है [बहुलीकरि, बहुलीकत]

बहुसो -- अधिक करके, प्रायः

बहूपकार -- बहुत उपकार करने वाला

बाकुची -- सोमराजी वृक्ष

बाण -- बाण, तीर

बाणधि -- तूणीर

बाधक -- रोकने वाला

बाधकत्त -- बाधकत्व

बाधति -- बाधक होता है [बाधि, बाधित, बाधित्वा]

बाधन -- बाधा, रुकावट

बाधा -- रुकावट

बाधित -- बाधा-युक्त

बाधेति -- बाधा डालता है, दबाता है [बाधेसि, बाधेन्त, बाधेत्वा]

बारस -- बारह

बाराणसी -- वाराणसी, काशी जनपद की राजधानी

बाराणसेय्यक -- वाराणसी का वासी, वाराणसी-निर्मित

बाल -- आयु में कम, अज्ञानी, अबोध, बच्‍चा, मूर्ख

बालक -- बच्‍चा

बालता -- मूर्खता

बाला -- लड़की

बालिका -- बालिका

बालिसिक -- मछुआ

बाल्य -- बचपन, मूर्खता

बावीसति -- बाईस

बावेरू जातक -- वाराणसी से बावेरु गये व्यापारियों की कथा

बाहा -- बाजू

बाह-बल -- बाहुबल

बाहित -- दूर रखा, बाहर रखा

बाहिर -- बाह्य

बाहिर -- बाहर की ओर, बाहर वाला

बाहिरक -- दूसरे मत का

बाहिरक-पब्बज्‍जा -- दूसरे मतों के अनुसार प्रव्रज्या

बाहिरत्त -- बाहिर का भाव

बाहिय जातक -- राजा ने प्रसव-वेदना के अनन्तर शिशु जनने वाली देवी को अपनी पटरानी बनाया

बाहु -- बाजू

बाहुज -- क्षत्रिय

बाहुजञ्‍ञ -- सार्वजनिक

बाहुमूल -- बगल

बाहुलिक -- विपुलता में निवास करने वाला

बाहुल्‍ल -- प्रचुरता, कामोपभोगी जीवन [बाहुल्य भी]

बाहुसच्‍च -- अधिक विद्वत्ता

बाहेति -- दूर रखता है, दूर करता है [बाहेसि, बाहित, बाहेत्वा]

बाळ्ह -- मजबूत

बाळ्हं -- जोर से, अधिकता से

बिदल -- बाँस

बिन्दु -- बिन्दु, बूँद

बिन्दुमत्त -- बिन्दुमात्र

बिन्दुमत्तं -- बिन्दुमात्र

बिन्दुसार -- अशोक के पिता मगधनरेश

बिम्ब -- छाया

बिम्बा -- सिद्धार्थ गौतम की पत्नी बिम्बा [यशोधरा]

बिम्बिका, बिम्बी -- लता-विशेष

बिम्बिसार -- मगध-नरेश बिम्बिसार

बिम्बोहन -- तकिया

बिल -- सूराख, [चूहे का] बिल

बिलङ्ग -- सिरका

बिलङ्ग-थालिका -- एक प्रकार की यन्त्रणा

बिलसो -- पृथक्-पृथक् देरी करके

बिल्‍ल -- बिल्व, बेल [फल]

बिळार -- बिल्‍ला, नर बिल्‍ली

बिळार-भस्ता -- [लोहार की] भाथी

बिळार जातक -- ढोंगी गीदड़ प्रति दिन एक-एक चूहा मारकर खा जाता था। चूहों के नेता ने गीदड़ को मार डाला। शेष चूहों ने उसका मांस खाया

बिळारिकोसिय जातक -- बिलारकोसिय सेठ की कथा, जिसने अपने कंजूसपन के कारण परम्परागत दानशाला नष्ट करा दी थी

बिळाली -- बिल्‍ली

बीज -- बीज

बीज-कोस -- फूलों का बीज-कोष

बीज-गाम -- बीजों का समूह

बीज-जात -- बीजों के अलग-अलग विभेद

बीज-बीज -- बीजों से उगाये जा सकने वाले पौधे

बीभच्‍च -- बीभत्स

बीरण -- बीरण घास

बीरण-थम्भ -- बीरण घास का खम्बा

बुज्झति -- जानता है, समझता है, बूझता है [बुज्झि, बुद्ध, बुज्झन्त, बुज्झित्वा]

बुज्झन -- बूझना, ज्ञान प्राप्त करना

बुज्झनक -- समझदार

बुज्झितु -- जागने वाला, बूझने वाला, ज्ञानी

बुड्ढ -- वृद्ध

बुड्ढतर -- वृद्धतर

बुद्ध -- सम्पूर्ण ज्ञान के प्रतीक बुद्धत्वपद का लाभी

बुद्धकारक-धम्म -- बुद्धत्व-प्राप्ति में सहायक चर्या

बुद्ध-काल -- बुद्धोत्पत्ति का काल

बुद्ध-कोलाहल -- बुद्ध के आगमन की पूर्व-सूचना

बुद्धक्खेत्त -- बुद्ध की शक्ति का सीमा-क्षेत्र

बुद्ध-गुण -- बुद्ध के गुण

बुद्धंकुर -- जिसका बुद्ध बनना स्थिर है

बुद्ध-चक्खु -- बुद्ध की अन्तर्दृष्टि

बुद्ध-ञाण -- अनन्त ज्ञान

बुद्धन्तर -- एक बुद्ध और दूसरे बुद्ध के बीच का काल

बुद्ध-पुत्त -- बुद्ध-पुत्र

बुद्ध-बल -- बुद्ध की शक्ति

बुद्ध-भाव -- बुद्ध-भाव, बुद्धत्व

बुद्ध-भूमि -- बुद्ध-भूमिका

बुद्ध-मामक -- बुद्धभक्त

बुद्ध-रस्मि, बुद्ध-रंसि -- बुद्ध के शरीर से निकलने वाली रश्मियाँ

बुद्ध-लीळ्हा -- बुद्ध-लीला

बुद्ध-वचन -- बुद्ध की शिक्षा

बुद्ध-विसय -- बुद्ध-क्षेत्र

बुद्ध-वेनेय्य -- बुद्ध के द्वारा ही विनीत बनाया जा सकने वाला

बुद्ध-सासन -- बुद्धों की शिक्षा

बुद्धानुभाव -- बुद्धों का प्रताप

बुद्धानुस्सति -- बुद्ध का अनुस्मरण

बुद्धारम्मण, बुद्धालम्बन -- बुद्ध के गुणों का ध्यान

बुद्धपट्ठाक -- बुद्ध सेवक

बुद्धुप्पाद -- बुद्ध-युग

बुद्धघोस -- त्रिपिटक का सर्वश्रेष्ठ व्याख्याकार अट्ठकथाचार्य

बुद्धघोसुप्पत्ति -- इस नाम का एक ग्रन्थ

बुद्धत्त -- बुद्धत्व-प्राप्ति की अवस्था

बुद्ध-वंस -- खुद्दक निकाय का चौदहवाँ ग्रन्थ

बुद्धि -- प्रज्ञा

बुद्धिमन्तु -- बुद्धिमान

बुद्धि-सम्पन्‍न -- बुद्धिमान

बुध -- बुद्धिमान आदमी, बुध-ग्रह, बुध [-वार]

बुब्बुल, बुब्बुलक -- बुलबुला

बुभुक्खति -- खाने की इच्छा करता है [बुभुक्खि, बुभुक्खित]

बुन्द -- जड़

बेलुव -- बिल्व-फल का पेड़

बेलुव-पक्‍क -- पका बेल

बेलुव-लट्ठि -- बेल का गाछ

बेलुव-सलाटुक -- बेल का कच्‍चा फल

बोज्झङ्ग -- बोधि-प्राप्ति के लिए आवश्यक सहायक गुण

बोध -- बोधन, बुद्धत्व, ज्ञान

बोधनीय, बोधनेय -- बुद्धत्व लाभ कर सकने वाला

बोधि -- श्रेष्ठतम ज्ञान

बोधि-अङ्गण -- बोधि वृक्ष का आंगन

बोधि-पक्खिक -- बोधिपक्षीय धर्म

बोधि-पादप, बोधि-रुक्ख -- बोधिवृक्ष, पीपल

बोधि-पूजा -- बोधि-वृक्ष की पूजा

बोधि-मण्ड -- बोधि-वृक्ष के नीचे का वह स्थान जहाँ सिद्धार्थ गौतम वज्रासन लगाकर बुद्ध-प्राप्ति के लिए कृत-संकल्प होकर बैठे थे

बोधि-मह -- बोधि वृक्ष के सम्मान में उत्सव

बोधि-मूल -- बोधि-वृक्ष की जड़

बोधिसत्त -- बुद्धत्व-प्राप्ति के लिए कृतसंकल्प प्राणी, बुद्धत्व-प्राप्ति से पूर्व का सिद्धार्थ गौतम बुद्ध का परिचायक नाम

बोधेति -- ज्ञान प्राप्त कराता है [बोधेसि, बोधित, बोधेन्त, बोधेत्वा]

बोधेतु -- जाग्रत होने वाला, ज्ञान लाभी

बोन्दि -- शरीर

ब्यग्घ -- व्याघ्र

ब्यञ्‍जन -- स्वरों के अतिरिक्त वर्णमाला के शेष अक्षर, सालन, कढ़ी, पकवान

ब्यापाद -- क्रोध, द्वेष

ब्याम -- ब्याम-मात्र [माप]

ब्यामप्पभा -- बुद्ध के शरीर से निकलने वाली प्रभा

ब्यूह -- सेना की रचना-पद्धति

ब्रहन्त -- विशाल

ब्रह्म, ब्रह्मा -- सृष्टि-कर्ता

ब्रह्म-कायिक -- ब्रह्माआें की मण्डली का

ब्रह्म-घोस -- ब्रह्मा सदृश आवाज

ब्रह्मचर्या -- श्रेष्ठ जीवन

ब्रह्मचारी -- मैथुन-धर्म से विरत रहने वाला

ब्रह्मजच्‍च -- ब्राह्मण-जन्मा

ब्रह्मञ्‍ञ, ब्रह्मञ्‍ञता -- श्रेष्ठ-जीवन

ब्रह्म-दण्ड -- दण्ड विशेष, जो छन्‍न को दिया गया था

ब्रह्म-देय्य -- राजकीय भेंट

ब्रह्मप्पत्त -- श्रेष्ठतम अवस्था को प्राप्त

ब्रह्म-बन्धु -- ब्रह्म का सम्बन्धी, ब्राह्मण

ब्रह्मभूत -- सर्वश्रेष्ठ

ब्रह्म-लोक -- ब्रह्म-लोक

ब्रह्म-विमान -- ब्रह्मा का निवासस्थान

ब्रह्म-विहार -- चित्त की वाञ्छनीय स्थिति, मैत्री, करुणा, मुदिता तथा उपेक्षा का सम्मिलित नाम

ब्रह्मदत्त जातक -- तपस्वी ने राजा से विदा लेते समय केवल पत्तों का एक छाता और खड़ाऊँ की जोड़ी माँगी

ब्राह्मण -- ब्राह्मण वर्ण का व्यक्ति

ब्रह्म-कञ्‍ञा -- ब्राह्मण-कन्या

ब्रह्म-वाचनक -- ब्राह्मणों द्वारा किया जाने वाला वेद-पाठ

ब्राह्मण-वाटक -- ब्राह्मणों के एकत्र होने का स्थान

ब्रूति -- बोलता है [अब्रवि, ब्रुवन्त, ब्रुवित्वा]

ब्रूहन -- वृद्धि

ब्रूहेति -- बढ़ाता है, वृद्धि करता है [ब्रूहेसि, ब्रूहित, ब्रूहेन्त, ब्रूहेत्वा]

ब्रूहेतु -- बढ़ाने वाला

भक्ख -- खाने योग्य, भोजन, खाद्य-पदार्थ

भक्खक -- खाने वाला

भक्खति -- खाता है [भक्खि, भक्खित, भक्खितुं]

भक्खन -- खाना

भक्खेति -- खाता है

भग -- भाग्य, योनि

भगन्दल -- भगन्दर रोग

भगवन्तु -- भाग्यवान्, भगवान् [बुद्ध]

भगिनी -- बहन

भगु -- [नाम] भृगु ऋषि

भग्ग -- टूटा हुआ

भङ्ग -- टूटना, पटुआ

भङ्ग-खण -- टूटने का क्षण

भङ्गानुपस्सना -- वस्तुआें के विनाश के सम्बन्ध में अन्तर्दृष्टि

भच्‍च -- भृत्य, नौकर, पालित-पोषित

भजति -- संगति करता है [भजि, भजित, भजमान, भजित्वा, भजितब्ब]

भजन -- संगति

भज्‍जति -- भूँजता है [भज्‍जि, भज्‍जित, भज्‍जमान, भज्‍जित्वा]

भञ्‍जक -- तोड़ने वाला, खराब करने वाला

भञ्‍जति -- तोड़ता है, नष्ट करता है [भञ्‍जि, भग्ग, भञ्‍जित, भञ्‍जन्त, भञ्‍जमान, भञ्‍जित्वा]

भञ्‍जन -- तोड़, विनाश

भञ्‍जनक -- तोड़ना, नष्ट करना

भट -- सैनिक, सिपाही, नौकर

भट-सेना -- पैदल सेना

भट्ठ -- भुना हुआ, गिरा हुआ

भणति -- बोलता है [भणि, भणित, भणन्त, भणितब्ब, भणित्वा, भणितुं]

भणे -- सम्बोधन-विशेष

भण्ड -- सामान

भण्डक -- सामान, चीजें

भण्डागार -- भण्डार, खजाना

भण्डागारिक -- भंडारी, खजानची

भण्डति -- झगड़ा करता है [भण्डेति, भण्डि, भण्डेसि, भण्डेत्वा]

भण्डन -- कलह, झगड़ा

भण्डिका -- बण्डल, गठड़ी

भण्डु -- सिरमुँडा

भण्डु-कम्म -- हजामत बनाना

भत -- पालित-पोषित, नौकर

भतक -- भृत्य, कुली

भति -- मजदूरी

भत्त -- भात

भत्त-कारक -- रसोइया

भत्त-किच्‍च -- भात खाना, भोजन करना

भत्त-किलमथ -- भोजनानन्तर आलस्य

भत्त-सम्मद -- भोजनानन्तर तन्द्रा

भत्त-गाम -- भेंट या सेवा देने वाला ग्राम

भत्तग्ग -- भोजनालय

भत्त-पुट -- भात का दोना

भत्त-विस्सग्ग -- भोजन परोसना

भत्त-वेतन -- भोजन और तनख्वाह

भत्त-वेला -- भोजन का समय

भत्ति -- भक्ति

भत्तिक -- भक्त

भत्तिमन्तु -- भक्त

भत्तु -- भर्तृ, पति

भदन्त -- गौरवार्ह, पूज्य

भद्द -- शुभ [मुहूर्त] [भद्र भी]

भद्दक -- भाग्य-सम्पन्‍न वस्तु, भाग्य-सम्पन्‍न [वस्तु]

भद्दकच्‍चाना -- यशोधरा [राहुल माता] का एक और नाम

भद्दकुम्भ -- पानी का भरा घड़ा

भद्द-दारु -- देव-दारु की जाति का वृक्ष

भद्द-पदा -- भाद्रपद नक्षत्र

भद्द-पीठ -- भद्रासन

भद्द-मुख -- सुन्दर मुख, शिष्ट सम्बोधन

भद्द-युग -- श्रेष्ठ जोड़ा

भद्दसाल जातक -- राजा के उद्यान के श्रेष्ठ भद्रशाल वृक्ष के काटे जाने की कथा

भद्रघट जातक -- शराबी लड़के ने इन्द्रप्रदत्त भद्र-घट भी फोड़ डाला

भद्दा -- एक शिष्ट स्त्री [भद्दिका]

भद्दिय -- अङ्ग जनपद का एक नगर, भगवान बुद्ध अनेक बार वहाँ पधारे थे

भन्त -- भ्रान्त, भ्रमित

भन्तत्त -- भ्रान्त-भाव, गड़बड़ी

भन्ते -- भदन्त का सम्बोधन-रूप

भब्ब -- भव्य, योग्य

भब्बता -- भव्यता, योग्यता

भम -- घूमने वाली चीज

भमकार -- घुमाने वाला

भमति -- घूमता है [भमि, भन्त, भमन्त, भमित्वा]

भमर -- भ्रमर, भाैंरा

भमरिका -- लट्टू

भमु, भमुका -- भाैं

भय -- डर

भयङ्कर -- भयानक

भय-दस्सावी -- भयदर्शी

भय-दस्सी -- भयदर्शी

भयानक -- भयावह

भर -- [समास में] पोषण करने वाला

माता-पेत्ति-भर -- माता-पिता का पोषण करने वाला

भरण -- भरण-पोषण

भरत कुमार -- दसरथ-पुत्र। राम का सौतेला भाई

भरति -- भरण-पोषण करता है [भरि, भत, भरित्वा]

भरित -- भरा हुआ

भरिया -- भार्या, पत्नी

भरुकच्छ -- भरु प्रदेश का बन्दरगाह

भरु जातक -- भरु देश के राजा ने तपस्वियों के मुकद्दमे में निर्णय दिया

भल्‍लाटक -- वृक्षविशेष, लोध [भल्‍लातक भी]

भल्‍लाटिक जातक -- भल्‍लाटिय नरेश के शिकार की कथा

भल्‍ली -- भल्‍लातक, भिलावा

भव -- अस्तित्व, सँसार

भवग्ग -- संसार का उच्‍चतम शिखर

भवङ्ग -- अचेतन मन

भव-चक्‍क -- भव-चक्र

भव-तण्हा -- भव-तृष्णा

भव-नेत्ति -- भव-तृष्णा

भवन्तग, भवन्तगू -- भव के अन्त तक पहुँचा हुआ

भव-संयोजन -- पुनर्जन्म का बन्धन

भवाभव -- यह या वह जीवन

भवेसना -- भवेषणा, भवेच्छा

भवोघ -- पुनर्जन्म रूपी बाढ़

भवति -- होता है [भवि, भूत, भवन्त, भवमान, भवितब्ब, भवित्वा, भूत्वा, भवितुं]

भवन -- होना, निवास-स्थान

भस्ता -- धाैंकनी

भस्म -- राख

भस्मच्छन्‍न -- राख से ढका हुआ

भस्स -- बेकार बातचीत

भस्सारामता -- बेकार बातचीत में रुचि

भस्सति -- गिर पड़ता है [भस्सि, भट्ठ, भसन्त, भसमान, भसित्वा]

भस्सर -- प्रकाशमान

भा -- प्रकाश की चमक

भाकुटिक -- भ्राकुटिक, भृकुटि टेढ़ी करने वाला

भाग -- हिस्सा

भागवन्तु -- हिस्से वाला, हिस्सेदार

भागदेय्य, भागधेय्य -- भाग्य

भागसो -- हिस्सों के अनुसार

भागिनेय्य -- भानजा

भागिनेय्या -- भानजी

भागीय -- [समास में] सम्बन्धित

भागी -- हिस्सेदार

भागीरथी -- गङ्गा नदी का एक नाम

भाग्य -- सौभाग्य

भाजक -- बाँटने वाला [भाजेतु]

भाजन -- बँटवारा, बर्तन, पात्र

भाजन-विकति -- नाना प्रकार के बर्तन

भाजेति -- बाँटता है [भाजेसि, भाजित, भाजेन्त, भाजेत्वा, भाजेतब्ब, भाजीयति]

भाणक -- धर्म-ग्रन्थों का पाठ करने वाला, बड़ा मटका

भाणवार -- त्रिपिटक के अनेक भागों में से एक। एक भाणवार आठ सहस्त्र अक्षरों से समन्वित माना जाता है

भाणी -- बोलने वाला

भाति -- चमकता है [भासि]

भातिक -- भाई [भातु]

भानु -- प्रकाश, सूर्य

भानुमन्तु -- प्रकाशवान, सूर्य

भायति -- डरता है [भायि, भायन्त, भायितब्ब, भायित्वा]

भायापेति -- डराता है [भायापेसि, भायापित, भायापेत्वा]

भार -- बोझा

भार-निक्खेपन -- भार उतार कर रख देना

भार-मोचन -- भार-मुक्ति

भार-वाही -- भार ढोने वाला

भार-हार -- बोझा ढोने वाला

भारिक -- भार-युक्त

भारिय -- भारी

भाव -- स्वभाव

भावना -- विकास, योगाभ्यास

भावनानुयोग -- योगाभ्यास में लगना

भावनामय -- भावनायुक्त

भावना-विधान -- योगाभ्यास की पद्धति

भावनीय -- अभ्यास करने योग्य, सम्माननीय

भावित -- अभ्यस्त, विकसित

भावितत्त -- विशेष अभ्यासी, संयत

भावी -- होने वाला, अनिवार्य

भावेति -- वृद्धि करता है, अभ्यास करता है [भावेसि, भावित, भावेन्त, भावयमान, भावेतब्ब, भावेत्वा, भावेतुं]

भासति -- बोलता है, चमकता है [भासि, भासित, भासन्त, भासित्वा, भासितब्ब]

भासन -- भाषण

भासन्तर -- दूसरी भाषा

भासा -- भाषा, बोली

भासित -- कथन

भासितु, भासी -- बोलने वाला, कहने वाला

भासुर -- चमकदार

भिक्खक -- भिखमंगा

भिक्खति -- भीख माँगता है [भिक्खि, भिक्खन्त, भिक्खमान, भिक्खित्वा]

भिक्खन -- भीख माँगना

भिक्खा -- भिक्षा

भिक्खाचरिया -- भिक्षाटन

भिक्खाचार -- भिक्षाटन

भिक्खाहार -- भिक्षु द्वारा प्राप्त आहार

भिक्खा-परम्पर जातक -- राजा को प्राप्त भोजन क्रमशः प्रत्येक बुद्ध को प्राप्त हुआ

भिक्खु -- बौद्ध भिक्षु

भिक्खुणी -- बौद्ध भिक्षुणी

भिक्खु-भाव -- भिक्षुत्व

भिक्खु-भेद -- भिक्षु विशेष

भिक्खु-संघ -- भिक्षुआें का संघ

भिङ्क -- हाथी का बच्‍चा

भिङ्कार -- पानी की झारी

भिज्‍जति -- टूट जाता है, नष्ट हो जाता है [भिज्‍जि, भिन्‍न, भिज्‍जमान, भिज्‍जित्वा]

भिज्‍जन -- टूटना

भिज्‍जन-धम्म -- टूटने के स्वभाव वाला

भित्ति -- दीवार

भित्ति-पाद -- दीवार की नींव

भिन्दति -- तोड़ता है, फाड़ता है, पृथक्-पृथक् कर देता है [भिन्दि, भिन्दित, भिन्‍न, भिन्दन्त, भिन्दित्वा, भिन्दितुं]

भिन्दन -- टूटना

भिन्‍न -- टूटा हुआ

भिन्‍नत्त -- भिन्‍नत्व

भिन्‍न-भाव -- पार्थक्य

भिन्‍न-नाव -- टूटा जहाज

भिन्‍न-पट -- फटा वस्त्र

भिन्‍न-मरियाद -- सीमोल्‍लंघित

भिन्‍न-सील -- शील-भ्रष्ट

भिय्यो -- अत्यधिक [भिय्योसो]

भिय्योसो मत्ताय -- अत्यधिक, अपनी योग्यता से अधिक

भिस -- कमल-नालिका

भिस-पुष्फ -- कमल-पुष्प

भिस-मुळाल -- कमल मृणाल

भिस जातक -- पिता के मरने पर सभी भाई तथा उनकी बहिन हिमालयाभिमुख हुए

भिसक्‍क -- भिषक्, चिकित्सक

भिसपुप्फ जातक -- देवी ने बोधिसत्व को फूल की गन्ध मात्र सूँघने के लिए गन्ध-चोर कहा

भिसि -- गद्दा

भिंसन, भिंसनक -- भयानक

भीत -- डरा हुआ

भीति -- भय

भीम, भीसन -- भयानक

भीमसेन जातक -- भीमसेन का उपयोग कर बौने धनुषधारी ने यश प्राप्त किया

भीयो -- बहुत

भीरु, भीरुक -- डरपोक

भीरुत्ताण -- डरपोक का संरक्षण

भुक्‍करण -- [कुत्ते का] भाैंकना

भुंकार, भुक्‍कार -- [कुत्ते का] भाैंकना

भुंकरोति -- भाैंकता है [भुंकरि, भुंकत, भुंकरोन्त, भुंकत्वा, भुंकरित्वा]

भुज -- हाथ, मुड़ा हुआ

भुज-पत्त -- भोज-पत्र

भुजग, भुजङ्ग, भुजङ्गम -- साँप

भुजिस्स -- स्वतन्त्र आदमी

भुञ्‍जक -- खाने वाला या भोगने वाला

भुञ्‍जति -- खाता है, भोगता है [भुञ्‍जि, भुत्त, भुञ्‍जन्त, भुञ्‍जमान, भुञ्‍जितब्ब, भुञ्‍जित्वा, भुञ्‍जिय, भुत्वा, भुञ्‍जितुं, भोत्तुं]

भुञ्‍जन -- खाना

भुञ्‍जन-काल -- भोजन का समय

भुत्त -- खाया हुआ, भोगा हुआ

भुत्तावी -- खाने वाला

भुम्म -- तल्‍लों वाला [मकान]

भुम्मट्ठ -- भूमि-स्थित

भुम्मत्थरण -- दरी, बिछावन

भुम्मन्तर -- भिन्‍न भूमियाँ

भुवन -- संसार

भुस -- भूसा, बहुत, अधिक

भुसं -- अधिकांश रूप से

भुसति -- भाैंकता है [भुस्सि, भुस्सन्त, भुस्समान, भुस्सित्व]

भुसत्थ -- आधिक्य का अर्थ

भू -- पृथ्वी

भूत -- हुआ, उत्पन्‍न हुआ, [महा-] भूत, भूत[-प्रेत] प्राणी, भूतार्थ [यथार्थ]

भूत-काय -- महाभूतों से उत्पन्‍न शरीर

भूत-गाम -- वनस्पति

भूत-गाह -- भूत-प्रेत द्वारा ग्रसित

भूत-वादी -- सत्यवादी

भूत-वेज्‍ज -- भूत-प्रेत उतारने वाला ओझा

भूतत्त -- होने का भाव

भूतिक -- भौतिक

भू-तिण -- भू-तृण

भू-धर -- पहाड़

भू-नाथ -- राजा

भू-भुज -- भूपति

भूमक -- तल्‍लों वाला [मकान]

भूमि -- पृथ्वी

भूमि-कम्पा -- भू-कम्प

भूमि-गत -- पृथ्वी-स्थित

भूमि-तल -- पृथ्वी-तल

भूमिप्पदेस, भूमि-भाग -- जमीन का टुकड़ा

भूरि -- प्रज्ञा, विपुल

भूरिदत्त जातक -- तपस्वी के नागकन्या द्वारा लुभाये जाने की कथा

भूरि-पञ्‍ञ -- बहुत प्रज्ञा वाला

भूरिपञ्ह जातक -- महाउम्मग्ग जातक का एक अंश

भूरि-मेघ -- बहुत मेघा वाला

भूसन -- भूषण

भूसा -- सजावट

भूसापेति -- सजवाता है [भूसापेसि, भूसापित, भूसापेत्वा]

भूसेति -- सजाता है [भूसेसि, भूसित, भूसेन्त, भूसेत्वा]

भेक -- मेंढक

भेज्‍ज -- भुरभुरा, जो टूट सके, टूटना या काटना

भेण्डिवाल -- अस्त्र-विशेष

भेण्डुक -- खेलने की गेंद

भेत्तु -- तोड़ने वाला

भेद -- मेल का अभाव, अनेकता

भेदक -- एकता नष्ट करने वाला

भेदकर -- भेद पैदा करने वाला

भेदन -- टूटना

भेदनक -- तोड़ डालने योग्य, फूटने योग्य

भेदन-धम्म -- टूटने के स्वभाव वाला

भेदित -- टूटा हुआ

भेदति -- तोड़ता है [भेदित, भेदेत्वा]

भेरण्ड -- गीदड़

भेरण्डक -- गीदड़ की आवाज

भेरव -- भयानक

भेरि -- ढोल

भेरि-चारण -- ढोल बजाकर मुनादी कराना

भेरि-तल -- ढोल का तल्‍ला

भेरि-वादक -- ढोल बजाने वाला

भेरि-वादन -- ढोल का बजाना

भेरि-सद्द -- ढोल की आवाज

भेरिवाद-जातक -- लड़के ने पिता का कहना न मान ढोल को बार-बार बजाया। डाकुआें ने आकर पिता-पुत्र को लूट लिया

भेसज्‍ज -- दवाई

भेसज्‍ज-कपाल -- दवाई का बर्तन

भो -- सम्बोधन-विशेष

भोग -- धन, सम्पत्ति

भोगक्खन्ध -- धन का ढेर

भोग-गाम -- करदाता गाँव

भोग-मद -- धन का अभिमान

भोगवन्तु -- धनी

भोगी -- सर्प, धनी आदमी, [समास में] भोग भोगने वाला

भोग्ग -- भोग्य

भोजक -- खिलाने वाला, कर उगाहने वाला, गाम-भोजक, गाँव का मुखिया

भोजन -- खाद्य-सामग्री

भोजनिय -- खाने योग्य, नरम खाद्य-सामग्री

भोजाजानीय जातक -- श्रेष्ठ घोड़े की कथा, जिसने जख्मी होने पर भी शत्रु पर आक्रमण किया

भोजापेति -- खिलाता है [भोजापेसि, भोजापित, भोजापेत्वा]

भोजी -- भोजन करने वाला

भोजेति -- खिलाता है [भोजेसि, भोजित, भोजेत्वा, भोजेन्त, भोजेतुं]

भोज्‍ज -- खाने योग्य वस्तु

भोति -- सम्बोधन, भवति

भोत्तब्ब -- देखो भोज्‍ज

भोत्तुं -- खाने के लिए

भोवादी -- ब्राह्मण

मंस -- मांस, गोश्त

मंस-चक्खु -- दिव्य चक्षु आदि से भिन्‍न भौतिक आँखें

मंस जातक -- शिकारी से मांस माँगने की कथा

मंस-पुञ्‍ज -- मांस का ढेर

मंस-पेसि -- मांस-पेशी

मकचि -- धनुष की डोरी का पटुआ

मकचि-वाक -- पटुए का छिलका

मकचि-वत्थ -- पटुए का बुना वस्त्र

मकर -- मगरमच्छ

मकर-दन्तक -- मगरमच्छ के दाँतों के समान

मकरन्द -- पुष्प-रेणु

मकस -- मच्छर

मकस-वारण -- मसहरी

मकस जातक -- बेटे ने बाप के सिर पर बैठा मच्छर हटाने जाकर कुल्हाड़ी से उसका सिर चीर डाला

मकुट -- मुकुट, ताज

मकुल -- फूल की कली

मक्‍कट -- बंदर

मक्‍कटक -- मकड़ी

मक्‍कटक-सुत्त -- मकड़ी का जाल

मक्‍कट जातक -- बन्दर ने तपस्वी का वल्कल-चीर धारण कर कुटी में रहने वाले एक तपस्वी की कुटी में प्रवेश करना चाहा। उसे सफलता नहीं मिली

मक्‍कटी -- बंदरी

मक्ख -- दूसरे के गुण का मूल्य घटाना

मक्खण -- [तेल] माखना

मक्खली-गोसाल -- बुद्ध के समकालीन छह भिन्‍न मतावलम्बी आचार्यों में से एक

मक्खिका -- मक्खी

मक्खित -- माखा हुआ

मक्खी -- दूसरे के गुणों का मूल्य घटाने वाला

मक्खेति -- माखता है, चुपड़ता है [मक्खेसि, मक्खित, मक्खेत्वा]

मखादेव जातक -- राजा ने सिर में उगे सफेद बाल को ‘देव-दूत’ समझा, प्रव्रज्या ग्रहण की

मग -- चौपाया

मगसिर -- मार्गशीर्ष, नक्षत्र-विशेष

मगध -- कोसल, वंस, अवन्ति के समान ही भगवान बुद्ध के समय का एक प्रधान राज्य

मग्ग -- रास्ता, सड़क, पथ

मग्ग-किलन्त -- चलने से थका हुआ

मग्ग-कुसल -- रास्ते का जानकार

मग्गक्खायी -- रास्ता बताने वाला

मग्गङ्ग -- सम्यक् दृष्टि आदि आर्य-मार्ग के आठ अङ्ग

मग्ग-ञाण -- मार्ग के बारे में ज्ञान

मग्गञ्‍जू, मग्गविदू -- मार्ग का जानकार

मग्गट्ठ -- मार्ग-स्थित

मग्ग-दूसी -- मुसाफिरों को लूटने वाला डाकू

मग्ग-देसक -- मार्ग-दर्शक

मग्ग-पटिपन्‍न -- यात्री, मार्गारूढ

मग्ग-भावना -- आर्य-मार्ग का अभ्यास

मग्ग-मूळ्ह -- मार्ग-भ्रष्ट, रास्ता-भूला

मग्ग-सच्‍च -- आर्य-मार्ग नामक सत्य

मग्गति -- खोजता है, पता लगाता है [मग्गि, मग्गित, मग्गित्वा]

मग्गन -- खोज, तलाश

मग्गना -- खोज, तलाश

मग्गिक -- मार्गारूढ

मग्गित -- खोजता हुआ

मग्गुर -- एक प्रकार की मछली

मग्गेति -- देखो मग्गति

मग्घवन्तु -- शक, [इन्द्र] का एक और नाम

मघा -- मघा नक्षत्र

मङ्कु -- उत्साहहीन

मङ्कु-भाव -- नैतिक दौर्बल्य, उत्साह मन्दता

मङ्कु-भूत -- मन्दोत्साह

मङ्गल -- शुभ मुहूर्त

मङ्गल-किच्‍च -- मङ्गल-कृत्य, उत्सव

मङ्गल-कोलाहल -- शुभ-मुहूर्त आदि को लेकर झगड़ा

मङ्गल-दिवस -- उत्सव का दिन, शादी का दिन

मङ्गल-अस्स -- राजकीय अश्व

मङ्गल-सिन्धव -- राजकीय घोड़ा

मङ्गल-पोक्खरणी -- मङ्गल-पुष्करणी

मङ्गल-सिलापट्ट -- राज्यासन

मङ्गल-सुपिन -- अच्छा स्वप्न

मङ्गल-हत्थी -- राजकीय हाथी

मङ्गल-जातक -- चूहे द्वारा काट डाले गये कपड़ों को घर में रखना अशुभ समझ ब्राह्मण ने उन्हें श्मशान-भूमि में फिंकवाना चाहा

मङ्गुर -- नदी की मछली-विशेष, पीत-वर्णी

मच्‍च -- आदमी, मनुष्य

मच्‍चु -- मृत्यु, मौत

मच्‍चुतर -- मृत्युजयी

मच्‍चु-धेय्य -- मृत्यु-क्षेत्र

मच्‍चु-परायण -- मरणाधीन

मच्‍चु-पास -- मृत्यु-पाश

मच्‍चु-मुख -- मृत्यु-मुख

मच्‍चु-राज -- मृत्यु-राज

मच्‍चु-वस -- मृत्यु की सामर्थ्य

मच्‍चु-हायी -- मृत्यु को जीतने वाला

मच्छ -- मछली

मच्छण्ड -- मछली का अण्डा

मच्छण्डि -- गुड़, शक्‍कर आदि की तरह गन्‍ने की विकृति

मच्छ-मंस -- मत्स्य और मांस

मच्छ-बन्ध -- मछुवा

मच्छ-जातक -- मछली की सत्य-क्रिया से वर्षा हुई

मच्छ-जातक -- कथा उक्त कथा से मिलती-जुलती है

मच्छर, चरिया -- मात्सर्य

मच्छरचारी -- कंजूस

मच्छरायति -- कंजूसी करता है

मच्छरिय -- मात्सर्य, कंजूसपन

मच्छा -- सोलह जनपदों में से एक जनपद मत्स्य के वासी

मच्छिक -- मछलीमार

मच्छी -- मछली

मच्छुद्दान जातक -- मछली के पेट में से रुपयों की थैली वापिस मिली

मच्छेर -- देखो मच्छरिय

मज्‍ज -- मद्य

मज्‍जन -- नशा

मज्‍जप -- मद्यप, शराबी

मज्‍जपान -- शराब पीना

मज्‍जपायी -- देखो मज्‍जप

मज्‍ज-विक्‍कयी -- मद्य-विक्रेता

मज्‍जति -- माँजता है, साफ करता है, पालिश करता है [मज्‍जि, मत्त, मट्ठ, मज्‍जित, मज्‍जन्त, मज्‍जित्वा]

मज्‍जना -- माँजना

मज्‍जार -- मार्जार, बिल्‍ला

मज्‍जारी -- मार्जारी, बिल्‍ली

मज्झ -- मध्य-भाग, बीच का

मज्झट्ठ, मज्झत्त -- मध्यस्थ, पक्षपात रहित

मज्झण्ह -- मध्याह्न

मज्झत्तता -- मध्यस्थता

मज्झ-देस -- मध्य-देश

मज्झन्तिक समय -- मध्याह्न, दोपहर

मज्झन्तिक [थेर] -- अशोक-पुत्र महेन्द्र स्थविर को उपसम्पदा देने वाले महास्थविर। बाद में वे धर्म-प्रचारार्थ काश्मीर-गन्धार की ओर गये

मज्झिम -- मध्यम, केन्द्रीय

मज्झिम पुरिस -- मध्याकार का आदमी, मध्यम पुरुष

मज्झिम-याम -- अर्धरात्रि

मज्झिम-वय -- प्रौढ़

मज्झिम-निकाय -- सुत्त पिटक के पाँच निकायों में से मध्यमाकार के सूत्रों का संग्रह

मञ्‍च -- चारपाई

मञ्‍चक -- छोटी चारपाई

मञ्‍च-परायण -- चारपाई पर पड़ा

मञ्‍च-पीठ -- चारपाई तथा कुर्सी आदि

मञ्‍च-वान -- चारपाई का बुनना

मञ्‍जरी -- गुच्छा

मञ्‍जिट्ठ, मञ्‍जेट्ठ -- मजीठिया रंग

मञ्‍जिट्ठा -- वृक्ष-विशेष

मञ्‍जिर -- पाँव के आभरण

मञ्‍जु -- आकर्षक, प्रियकर

मञ्‍ज-भाणक -- प्रियंवद

मञ्‍जुस्सर -- प्रियभाणी

मञ्‍जूसक -- देवताआें का वृक्ष

मञ्‍जूसा -- पेटी

मञ्‍जेट्ठी -- मजीठ [लता]

मञ्‍जति -- कल्पना करता है, संकल्प करता है, विचार करता है [मञ्‍ञि, मञ्‍ञित, मञ्‍ञमान, मञ्‍ञित्वा]

मञ्‍ञना -- मान्यता, कल्पना

मञ्‍ञित -- मान्यता, कल्पना

मञ्‍ञे -- मैं कल्पना करता हूँ

मट्ट, मट्ठ -- चिकना, घिसा हुआ, पालिश किया हुआ

मट्ट-साटक -- चिकना वस्त्र

मट्टकुण्डलि जातक -- ब्राह्मण के पुत्रशोक से मुक्त होने की कथा

मणि -- मणि, जवाहिर

मणि-कुण्डल -- मणियों की बाली

मणिक्खन्ध -- बड़ी भारी मूल्यवान मणि

मणि-पल्‍लङ्क -- मणि-जड़ा सिंहासन

मणि-बन्ध -- कलाई

मणि-मय -- मणि-निर्मित

मणि-रतन -- मूल्यवान मणि

मणि-वण्ण -- मणि के रंग का

मणि-सप्प -- मणि वाला सर्प

मणिक -- बड़ा बर्तन

मणिकण्ठ जातक -- मणिकण्ठ नाम के सर्प से उसकी मणि माँगने पर सर्प ने तपस्वी को हैरान करना छोड़ दिया

मणि-कुण्डल जातक -- राजा ने अपना रनिवास दूषित करने वाले मन्त्री को देश से निकाल बाहर किया

मणिचोर जातक -- राजा ने अपनी मणि गृहस्थ की गाड़ी में छिपा, उसे चोर घोषित करा, उसकी सुन्दर पत्नी को हथियाना चाहा

मणिसूकर जातक -- सूअरों ने मणि को जितना ही रगड़ा, उतनी ही वह अधिकाधिक चमकी

मण्ड -- माँड, अति स्पष्ट

मण्डन -- सजावट

मण्डन-जातिक -- सजावट-प्रिय

मण्डप -- मण्डप

मण्डल -- घेरा, गोल-वेदिका

मण्डल-माल -- गोलाकार मण्डप

मण्डलिक -- प्रदेश [मण्डल] से सम्बन्धित

मण्डलिस्सर -- मण्डल का शासक

मण्डली -- मण्डल वाला

मण्डित -- सुसज्‍जित

मण्डूक -- मेंढक

मण्डेति -- सजाता है [मण्डेसि, मण्डित, मण्डेत्वा]

मत -- मृत

मत-किच्‍च -- मृत व्यक्ति के सम्बन्ध में करणीय

मतक -- मृतक, मरा हुआ

मतक-भत्त -- मृत व्यक्ति के सम्बन्धियों द्वारा दिया जाने वाला दान, श्राद्ध

मतक-वत्थ -- मृत व्यक्ति के सम्बन्धियों द्वारा दान दिया गया वस्त्र

मतकभत्त जातक -- श्राद्ध करने के इच्छुक ब्राह्मण ने बकरी की बलि देने से पूर्व अपने शिष्यों से कहा कि उसे नहला लाओ

मतरोदन जातक -- भाई तथा पिता के मरने पर भी अनित्यता का स्मरण कर ‘बोधिसत्व’ने एक भी आँसू नहीं गिराया

मति -- प्रज्ञा, विचार

मतिमन्तु -- बुद्धिमा

मति-विप्पहीन -- मूर्ख

मत्त -- नशे में चूर [समास में] मात्रा

मत्त-हत्थी -- नशे में चूर हाथी

मत्तञ्‍ञू -- मात्रज्ञ, मात्रा का जानकार

मत्तञ्‍ञुता -- मात्रज्ञ होना

मत्ता -- मात्रा

मत्तासुख -- सीमित सुख

मत्तिका -- मिट्टी

मत्तिका-पिण्ड -- मिट्टी का पिण्ड

मत्तिका-भाजन -- मिट्टी का बर्तन

मत्तिघ -- मातृहंता

मत्तेय्य -- माता की सेवा करने वाला

मत्तेय्यता -- मातृ-भक्ति

मत्थक -- मस्तक, शिखर, दूरी पर

मत्थ-लुङ्ग -- दिमाग

मत्थु -- दही से पृथक् मथा हुआ जल

मथति -- मथता है [मथि, मथित, मथित्वा]

मथन -- मथना

मद -- अहंकार

मदन -- कामदेव, नशा

मदनीय -- नशीला

मदिरा -- सुरा, धान्य-निर्मित शराब

मद्द -- देश विशेष, मद्र

मद्दति -- दबाता है, निचोड़ता है, राैंदता है [मद्दि, मद्दित, मद्दन्त, मद्दित्वा, मद्दिय]

मद्दन -- मर्दन करना, राैंदना

मद्दल -- वाद्य-यंत्र विशेष

मद्दव -- मार्दव, कोमलता, कोमल

मद्दित -- मर्दन किया गया, राैंदा गया

मधु -- शहद, सुरा

मधुक -- वह वृक्ष जिससे मधु तैयार होती है

मधुकर -- शहद की मक्खी

मधु-गन्ध -- शहद का छत्ता

मधु-पटल -- शहद का छत्ता

मधुप -- भ्रमर

मधु-पिण्डिका -- शहद-पिण्ड

मधुब्बत -- शहद की मक्खी

मधु-मक्खित -- शहद से माखा हुआ

मधु-मेह -- मधु-मेह, बहुमूत्र रोग

मधु-लट्ठिका -- मुलहठी

मधु-लाज -- शहद-मिश्रित खील

मधु-लीह -- मक्खी

मधुस्सव -- शहद से चूता हुआ

मधुका -- मुलहटी, औषधि-विशेष

मधुर -- मीठा, मीठी चीज

मधुरत्त -- मधुरता

मधुरस्सर -- मधुर स्वर, मधुर भाषी

मधुरा -- यमुना-तट पर स्थित सूरसेन जनपद की राजधानी, दक्षिण भारत का प्रसिद्ध मदुरा नगर

मध्वासव -- सुरा

मन -- चित्त, विज्ञान

मनक्‍कार, मनसिकार -- मनोसंकल्प

मनता -- मनोभाव [अत्त-मनता, आनन्दपूर्ण मनोभाव]

मनन -- विचार करना

मनसिकरोति -- मन में रखता है [मनसिकरि, मनसिकत, मनसिकरोन्त, मनसिकत्वा, मनसिकातब्ब]

मनं -- लगभग

मनाप, मनापिक -- मनोनुकूल, आकर्षक

मनुज -- मनुष्य

मनुजाधिप -- राजा

मनुजिन्द -- नरेन्द्र, राजा

मनुञ्‍ञ -- मनोज्ञ, सुन्दर

मनुस्स -- मनुष्य

मनुस्सत्त -- मनुष्यत्व

मनुस्स-भाव -- मनुष्य-भाव

मनुस्स-भूत -- जो आदमी होकर उत्पन्‍न हुआ

मनुस्स-लोक -- मनुष्य-लोक

मनेसिका -- दूसरे के विचार की जानकारी

मनो -- [समास में] मन

मनोकम्म -- मानसिक कर्म

मनोजव -- मन के समान तीव्र गति

मनोदुच्‍चरित -- मानसिक दुष्कर्म

मनोद्वार -- मन रूपी द्वार [इन्द्रिय]

मनोधातु -- चित्त

मनोपदोस -- द्वेष

मनोपसाद -- भक्ति

मनोपुब्बङ्गम -- जिसका पूर्वगामी मन हो

मनोमय -- मन से उत्पन्‍न

मनोरथ -- इच्छा, संकल्प

मनोरम -- आनन्ददायक

मनोविञाण -- मनोविज्ञान

मनोविञ्‍ञेय्य -- मन के द्वारा जानने योग्य

मनोवितक्‍क -- विचार

मनोहर -- सुन्दर, आकर्षक

मनोज जातक -- मनोज ने राजकीय अश्वों पर आक्रमण किया। राजा के धनुर्धारियों द्वारा मारा गया

मनोसिला -- संखिया

मन्त -- मन्त्र

मन्तज्झायक -- मन्त्रों का अध्ययन करने वाला

मन्तन -- मन्त्रणा, विचार-विमर्श

मन्तना -- मन्त्रणा, विचार-विमर्श करना

मन्ता -- प्रज्ञा

मन्ती -- मन्त्री

मन्तिणी -- मंत्रिणी

मन्तु -- कल्पना करने वाला

मन्तेति -- मन्त्रणा करता है, विचार-विमर्श करता है [मन्तेसि, मन्तित, मन्तेन्त, मन्तयमान, मन्तेत्वा, मन्तेतुं]

मन्थ -- मथानी, च्युड़ा

मन्थर -- कछुवा

मन्द -- मन्द [-बुद्धि], आलसी

मन्दता -- मन्द-भाव, मूर्खता

मन्दत्त -- मन्द भाव, जड़ता

मन्दं -- धीरे-धीरे [मन्दमन्दं]

मन्दाकिनी -- झील तथा नदी का नाम

मन्दामुखी -- अँगीठी

मन्दार -- पर्वत-विशेष

मन्दिय -- मूर्खता, आलस्य

मन्दिर -- भवन, महल

मन्धातु जातक -- मान्धाता नरेश की कथा

ममङ्कार -- ममत्व

ममायना -- स्वार्थपरता, आसक्ति

ममायति -- आसक्त होता है [ममायि, ममायित, ममायन्त, ममायित्वा]

मम्म, मम्मट्ठान -- मर्म-स्थान

मम्मच्छेदक -- मर्म-स्थान को चोट पहुँचाने वाला

मम्मन -- हकलाने वाला

मयं -- हम

मय्हक जातक -- भाई ने भतीजे को नदी में डुबाकर मार डाला

मयूख -- प्रकाश की किरण

मयूर -- मोर

मरण -- मृत्यु, मौत

मरण-काल -- मरने का समय

मरण-चेतना -- मार डालने का इरादा

मरण-धम्म -- मरण-स्वभाव

मरणन्त -- जीवन जिसका अन्त मृत्यु हो

मरण परियोसान -- देखो मरणन्त

मरण-भय -- मृत्यु-भय

मरण-मञ्‍चक -- जिस चारपाई पर किसी की मृत्यु हुई हो या होने वाली हो

मरण-मुख -- मृत्यु का मुँह

मरण-लिङ्ग -- मृत्यु के चिह्न

मरण-सति -- मरणानुस्मृति, मृत्यु का स्मरण

मरण-समय -- मृत्यु का समय

मरति -- मरता है [मरि, मत, मरन्त, मरमान, मरितब्ब, मरित्वा, मरितुं]

मरिच -- मिर्च

मरियादा -- सीमा, नियम

मरीचि -- प्रकाश-किरण

मरीचिका -- मृगतृष्णा

मरीचि-धम्म -- मृगतृष्णा सदृश

मरु -- कान्तार, देवता

मरुम्ब -- बिलौर

मल -- मैल, मैला

मल-तर -- अधिक मैला

मलय -- मलय पर्वत

मलयज -- चन्दन

मलिन -- धब्बेदार, मैला

मल्‍ल -- पहलवान, मल्‍ल जाति से सम्बन्धित

मल्‍ल-युद्ध -- कुश्ती

मल्‍लक -- बर्तन, थैला

मल्‍लिका -- चमेली

मसारगल्‍ल -- बहुमूल्य पत्थर-विशेष

मसि -- कालिख

मस्सु -- दाढ़ी

मस्सुक -- दाढ़ी वाला

मस्सु-कम्म -- हजामत

मस्सु-करण -- हजामत बनाना

मह -- धार्मिक उत्सव

महग्गत -- बहुत ऊँचा

महग्घ -- अत्यन्त मूल्यवान

महग्घता -- कीमतीपन

महग्घस -- बहुत खाने वाला, भुक्खड़

महण्णव -- विशाल समुद्र

महति -- आदर करता है, गौरव करता है [महि, महित, महित्वा]

महत्त -- महत्त्व

महद्धन -- अत्यन्त धनवान

महनीय -- आदरणीय

महन्त -- महान, बड़ा [महन्तर, महन्तता, महन्त-भाव]

महप्फल -- महान फल वाला

महब्बल -- महान बलशाली, बड़ी भारी सेना

महब्भय -- महान भय

महल्‍लक -- बूढ़ा, बूढ़ा आदमी

महल्‍लकतर -- वृद्धतर

महल्‍लिका -- वृद्धा स्त्री

महा -- समास पदों में ‘महन्त’ का ‘महा’ हो जाता है, और ‘आ’ का ह्रस्व हो जाता है। महान

महाउपासक -- बुद्ध का श्रद्धा-सम्पन्‍न अनुयायी

महाउपासिका -- महान श्रद्धा-सम्पन्‍न उपासिका

महाकरुणा -- महान दया

महाकाय -- बड़े शरीर वाला

महागण -- बड़ी मण्डली, बड़ा समूह

महागणी -- अनेक अनुयायियों सहित

महाजन -- जनता

महातण्ह -- बहुत लोभी

महातल -- भवन के ऊपर की खुली छत

महादीप -- जम्बुद्वीप, उत्तर कुरु आदि चार महाद्वीप

महाधन -- विशाल धन

महानरक -- भयानक नरक

महानस -- रसोई-घर

महानुभाव -- महान प्रतापी

महापञ्‍ञ -- अत्यन्त प्रज्ञावान

महापथ -- महामार्ग

महापितु -- पिता का बड़ा भाई, ताया, ताऊ

महापुरिस -- महापुरुष

महाभूत -- पृथ्वी, जल आदि चार महाभूत

महाभोग -- ऐश्वर्यशाली

महामति -- महान बुद्धिमान

महामत्त -- मुख्यमन्त्री [महामुच्‍च भी]

महामुनि -- महान मुनि

महामेघ -- वर्षा की तेज बौछाड़

महायञ्‍ञ, महायाग -- महान यज्ञ

महायस -- महान यशस्वी

महारह -- अत्यन्त मूल्यवान

महाराजा -- महान नरेश

महालतापसाधन -- स्त्रियों के श्रृंगार में सहायक होने वाली लता

महासत्त -- महान सत्व

महासमुद्द -- महासमुद्र

महासर -- एक बड़ी झील

महासार, महासाल -- विशाल धन के स्वामी

महासावक -- बड़ा शिष्य

महाअस्सारोह जातक -- युद्ध में हारकर राजा घोड़े पर चढ़कर भाग गया

महाउक्‍कुस जातक -- मित्रों ने मित्र की सहायता की

महा-उम्मग्ग जातक -- महोषध पण्डित के पाण्डित्य की कथाएँ

महाकण्ह जातक -- शक्र [इन्द्र] ने महाकण्ह नाम के अपने कुत्ते को साथ ले दुराचारी मनुष्यों को बुरी तरह भयभीत किया

महाकपि जातक -- बन्दर ने नदी पर अपने शरीर का पुल बना, अपनी सारी जाति को अपने शरीर पर से गुजरने देकर यथार्थ नेता का धर्म निभाया

महाकपि जातक -- कृतघ्न आदमी ने बन्दर का सिर फोड़ दिया।परहितकामी बन्दर ने ऐसे आदमी की भी जान बचाई

महाकस्सप थेर -- भगवान बुद्ध के प्रधान शिष्यों में से एक प्रमुख शिष्य

महाजनक जातक -- मिथिला के महाजनक नाम के राजा के दो पुत्रों के संघर्ष की कथा

महातक्‍कारि जातक -- देखो तक्‍कारि जातक

महाथूप -- राजा दुट्ठग्रामणी द्वारा निर्मित अनुराधपुर स्थित महान चैत्य

महाधम्मपाल जातक -- चिरंजीवी होने का रहस्य

महाधम्मरक्खित थेर -- तृतीय संगीति के बाद अशोक और मोग्गलिपुत्त तिस्स स्थविर द्वारा महाराष्ट्र में भेजे गये धर्म-प्रचारक महास्थविर

महानारदकस्सप जातक -- नारद कस्सप ब्रह्मा ने अंगति नरेश को परलोक का विश्वास दिलाया

महानेरु, महामेरु -- सुमेरु पर्वत का ही एक और नाम

महापजापति गौतमी -- सिद्धार्थ गौतम की दूधमाता भिक्षुणी संघ की स्थापना का सारा श्रेय महाप्रजापति गौतमी को ही है

महापदुम जातक -- विमाता ने पुत्र पर झूठा लांछन लगाया

महापनाद जातक -- इसकी कथा सुरुचि जातक में आई है

महापलोभन जातक -- इसकी कथा चुल्‍लपलोभन जातक की कथा के ही समान है

महापिङ्गल जातक -- दुष्ट महापिङ्गल नरेश के मरने पर उसकी प्रजा ने खुशियाँ मनाईं

महाबोधि जातक -- राजा ने बोधि की न्याय-प्रियता के कारण उसे न्यायाधीश नियुक्त किया

महामङ्गल जातक -- शकुनों की व्याख्या।वास्तविक महामङ्गल कौन-कौनसे हैं

महामाया -- देखो माया

महामोग्गल्‍लान थेर -- भगवान बुद्ध के दो प्रधान शिष्यों में से एक। दूसरे थे धर्म-सेनापति सारिपुत्त

महारक्खित थेर -- तृतीय संगीति के अनन्तर यवन-देश में धर्म-प्रचारार्थ जाने वाले महास्थविर

महारट्ठ -- तृतीय संगीति के अनन्तर महाधम्मरक्खित महारट्ठ [महाराष्ट्र] में ही धर्म-प्रचारार्थ गये

महावंस -- सिंहल-द्वीप का प्रसिद्ध ऐतिहासिक महाकाव्य।

महावग्ग -- विनय-पिटक के पाँच ग्रन्थों में से एक, जो आगे खन्धकों में विभक्त है

महावाणिज जातक -- वट वृक्ष की एक शाखा से व्यापारियों को पानी मिला, दूसरी से भोजन, तीसरी से सुन्दर लड़कियाँ और चौथी से अनेक दूसरी मूल्यवान वस्तुएँ

महाविहार -- अनुराधपुर [सिंहल-द्वीप] का प्रसिद्ध विहार।शताब्दियों तक यही बौद्ध धर्म का प्रधान केन्द्र बना रहा

महावेस्सन्तर जातक -- देखो वेस्सन्तर जातक

महासंधिक -- द्वितीय संगीति के ही समय स्थविरवाद से पृथक हो जाने वाला एक बौद्ध सम्प्रदाय

महासार जातक -- एक बंदरी रानी की मोतियों की माला उठा ले गई

महासीलव जातक -- मन्त्री ने राजा के रनिवास को दूषित किया। राजा ने उसे देश-निकाला दे दिया

महासुक जातक -- गूलर के वृक्ष के फलरहित हो जाने पर भी तोते ने उसका परित्याग नहीं किया

महासुतसोम जातक -- मनुष्य-मांस भोजी राजा की कथा

महासुदस्सन जातक -- महासुदस्सन की मृत्यु का वृत्तान्त

महासुपिन जातक -- कोसल-नरेश प्रसेनजित द्वारा देखे गये सोलह महान स्वप्नों की व्याख्या

महाहंस जातक -- रानी की बलवती इच्छा हुई कि स्वर्ण-वर्ण राजहंस उसे सिंहासन पर बैठ धर्मोपदेश दे

महिंसासक -- स्थविरवाद से पृथक हो जाने वाला एक और बौद्ध सम्प्रदाय

महिका -- धुंध

महिच्छ -- अत्यन्त लोभी

महिच्छता -- अत्यधिक लोभ

महित -- पूजित

महिद्धिक -- महाऋद्धिवान

महिन्द -- महान इन्द्र, भिक्षुणी संघमित्रा के भाई तथा महाराज अशोक के सुपुत्र, जो महामोग्गलिपुत्त तिस्स की प्रेरणा से धर्म-प्रचारार्थ सिंहल पहुँचे थे

महिला -- स्त्री

महिलामुख जातक -- महिलामुख नामक राजकीय हाथी की कथा

महिस -- भैंस

महिस जातक -- भैंसे ने बन्दर द्वारा की गई सभी शरारतों को सहन किया। वह बन्दर एक दूसरे भैंसे द्वारा मारा गया

महिस-मण्डल -- महादेव स्थविर का धर्मप्रचार क्षेत्र। वर्तमान मैसूर

महिस्सर -- महेश्वर, महादेव

मही -- पृथ्वी, नदी-विशेष

मही-तल -- जमीन की सतह

मही-धर -- पर्वत

महीपति, महीपाल -- राजा

महीभाग -- कान्तार

महीरूह -- वृक्ष

महेसक्ख -- महाप्रतापशाली

महेसि -- महर्षि, रानी

महोघ -- महान बाढ़

महोदधि -- समुद्र

महोदर -- बड़े पेट वाला

महोरग -- साँपों [नागों] का राजा

महोसध -- सोंठ, सूखा अदरक

मा -- निषेधार्थक, मत, चन्द्रमा

मागध, मागधक -- मगध सम्बन्धी

मागधी -- पालि भाषा का प्रारम्भिक नाम

मागविक -- शिकारी

मागसिर -- मार्गशीर्ष महीना

माघ -- महीना-विशेष

माघात -- हत्या-विरत रहने की आज्ञा

माणव, माणवक -- तरुण, ब्रह्मचारी

माणविका -- तरुणी, ब्रह्मचारिणी

मातङ्ग -- हाथी का नाम, नीची मानी जाने वाली जाति

मातली -- इन्द्र के सारथी का नाम

मातापितु -- माता-पिता

मातापेत्तिक -- माता-पिता से आगत

मातापेत्ति-भार -- माता-पिता की सेवा में रहना

मातामह -- नाना

मातामही -- नानी

मातिक -- माता सम्बन्धी

मातिका -- जल-मार्ग, अभिधर्म सम्बन्धी विषयों के शीर्षस्थान, प्रातिमोक्ष-नियमावलि

मातिपक्ख -- मातृपक्ष

मातु -- माँ

मातु-कुच्छि -- माता की कोख

मातु-गाम -- स्त्री

मातु-घात -- मातृ-हत्या

मातु-घातक -- मातृ-हत्यारा

मातुच्छा -- मौसी

मातुपट्ठान -- माता की सेवा

मातुपोसक -- माता का पोषक

मातुपोसक जातक -- हाथी ने अपनी अन्धी माता की सेवा की

मातु-भगिनी -- मातुच्छा, मौसी

मातु-भातु -- मामा

मातुल -- मामा

मातुलानी -- मामी

मातुलुङ्ग -- चकोतरा

मादिस -- मेरे जैसा

मान -- माप, अहंकार[माण भी]

मानकूट -- खोटा माप

मानत्थद्ध -- अहंकार से जड़ीभूत

मानद -- गौरवार्ह, आदरणीय

मानन -- आदर करना, सम्मान करना

मानव -- मनुष्य

मानस -- मन, चित्त, विज्ञान [समास में] संकल्प लिये हुए

मानित -- सम्मानित

मानी -- अभिमानी

मानुस -- मनुष्य सम्बन्धी, मनुष्य

मानुसक -- मनुष्य सम्बन्धी

मानुसी -- मानुषी, स्त्री

मानेति -- आदर करता है, सत्कार करता है [मानेसि, मानेन्त, मानेत्वा]

मापक -- रचयिता, निर्माण करने वाला

मापित -- रचित, निर्मापित

मापेति -- निर्माण करता है [मापेसि, मापेत्वा]

मामक -- श्रद्धावान, प्रेमी, ममत्वयुक्त

माया -- ठगी, जादू

माया -- सिद्धार्थ गौतम [बुद्ध] की माता। उसका पिता था देवदह का अञ्‍जन शाक्य और उसकी माता थी जयसेन की लड़की यशोधरा [महामाया]

मायाकार -- जादूगर

मायावी -- माया करने वाला, ढोंगी, जादूगर

मायु -- पित्त

मार -- चित्त की अकुशल वृत्तियों की साकार मूर्ति, लुभाने वाला, साक्षात यमराज

मार-कायिक -- मार-लोक सम्बन्धी

मार-धेय्य -- मार का क्षेत्र

मार-बन्धन -- मृत्यु का बंधन

मार-सेना -- मार की सेना

मारक -- मारने वाला

मारण -- मार डालना

मारापित -- मरवाया

मारापेति -- मरवाता है [मारापेसि, मारापित, मारापेत्वा, मारापेन्त]

मारित -- मारा गया

मारिस -- सम्बोधन-विशेष, मित्र, मान्यवर

मारुत -- हवा

मारेति -- मारता है [मारेसि, मारेन्त, मारेत्वा, मारेतुं]

मारेतु -- मारने वाला

माल, मालक -- घेरेदार जगह, गोल आँगन

माळ -- एक तल्‍ले वाला मकान

मालती -- मालती-लता

माला -- [फूलों की] माला

माला-कम्म -- माला गूँथने का काम, दीवार पर उत्कीर्ण फूल

मालाकार -- माली

माला-गच्छ -- फूल देने वाला पौधा

माला-गुण -- माला गूँथने का धागा

माला-गुळ -- फूलों का ढेर

माला-चुम्बटक -- फूलों का गजरा

माला-दाम -- माला गूँथने का धागा

माला-धर -- मालाधारी

माला-भारी -- मालाधारी

माला-पुट -- फूलों का दोना

मालावच्छ -- पुष्पोद्यान, पुष्पशैया

मालिक, माली -- मालाधारी

मालिनी -- मालाधारिणी

मालुत -- हवा

मालुत जातक -- तपस्वी ने निर्णय दिया कि जब कभी भी हवा चलती है, तब अधिक ठण्ड पड़ती है

मालुवा -- आकाश-बेल

मालूर -- वृक्ष-विशेष

माल्य -- पुष्प-माला

मास -- महीना, माश की दाल

मासिक -- माहवार

मासक -- मासा [सिक्‍का]

मिग -- पशु, चौपाया, हिरण

मिग-चापक, मिग-पोतक -- हिरण का बच्‍चा

मिग-तण्हिका -- मृगतृष्णा

मिग-दाय -- मृगोद्यान

मिग-मद -- कस्तूरी

मिग-मातुका -- मृग-विशेष

मिग-लुद्दक -- शिकारी

मिग-पोतक जातक -- तपस्वी ने बड़े स्नेह से हिरण के बच्‍चे का पालन-पोषण किया। उसके मरने पर तपस्वी बहुत संतप्त हुआ

मिगव -- शिकार

मिगार-मातु-पासाद -- श्रावस्ती के पूर्व के पूर्वाराम में विसाखा मिगारमाता द्वारा बनवाये गये विहार का नाम

मिगालोप जातक -- मिगालोप ने अपने पिता गृध्र का कहना न मान जान गँवाई

मिगिन्द -- पशुआें का राजा, सिंह

मिगी -- हरिणी

मिच्छत्त -- मिथ्यात्व

मिच्छा -- मिथ्या, झूठ

मिच्छा-कम्मन्त -- मिथ्याचरण, दुराचरण

मिच्छा-गहण -- गलत समझ

मिच्छाचार -- कदाचार, मिथ्याचरण

मिच्छाचारी -- कदाचारी, दुराचारी

मिच्छा-दिट्ठि -- मिथ्यादृष्टि, मिथ्या-मतधारी

मिच्छा-पणिहित -- गलत ओर झुका हुआ

मिच्छा-वाचा -- मिथ्या वाणी

मिच्छा-वायाम -- मिथ्याप्रयत्न

मिच्छा-सङ्कप्प -- मिथ्या संकल्प

मिज्‍ज -- मज्‍जा

मिणन -- माप

मिणति [मिनाति भी] -- मापता है, तोलता है [मिणि, मित, मिभन्त, मिणित्वा, मिणितुं, मिणीयति]

मित -- मापा गया, तोला गया

मित-भाषी -- संयत-भाषी

मितचिन्ती जातक -- बहुचिन्ती अप्पचिन्ती तथा मितचिन्ती मछलियों की कथा

मित्त -- मित्र

मित्तद्दु, मित्तदुब्भि, मित्तदूभी -- मित्र-द्रोही

मित्त-पतिरूपक -- झूठा मित्र

मित्त-भेद -- मैत्री-विच्छेद

मित्त-सन्थव -- मैत्री-सम्बन्ध

मित्तविन्दक जातक -- चतुद्वार जातक में वर्णित मित्तविन्द जातक-कथा का एक अंश

मित्तविन्द जातक -- चतुद्वार जातक का ही एक और अतिरिक्त अंश

मित्तविन्द-जातक -- चतुद्वार जातक का ही एक और दूसरा अतिरिक्त अंश

मित्तामित्त जातक -- तपस्वी ने हाथी के बच्‍चे का पोषण किया। उसने बड़े होने पर तपस्वी को मार डाला

मित्तामित्त जातक -- सच्‍चे मित्र के लक्षण

मिथिला -- विदेह जनपद की राजधानी। नेपाल की सीमा के अन्दर वर्तमान जनकपुर

मिथु -- एक के बाद एक, छिप कर

मिथु-भेद -- मैत्री-विच्छेद

मिथुन -- युगल, जोड़ा

मिथो -- परस्पर

मिद्ध -- आलस्य

मिद्धी -- आलसी

मिय्यति, मीयति -- मरता है

मीयमान -- मृतमान, मरता हुआ

मिलक्ख -- बर्बर जाति का

मिलक्ख-देस -- बर्बर-देश

मिलात -- म्लान हुआ

मिलातता -- म्लान-भाव, कुम्हलायापन

मिलायति -- कुम्हलाता है [मिलायि, मिलायमान]

मिलिन्द -- सागल का राजा मिनाण्डर। उसका जन्म अलसन्दा [अलैक्जैण्ड्रिया] के समीप कलसी में हुआ था। मिलिन्द-पञ्ह में उसी के साथ का नागसेन स्थविर का शास्त्रार्थ दर्ज है

मिलिन्द-पञ्ह -- भिक्षु नागसेन तथा राजा मिलिन्द के प्रश्नोत्तरों से समन्वित ग्रन्थ

मिस्स, मिस्सक -- मिश्रित

मिस्सेति -- मिश्रित करता है [मिस्सेसि, मिस्सेन्त, मिस्सेत्वा]

मिहित -- मुस्कराहट

मीन -- मछली

मीळ्ह -- गूँह

मुकुल -- कली

मुख -- मुँह, चेहरा, प्रवेश-द्वार, प्रमुख

मुख-तुण्ड -- चोंच

मुख-द्वार -- मुँह

मुख-धोवन -- मुँह का धोना

मुख-पुञ्छन -- मुँह पोंछने का वस्त्र

मुख-पूर -- मुँह भरना, मुँह भरने वाला

मुख-वट्टि -- किनारा

मुख-वण्ण -- चेहरे का रंग

मुख-विकार -- चेहरे का रंग-ढंग

मुख-संकोचन -- चेहरे की विकृति

मुख-संयत -- वाणी का संयमी

मुखर -- वाचाल

मुखरता -- वाचालता

मुखाधान -- लगाम

मुखुल्‍लोकक -- आदमी के चेहरे की ओर देखने वाला

मुखोदक -- मुँह धोने का जल

मुख्य -- प्रमुख, प्रधान, अति महत्त्वपूर्ण

मुग्ग -- मूँग

मुग्गर -- मुगदर

मुंगुस -- नेवला

मुचलिन्